सामान्य ज्ञान

कार्तिक मास




 कार्तिक हिन्दू पंचांग के अनुसार वर्ष का आठवां माह है। यह माह बड़ा ही पवित्र माना जाता है। यह समस्त तीर्थों तथा धार्मिक कृत्यों से भी पवित्रतर है। इसका माहात्म्य स्कन्द पुराण, नारद पुराण, पद्म पुराण में भी मिलता है। भारतीय संस्कृति में समय की गणना की पद्धति चंद्रमा की गति पर आधारित है, जबकि पाश्चात्य देशों में यही पद्धति सौर की गति से प्रभावित है। चूंकि चंद्रमा पृथ्वी के सबसे निकट स्थित एक आकाशीय पिंड है, इसलिए हमारे पूर्वजों ने इसे समय की गणना का सबसे सूक्ष्म साधन मान कर इसकी गति पर आधारित बारह मासों की रचना की। शास्त्रों में कहा गया है कि कार्तिक मास में मनुष्य की सभी आवश्यकताओं, जैसे- उत्तम स्वास्थ्य, पारिवारिक उन्नति, देव कृपा आदि का आध्यात्मिक समाधान बड़ी आसानी से हो जाता है।   
 कार्तिक मास को मनुष्य के मोक्ष का द्वार भी कहा गया है।  मुमुक्ष  अर्थात किसी आशा से ईश्वर की आराधना करने वाले मनुष्य की आकांक्षाएं जब ईश्वरीय कृपा से पूर्ण हो जाती हैं और उनका क्षय भी नहीं होता तो मनुष्य को सद्गति प्राप्त होती है। यही मोक्ष की वास्तविक अवस्था है। कार्तिक मास में ईश्वरीय आराधना से सभी कुछ प्राप्त करने की व्यापक संभावनाएं होती हैं। इस मास में स्वास्थ्य की प्राप्ति हेतु भगवान धन्वंतरी की आराधना का प्रावधान और यम को संतुष्ट कर पूर्ण आयु प्राप्त कर लेने की आध्यात्मिक व्यवस्था है। वहीं दूसरी ओर अमावस्या को देवी लक्ष्मी को प्रसन्न कर सम्पन्नता को प्राप्त करने का मार्ग भी है। साथ ही इसी मास की एकादशी को विगत चार माह से सोये देव भी जागृत हो जाते हैं और सभी पूर्व आराधनाओं का शाश्वत फल प्रदान करते हैं।
 शास्त्रों में वर्णन मिलता है कि कार्तिक में भगवान श्रीहरि की आराधना व उनका मंगल गान करने से वे चार माह की योग निद्रा से जागते हैं। चूंकि भगवान विष्णु मनुष्य के लिए सर्व कल्याणकारी देव हैं, इसीलिए उनके जागते ही सभी समस्याओं के समाधान का मार्ग खुल जाता है। इस मास में प्रत्येक घर की शक्ति अर्थात लक्ष्मी स्वरूपा महिलाएं यदि भगवान का दीप जला कर स्तुति करती हैं तो कार्तिक मास में पूरे परिवार की उन्नति और सांमजस्य का द्वार खुलता है।  ईश्वर के जागने के ठीक पहले धन्वंतरी का अवतरण दिवस धनतेरस, यम को समर्पित यम दीप दान, कृष्ण विजय की प्रतीक नरक चौदस और लक्ष्मी पूजन का दिन दीपावली मनाया जाता है।
 कार्तिक पूर्णिमा का आध्यात्मिक महत्व है। इस दिन भगवान विष्णु का मत्स्यावतार हुआ था।  कार्तिक मास की पूर्णिमा को ही भगवान शिव ने त्रिपुर नामक राक्षस का वध किया था और  त्रिपुरारी कहलाए।   कार्तिक मास में देव आराधना हेतु पांच आचरणों के पालन का बहुत महत्व बताया गया है। इन आचरणों के पालन से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं और जीवन में वास्तविक प्रगति की संभावनाएं प्रबल होती हैं।
 कार्तिक मास में वृंदा यानी तुलसी की पूजा का काफ़ी महत्व है। भगवान विष्णु तुलसी के हृदय में शालिग्राम के रूप में निवास करते हैं। स्वास्थ्य को समर्पित इस मास में तुलसी पूजा व तुलसी दल का प्रसाद ग्रहण करने से श्रेष्ठ स्वास्थ्य प्राप्त होता है। कार्तिक पूर्णिमा शरद ऋतु की अन्तिम तिथि है। जो बहुत ही पवित्र और पुण्यदायिनी मानी जाती है। इस अवसर पर कई स्थानों पर मेले लगते हैं।




Related Post

Comments