गैजेट्स

Previous12Next
Posted Date : 18-Nov-2017
  • अभय शर्मा
    सोशल मीडिया और इंटरनेट पर फैलाई जा रही फर्जी खबरों को रोकने के लिए फेसबुक, गूगल और ट्विट्टर जैसी दिग्गज कंपनियों ने कमर कस ली है। गुरूवार को इन तीनों ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि अब वे 'फेक न्यूज के खिलाफ शुरू किये गए 'द ट्रस्ट प्रोजेक्ट अभियान का हिस्सा हैं।
    'द ट्रस्ट प्रोजेक्ट अभियान को अमरीका के सेंटा क्लैरा यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर एप्लाइड एथिक्स द्वारा शुरू किया गया है। इसका मकसद पाठकों को इंटरनेट और सोशल मीडिया पर किसी भी खबर के स्रोत के बारे में जानकारी देना है। इस प्रोजेक्ट को अमरीका और यूरोप के करीब 75 समाचार संस्थानों ने अपना समर्थन दिया है। इन संस्थानों में अमरीकी न्यूज वेबसाइट द इकनॉमिस्ट, वाशिंगटन पोस्ट, ब्रिटेन की मिरर और जर्मनी की जर्मन प्रेस एजेंसी भी शामिल हैं।
    खबरों के अनुसार अब ये सभी संस्थान अपनी खबरों में 'ट्रस्ट इंडिकेटर को प्रदर्शित करेंगे। इस इंडिकेटर पर क्लिक करते ही पाठक को खबर या लेख के स्रोत और लेखक के बारे में जानकारी मिल सकेगी। साथ ही उसे यह भी पता चल पाएगा कि वे जो पढ़ रहे हैं वह विज्ञापन है, खबर है या लेखक की अपनी राय है।
    सेंटर फॉर एप्लाइड एथिक्स की निदेशक अमरीका की चर्चित पत्रकार सैली लेहमन ने गुरुवार को बताया कि गूगल, फेसबुक, बिंग और ट्विटर ने भी 'ट्रस्ट इंडिकेटर्स' या संकेतकों का उपयोग करने को लेकर सहमति जताई है। जल्द ही 'ट्रस्ट इंडिकेटर इन प्लेटफॉर्म पर आने वाली खबरों या लेखों के बगल में दिखेगा।
    अमरीका और यूरोप में गूगल, फेसबुक और ट्विट्टर को फर्जी खबरों को प्रमोट करने की वजह से भारी आलोचना झेलनी पड़ रही है। माना जाता है कि अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान फेसबुक के न्यूज फीड और ट्रेंडिंग सेक्शन में रूसी एजेंसियों ने ऐसी खबरें फैलायी थीं जिसने डोनाल्ड ट्रंप की जीत में अहम भूमिका निभाई थी।
    पिछले दिनों यह मामला तब और सुर्खियों में आ गया था जब फेसबुक ने तकरीबन 3000 रूसी विज्ञापनों की जानकारी अमरीकी कांग्रेस से साझा की। फेसबुक का कहना था कि उसे संदेह है कि इनका उपयोग किसी रूसी इंटरनेट रिसर्च एजेंसी ने राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप के पक्ष में माहौल बनाने के लिए किया था। (सत्याग्रह)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • अभय शर्मा
    सोशल नेटवर्किंग साईट ट्विटर ने दुनिया भर के दक्षिणपंथियों की चिंता बढ़ा दी है। उसने अपनी नई नीति के तहत अमरीका के कई चर्चित दक्षिणपंथी नेताओं की प्रोफाइल से 'वेरिफिकेशन बैज हटा लिया है। ट्विटर द्वारा 'वेरिफिकेशन बैज' मशहूर हस्तियों, चर्चित संस्थानों और संगठनों को दिया जाता है। ट्विटर पर इसे नील रंग के 'टिक मार्क' से दर्शाया जाता है, जो किसी यूजर के नाम के आगे दिखता है। इसे पाने वाले व्यक्ति को ट्विटर एक आम यूजर से अलग कई अतिरिक्त सुविधाएं देता है।
    अमरीकी मीडिया के मुताबिक बुधवार को ट्विटर ने अमरीका के कई दक्षिणपंथी नेताओं के अकाउंट से इस विशेष सहूलियत को हटा लिया है। इनमें जाने-माने दक्षिण पंथी नेता जेसन कैसलर, रिचर्ड स्पेन्सर, लौरा लूमर और ब्रिटेन स्थित एक इस्लाम विरोधी संगठन के पूर्व नेता टॉमी रॉबिन्सन शामिल हैं।
    बीते अगस्त में वर्जीनिया के शार्लट्सविल इलाके में 'श्वेत वर्चस्ववादी' समूह की एक बड़ी रैली आयोजित हुई थी। जेसन कैसलर और रिचर्ड स्पेन्सर द्वारा आयोजित की गई इस रैली की वजह से उस समय अमरीका में माहौल काफी ज्यादा तनावपूर्ण हो गया था। लौरा लूमर भी पिछले दिनों मुस्लिम विरोधी ट्वीटस की वजह से खासी चर्चा में रही थीं।
    बुधवार को लौरा ने खुद ट्विट्टर के इस कदम पर नाराजगी जाहिर करते हुए इसकी जानकारी दी है। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, ट्विटर ने एक मेल के जरिये सूचना दी है कि वे मेरे अकाउंट से वेरिफिकेशन बैज हटा रहे हैं। क्योंकि मेरा अकाउंट इस सुविधा के लिए बनाए गए नियमों का पालन नहीं करता।
    तकनीक से जुड़ी अमरीकी वेबसाइट द वर्ज ने जब ट्विटर से इस बारे में सवाल किया तो कंपनी ने अपने नियम और शर्तों का हवाला दिया। द वर्ज के मुताबिक इन शर्तों में साफ लिखा है कि जो लोग या संगठन नस्ल, जाति, राष्ट्रीय मूल, लिंग, सम्प्रदाय, उम्र, विकलांगता या रोग के आधार पर नफरत या हिंसा को बढ़ावा देते हैं, उनसे कभी भी 'वेरिफिकेशन बैज' की सुविधा को वापस लिया जा सकता है।
    हालांकि, ट्विटर द्वारा इस तरह के कठोर कदम उठाए जाने के संकेत पिछले महीने ही मिल गए थे। तब कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैक डॉर्सी ने कहा था कि वे ट्विटर पर लोगों की आवाज दबाने और उन्हें निशाना बनाए जाने की घटनाओं से चिंतित हैं और ऐसी गतिविधियों को रोकने के लिए सख्त नियम बनाने का निर्णय ले चुके हैं। उनका यह भी कहना था कि नए नियमों के तहत उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी जिनकी पोस्ट यौन हिंसा, नग्नता और नफरत फैलाने वाले समूहों आदि से संबंधित होंगी।  (सत्याग्रह)

     

    ...
  •  


Posted Date : 13-Nov-2017
  • दूरसंचार कंपनी आइडिया सेल्युलर का चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में एकीकृत शुद्ध घाटा 1,106 करोड़ रुपए रहा. पिछले साल इसी अवधि में कंपनी का शुद्ध लाभ 91.5 करोड़ रुपए था. फाइनेंशियल ईयर 2018 के दूसरे क्वार्टर में कंपनी का ऑपरेशनल रेवेन्यू 19.72 फीसदी गिरकर 7,465.5 करोड़ रुपए रहा है. वहीं एक साल पहले समान अवधि में कंपनी का रेवेन्यू 9300.23 करोड़ रुपए था. तिमाही दर तिमाही आधार पर दूसरी तिमाही में आइडिया सेल्युलर का एबिटडा 1875.4 करोड़ रुपए से घटकर 1501.6 करोड़ रुपए रहा है. तिमाही आधार पर दूसरी तिमाही में आइडिया सेल्युलर का एबिटडा मार्जिन 23 फीसदी से घटकर 20.1 फीसदी रहा है. (ज़ी न्यूज़)

    ...
  •  


Posted Date : 11-Nov-2017
  • 10,000 रुपये से कम कैटेगरी में सबसे ज़्यादा मोबाइल लॉन्च किए जाते हैं। 10,000 रुपये के अंदर करीब हर रोज कोई ना कोई नया हैंडसेट लॉन्च होता है और बाज़ार में ऐसे विकल्पों की कमी नहीं है। हालांकि, इतने सारे विकल्पों में से कौन सा फोन हमारे लिए उपयुक्त और सही है, इसका चुनाव करना बेहद मुश्किल हो जाता है। फोन खरीदने की आपकी यही मुश्किल आसान बनाने के लिए, हमने 10,000 रुपये से कम कैटेगरी में आने वाले बेहतरीन स्मार्टफोन की एक सूची तैयार की है।

    हमेशा की तरह हमने सूची में उन्हीं हैंडसेट को शामिल किया है जिन्हें हमने अपनी विस्तृत रिव्यू प्रक्रिया में परख़ा है। क्योंकि स्पेसिफिकेशन मात्र से किसी फोन की परफॉर्मेंस को आंका नहीं जा सकता। इसके अलावा हमने अपनी सूची में एक साल से ज़्यादा पुराने फोन को नहीं शामिल किया है। हमने इस सूची में सबसे पहले शाओमी के लेटेस्ट स्मार्टफोन रेडमी वाई1 को रखा है। बता दें कि सूची को रेटिंग के हिसाब से क्रमबद्ध नहीं किया गया है।

    यह है 10,000 रुपये के पांच बेहतरीन स्मार्टफोन की सूची
    Xiaomi Redmi Y1    7/10
    Yu Yureka Black      8/10
    Lenovo K6 Power    8/10
    Xiaomi Redmi 4      8/10
    Coolpad Note 3S    7/10

    1. शाओमी रेडमी वाई1
    10,000 रुपये से कम कीमत वाली सूची में सबसे जल्दी जगह पाई है शाओमी के पहले सेल्फी फोन रेडमी वाई1 ने। फोन की ख़ासियत है स्मार्टफोन में दिया गया 16 मेगापिक्सल सेल्फी कैमरा जो फ्रंट फ्लैश व रियल-टाइम ब्यूटिफिकेशन के साथ आता है।
    देखा जाए तो रेडमी वाई1, शाओमी द्वारा सेल्फी केंद्रित फोन बनाने की पहली कोशिश है। हार्डवेयर भरोसेमंद है और यह ज़्यादातर टास्क के लिए पूरी तरह से सक्षम है। मीयूआई 9 काफी स्मूथ है और यूज़र जल्द ही इसके आदी हो जाएंगे। दिन की रोशनी में कैमरा परफॉर्मेंस अच्छी है, लेकिन कम रोशनी में औसत है। सेल्फी की बात करें तो फ्लैश मददगार साबित होता है और ब्यूटीफाई मोड भी कुछ हद तक काम करता है। लेकिन आउटपुट हमेशा अच्छा नहीं होता। हमारे रिव्यू में स्मार्टफोन ने 10 में से 7 रेटिंग हासिल की। और बैटरी लाइफ व सॉफ्टवेयर को 8 रेटिंग मिली। रेडमी वाई1 के 3 जीबी रैम और 32 जीबी वेरिएंट की कीमत 10,000 रुपये है और यह एक अच्छा विकल्प है।

    2. यू यूरेका ब्लैक
    पिछला एक साल यू टेलीवेंचर्स ब्रांड के लिए गुमनामी भरा था। लेकिन कंपनी ने वापसी की। Yu Yureka Black इस प्राइस रेंज के लिए बेहतरीन विकल्प है। डिस्प्ले थोड़ा निराश करता है, लेकिन बाकी डिपार्टमेंट में यह अपनी कीमत को वाजिब ठहराता है। यह भी एक हरफनमौला हैंडसेट है।

    Yu Yureka Black दिखने में अच्छा है और इसकी बैटरी लाइफ भी दमदार है। अगर आप एक ऐसे फोन की तलाश में हैं जो हर काम के लिए बना है तो 10,000 रुपये के प्राइस रेंज में यह एक बेहतरीन विकल्प है।

    3. शाओमी रेडमी 4
    पिछले एक साल तक Xiaomi Redmi 3S Prime हमारी इस सूची का हिस्सा लगातार बनता रहा। लेकिन अब इसकी जगह शाओमी रेडमी 4 ने ले ली है। अगर आपका बजट 10,000 रुपये का है तो यह एक बेहतरीन विकल्प है। देखा जाए तो शाओमी रेडमी वाई1 की सीधी भिड़ंत इसी हैंडसेट से है।
    हमारे रिव्यू में 3 जीबी/ 32 जीबी वेरिएंट वाले फोन को 10 में से 8 रेटिंग प्वाइंट मिले थे। नए फोन की बैटरी लाइफ बेहतरीन है। इसका स्लिक और कॉम्पेक्ट डिज़ाइन भी आपको खासा पसंद आएगा। कैमरा निराश करने वाला है, लेकिन यह समस्या 10,000 रुपये प्राइस रेंज वाले हर स्मार्टफोन के साथ है। अगर आप पैसा वसूल स्मार्टफोन की तलाश कर रहे हैं तो Xiaomi Redmi 4 एक बेहतरीन विकल्प है।

    4. लेनोवो के6 पावर
    यह पिछले पेश किए गए बेहतरीन स्मार्टफोन में से एक है। पुराना होने के बावजूद Lenovo K6 Power की दावेदारी कमज़ोर नहीं हुई है। परफॉर्मेंस ठीक-ठाक है और बैटरी लाइफ को दमदार कहना होगा।

    रिव्यू में इसके डिस्प्ले और कैमरे को भी अच्छी रेटिंग मिली थी। लेकिन वक्त बदल चुका है। इसके बावजूद लेनोवो के6 पावर एक बेहतरीन विकल्प है। ऐसा नहीं है कि लेनोवो का यह फोन इस सूची में शामिल किए गए बाकी फोन को पूरी तरह से मात दे देता है। लेकिन यह एक अच्छा विकल्प है और इसे हाल ही में एंड्रॉयड 7.0 नूगा का अपडेट भी मिला था। जबकि ज़्यादातर फोन अब भी एंड्रॉयड मार्शमैलो के साथ आते हैं। इसके अलावा इसे खरीदना भी बेहद ही आसान है।

    5. कूलपैड नोट 3एस
    कूलपैड नोट 3एस को 2016 की आखिर में लॉन्च किया गया था। यह भी हर डिपार्टमेंट में ठीक-ठाक परफॉर्मेंस देता है। अनोखे लुक और दिन की रोशनी में कैमरा परफॉर्मेंस इसके पक्ष में जाती है।

    कमज़ोर बैटरी लाइफ और औसत परफॉर्मेंस के कारण यह टॉप पर जगह बनाने में कामयाब नहीं हो पाता। लेकिन अंतर इतना भी ज़्यादा नहीं है। अगर आपको डिज़ाइन और यूआई पसंद है तो यह 10,000 रुपये के प्राइस रेंज यह एक बेहतरीन ऑप्शन है।

    अन्य विकल्प
    इन फोन के अलावा कुछ हैंडसेट ऐसे भी हैं जिनके बारे में विचार किया जा सकता है। Micromax Canvas 6 Pro बुरा विकल्प नहीं है। रैम ज़्यादा है, लेकिन बैटरी लाइफ और कैमरा निराश करेगा। यह फोन गर्म भी होता है, इस वजह से यह हमारी सूची का हिस्सा नहीं बन पाया। अगर आप एक अच्छा डिस्प्ले और परफॉर्मेंस चाहते हैं तो मोटो जी4 के बारे में भी सोचा जा सकता है। फोन का कैमरा भी आपको निराश नहीं करेगा। हालांकि, यह पुराना हैंडसेट है।

    वैसे, 10,000 रुपये के प्राइस रेंज में दो फोन ऐसे भी हैं जिन्हें हमने रिव्यू नहीं किया है, लेकिन लॉन्च इवेंट के दौरान बिताए कुछ वक्त में हमें पसंद आए। हम बात कर रहे हैं Lyf F1s और Moto C Plus की। दोनों ही फोन के स्पेसिफिकेशन अच्छे हैं और मोटो सी प्लस की कीमत भी लुभाने वाली है। Nokia 3 भी इस सूची का हिस्सा बनने में पूरी तरह से सक्षम है। लेकिन रेटिंग के हिसाब से हमने इस फोन को 10 से 6 ही दिया था। (gadgets360)

    ...
  •  


Posted Date : 11-Nov-2017
  • बीएसएनएल ने नया ऑफर पेश किया है। यह ऑफर कंपनी ने अपने यूजर्स की संख्या बढ़ाने के लिए निकाला है। इस ऑफर में कंपनी 7 रुपए के रिचार्ज पर 60 रुपए का टॉकटाइम दे रही है। इसके साथ ही 500MB डेटा भी दे रही है। दरअसल यह ऑफर कंपनी ने रिलांयस कम्यूनिकेशन और टाटा डोकोमो को ध्यान में रखकर निकाला है। अब यह दोनों कंपनियां अपनी सेवाएं बंद कर रही हैं। बीएसएनएल ने यह ऑफर उन मोबाइल यूजर्स के लिए निकाला है जो मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी (MNP) करना चाहते हैं। मतलब जो यूजर किसी कंपनी को छोड़कर बीएसएनएल में अपना नंबर पोर्ट करवाएंगे वह इस ऑफर का फायदा उठा सकते हैं। इस प्लान की वैधता 28 दिनों की होगी।
    ऐसे करें नंबर पोर्ट
    सबसे पहले आपको अपने मौजूदा टेलीकॉम ऑपरेटर को नंबर पोर्ट करने की जानकारी देनी होगी। इसके लिए आपको PORT लिखकर 1900 पर मैसेज करना होगा। इसके जवाब में आपको 1901 नंबर से यूनीक पोर्टिंग कोड मिलेगा। इसकी वैधता 15 दिन की होगी। अब किसी बीएसएनल स्टोर या रिटेलर के पास जाएं। यहां पर कस्टमर एप्लिकेशन फॉर्म भरने के दौरान आपको पोर्टिंग कोड भी डालना होगा। इसके साथ ज़रूरी कागज़ात (आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ और एक पासपोर्ट फोटो) जमा करवाएं। इसके जवाब में आपको बीएसएनएल की ओर से एक बीएसएनएल का सिम कार्ड दिया जाएगा।
    एक्टिवेट होने के बाद यह सिम भी आपके पुराने नंबर का इस्तेमाल करेगा और आपका पुराना सिम हमेशा के लिए बंद हो जाएगा। बीएसएनएल के सिम को एक्टिवेट होने में 7 दिन का वक्त लग सकता है। पोर्ट करवाने के दौरान संभव है कि आपका नंबर दो-तीन घंटे के लिए काम न करे। ऐसा बीएसएनएल का सिम एक्टिवेट होने से पहले होगा। ध्यान रहे कि नंबर पोर्ट करवाने के 90 दिन बाद तक आप किसी और कंपनी में उसी नंबर को पोर्ट नहीं करा सकते। (जनसत्ता)

    ...
  •  


Posted Date : 10-Nov-2017
  • - अभय शर्मा
    फेसबुक लोगों से उनकी 'न्यूडÓ तस्वीरें मांग रहा है। पहली नजर में यह बात किसी को भी बहुत अजीब लग सकती है लेकिन, ऐसा करने के पीछे भी एक नेक मकसद ही है। पिछले दिनों ऑस्ट्रेलिया में फेसबुक ने लोगों से अपनी नग्न तस्वीरें और वीडियो उसे भेजने के लिए कहा है। इसका मकसद इन तस्वीरों को भविष्य में वायरल होने से बचाना है।
    ऑस्ट्रेलियाई मीडिया के मुताबिक हाल ही में फेसबुक ने सरकार की सहमति के बाद एक नए फीचर की टेस्टिंग शुरू की है। इसके तहत लोगों से कहा गया है कि अगर उन्हें ऐसा लगता है कि उनका पूर्व पार्टनर उनकी अंतरंग तस्वीरों को सोशल मीडिया पर अपलोड कर सकता है तो कृपया ऐसी तस्वीरें फेसबुक को भेज दें ताकि, उन्हें भविष्य में अपलोड होते ही ब्लॉक किया जा सके।
    ऑस्ट्रेलिया की ई-सुरक्षा आयुक्त जूली ग्रांट ने इसकी कार्य प्रणाली के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि लोगों के फोटो मिलते ही फेसबुक का सॉफ्टवेयर इस फोटो की विशेष पहचान या आईडी तैयार कर देगा। इसके बाद जब भी कोई यूजर इस फोटो को फेसबुक पर अपलोड करेगा तो वह फोटो स्वत: ही ब्लॉक हो जाएगा।
    जूली ग्रांट ने लोगों को आश्वस्त करते हुए यह भी कहा है कि सोशल मीडिया साइट यूजर के भेजे गए फोटो को अपने डेटाबेस में स्टोर नहीं करेगी बल्कि, फोटो को विशेष पहचान देने के बाद तुरंत ही डिलीट कर दिया जाएगा। ग्रांट के कार्यालय की ओर से कहा गया है कि जिन लोगों को डर है कि उनकी तस्वीरें भविष्य में फेसबुक पर अपलोड की जा सकती हैं, वे ई-सुरक्षा आयुक्त से ऑनलाइन सम्पर्क कर सकते हैं और उनकी सलाह के बाद अपनी तस्वीरें फेसबुक को भेज सकते हैं।
    वहीं, इस नए फीचर को फेसबुक ने न्यूड फोटो को अपलोड होने से रोकने का एक बेहतर तरीका बताया है। कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा, यह एक बेहतर तरीका हो सकता है क्योंकि इसमें आप पहले ही सावधानी के तौर पर कार्रवाई कर चुके होते हैं। हालांकि, अभी इसे परीक्षण के तौर पर ही शुरू किया गया है। इस पर लोगों की प्रतिक्रिया के बाद ही आगे कोई फैसला किया जाएगा। वर्तमान में फेसबुक पर ऐसे मामलों को निपटाने के लिए लोगों को अपनी फोटो अपलोड होने के बाद उसे रिपोर्ट करना होता है जिसके बाद फेसबुक उसे डिलीट करता है।
    पिछले करीब दो वर्षों में अमरीका, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और कनाडा में ऐसे मामले काफी तेजी से बढ़े हैं जिनमें महिलाओं से नाराज होकर उनके पूर्व पार्टनर उनके अंतरंग फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड कर देते हैं। इसे लेकर ब्रिटेन में कानून भी बना गया है जिसके तहत ऐसा करने वाले को दो साल की जेल हो सकती है। लेकिन, इस साल ब्रिटेन में फेसबुक के लीक हुए कुछ दस्तावजों से पता चला है कि कंपनी को हर महीने इस तरह के करीब 54 हजार मामलों का सामना करना पड़ता है। फेसबुक द्वारा इस नए फीचर को लाने की मुख्य वजह यही मानी जा रही है।

    ...
  •  


Posted Date : 09-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 9 नवम्बर । मोबाइल बैट्री खत्म होने लगती है तो सबसे बड़ी मुसीबत होती है, फोन को चार्ज पर लगाना। क्योंकि उस वक्त न ज्यादा फोन चला सकते हैं न लेकर बाहर जा सकते हैं। घर हो या फिर ऑफिस हर जगह चार्जर को साथ रखना पड़ता है। क्या पता कब फोन की बैट्री डाउन हो जाए। सबसे ज्यादा गुस्सा तो तब आता है जब फोन चार्ज लगाने के कई घंटे बाद पता चले कि प्लग तो ऑन करना ही भूल गए। लेकिन अब ऐसा डिवाइस आने वाला है जिससे चलते-फिरते फोन चार्ज कर सकते हैं। यहां हम पॉवर बैंक की बात नहीं कर रहे हैं। एक ऐसे डिवाइस की बात कर रहे हैं जो वाई-फाई जैसा होगा। बिना किसी तार के फोन चार्ज करेगा। 
    जैसे वाई-फाई होता है। जिसमें हम मोबाइल और लैपटॉप पर इंटरनेट चला सकते हैं ठीक वैसे ही अब वाई-चार्ज के जरिए हम फोन चार्ज कर सकेंगे। बिना किसी चार्जर और पॉवर बैंक के फोन की बैट्री फुल हो जाएगी। कॉल या मैसेज करते वक्त न कोई परेशानी आएगी न फोन गर्म होगा। बड़े ही आसानी से फोन चार्ज हो जाएगा। 
    फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इसे अप्रूव किया है। वाई-चार्ज के पॉवर डिलीवरी के लिए इन्फ्रारेड बीम्स का इस्तेमाल किया जाता है। एडीए ने इसकी क्षमता जांचने के लिए एक मॉडल ट्रेन का इस्तेमाल किया। जिसे बिना बेट्री के चलाकर देखा। जो बड़े ही आराम से बिना बैट्री के चल रही थी। वाई-चार्ज के को-फाउंडर और वाइस प्रेसीडेंट ओरी मोर की मानें तो अगले साल तक ये मार्केट में आ जाएगा और बिकना शुरू हो जाएगा। लेकिन इतनी कीमत कितनी होगी। इसका खुलासा फिलहाल नहीं हुआ है।
    कुछ खास बातें
    वाई-चार्ज के डिवाइस की रेंज 10 मीटर तक होगी। इसके बाहर जाने पर फोन चार्ज नहीं होगा। मोबाइल चार्जर के मुकाबले इसकी चार्ज करने की क्षमता थोड़ी कम होगी। यानी फुल चार्ज होने में वक्त लगेगा। मोबाइल चार्ज अच्छे से होने के बाद ओरी मोर का प्लान सभी इलैक्ट्रॉनिक डिवाइस को चार्ज करने का है। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 08-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 8 नवंबर : काफी समय से ये सवाल पूछा जाता रहा है कि ट्विटर का इतना इस्तेमाल होता है तो उसमें कैरेक्टर लिमिट इतने कम क्यों? लोगों को बात पूरी करने के लिए 3-4 तक ट्वीट कर देने पड़ते हैं. लोगों की परेशानियों को समझते हुए ट्विटर ने 140 शब्दों में अपनी बात कहने की सीमा को खत्म करते हुए अक्षरों की सीमा दोगुनी यानी 280 कर दी है. चीनी, जापानी और कोरियाई भाषा में लिखने वाले लोगों के लिए अक्षरों की सीमा अभी भी 140 ही रहेगी क्योंकि इन भाषाओं में लिखने के लिए बेहद कम अक्षरों की जरूरत होती है. 

    कंपनी ने कहा है कि अंग्रेजी भाषा में 9 फीसदी ट्वीट्स 140 कैरक्टर में लिखे जाते हैं. जिससे यूजर्स 140 कैरक्टर में अपने ट्विट को पूरा नहीं कर पाते हैं. ट्विटर ने उम्मीद जताई है कि लोगों को ज्यादा ट्विटर करने में मदद मिलेगी. ट्विटर काफी समय से इस पर टेस्ट कर रहा था, लेकिन इसकी शुरुआत आ कर चुका है. 

    किए और कई बदलाव
    ट्विटर ने न सिर्फ कैरेक्टर लिमिट बढ़ाई है बल्कि और भी कई बदलाव किए हैं. जिससे यूजर्स को ट्वीट करने में और मजा आने वाला है. मल्टी पार्ट ट्विट, टेक्स्ट ब्लॉक के स्क्रीनशॉट, जैसे ट्वीट्स शामिल किए हैं. पहले लोग ट्वीट करते थे तब कैरक्टर काउंट होते थे लेकिन अब टेक्स्ट के नीचे एक सर्किल बन कर आता है. जब आपके 280 कैरक्टर पूरे हो जाएंगे तो सर्किल डार्क हो जाएगा. लैपटॉप या कम्यूटर पर ही नहीं मोबाइल यूजर्स भी 140 कैरक्टर की सीमा से आगे 280 कैरक्टर में ट्वीट कर सकेंगे.   (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 04-Nov-2017
  • अभय शर्मा
    अब पेटीएम पर ही इंस्टैंट मैसेजिंग यानी वाट्सएप जैसी सुविधा मिल गई है। डिजिटल पेमेंट एप पेटीएम ने कई महीनों से चर्चा में चल रहे 'पेटीएम मैसेजिंग फीचर को लांच कर दिया है। इन्बॉक्स नाम से शुरू की गई इस नई सर्विस के जरिए यूजर्स एक-दूसरे से बातचीत कर सकते हैं। कंपनी के अनुसार इसमें टेक्स्ट के अलावा वीडियो, फोटो और पैसे भेजने का ऑप्शन भी मिलेगा।
    पेटीएम ने शुक्रवार को अपने ब्लॉग में इसकी जानकारी दी है। कंपनी ने ब्लॉग में बताया है, हमारे ऐप की यह नई सर्विस काफी तेज और आसान है। इसे दोस्तों और रिश्तेदारों से चैट करने और पैसे भेजने के लिए बनाया गया है। आप अपने पास के दुकानदार से भी सामान ऑर्डर करने के लिए पेटीएम के जरिए ही बातचीत भी कर सकते हैं। नया अपडेट आ चुका है, अगर आपको नहीं मिला तो गूगल प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से अपडेट कर सकते हैं।
    पेटीएम की ओर से यह भी बताया गया है कि इन्बॉक्स सर्विस सुरक्षित है और 'एंड टू एंड एन्क्रिप्टेडÓ है। साथ ही इसमें डिलीट या रीकॉल फीचर भी दिया गया है जिससे भेजे गए मैसेज को कुछ समय में डिलीट किया जा सकता है। बीते हफ्ते ही वाट्सऐप ने डिलीट या रिकॉल फीचर अपने एप में जोड़ा था।
    पेटीएम द्वारा इस नए फीचर को लांच करने के पीछे की मुख्य वजह वाट्सएप को माना जा रहा है। पिछले कुछ महीनों से रिपोर्ट आ रही है कि वाट्सएप भारतीय यूजरों के लिए डिजिटल पेमेंट एप लांच करने की तैयारी में है। इन रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया था कि यह फीचर तैयार हो चुका है और इसकी टेस्टिंग की जा रही है। (सत्याग्रह)

     

    ...
  •  


Posted Date : 01-Nov-2017
  • संचिता उपाध्याय जोशी
    नई दिल्ली, 1 नवम्बर । वॉट्सऐप पर बॉयफ्रेंड की जगह पापा को आई लव यू जानू लिखकर भेज दिया? या फैमिली वॉट्सऐप ग्रुप में वह जोक भेज बैठे जो दोस्तों के ग्रुप में भेजना था? तो अब घबराने की जरूरत नहीं है। पांच मिनट के अंदर-अंदर आप वह मैसेज डिलीट कर सकते हैं। लेकिन, अगर आप सोच रहे हैं कि इस फीचर से आप मैसेज के सारे सबूत मिटा बैठेंगे, तो आपकी जानकारी सही नहीं है। 
    इस फीचर में समस्या यह है कि आप अगर मैसेज डिलीट करते हैं, तो रिसीव करने वाले के चैट बॉक्स में लिखा दिखेगा ‘This message was deleted’और उस व्यक्ति की चैट सबसे ऊपर आ जाएगी, जैसे नया मैसेज आने पर आ जाती है। यानी, आप सिर्फ वह मिटा सकते हैं जो आपने लिखा था। लेकिन, सामने वाला यह तो जान ही जाएगा कि आपने कुछ-न-कुछ लिखा था।
    वॉट्सऐप के इस फीचर का बेसब्री से इंतजार किया जा रहा था। लेटेस्ट अपडेट में आए डिलीट फॉर एवरीवन फीचर के तहत आप अपने भेजे किसी भी मैसेज को दूसरों के फोन से भेजने के 5 मिनट के अंदर-अंदर डिलीट कर सकेंगे।
    वॉट्सऐप ने अपने एक ब्लॉग पोस्ट में इस फीचर के आने की पुष्टि की है। अपने भेजे हुए मैसेज पर देर तक प्रेस करने के बाद आपको ऊपर बैंड पर कई सारे विकल्प दिखेंगे। 
    इनमें से डिलीट को चुनें। इसके बाद आपको तीन और विकल्प दिखेंगे, डिलीट फॉर मी, कैंसल और डिलीट फॉर एवरीवन। 
    अगर आप पहला विकल्प चुनते हैं, तो वह मैसेज सिर्फ आपके फोन से डिलीट होगा मैसेज पाने वाले के नहीं। अगर कैंसल चुनते हैं तो कहीं से भी डिलीट नहीं होगा लेकिन अगर आप डिलीट फॉर एवरीवन चुनते हैं तो वह आपके और मैसेज रिसीव करने वाले दोनों के फोन से हट जाएगा। (नवभारत टाईम्स)

    ...
  •  


Posted Date : 29-Oct-2017
  • दूकानों के कपड़े बदलने के केबिन से लेकर लोगों के बेडरूम तक की रिकॉर्डिंग करने के लिए स्पाई-हुक इंटरनेट पर खुलेआम बिक रहे हैं, और खरीदे जा रहे हैं। इन्हें कहीं भी फिट किया जा सकता है और इसकी रिकॉर्डिंग को तुरंत किसी कम्प्यूटर या फोन पर ट्रांसफर करने के लिए इनके पीछे एक यूएसबी पोर्ट भी मौजूद है। अमेजान और ईबे पर यह स्पाई हुक हजार-दो हजार रुपये में मौजूद है। कुछ महंगा स्पाई हुक वीडियो के साथ-साथ आवाज भी रिकॉर्ड करता है। अगली बार किसी होटल में ठहरें, या किसी दूकान के चेंजिंग रूम में कपड़े बदले तो एक बार हुक पर नजर डाल लें कि उसके ऊपर कैमरे का ऐसा छेद तो नहीं है। 

     

    ...
  •  


Posted Date : 28-Oct-2017
  • अभय शर्मा
    वाट्सऐप ने काफी दिनों से चर्चा में चल रहे 'डिलीट फॉर एवरीवन फीचर को ऑफिशियल तौर पर लॉन्च कर दिया है। कंपनी के मुताबिक इसके जरिए अब गलती से भेजे गए मैसेज को समय रहते डिलीट किया जा सकेगा।
    वाट्सऐप के बीटा वर्जन के बारे में जानकारी देने वाली वेबसाइट 'वाट्सऐप बीटाइंफो के अनुसार सोशल मैसेजिंग ऐप ने यह फीचर गुरुवार को लांच किया है। इस फीचर में यूजर को मैसेज भेजने के बाद सात मिनट तक उसे डिलीट करने की सुविधा होगी। इसमें टेक्सट मैसेज के साथ-साथ फोटो, वीडियो, वॉयस मैसेज, लोकेशन, जीआईएफ और कॉन्टैक्ट कार्ड्स आदि भी डिलीट किये जा सकेंगे।
    वाट्सऐप बीटाइंफो के मुताबिक इस नए फीचर से हालांकि कई तरह के मैसेज को डिलीट नहीं भी किया जा सकेगा। जैसे अगर मैसेज ब्रॉडकास्ट लिस्ट में भेजा गया है तो वह डिलीट नहीं होगा। साथ ही यह फीचर तब ही काम करेगा जब मैसेज भेजने और उसे प्राप्त करने वाले दोनों यूजर्स के पास वाट्सऐप का अपडेटेड वर्जन होगा।
    खबर के मुताबिक वाट्सऐप का यह नया फीचर केवल एंड्रॉयड, आईओएस और विंडोज फोन यूजर्स के लिए ही जारी किया गया है। ऐसे में अगर सिमबियन ओएस के यूजर को मैसेज भेजा जाता है तो वह डिलीट नहीं होगा क्योंकि यह फीचर इस ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए उपलब्ध नहीं है।
    इस साल जून में वाट्सऐप बीटाइंफो ने ही खबर दी थी कि वाट्सऐप के डेवलपर एक ऐसे फीचर पर काम कर रहे हैं जिससे भेजे गए मैसेज को डिलीट किया जा सकेगा। हालांकि, यह फीचर टेलीग्राम, बीबर जैसे अन्य इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप में काफी पहले से उपलब्ध है। (सत्याग्रह)

     

    ...
  •  


Posted Date : 26-Oct-2017
  • अभय शर्मा
    फोटो और वीडियो शेयरिंग सोशल नेटवर्किंग साइट इन्स्टाग्राम ने अपने यूजरों को क्रिसमस से पहले एक बड़ा तोहफा दिया है। उसने एक नया फीचर पेश किया है जिसमें यूजर लाइव वीडियो में अपने एक मित्र को भी शामिल कर सकता है।
    इन्स्टाग्राम की ओर से एक ब्लॉग के जरिए इस नए फीचर के बारे में जानकारी दी गई है। इसका नाम है लाइव विद अ फ्रेंड। कंपनी ने बताया है कि इसमें यूजर लाइव वीडियो को देख रहे लोगों को भी वीडियो में शामिल होने के लिए आमंत्रित कर सकता है। लेकिन, ऐसे में उसे अपने उस मित्र को वीडियो से हटाना होगा जिसके साथ वह पहले से लाइव था, क्योंकि इसमें एक बार में एक मित्र के साथ ही लाइव होने की सुविधा दी गई है।
    फेसबुक की सहयोगी कंपनी के मुताबिक जब यूजर अपने किसी मित्र को लाइव वीडियो में जोड़ेगा तो स्क्रीन दो भागों में विभाजित हो जायेगी। इसमें एक भाग में यूजर और दूसरे में उसका मित्र दिखेगा। यूजर को किसी भी समय अपने मित्र को लाइव वीडियो से हटाने और अन्य किसी को जोडऩे का अधिकार होगा। इसी तरह लाइव वीडियो में शामिल मित्र भी किसी भी समय वीडियो को छोडकर जा सकता है। कंपनी के अनुसार लाइव वीडियो का प्रसारण समाप्त होने पर इसे स्टोरीज में एक आम वीडियो की तरह शेयर भी किया जा सकता है।
    पिछले साल नवंबर में इन्स्टाग्राम में लाइव वीडियो का फीचर जोड़ा गया था। इसके बाद इस साल जून में सोशल नेटवर्किंग साइट की ओर से बताया गया था कि वह लाइव विद ए फ्रेंड फीचर लाने की तैयारी में है। कंपनी ने अपने ब्लॉग में बताया है कि यह नया फीचर ऐप स्टोर और गूगल प्ले स्टोर में इन्स्टाग्राम की ऐप के अपडेटेड वर्जन 2.0 में उपलब्ध है।

     

    ...
  •  


Posted Date : 24-Oct-2017
  • नई दिल्ली, 24 अक्टूबर  स्मार्टफोन का खो जाना या चोरी हो जाना किसी के लिए भी बहुत दुखद होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि स्मार्टफोन के साथ-साथ फोन में मौजूद डाटा भी हमेशा के लिए चला जाता है। इसी के साथ, क्योंकि स्मार्टफोन छोटी-बड़ी हर जरुरत का हिस्सा बन चुका है, इसलिए उसमें हमारी कई जरुरी जानकारी मौजूद होती हैं।
    अगर अचानक फोन खो जाए या चोरी हो जाए तो हमारे पास जरुरी डाटा डिलीट करने का भी समय नहीं रहता, जिससे कोई उसका गलत इस्तेमाल ना कर सके। लेकिन कुछ ऐसी टिप्स हैं जिनकी मदद से अगर आपके पास आपका फोन नहीं है, तब भी आप घर बैठे अपना डाटा बचा सकते हैं। लेकिन इसके लिए भी कुछ शर्ते हैं-
    आपको बता दें, आपके खोए हुए फोन को तभी ढूंढा जा सकता है जब वो ऑन हो।
    फोन में कोई भी गूगल अकाउंट लॉगइन होना चाहिए, जैसे की ईमेल आदि।
    फोन का मोबाइल डाटा या वाई-फाई किसी न किसी इंटरनेट माध्यम से जुड़ा होना जरुरी है।
    फोन में जीपीएस का ऑन होना जरुरी है। इससे लोकेशन का पता लगाया जा सकेगा।
    फोन में फाइंड माय डिवाइस चालू होना जरुरी है।
    क्या है इसके बाद के स्टेप्स-
    फोन के खो जाने पर सबसे पहले ड्डठ्ठस्रह्म्शद्बस्र.ष्शद्व/द्घद्बठ्ठस्र पर जाएं। यहां उस ईमेल आईडी से लॉगइन करें जो आपके खोए हुए फोन में चल रही है।
    लॉगइन करने के बाद गूगल मैप पर आपके डिवाइस की लोकेशन दिखने लगेगी।
    इसे के साथ आपको कई विकल्प भी दिखाई देंगे- साउंड प्ले करने के विकल्प के अंतर्गत आपका फोन साइलेंट होने पर भी रिंग करने लगेगा। लॉक विकल्प के तहत फोन, डिस्प्ले मैसेज या फोन नंबर को लॉक किया जा सकता है। (बाकी पेजï 5 पर)
    तीसरे विकल्प के तहत डिवाइस से डाटा डिलीट किया जा सकता है।
    इस तरह अगर आप फोन को दोबारा ढूंढ ना पाएं, तो कम से कम अपनी निजी जानकारी लीक होने से तो बचा ही सकते हैं। (एजेंसी)।

     

    ...
  •  


Posted Date : 21-Oct-2017

  • आपका मोबाइल बजता है, आप अलसाते हुए फोन उठाते हैं। व्हाट्सऐप पर दोस्त का मेसेज है,भाई! कहां पहुंचा? आप जवाब देते हैं कि बस...रास्ते में हूं। बीस मिनट में पहुंच जाऊंगा। इसके बाद आप फोन किनारे रखकर फिर सो जाते हैं।
    अगर आपकी भी कुछ ऐसी ही आदत है तो ये जरा संभल जाइए। क्योंकि ये बहानेबाजी अब ज्यादा नहीं चलेगी। वॉट्सऐप एक नया फीचर ला रहा है जिससे आपके पता चलेगा कि आप वाकई किसी तय जगह के पास हैं या नहीं। यह फीचर आपके फोन में मौजूद कॉन्टैक्ट्स को मैप से सिंक करने और उनकी रियल टाइम मूवमेंट को देखने की सुविधा देता है।
    ये फीचर यूजर की सुरक्षा के लिए भी बेहतर साबित होगा। किसी मुश्किल में पडऩे पर आपके करीबी इसके जरिए आपकी लोकेशन का पता लगा सकते हैं। अच्छी बात ये है कि लोकेशन सबके साथ शेयर नहीं होगी।
    वॉट्सऐप ने एक बयान में बताया,यह फीचर एंड-टु-एंड एनक्रिप्शन से लैस है। इससे आप तय कर सकते हैं कि आपके किसके साथ अपनी लोकेशन शेयर करनी है और कितनी देर के लिए।
    इस फीचर का इस्तेमाल करने के लिए आपको व्हाट्सऐप में कोई पर्सनल या ग्रुप चैट खोलना होगा। इसके बाद आपको अटैच क्लिप वाली क्लिप पर जाकर लोकेशन का विकल्प चुनना होगा।
    फिर आपको रियल-टाइम लोकेशन सेलेक्ट करना होगा। इससे आपकी लोकेशन चुने गए कॉन्टैक्ट के साथ शेयर हो जाएगी। कंपनी ने इस बारे में मंगलवार को सार्वजनिक तौर पर ऐलान किया। फिलहाल यह टेस्टिंग फेज में है और आने वाले कुछ हफ्तों के भीतर एंड्रॉयड और आईफोन दोनों के लिए उपलब्ध होगा। (बीबीसी)

    ...
  •  


Posted Date : 18-Oct-2017
  • - अभय शर्मा
    बेल्जियम के वैज्ञानिकों ने वाईफाई से जुड़ी सबसे बड़ी और खतरनाक खामी ढूंढ निकाली है। इस खामी की वजह से किसी भी स्मार्टफोन, लैपटॉप, यहां तक कि स्मार्ट टीवी और फ्रिज को भी हैक किया जा सकता है।
    'की रीइंस्टालेशन अटैकÓ या क्रैक्स नाम की इस खामी को बेल्जियम की केयू लियूवेन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता मैथी वैनहॉफ ने खोजा है। मैथी के मुताबिक इसका फायदा उठाकर हैकर्स आपके वाईफाई नेटवर्क से जुड़े लगभग सभी उपकरणों को हैक कर सकते हैं। यह अटैक इतना खतरनाक है कि इससे पासवर्ड वाले वाईफाई नेटवर्क भी सुरक्षित नहीं हैं। इस वजह से अमरीका के गृह विभाग ने भी एक इसे लेकर एक चेतावनी जारी की है। वैनहॉफ के मुताबिक यह खामी वाईफाई में ही है, किसी खास डिवाइस में नहीं और इससे विंडोज और एंड्रॉयड के अलावा, मैक, आईओएस और लिनक्स जैसे सुरक्षित माने जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम भी प्रभावित किए जा सकते हैं।
    इस शोध में शामिल शोधकर्ताओं के मुताबिक वाईफाई की इस खामी की वजह से आपका क्रेडिट कार्ड नंबर, पासवर्ड, चैट मैसेज, फोटोज, ईमेल और दूसरे तरह के ऑनलाइन दस्तावेज चोरी किए जा सकते हैं। हालांकि, बेल्जियम के वैज्ञानिकों के इस खुलासे के बाद टेक कंपनियों ने इस खामी को दुरुस्त करने का काम शुरु कर दिया है। माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि उसने एक अपडेट जारी की है जिससे अब वाईफाई के जरिये विंडोज डिवाइस को हैक करना संभव नहीं होगा। ऐपल और गूगल भी अगले कुछ दिनों में आईओएस, मैक, एड्रॉयड और क्रोम ऑपरेटिंग सिस्टमों के लिए ऐसा ही करने वाले हैं।
    जानकारों का मानना है कि करीब 30-50 फीसदी डिवाइसों को इसके बाद भी पूरी तरह सुरक्षित कर पाना संभव नहीं होगा। हालांकि वाई-फाई से जुड़ी डिवाइसों को सिर्फ तभी हैक किया जा सकेगा जब ऐसा करने वाला उसकी रेंज में हो। इसलिए इसके माध्यम से 'वानाक्राईÓ जितने बड़े स्तर के साइबर अटैक करना शायद संभव नहीं होगा। (सत्याग्रह)

     

    ...
  •  


Posted Date : 17-Oct-2017
  • नई दिल्ली: दीवाली आने वाली है और इस दौरान ई-कॉमर्स वेबसाइट पर सेल की धूम मची है. ऑनलाइन या ऑफलाइन हर जगह सेल लगी है. गिफ्ट का भी दौर शुरू हो चुका है. खरीदारी के लिए दीवाली एक अच्छा मौका है. इसलिए हम आपको बेस्ट स्मार्टफोन्स और गैजेट्स की डील्स के बारे में बताते हैं.
    पिछले साल लॉन्च हुए गूगल के इस फ्लैगशिप स्मार्टफोन की असल कीमत 57,000 रुपये है. दिवाली सेल के तहत आप ई-कॉमर्स वेबसाइट से इसे 35 हजार रुपये में खरीद सकते हैं. इसके अलावा इसपर कैशबैक और एडिशनल डिस्काउंट्स भी दिए जाएंगे. कैमरा और परफॉर्मेंस के मामले में यह शानदार स्मार्टफोन है.

    इस साल का बेस्ट सेलर स्मार्टफोन Redmi Note 4 दिवाली सेल के दौरान अलग अलग वेबसाइट्स पर 2 हजार रुपये सस्ता मिल रहा है. 3GB रैम और 64GB इंटरनल मेमोरी वैरिएंट की कीमत 13,000 रुपये है, लेकिन दिवाली सेल के दौरान आप इसे 11 हजार रुपये में ही खरीद सकते हैं.

    अमेजॉन ने इस छोटे स्मार्ट स्पीकर को हाल ही में भारत में लॉन्च किया है. इस छोटे स्पीकर की कई खासियते हैं. यह वॉयस कमांड्स पर काम करता है. अमेजॉन ऐलेक्सा वर्चुअल ऐसिस्टेंट इसमें इन्बिल्ट है जिसके जरिए आप कई डिवाइस कनेक्ट कर सकते हैं. इसकी असल कीमत 4,499 रुपये है, लेकिन ऑफर के तहत इसे आप 3,149 रुपये में ही खरीद सकते हैं. इसके साथ एक साल तक की अमेजॉन प्राइम मेंबर्शिप भी मिलती है.

    Apple MacBook Air 2017 इसकी असल कीमत 77,200 रुपये है. हालांकि यह ई-कॉमर्स वेबसाइट्स पर लगभग 58 हजार रुपये में मिलता है. दिवाली सेल के दौरान पेटीएम पर आप इसके साथ 14 हजार रुपये का कैशबैक ले सकते हैं. कैशबैक के बाद यह 43,987 रुपये का होगा. इसमें Intel Core i5 प्रोसेसर के साथ 8GB रैम और 128GB की एसएसडी स्टोरेज दी गई है.
     
    दोनों नए आईफोन पर दिवाली सेल के तहत भारी डिस्काउंट मिल रहा है. इन दोनों स्मार्टफोन्स पर अलग अलग वेबसाइट्स और स्टोर्स पर 10 हजार से लेकर 15 हजार रुपये तक की छूट मिल रही है. इसके अलावा इन पर कैशबैक, बाइबैक और जियो का ऑफर भी मिल रहा है. इसलिए अगर दिवाली में बजट कोई समस्या नहीं है तो यह आपके लिए बेहतर ऑप्शन हो सकता है.
    iPhone 7 पिछले साल लॉन्च किया गया था, लेकिन नए आईफोन के मुकाबले यह ज्यादा पुराना नहीं है. iPhone 8 का डिजाइन भी ऐसा ही है. यह एक बेहतरीन डिवाइस है और यह दिवाली सेल के तहत काफी सस्ता मिल रहा है. iPhone 7 के 32GB वैरिएंट को 38,999 रुपये में खरीद सकते हैं. इसके अलावा एक्स्चेंज ऑफर के तहत इसे और भी सस्ते में खरीद सकते हैं.
     
    फुल व्यू डिस्प्ले वाले इस स्मार्टफोन की असल कीमत 22,990 रुपये है. लेकिन पेटीएम मॉल पर सेल के तहत इसे आप इसे 17,104 रुपये में खरीद सकते हैं. इसकी खासियत इसमें दिया गया 24 मेगापिक्सल का मूनलाइट सेल्फी कैमरा है. इसमें 4GB रैम के साथ 64GB की इंटरनल मेमोरी दी गई है.

    ...
  •  


Posted Date : 15-Oct-2017
  • चाहे कोई भी चीज कितनी भी लुभावनी हो, आप तब ही उससे खरीदते हैं जब वह आपके बजट में फिट बैठता हो, या फिर ज़रूरत होने पर। यह नियम कुछ हद तक टेलीकॉम कंपनियों द्वारा दिए जा रहे रीचार्ज प्लान पर भी लागू होता है। भले ही रिलायंस जियो, एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया जैसी कंपनियां कोई भी प्लान निकालें। लेकिन आप अपनी सुविधा और ज़रूरत के हिसाब से से ही किसी रीचार्ज प्लान को चुनते हैं।

    इन दिनों अपने-अपने नेटवर्क से ग्राहकों को जोड़ने को लेकर गलाकाट प्रतिस्पर्धा है। ग्राहक को लुभाने के लिए टेलीकॉम कंपनियां हर दूसरे दिन नए प्लान के साथ आ रही हैं। इनमें से कुछ बेहद ही कारगर रीचार्ज पैक हैं और सस्ते भी। वैसे, सिम कार्ड में ग्राहकों के पास प्रीपेड और पोस्टपेड पैक की सुविधा होती है। कंपनियां दोनों किस्म के ग्राहकों के लिए अलग-अलग प्लान भी मुहैया कराती है। हमने आपकी सुविधा के लिए ऐसे ही चुनिंदा प्रीपेड प्लान ढूंढ निकाले हैं जो सस्ते होने के साथ अनलिमिटेड कॉल की सुविधा के साथ आते हैं। इनमें से सबसे फायदेमंद और सस्ता प्लान कौन सा है? आप आगे पढ़ कर खुद ही जान लें।
     
    149 रुपये वाला यह प्रीपेड अनलिमिटेड कॉल और डेटा की सुविधा के साथ आता है। आप किसी भी नेटवर्क पर असीमित फोन कॉल कर पाएंगे। पहले इस प्लान में सिर्फ 2 जीबी डेटा दिया जाता था। लेकिन अब यह भी अनलिमिटेड डेटा के साथ आता है। अब भी ग्राहकों को 2 जीबी 4जी डेटा ही दिया जाएगा। लेकिन अब यूज़र निर्धारित 4जी डेटा खत्म हो जाने के बाद 64 केबीपीएस की स्पीड में डेटा इस्तेमाल करते रहेंगे। इस प्लान के साथ आपको जियो ऐप्स का सब्सक्रिप्शन भी मुफ्त मिलता है। पैक में आपको 300 एसएमएस मुफ्त भी मिलेंगे।
     
    एयरटेल के पास भी ऐसी ही सुविधा वाला 199 रुपये का प्रीपेड प्लान है। लेकिन यह रिलायंस जियो के प्लान की तरह फायदेमंद नहीं है। इस रीचार्ज पैक में आपको सभी नेटवर्क पर असीमित फोन कॉल की सुविधा मिलेगी। वैधता 28 दिनों की है और इस्तेमाल करने के लिए 1 जीबी डेटा मिलेगा। वैसे, एयरटेल के पास एक प्लान 149 रुपये वाला भी है। यह भी असीमित फोन कॉल की सुविधा के साथ आता है, लेकिन सिर्फ एयरटेल नेटवर्क पर। 28 दिनों वाले इस पैक में आपको 2 जीबी डेटा भी मिलेगा।
     
    आइडिया का 198 रुपये वाला प्लान

    आइडिया भी अपने ग्राहकों को अनलिमिटेड कॉल की सुविधा दे रही है, वो भी सभी नेटवर्क पर। इस रीचार्ज पैक की कीमत 198 रुपये है। इसके साथ 28 दिन की वैधता वाले प्लान में 1 जीबी डेटा भी मिलेगा। पहले कंपनी 147 रुपये में आइडिया नेटवर्क पर अनलिमिटेड कॉल की सुविधा देती है। और यह 2 जीबी के साथ आता था। लेकिन अब इस रीचार्ज प्लान से असीमित फोन कॉल की सुविधा हटा दी गई है। (गैजेट्स 360 )

    ...
  •  


Posted Date : 14-Oct-2017
  • अभय शर्मा
    अमरीकी वैज्ञानिकों ने एक ऐसा सिक्योरिटी सिस्टम बनाया है जिससे हृदय के जरिये कंप्यूटर को लॉग इन किया जा सकेगा। यह सिस्टम यूजर के दिल के साइज यानी आकार को उसकी विशेष पहचान के रूप में इस्तेमाल करेगा। इन वैज्ञानिकों के मुताबिक उनका यह सिस्टम पासवर्ड और अन्य बायोमेट्रिक प्रणालियों से कहीं ज्यादा सुरक्षित है और इसका इस्तेमाल करने वाले किसी एक व्यक्ति के कंप्यूटर को दुनिया में कोई दूसरा व्यक्ति नहीं खोल पायेगा।
    इस सिस्टम को बनाने में अमरीका के बफैलो विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक पिछले तीन साल से लगे हुए थे। इस खोज का हिस्सा रहे प्रोफेसर वेन्याओ जू ने मीडिया को बताया है कि उनसे अक्सर लोग कंप्यूटर के सिक्योरिटी सिस्टम को लेकर कुछ नया ईजाद करने को कहते थे। ऐसे में उन्हें ख्याल आया कि इंसान के हृदय का इस्तेमाल कर एक ऐसा सिस्टम बनाया जा सकता है जिसे कोई दूसरा व्यक्ति न खोल सके।
    वे बताते हैं कि इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह यह है कि दुनिया में हर इंसान के दिल का आकार अलग-अलग होता है और साथ ही किसी व्यक्ति के दिल के आकार में भी तब तक कोई बदलाव नहीं होता है जब तक उसे हृदय से संबंधित कोई बड़ी बीमारी न हो। प्रोफेसर वेन्याओ के मुताबिक ऐसे में कंप्यूटर सुरक्षा के मामले में उन्हें हृदय से बेहतर और कोई प्रभावी विकल्प नजर नहीं आया।
    इस सिस्टम को बनाने वाले वैज्ञानिकों ने इसकी कार्य प्रणाली के बारे में भी बताया है। इनके अनुसार यह सिस्टम हृदय को एक विशेष राडार के जरिये स्कैन करेगा। जब यूजर पहली बार इस सिस्टम को इस्तेमाल करेगा तब स्कैनिंग में आठ सेकंड का समय लेगा, लेकिन इसके बाद जब भी यूजर मॉनिटर के सामने आएगा तो स्कैनिंग तुरत-फुरत हो जाएगी।
    हालांकि, कुछ लोग इस तकनीक में इस्तेमाल होने वाले राडार की वजह से इससे स्वास्थ्य को नुक्सान पहुंचने की आशंका भी जाहिर कर रहे थे। लेकिन, वैज्ञानिकों ने इन स्वास्थ्य चिंताओं को पूरी तरह से नकार दिया है। इनके मुताबिक इस सिस्टम में जिस राडार का उपयोग किया गया है, उसकी सिग्नल स्ट्रेंथ वाईफाई की सिग्नल स्ट्रेंथ से भी कम है।
    प्रो.वेन्याओ जू के मुताबिक इस सिक्योरिटी सिस्टम को न केवल कंप्यूटर और स्मार्टफोन में बल्कि हवाई अड्डों पर भी पहचान के लिए इस्तेमाल किया जा सकेगा। वे बताते हैं कि हवाई अड्डों पर यह सिस्टम 30 मीटर की दूरी से ही किसी व्यक्ति की पहचान करने में सक्षम होगा। (सत्याग्रह)

    ...
  •  


Posted Date : 14-Oct-2017
  • नई दिल्ली. Nokia का फ्लैगशिप स्मार्टफोन Nokia 8 आज से भारत में सेल के लिए उपलब्ध करा दिया गया है. ग्राहक इसे Amazon से और चुनिंदा ऑफलाइन स्टोर्स से भी खरीद सकते हैं. Nokia 8 को पिछले महीने भारत में लॉन्च किया गया था, साथ ही इसमें रिलायंस जियो का बंडल डेटा भी ऑफर में दिया गया था. ये स्मार्टफोन ग्राहकों को पोलिश्ड ब्लू, टेम्पर्ड ब्लू और स्टिल कलर वैरिएंट में खरीद सकते हैं. इसके अलावा पोलिश्ड कॉपर कलर वैरिएंट कुछ हफ्तों में उपलब्ध भी कराया जाएगा. भारत में इसकी कीमत 36,999 रुपये रखी गई है.
    आइए जानते हैं इस स्मार्टफोन में क्या है खास.
    एचएमडी ग्लोबल का दावा है कि Nokia 8 में दुनिया का पहला डुअल साइट वीडियो फीचर दिया गया है, जिसके तहत फेसबुक और यूट्यूब पर रियलटाइम किया जा सकता है. डुअल साइट के जरिए एक साथ फ्रंट और रियर कैमरे का इस्तेमाल किया जा सकता है. यानी डिस्प्ले पर स्प्लिट स्क्रीन पर दोनो तरफ के विजुअल देखे जा सकेंगे. कंपनी ने इसे Bothie का नाम दिया है. नोकिया के मुताबिक इसे वीडियो कॉन्टेंट क्रिएटर को काफी फायदा होगा.
    नोकिया ने कहा है कि यह दुनिया का पहला स्मार्टफोन है जिसमें Nokia OZO ऑडिया दिया गया है. इसके जरिए यूजर्स 360 डिग्री ऑडियो का अनुभव ले सकेंगे.
    इसकी बॉडी एल्यूमिनियम की है और इसमें हाई ग्लॉस मिरर फिनिश दिया गया है. नोकिया ने फोटोज और वीडियो के लिए गूगल फोटोज के तहत अनलिमिटेड स्टोरेज देने का भी वादा किया है.
    इस हाई एंड फ्लैगशिप स्मार्टफोन में क्वॉल्कॉम का लेटेस्ट प्रोसेसर स्नैपड्रैगन 835 दिया गया है. इसमें 4GB रैम के साथ 64GB की इंटरनल मेमोरी दी गई है जिसे माइक्रो एसडी कार्ड के जरिए बढ़ा कर 256GB तक किया जा सकता है.
    लॉन्च के दौरान एचएमडी ग्लोबल के चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर जूहो सरविकास ने कहा है, 'हमें पता है कि फैन्स अब पहले से ज्यादा लाइव कॉन्टेंट शेयर करते हैं. सोशल मीडिया पर हर मिनट लाखों फोटोज और वीडियोज शेयर किए जा रहे हैं. हमने लोगों से इंस्पायर होकर डिजाइन, बेहतर अनुभव और पावरफुल परफॉर्मेंस वाला स्मार्टफोन तैयार किया है.
    Nokia 8 में प्योर एंड्रॉयड दिया गया है और यह Android 7.1.1 पर चलता है. सिक्योरिटी के लिए इसमें फिंगरप्रिंट स्कैनर भी दिया गया है.
    Nokia 8 में 5.3 इंच की आईपीएस एलसीडी क्वॉड एचडी डिस्प्ले दियागया है जो कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 5 से प्रोटेक्टेड है. स्क्रीन 2.5D कर्व्ड है.
    फोटोग्राफी की बात करें तो इसके रियर में डुअल लेंस सेटअप दिया गया है. इनमें से एक ऑप्टिकल इमेज स्टेब्लाइजेशन के साथ 13 मेगापिक्सल . दूसरे कैमरे के तौर पर 13 मेगापिक्सल का मोनोक्रोम लेंस दिया गया है. सेल्फी के लिए इसमे फेस डिटेक्शन ऑटो फोकस के साथ 13 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा दिया गया है. हालांकि इसमें फ्लैश नहीं है, लेकिन डिस्प्ले फ्लैश के तौर पर काम करेगा.
    इसकी बैटरी 3,090mAh की है और इसके साथ इसमें क्वॉल्कॉम क्विक चार्ज 3.0 दिया गया है जो इसे तेजी से चार्ज करेगा. कनेक्टिविटी के लिए इसमें 4G LTE सहित वाईफाई और लेटेस्ट ब्लूटूथ जैसे स्टैंडर्ड फीचर्स दिए गए हैं.  (आज तक)
    ---

    ...
  •  




Previous12Next