सोशल मीडिया

ईवीएम नहीं चुनाव आयोग ही हैक हो गया

Posted Date : 16-Dec-2017



गुजरात विधानसभा चुनाव के दूसरे दौर का मतदान पूरा हो गया है। इसी के साथ चुनावी पार्टियों की किस्मत भी ईवीएम मशीनों में कैद हो गई।
चुनावी दंगल के बीच एक संस्था जो सबसे ज्यादा चर्चा में रही वह है चुनाव आयोग। विशेषकर गुजरात चुनाव के दूसरे दौर के मतदान के दौरान।
सबसे पहले बहस छिड़ी बुधवार को जब चुनाव आयोग ने कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष राहुल गांधी को एक नोटिस जारी किया वोटिंग से एक दिन पहले कुछ टीवी चैनलों पर राहुल गांधी का इंटरव्यू प्रसारित किया जा रहा था।
चुनाव आयोग ने इस इंटरव्यू को आचार संहिता का उल्लंघन करार देते हुए इस पर रोक लगा दी, साथ ही राहुल गांधी पर कार्यवाही क्यों न की जाए संबंधी नोटिस भी जारी किया।
इसके बाद यह बहस और आगे बढ़ी गुरुवार को मतदान के दिन, अहमदाबाद के एक बूथ पर वोट देने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस काफिले के साथ रवाना हुए उस पर विवाद हो गया।
कांग्रेस ने इसे आचार संहिता का उल्लंघन बताया तो वहीं चुनाव आयोग ने पहले कहा कि वह इसकी जांच करेगा लेकिन बाद में उसने इस काफिले को आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में नहीं माना।
इन घटनाओं के बाद कई लोग चुनाव आयोग की प्रतिबद्धता और निष्पक्षता पर सवाल उठाने लगे। सोशल मीडिया पर हैशटेग आरआईपीइलेक्शनकमिश्न ट्रेंड करने लगा।
जुनैद रहमान ने एक कार्टून शेयर करते हुए लिखा, चुनाव आयोग केंद्र सरकार के हाथों की कठपुतली बन गया है। पॉली सरकार ने ट्वीट किया, ईवीएम हैक नहीं हो रही थी...इलैक्शन कमिश्न हैक हो गया।
आरती ने ट्वीट किया, विकास यह है- इलैक्शन कमिश्न ऑफ इंडिया से इलैक्शन कमिश्न ऑफ मोदी बन जाना।
अच्छे दिन नामक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, गुजरात चुनाव के नतीजे भले ही कुछ भी निकलें, लेकिन सबसे बड़ी हार चुनाव आयोग की हुई है, पहले चुनाव की तारीखों में देरी की, फिर मोदी की रैलियां, सी-प्लेन और फिर कांग्रेस को नोटिस।
अतुल गायकवाड़ ने भारतीय निर्वाचन आयोग के सिंबल पर इलैक्शन कमिशन ऑफ मोदी लिखी तस्वीर शेयर की है और ट्वीट किया है, कृप्या इलैक्शन कमिश्न ऑफ इंडिया का नाम बदलकर इलैक्शन कमिश्न ऑफ मोदी रख लीजिए।
हालांकि इस बीच कुछ लोग चुनाव आयोग के समर्थन में भी ट्वीट करते दिखे। ट्विटर पर हैशटेग ईसीआई भी चल रहा है। सिद्धांत त्रिपाठी ने ट्वीट किया, ईसीआई मरा नहीं है, जाने क्यों कुछ बेवकूफ लोग आरआईपी लिख रहे हैं, चुनाव के बाद इस तरह की प्रतिक्रिया बेहद अप्रासांगिक और बेबुनियाद है।
बीजेपी नेता जीवीएल नरसिम्हा राव ने साल 2009 का एक लेख शेयर किया है जिसमें उस समय के इलैक्शन कमिश्नर नवीन चावला के कांग्रेस के साथ करीबी रिश्ते होने की बातें बताई गई थीं।
जीवीएल ने ट्वीट किया, कांग्रेस को ऐसे ही इलैक्शन कमिश्नर पसंद हैं क्या? राहुलजी पिछले 10 साल में आपने और आपकी मां ने पूरे पीएम दफ्तर को ही कठपुतली बना दिया था? तमाशा करना आपका काम है। हार को स्वीकार करने के लिए कुछ बेहतर बहाने खोजिए।
प्रविंदा साहू ने कांग्रेस नेता रणदीप सूरजेवाला के दो ट्वीट को एक साथ दिखाते हुए ट्वीट किया, पहली तस्वीर: गुजरात चुनाव के दूसरे दौरे के चुनाव के बाद रणदीप सूरजेवाला के ईसीआई के बारे में विचार, दूसरी तस्वीर: अहमद पटेल के गुजरात से राज्यसभा सीट जीतने के बाद सूरजेवाला के ईसीआई के बारे में विचार।
इटैलियन बहू नाम के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया, जब कांग्रेस जीते तो ईसी स्वतंत्र और निष्पक्ष, अगर हारे तो ईसी भ्रष्ट हो जाती है। जीते तो ईवीएम ठीक, हारे तो ईवीएम खराब। (बीबीसी)




Related Post

Comments