सामान्य ज्ञान

अरबी रेगिस्तान

Posted Date : 07-Dec-2017



अरबी रेगिस्तान (अस-सहरा अल-अरबीया) पश्चिमी एशिया में स्थित एक विशाल रेगिस्तान है जो दक्षिण में यमन से लेकर उत्तर में फ़ारस की खाड़ी तक और पूर्व में ओमान से लेकर पश्चिम में जोर्डन और इराक़ तक फैला हुआ है। अरबी प्रायद्वीप का अधिकांश भाग इस रेगिस्तान में आता है और इस मरुस्थल का कुल क्षेत्रफल 23.3 लाख किमी2 है, यानी पूरे भारत के क्षेत्रफल का लगभग 70 प्रतिशत। इसके बीच में रुब अल-ख़ाली नाम का इलाक़ा है जो विश्व का सबसे विस्तृत रेतीला क्षेत्र है। 
अरबी रेगिस्तान का वातावरण बहुत कठोर है। दिन में यहां अत्यंत गर्मी और सूरज का प्रकोप रहता है और रात में तापमान कभी-कभी शून्य से भी नीचे गिर जाता है। इस वजह से यहां जीव विविधता काफ़ी कम है, हालांकि यहां गज़़ल और ओरिक्स जैसे हिरण, रेत बिल्ली और कांटेदार दुम वाले गिरगिट जैसे प्राणी रहते हैं। यहां कभी धारीदार लकड़बग्घा, सियार और बिज्जू भी मिलते थे, लेकिन अनियंत्रित शिकार और अन्य मानवी गतिविधियों से वह यहां विलुप्त हो चुके हैं। इस क्षेत्र की धरती के रूप विविध हैं। लाल रेत के टीले, लावा की विस्तृत चट्टानें, शुष्क पहाड़ी शृंखलाएं, सूखी वादियां और ऐसे रेतीले क्षेत्र जिसमें चलने वाले दलदल की तरह अंदर धंसकर डूब जाते हैं-सभी इस रेगिस्तान में मौजूद हैं।

 




Related Post

Comments