विशेष रिपोर्ट

वेदांत की नीयत बदली, चैरिटेबल की जगह बनाना चाहता है कारोबारी कैंसर अस्पताल





मुफ्त मिली जमीन बाजार मूल्य पर खरीदने का आवेदन
शशांक तिवारी

रायपुर, 6 अक्टूबर (छत्तीसगढ़)।  नया रायपुर में वेदांत समूह ने निर्माणाधीन कैंसर अस्पताल को अब चैरिटेबल की जगह व्यावसायिक रूप देने की तैयारी कर ली है। बताया गया कि समूह ने सरकार को लगभग मुफ्त में दी गई जमीन को बाजार मूल्य पर खरीदने का प्रस्ताव दिया है। इससे उद्योग समूह की मंशा जाहिर हो गई है।
राज्य सरकार के उच्च पदस्थ सूत्रों ने 'छत्तीसगढ़Ó से चर्चा में इसकी उद्योग समूह के बाजार मूल्य पर जमीन खरीदने के प्रस्ताव की पुष्टि की है। नया रायपुर में वेदांत उद्योग समूह के कैंसर अस्पताल का निर्माण कार्य चल रहा है। स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने उन्हें मार्च तक ओपीडी शुरू करने की हिदायत दी है। 
बताया गया कि सरकार ने वेदांत समूह के साथ वर्ष-09 में एमओयू किया था। सरकार ने नया रायपुर में 50 एकड़ जमीन एक रुपए प्रति वर्ष लीज रेंट पर उपलब्ध कराई थी। यह कहा गया था कि समूह तीन साल के भीतर 3 सौ बिस्तर अस्पताल का निर्माण करेगा। गरीबों के लिए अस्पताल में इलाज में छूट दी जाएगी। उद्योग समूह को सीएसआर (कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसब्लिटी) के तहत उक्त कार्य को प्राथमिकता से पूरा करना था। लेकिन 8 साल बाद भी अस्पताल का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पाया है। 
सूत्रों के मुताबिक वेदांत समूह ने अब उक्त अस्पताल को चैरिटेबल की जगह व्यावसायिक रूप से चलाने की तैयारी कर रही है। इस योजना के तहत उद्योग समूह ने उक्त लीज रेंट पर ली गई जमीन को बाजार मूल्य में खरीदने का प्रस्ताव दिया है। राज्य सरकार ने इस पर अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। इससे परे एक और बड़ा बदलाव किया गया है। वेदांत समूह ने अस्पताल की क्षमता कम कर अब 3 सौ की जगह 170 बिस्तर करने का निर्णय  ले लिया है। इसकी सूचना भी सरकार को दे दी है।  
यह भी बताया गया है कि अस्पताल के एक हिस्से का निर्माण निर्धारित मापदंड के अनुसार नहीं हुआ है। इस हिस्से के काम को रोक दिया गया है और तोड़ कर नए सिरे से बनाने की योजना भी बनाई गई है।  बहरहाल, सरकार जल्द से जल्द अस्पताल शुरू करवाना चाहती है, लेकिन तय सीमा के भीतर अस्पताल शुरू हो पाएगा, इसकी संभावना कम नजर आ रही है। 




Related Post

Comments