सामान्य ज्ञान

चाबहार बंदरगाह

Posted Date : 07-Dec-2017



 चाबहार बंदरगाह दक्षिण-पूर्व ईरान में ओमान की खाड़ी के किनारे स्थित एक महत्वपूर्ण बंदरगाह है जो दक्षिण एशियाई देशों के मध्य एशिया के साथ व्यापार करने हेतु न्यूनतम दूरी का समुद्री मार्ग उपलब्ध कराता है।  चाबहार बंदरगाह भारत के लिए व्यापारिक और रणनीतिक दोनों दृष्टियों से महत्वपूर्ण है।  रणनीतिक रूप से यह भारत के लिए अफगानिस्तान तक समुद्री मार्ग उपलब्ध कराता है।
    इसके अलावा ग्वादर बंदरगाह (ब्लूचिस्तान, पाकिस्तान) जिसका विकास चीन कर रहा है, को भी यह संतुलित करेगा।  व्यापारिक दृष्टि से मध्य एशिया के साथ व्यापार के लिए पाकिस्तान पर भारत की निर्भरता का बेहतर विकल्प है। 
3 दिसंबर, 2017 को ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने चाबहार बंदरगाह के पहले चरण का उद्घाटन किया। इस अवसर पर भारत, अफगानिस्तान और क्षेत्रीय प्रतिनिधि भी मौजूद रहे।  इसके साथ ही पाकिस्तान को दर-किनार करते हुए ईरान, भारत और अफगनिस्तान तीनों देशों के मध्य एक नया रणनीतिक पारगमन मार्ग खुल गया है।
   चाबहार बंदरगाह परियोजना के पहले चरण का उद्घाटन चाबहार स्थित शहीद बेहेश्ती बंदरगाह से किया गया तथा इसके पहले चरण को 'शहीद बेहेश्ती बंदरगाह कहा गया। लगभग एक माह पूर्व भारत ने चाबहार बंदरगाह के जरिए समुद्र मार्ग से अफगानिस्तान को गेंहू की पहली खेप भेजी थी।

 




Related Post

Comments