सोशल मीडिया

कांग्रेस राम मंदिर मुद्दे पर राजनीति न करे क्योंकि इस पर तो भाजपा का एकाधिकार है!

Posted Date : 07-Dec-2017



गुजरात में विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी का प्रचार कर रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाबरी विध्वंस की 25वीं बरसी पर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है। कल अयोध्या विवाद पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्षकारों के वकील और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने मांग की थी कि यह सुनवाई अगले लोकसभा चुनाव तक टाल दी जाए। इसका जिक्र करते हुए मोदी ने कहा है, क्या सिब्बल को यह कहने का हक है कि यह सुनवाई 2019 तक टाल देनी चाहिए? वे राम मंदिर को चुनाव से क्यों जोड़ रहे हैं? अब कांग्रेस राम मंदिर को चुनावों से जोड़ रही है। उसे देश की सबसे कम चिंता है। भाजपा समर्थक तो इस बयान को शेयर कर ही रहे हैं, लेकिन इसके बहाने यहां कई लोगों ने मोदी और उनकी पार्टी को बड़े ही दिलचस्प अंदाज में घेरा है। फेसबुक आशीष प्रदीप की चुटकी है, दुग्गलजी कह रहे हैं कांग्रेस चुनाव और राममंदिर को क्यों जोड़ रही है? सही बात है। यह एकाधिकार तो आपकी पार्टी को मिला है।
बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर आज सोशल मीडिया में इसके पक्ष-विपक्ष में तीखी नोकझोंक जारी है। हालांकि इसके बीच यहां विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के नेता विनय कटियार का एक बयान अच्छी-खासी चर्चा में है। एक न्यूज चैनल से बातचीत में उन्होंने दावा किया है कि दिल्ली में अभी जिस स्थान पर जामा मस्जिद है, उस पर पहले जमुना देवी का मंदिर था। सोशल मीडिया जहां कुछ लोगों ने इस बयान को भड़काऊ बताते हुए विहिप नेता की आलोचना की है तो वहीं ज्यादातर लोगों ने इस पर कटियार की जमकर खिल्ली उड़ाई है। फेसबुक पर यूसुफ खान की चुटकी है,  ...विनय कटियार अब यह न कह दें कि वेटिकन सिटी में कैथोलिक चर्च भगवान वेंकटेश्वर का मदिर था और वहां मंदिर निर्माण किया जाए...।
इन दोनों घटनाक्रमों पर सोशल मीडिया में आई कुछ और प्रतिक्रियाएं-
चिर्पी सेज- बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद मोदी जी अडवानी के साथ रथ में घूम रहे थे। उन्होंने 25 साल तक हर चुनाव में मंदिर का मुद्दा उठाया है। अब वे उपदेश दे रहे हैं कि इसका राजनीतिकरण न किया जाए!
वसूली भाई- पीएम मोदी ने कहा है, राम मंदिर को चुनाव से जोडऩे की क्या जरूरत है? ....मोदीजी सार्वजनिक रूप से अपने पार्टी सहयोगियों से मुश्किल सवाल क्यों पूछ रहे हैं?
राज सुमन सिंह- मोदीजी ने कहा था, हमें मंदिर बनाने से पहले शौचालय बनाना है। क्या मोदीजी यह स्पष्ट करेंगे कि जब तक देश खुले में शौच से मुक्त नहीं हो जाता, तब तक वे राम मंदिर बनाने के पक्ष में नहीं हैं?
ट्वीटजादे- दिल्ली की जामा मस्जिद के नीचे जमुना देवी का मंदिर था यह कोई चुटकुला और तुक्केबाजी नहीं है, विनय कटियार ने ऐसा बयान दिया है।
कटाक्ष- विनय कटियार ने जामा मस्जिद को जमुना देवी का मंदिर बताया है, लगे हाथ बाबरी मस्जिद को भी बाबा विश्वनाथ का मंदिर घोषित कर देते।
विनेपुरी- भाईजी, समझ नहीं आता कि गंगा और जमुना दोनों हिन्दुओं की देवी हैं तो फिर गंगा-जमुनी तहजीब दो अलग धर्मों से कैसे जुड़ी? (सत्याग्रह)




Related Post

Comments