सोशल मीडिया

भाजपा की दिक्कत यही है कि लोग अगर धर्मनिरपेक्ष बनते रहे तो फिर वो खुद कैसे बनी रहेगी!

Posted Date : 27-Dec-2017



केंद्र सरकार में कौशल विकास और उद्यमिता राज्य मंत्री अनंत हेगड़े अपने एक बयान के चलते इस समय सोशल मीडिया पर खूब चर्चा में हैं। कर्नाटक के कोप्पल जिले में रविवार को ब्राह्मण युवा परिषद के एक कार्यक्रम में हेगड़े ने कहा है कि भाजपा संविधान में बदलाव के लिए ही सत्ता में आई है। उन्होंने संविधान की प्रस्तावना में दर्ज 'धर्मनिरपेक्षÓ शब्द पर भी सवाल उठाया है और कहा है, जो लोग अपने आप को धर्मनिरपेक्ष कहते हैं उन्हें क्या कहा जाए यह मुझे नहीं पता ये वे लोग हैं जिन्हें अपने माता-पिता के बारे में पता नहीं। इसीलिए जब कोई कहता कि वह धर्मनिरपेक्ष है तो मुझे उस पर संदेह होता है।
केंद्रीय मंत्री के इस बयान और खबर को शेयर करते हुए सोशल मीडिया पर उनकी खूब आलोचना हुई है। फेसबुक पर वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश उर्मिल की टिप्पणी है, अपने मुल्क में ऐसे लोग भी केंद्रीय मंत्री हैं! संविधान, तेरे अंजाम पर रोना आया! वे कह रहे हैं कि संविधान बदलने के लिए सत्ता में आए हैं... दीपांकर पटेल का कहना है, डियर ब्राह्मण केंद्रीय मंत्री, संविधान में बदलाव करने से पहले खुद में बदलाव कीजिए। अपनी जड़ों से जुडिय़े। मंत्रीपद छोडि़ए और पुजारी बनिए...
इस खबर के चलते आज हेगड़ेइनस्लटआंबेडकर ट्विटर के ट्रेंडिंग टॉपिक में शामिल हुआ है। इसके साथ यहां लोगों ने भाजपा और राष्ट्रीय स्यवंसेवक संघ की आलोचना करते हुए भी कई टिप्पणियां की हैं। बीबीसी हिंदी के संपादक राजेश प्रियदर्शी ने फेसबुक पर लिखा है, इसे आधिकारिक बयान माना जाना चाहिए। मुझे रत्ती भर उम्मीद नहीं है कि कोई इसका खंडन करेगा। ये सरकार के जिम्मेदार मंत्री हैं और यही सरकार का एजेंडा है। 
केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के बयान पर सोशल मीडिया में आई कुछ और प्रतिक्रियाएं-
कुक्की- मिस्टर हेगड़े, हमारी पहचान तय करने वाले आप होते कौन हैं? मैं भारतीय हूं और भारतीय ही रहूंगा।
सियोना गोगोई- अनंत कुमार हेगड़े ने जो टिप्पणी की है वह मणिशंकर अय्यर की 'नीचÓ वाली टिप्पणी से सौ गुना ज्यादा खतरनाक है, लेकिन मीडिया इस पर चुप्पी साधे हुए है जबकि अय्यर की टिप्पणी पर उसने खूब हल्ला किया था।
शकुनि मामा- भाजपा की दिक्कत यही है कि लोग अगर धर्मनिरपेक्ष बनते रहे तो फिर वो खुद कैसे बनी रहेगी।
मनीष बैद- इस तरह अनंत हेगड़े ने कर्नाटक चुनाव के लिए भाजपा का एजेंडा तैयार कर दिया है। इसमें बस नफरतभरी बातें होंगी, विकास की नहीं...। (सत्याग्रह)




Related Post

Comments