राष्ट्रीय

Previous12Next
  • चेन्नई, 23 जुलाई। सुनामी प्रभावित इलाकों में कुछ मदद पहुंचाने की उम्मीद लेकर ब्रिटेन के स्कूली बच्चों का एक दल चेन्नई पहुंचा लेकिन भारतीय अधिकारियों ने उन्हें उल्टे पांव वापस भेज दिया। घटना बीते मंगलवार की है। इसका खुलासा अब हुआ है।
    खबर के मुताबिक ब्रिटेन के पॉएंटन हाई स्कूल का दल हेड टीचर डेविड वॉग के नेतृत्व में चेन्नई पहुंचा था। इस दल में 16 बच्चे और तीन सदस्य स्कूल स्टाफ के शामिल थे। ये सभी पर्यटक वीजा पर भारत आए थे। इसीलिए इन्हें आव्रजन अधिकारियों ने बताया कि नए नियमों के तहत वे भारत में रहकर काम नहीं कर सकते। इस पर वॉग ने बताया यह पहला मौका नहीं है जब वे लोग इस तरह के टूर पर यहां आए हैं। दो बार पहले भी आ चुके हैं। हर बार पर्यटक वीजा पर ही भारत आए हैं और यहां सुनामी प्रभावितों की मदद में अपना योगदान देकर गए हैं। लेकिन इसके बावजूद भारतीय अधिकारी तैयार नहीं हुए। 
    उन्होंने दिल्ली में अन्य वरिष्ठ अफसरों से बात की पर वहां से भी कोई सकारात्मक संकेत नहीं मिला। इस दौरान करीब 10 घंटे ब्रिटिश दल हवाई अड्डे पर ही रहा। फिर आखिर में ब्रिटिश एयरवेज की उडान से उसे ब्रिटेन रवाना कर दिया गया। इस दल को इंडिया डायरेक्ट नाम के स्वयंसेवी संगठन ने भारत बुलाया था। बाद में दल के प्रमुख वॉग ने इंडिया डायरेक्ट की वेबसाइट पर अनुभव बांटा। इसमें उन्होंने लिखा, यह बेहद थकाऊ, निराशाजनक और शर्मनाक अनुभव था। हमें आने-जाने में लगातार 48 घंटे यात्रा करनी पड़ी। (डेक्कन क्रॉनिकल)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 23 जुलाई। गोरखालैंड के नाम से अलग राज्य की मांग को लेकर आंदोलन कर रहा गोरखा जनमुक्ति मोर्चा अब अपने आंदोलन को हिंसक रूप देने में जुटा है। पश्चिम बंगाल पुलिस के मुताबिक इसके लिए जीजेएम पड़ोसी देशों के माओवादियों को बुला रहा है ताकि वो उसके कैडर को सशस्त्र हमले के लिए ट्रेंड कर सकें।
    एडीजी लॉ एंड ऑर्डर अनुज शर्मा ने बताया कि हमें इंटेलिजेंस एजेंसियों से इनपुट मिले हैं कि जीजेएम द्वारा पड़ोसी देशों के माओवादियों को भाड़े पर नियुक्त किया जा रहा है। ये लोग सरकारी संपत्ति और पुलिस व प्रशासन के वरिष्ठ अफसरों को निशाना बनाकर हालात और खराब कर सकते हैं।
    दूसरी ओर जीजेएम नेतत्व ने इस तरह के आरोपों को बिल्कुल निराधार बताया है। संगठन से महासचिव रोशन गिरी ने कहा कि इस तरह के निराधार बयान एक लोकतांत्रिक आंदोलन को बदनाम करने और उसे पटरी से उतारने के मकसद से दिए जा रहे हैं।
    एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि जीजेएम ने 25-30 माओवादियों को अपने कैडर को ट्रेनिंग देने के लिए नियुक्त किया है। जीजेएम ने पास बड़ी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद है। वो पिछले कुछ सालों से इन्हें इक_ा कर रहे हैं और हमारे पास इंटेलिजेंस के इनपुट हैं कि वो पहाड़ों में भूमिगत हथियारबंद आंदोलन की तैयारी कर रहे हैं।
    एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सरकार किसी भी तरह की स्थिति से निपटने के लिए तैयार है और सशस्त्र विद्रोह से निपटने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। पिछले 38 दिन के बंद में पुलिस स्टेशन और चौकियों पर हमले की कई घटनाएं हुईं और हथियार लूटे गए। ये बिल्कुल माओवादियों के काम करने की शैली है।
    खुफिया सूचना के बाद राज्य सरकार ने अनेक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों को यहां भेजा है। इनमें वे अधिकारी भी शामिल हैं जिन्हें 2009 से 2012 तक बंगाल के जंगलमहल में माओवादी विरोधी अभियानों का लंबा अनुभव है।  वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी मनोज वर्मा को दार्जीलिंग का महानिरीक्षक नियुक्त किया गया है। उन्हें माओवादियों के खिलाफ अभियानों का गहरा अनुभव है। (आज तक)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली: कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau) मंदिर में पूजा करते देखे गए. जस्टिन  BAPS मंदिर के 10वें स्थापना दिवस पर यहां पहुंचे थे और वे यहां भगवान स्वामी नारायण की पूजा अर्चना के साथ मूर्ति पर जल चढ़ाते हुए देखे गए. जस्टिन ट्रूडो मंदिर में जिस अंदाज में दिख रहे थे, पहली नजर में देखकर ऐसा लग है मानो कोई भारतीय किसी मंदिर में पूजा कर रहे हों. वे यहां पर कुर्ता-पायजामा पहनकर पहुंचे थे. मंदिर में जस्टिन ट्रूडो के साथ भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता और कनाडा में भारत के एंबेसडर विकास स्वरूप भी मौजूद रहे. पीएम जस्टिन ट्रूडो ने इस पल की तस्वीरों को ट्विटर पर साझा किया है. ट्वीट में जस्टिन ट्रूडो ने लिखा है, 'बीएपीएस मंदिर कनाडा की वास्तुशिल्प का एक अद्भूत नमूना है. यह वास्तव में एक समुदायिक जगह है. 10वीं सालगिरह मुबारक हो!'
    यहां के स्थानीय मेयर जॉन टोरी ने कहा, 'हम उनका सत्कार पाकर गदगद हैं. दुनिया और टोरंटो स्थित यह संस्था BAPS के जरिए मानवीय, दान और समाज को बनाने के काम में जुटी है. उनके योगदान ने टोरंटो को समृद्ध बनाया है.'
    मालूम हो कि भगवान स्वामीरायण के नाम पर दुनिया में कई जगह मंदिर बने हैं. भारत के दिल्ली और गुजरात के अहमदाबाद का अक्षरधाम मंदिर भी दुनियाभर में प्रसिद्ध हैं.
    इसके अलावा इंग्लैंड का अक्षरधाम मंदिर भी स्थापत्य कला का बेहतरीन नमूना माना जाता है. मंदिर प्रशासन का दावा है कि कनाडा का BAPS मंदिर इतना मजबूत है कि इसे 1000 साल तक कुछ नहीं होगा. ऐसा मंदिर भारत में भी नहीं है.(एनडीटीवी)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 23 जुलाई। कभी-कभी हम अपने आस पास कुछ ऐसा देख लेते हैं जिसपर आखों को यकीन करना मुश्किल हो जाता है। जी हां, मध्यप्रदेश की एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल रही है। इस फोटो को देखकर आप भी कह देंगे ओएमजी...दरअसल, इंदौर की सब्जी मंडी की इस तस्वीर में बंदूक की नोक पर टमाटर की निगरानी देखी गई। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गार्ड की व्यवस्था किसानों और व्यापारियों के अनुरोध पर मंडी समिति ने की है। यहां हथियारबंद गार्ड 24 घंटे टमाटर की निगरानी करेंगे। 
    इन दिनों टमाटर के दाम आसमान छू रहे हैं। जगह-जगह टमाटर 60 रुपये से लेकर 100 रुपये तक बिक रही है। कुछ दिनों पहले ही मुंबई में एक सब्जी की दुकान से 300 किलो टमाटर चोरी कर लिए गए थे। ये खबर जैसे ही इंदौर पहुंची। वहां के सब्जीवालों की चिंता बढ़ा गई। इसके बाद व्यापारियों और किसानों ने गार्ड से टमाटर की सुरक्षा के लिए मंडी समिति से अनुरोध किया था।
    सब्जी व्यापारियों का कहना है कि इस साल टमाटर का उत्पादन काफी कम हुआ है। इंदौर की चोइथराम मंडी में एक महीने पहले तक 6 से 7 हजार कैरेट टमाटर हर रोज आ रहे थे, लेकिन अब यहां महज 1200 कैरेट टमाटर ही आ रहे हैं। अब जब टमाटर के भाव इतने बढ़ गए हैं तो उनकी सुरक्षा बढ़ाना तो लाजमी है। कुछ महीने पहले टमाटर के दाम इतने कम हो गए थे कि कई किसान उसे मंडी में फेंककर चले गए थे। क्योंकि टमाटर बेचने से मिले रुपये गाड़ी के भाड़े से भी कम थे। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


  • ग्रेटर नोएडा, 23 जुलाई। दो महीने बाद जेवर गैंग रेप केस के आरोपियों को पकडऩे में गौतमबुद्ध नगर पुलिस को कामयाबी मिल गई है। शनिवार की रात करीब तीन बजे जेवर क्षेत्र में यमुना एक्सप्रेस वे के पास पुलिस और बदमाशों में मुठभेड़ हुई। जिसमें पुलिस ने 4 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। एक बदमाश को गोली लगी है। उसे दिल्ली के गुरू तेग बहादुर अस्पताल में भर्ती किया गया है।
    24 मई की रात ग्रेटर नोएडा में जेवर के पास बुलंदशहर रोड पर कुछ हथियारबंद बदमाशों ने कार से जा रहे दो परिवारों की चार महिला सदस्यों के साथ गैंग रेप किया था। कार पर कुल आठ लोग सवार थे, जिनमें चार महिलाएं थीं। इन लोगों से लूटपाट की गई थी। लूटपाट और रेप का विरोध करने पर बदमाशों ने परिवार के मुखिया की गोली मार कर हत्या कर दी थी। इस वारदात ने योगी आदित्यनाथ सरकार को यूपी की खराब कानून व्यवस्था के लिए सवालों के सामने खड़ा कर दिया था।
    गौतमबुद्ध नगर के एसएसपी लव कुमार ने बताया कि हम लोगों ने जेवर गैंग रेप केस को अंजाम देने वाले गिरोह की पहचान कर ली थी। यह बावरिया गिरोह है, जो एक जगह नहीं ठहरता है। शनिवार की देर करीब 2 बजे हमें जानकारी मिली कि बावरिया गिरोह जेवर क्षेत्र में आया है। फिर किसी वारदात को अंजाम देगा। हमने पर्याप्त फोर्स लगाकर गिरोह की घेराबंदी की। यमुना एक्सप्रेस वे का पास इन लोगों को घेर लिया गया। 
    एसएसपी ने बताया कि खुद को फंसता देखकर बदमाशों ने गोलियां दागी। पुलिस ने जवाबी फायरिंग की और इन्हें हथियार डालने के लिए मजबूर किया। एक बदमाश को गोली लगी है। उसे अस्पताल में भर्ती किया गया है। दो बदमाश रात का फायदा उठाकर फरार होने में कामयाब हो गए। उनकी तलाश के लिए कॉम्बिंग चल रही है। जल्दी गिरफ्तारी हो जाएगी। बाकी 3 आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। इनके नाम राजू, राकेश, दीपक और जय सिंह हैं। सभी बावरिया हैं।
    इस जघन्य वारदात को अंजाम देकर यह गिरोह हरियाणा भागा। जब इन लोगों ने मीडिया में मामला तूल पकड़ता देखा तो राजस्थान फरार हो गए। अब जब करीब 2 महीने बीत गए तो इन्हें लगा कि मामला ठंडा पड़ गया है, लेकिन पुलिस लगातार इनका पीछा कर रही थी।
    इन अपराधियों को गिरफ्तार करने वाली टीम को 50 हजार रुपये का ईनाम मिलेगा। मेरठ के अपर पुलिस महानिदेशक ने ईनाम की घोषणा की है। पुलिस पता लगा रही है कि इन लोगों ने और कौन सी वारदातों को अंजाम दिया है। एसएसपी ने बताया कि आरोपियों को आज अदालत में पेश करके रिमांड लिया जाएगा। उसके बाद बाकी तथ्य सामने आएंगे। (हिन्दुस्तान)

    ...
  •  


  • अंशुल जैन
    नई दिल्ली, 23 जुलाई। असम में आए सैलाब ने पूरे राज्य को बर्बाद कर दिया। बाढ़ के चलते हजारों लोगों ने अपना आशियाना खो दिया। सैकड़ों गांव बाढ़ में बह गए। कुदरत के कहर ने कई जिंदगियां छीन ली। हजारों लोग राहत शिविर और गांव के किनारे बसे ऊंचे टीलो पर राहत सामग्री के सहारे जीने पर मजबूर हैं।
    लेकिन इलाकों में सरकारी मदद न मिलने के चलते लोग परेशान है। इस बीच उम्मीद की एक किरण बनकर निकले असम के मोरियानी विधानसभा क्षेत्र के युवा विधायक रूपज्योति कुर्मी। जिनकी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। रूपज्योति कुर्मी बाढ़ पीडितों की मदद खुद पीठ पर बोरी लादकर राहत सामग्री एक स्थान ने दूसरे स्थान पर ले जा रहे है।
    रूपज्योति कुर्मी असम के मोरियानी से विधायक है जो कि असम की पूर्व कैबिनेट मंत्री रूपम कुर्मी के बेटे है। इनके बारे में इलाके के लोग बताते है कि जहां भी सुख-दुख होता है कुर्मी अपने क्षेत्र में लोगों की मदद के लिए बिना समय गवाए निकल पड़ते है। भले ही रात के 2 क्यों न बजे हो। कुर्मी जनता के लिए 24 घंटे तत्पर रहते है। 
    जब रूपज्योति कुर्मी से पूछा गया आप एमएलए होने के बाद भी बाढ़ पीडि़तो की मदद पीठ पर बोरी लादकर कर रहे है तो उनका कहना था कि लोगों के बीच काम करना उन्हें अच्छा लगता है। लेकिन सरकार पर आरोप लगाया कि जो काम सरकार को करना चाहिये था वो मुझे करना पड़ रहा है।
    उनका कहना है कि चुनाव से पहले मोदी जी यहां आये थे कुछ दिन पहले केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू यहां आये थे बड़ी-बड़ी बाते की थी। लेकिन बाढ़ के इन हालातों में अब जब लोगों के घर उजड़ गये, लोगों का नुकसान हुआ। लेकिन सराकर की तरफ से मेरे इलाके में किसी भी प्रकार का कोई सहयोग नहीं मिला, तब मुझे निकलना पड़ा। फिलहाल रूपज्योति कुर्मी के काम की चारों ओर खूब तारीफ हो रही है। 
    असम में बाढ़ के चलते 15 लाख से भी ज्यादा जिंदगियां सीधे तौर पर प्रभावित हुई हैं, 28 जिलों में बाढ़ का प्रकोप दिखाई दिया, जिसमें अब तक 70 लोगों की जान जा चुकी है। लेकिन अब धीरे-धीरे यहां लोगों की जिंदगी पटरी पर लौट रही है। (इंडिया संवाद)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 22 जुलाई। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 4 महीने के उस बच्चे से मुलाकात की, जिसकी नोएडा के एक अस्पताल में दिल की सर्जरी हुई थी। सुषमा ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्विटर पर रोहान के साथ की तस्वीर शेयर की और उसके अच्छे स्वास्थ्य की शुभकामनाएं दीं। सुषमा ने ट्वीट किया, खूब जियो। भारत-पाक के बीच बढ़ते तनाव के बीच पाकिस्तान के एक शख्स को अपने बेटे रोहान के इलाज के लिए भारत का मेडिकल वीजा हासिल करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। इसके बाद मदद के लिए उन्होंने सुषमा से गुहार लगाई थी। सुषमा स्वराज ट्विटर पर काफी सक्रिय रहती हैं। पहले भी उन्होंने कई लोगों की मदद की है। देश-विदेश में रहने वाले कई लोग पहले भी उनसे ट्वीट कर मदद मांग चुके हैं। 
    रोहान के पिता ने 24 मई को विदेश मंत्री को ट्वीट कर पूछा था कि क्यों मेरा बेटा इलाज के लिए दिक्कतों का सामना कर रहा है। सरताज अजीज और सुषमा स्वराज क्या इसका जवाब देंगे इसपर सुषमा ने 31 मई लिखा, आपके बेटे को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। पाकिस्तान में भारतीय हाई कमिशन से संपर्क कीजिए। आपको मेडिकल वीजा दे दिया जाएगा। जिसपर उन्होंने 3 जून को भारतीय वीजा दिए जाने पर विदेश मंत्री को इसके लिए धन्यवाद दिया था। बारह जुलाई (2017) को रोहान को इलाज के लिए हॉस्पिटल लाया गया। जहां 14 जुलाई को उसका इलाज किया गया।  
    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कमाल ने बेटे के सफल इलाज के बाद रोहान के पिता ने सुषमा स्वराज को इसके लिए शुक्रिया अदा किया था। उन्होंने  कहा था कि आज मेरे बेटे का दिल सुषमा स्वराज की वजह से धड़क रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और भारत के लोग एक दूसरे देशों के बारे में कभी भी गलत नहीं सोचते। खासकर मैं तो बिल्कुल नहीं सोचता। दोनों देश एक समान हैं। 
    ऐसे में आपास में बातचीत कर एक दूसरे की मदद करनी चाहिए। मुझे भारत से जो मदद मिली है उसे कभी भी नहीं भूल पाउंगा। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


  • इराक में मारे जा चुके हैं 39 भारतीय
    नई दिल्ली, 22 जुलाई। इराक में गायब 39 भारतीयों को लेकर सरकार को भरोसा है कि वो सुरक्षित हैं। वहीं आईएसआईएस आतंकियों के चंगुल से बचकर भारत लौटा गुरदासपुर का हरजीत  का दावा है कि आतंकियों ने उसके सामने ही सभी लोगों को मार दिया। पर उसकी बात पर किसी ने यकीन नहीं किया। साथ ही अगवा हुए भारतीयों के परिजनों को उम्मीद है कि उनके अपने आज नहीं तो कल लौट आएंगे।
    गुरदासपुर के हरजीत का पिछले 3 साल से बार-बार कहना है कि बगदादी के खुंखार आतंकियों ने 39 भारतीयों को उसके सामने ही मार दिया। उन्होंने बताया कि पहले किडनैप किया दो दिन साथ रखा फिर मार दिया। उन्होंने कहा कि ये बात मैं बार -बार नहीं कहना चाहता हूं।
    दरअसल मोसुल से आतंकियों ने 80 लोगों का अपहरण किया था। इसमें 40 भारत के थे और 40 बांग्लादेशी।  सबको बगदादी के आंतकी बदूश लेकर गए। हरिजीत भी उन्हीं 40 में से एक है। बता दें कि आतंकियों ने तीन साल पहले हरिजीत नाम के शक्स को छोड़ दिया।
    हरजीत ने बताया कि आतंकियों ने उसे भी गोली मारी थी, पर वो बच गया। इसके बाद में उन्होंने  खुद को बांग्लादेशी बताया और वहां से भाग निकला। मोसुल से भागकर  हरिजीत हिंदुस्तान आए।
    हरजीत ने बतया कि उन्होंने सबको 39 भारतीयों के मरने की बात बताई मगर किसी ने उनकी बात का भरोसा नहीं किया। बता दें कि बगदादी के आंतिकियों ने जिन 40 लोगों को अगवा किया था उसमें अमृतसर के भोइवाल गांव के मनजिंदर भी थे। मनजिंदर की बहन गुरपिंदर कौर ने बताया कि हरजीत की बातों पर उन्हें भरोसा नहीं हो रहा। उन्होंने बताया कि 15 जून को हरजीत ने कहा था कि सब मारे गए। 17 जून को मनजिंदर की बहन ने सूचना दी कि उसके पास फोन आया था कि हम सब सुरक्षित हैं। तो इस पर हरजीत ने कहा कि हो सकता है कि कोई एक दो बचा हो वरना सब मारे गए। इस पर उनका कहना है कि हरजीत झूठ बोल रहा है। उन्होंने कहा कि अगर वो बच कर आ सकता है तो और क्यों नहीं। बता दें कि उसके परिवार के लोग कुछ अच्छी खबर का इंतजार कर रहे है।
    जिन 39 भारतीयों को 11 जून 2014 को मोसुल से आईएसआईएस आतंकियों ने अगवा किया था। उनमें हिमचाल प्रदेश, पंजाब, बिहार, और केरल के रहने वाले भारतीय थे। अगवा भारतीय परिजनों की तलाश पिछले तीन साल से हो रही है। मगर अबतक कहीं कोई सुराग नहीं मिल रहा है। तीन साल में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 9 बार इन परिवारवालों से मिल चुकी हैं। लेकिन इन मुलाकातों का फिलहाल कोई मतलब निकलता नहीं दिख रहा। परिवार वालों को उम्मीद है कि आज नहीं तो कल उनके बच्चे लौट आएंगे। (आजतक)
    ---
    इराक में गायब 39 भारतीयों पर सुषमा ने बोला झूठ- कांग्रेस
    नई दिल्ली, 22 जुलाई । इराक में गायब 39 भारतीयों के बारे में इंडिया टुडे की इंवेस्टिगेशन रिपोर्ट ने सियासी गलियारे में हलचल मचा दी है। कांग्रेस ने इस रिपोर्ट को आधार बनाकर विदेशमंत्री सुषमा स्वराज के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस नेता प्रताप सिंह बाजवा ने शुक्रवार को विदेशमंत्री सुषमा स्वराज पर देश को भ्रमित करने का आरोप लगाया। बाजवा का कहना है कि पिछले तीन साल से इराक में गायब 39 भारतीय मोसुल के जेल में बंद थे और आईएसआईएस ने उस जेल को तबाह कर दिया है।
    विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा था कि गायब भारतीय इराक की किसी जेल में बंद हो सकते हैं। इसके बाद इंडिया टुडे की टीम ने गायब भारतीयों की खोज में मोसुल का दौरा किया, लेकिन उनके जीवित होने के कोई संकेत नहीं मिले।
    प्रताप सिंह बाजवा ने कहा कि इंडिया टुडे की इंवेस्टिगेशन ने साबित कर दिया है कि विदेशमंत्री सुषमा स्वराज झूठ बोल रही हैं। कांग्रेस नेता ने कहा कि देश के लोगों से झूठ बोलने और 39 भारतीयों के परिवार की भावनाओं से खेलने के लिए विदेशमंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव लाने पर विचार कर रहे हैं।
    कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि संसद में विदेश मंत्री द्वारा दी गई जानकारी भ्रामक है। हमें चिंतित होना चाहिए कि क्या वे जीवित हैं? कहां हैं? अगर वहां जेल नहीं है, तो हमें यह देखना चाहिए कि क्या विदेश मंत्रालय ने जानकारी सत्यापित की है।
    विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने कहा था कि जिस दिन इराक के प्रधानमंत्री ने मोसुल के आईएस के कब्जे से आजाद होने की घोषणा की, उन्होंने विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह इरबिल जाने को कहा, ताकि गुमशुदा भारतीयों के बारे में पता लगाया जा सके। सूत्रों के मुताबिक वीके सिंह ने कहा कि गायब भारतीयों के बाडुश की जेल में होने की संभावना है, जहां अभी लड़ाई चल रही है।
    विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद में खुद इन भारतीयों के जीवित होने का दावा किया था। रविवार को स्वराज ने कहा था कि इराक में 2014 में लापता हुए 39 भारतीय नागरिक बाडुश की एक जेल में कैद हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि इलाके में जारी संघर्ष के खत्म होने के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। सुषमा ने लापता भारतीयों के परिजनों से मुलाकात के दौरान यह भरोसा दिलाया था कि सरकार इन सभी भारतीयों को हर हाल में वापस लाएगी।
    सोमवार को विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह ने भी कहा था कि लापता 39 भारतीय नागरिक बादुश की जेलों में हो सकते हैं। उनको यह जानकारी इराक के एनएसए की ओर से मिली है। विदेश राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह हाल ही में इराक का दौरा करके लौटे थे।
    सिंह ने दौरा करने के बाद खास बातचीत में कहा कि उन्हें जो जानकारी इराक में रहते हुए मिली है। उनके मुताबिक 39 भारतीय जीवित है और सभी वहां जेलों में बंद है। हालांकि इंडिया टुडे की पड़ताल में ऐसी कोई जेल नहीं मिली हैं, जहां पर ये भारतीय बंद हों। दुनिया की सबसे खतरनाक जगह मोसुल पहुंचकर इंडिया टुडे ने बादुश की जेलों को खोजा, लेकिन ऐसी कोई जेल नहीं मिलीं। खूंखार आतंकी संगठन आईएस खुद बादुश की जेलों को नष्ट कर चुका है।(आजतक)

    ...
  •  


  • बारामूला, 22 जुलाई. देश की सरहद पर हमेशा नशे के सौदागर सक्रिय रहते हैं, फिर चाहे वो पंजाब हो, राजस्थान हो या फिर जम्मू-कश्मीर. दरअसल पुलिस और सुरक्षा बलों ने जम्मू-कश्मीर में एक बार फिर सरहद पार से आ रहे नशे के जखीरे को पकड़ा है. संयुक्त कार्रवाई में ट्रक से भेजी जा रही 200 करोड़ की हेरोइन और ब्राउन शुगर जब्त की गई है. ट्रक ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया है.

    पुलिस और सुरक्षाबलों की ओर से सीमा पार से आने वाले नशीले पदार्थों की तस्करी को रोकने के लिए समय-समय पर अभियान चलाया जाता है. शुक्रवार को बारामूला पुलिस और सुरक्षा बलों ने संयुक्त कार्रवाई के तहत भारत आ रहे एक ट्रक से 25 किलो नारकोटिक्स ड्रग्स जब्त किया है.

    यह ड्रग्स क्रॉस बॉर्डर ट्रेड के उद्देश्य से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) से भारत भेजी जा रही थी. पुलिस ने आरोपी ट्रक ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.

    बीते दिनों भी पंजाब में पाकिस्तान से आई हेरोइन की खेप को बरामद किया गया था. पुलिस ने दो तस्करों को गिरफ्तार कर उनके पास से एक किलो हेरोइन बरामद की थी. बरामद हेरोइन की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में करीब पांच करोड़ रुपये आंकी जा रही थी.

    गौरतलब है कि सीमा पार से नशे के सौदागर नशे की तस्करी के लिए नए-नए तरीके खोजते रहते हैं. हाल ही में खबर आई थी कि पाकिस्तानी तस्कर नशे की खेप भारत पहुंचाने के लिए सिंचाई साधनों का इस्तेमाल कर रहे हैं. साथ ही वह ड्रग्स के बड़े पैकेट के बजाय छोटे पैकेट भारत भेज रहे हैं, जिन्हें पकड़ना थोड़ा मुश्किल होता है.

    ...
  •  


  • भुवनेश्वर. राजनीतिक दलों को मिलने वाला चंदा एक बार फिर सवालों के घेरे में है और इस बार कठघरे में है बीजू जनता दल (BJD)। हमारे सहयोगी चैनल टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के मुताबिक पार्टी को बेनामी स्रोतों से करोड़ों रुपये संदिग्ध तरीके से चंदे के रूप में मिले। खास बात यह है कि पार्टी के खाते में करोड़ों रुपये जमा कराने वाले एक चपरासी है। हालांकि बीजेडी ने इस आरोप को निराधार और रिपोर्ट को फर्जी करार दिया है।

    रिपोर्ट में बैंक के दस्तावेजों के हवाले से बताया गया है कि बीजेडी मुख्यालय में काम करने वाले पूर्ण चंद्र पाढी नाम के चपरासी ने पार्टी के खाते में एक करोड़ रुपये का चंदा जमा कराया। रिपोर्ट के अनुसार, पाढी ने बताया कि उसने पार्टी फंड के लिए इकट्ठा किए गए पैसों को पार्टी के खाते में जमा कराया है।

    टाइम्स नाउ की रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि 2009 के बाद से ओडिशा के इस सत्ताधारी दल ने अपने खर्च के ब्योरे से संबंधित वार्षिक तक रिपोर्ट जारी नहीं की है, जबकि जन प्रतिनिधित्व कानून के तहत ऐसा करना जरूरी होता है। उधर पार्टी प्रवक्ता प्रताप देब ने इस रिपोर्ट को खारिज करते हुए कहा, 'इस घिसेपिटे मुद्दे पर पिछले साल ओडिशा विधानसभा में चर्चा हुई थी। बीजेपी और कांग्रेस के विधायकों ने भी चर्चा में हिस्सा लिया था। किसी तरह का कोई संदिग्ध ट्रांजैक्शन नहीं किया गया है।'

    उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट का मकसद मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की छवि को खराब करना है। देब ने कहा, 'सभी दस्वातेज सार्वजनिक हैं। हमारे पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है। यह रिपोर्ट प्रायोजित है।' बता दें कि मई 2016 में विपक्ष के नेता निरसिंघा मिश्रा ने चपरासी द्वारा करोड़ों का चंदा दिए जाने का यह मामला उठाया था। उस वक्त उन्होंने बताया था कि गंजम जिले के रहने वाले इस चपरासी ने बीजेडी के एसबीआई अकाउंट में एक दिन में 8 करोड़ रुपये जमा कराए। मिश्रा ने इसे लेकर सरकार से जवाब मांगा था।

    उस वक्त इन आरोपों पर सफाई देते हुए कानून मंत्री अरुण साहू ने विधानसभा में स्वीकार किया था कि जिस अकाउंट में 8 करोड़ रुपये जमा कराए गए, वह पार्टी का ही है। हालांकि उन्होंने यह साफ नहीं किया था कि पैसे आए कहां से थे, लेकिन यह जरूर दावा किया था कि ट्रांजैक्शन में कोई गड़बड़ी नहीं की गई है। (टाइम्स न्यूज नेटवर्क)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली: चीन और पाकिस्तान बॉर्डर पर जारी तनाव के बीच भारत के नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक (CAG) की एक रिपोर्ट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार को आइना दिखाया है. पीएम मोदी और उनके मंत्रिमंडल के सदस्य लगातार कह रहे हैं कि उनकी सरकार दुश्मनों के साथ कोई मुरौवत नहीं बरतेगी, लेकिन कैग की रिपोर्ट में साफ तौर से कहा गया है कि भारत के पास लंबे समय तक युद्ध के लिए पर्याप्त गोला-बारूद नहीं है. सीएजी ने सेना के पास गोला-बारूद में भारी कमी होने की रिपोर्ट संसद में पेश की है. रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से लिखा है कि अगर भारतीय सेना को लगातार 10 दिन युद्ध करना पड़ गया तो उसके पास पर्याप्त गोला-बारूद नहीं है.

    ज्यादातर ऑर्डिनेंस डील अधर में: कैग रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय सेना ने अपनी ताकत बढ़ाने के लिए 2009 से 2013 के बीच हथियार, फाइटर प्लेन आदि खरीदने के लिए कई डील किए हैं, लेकिन उनमें से अधिकतर जनवरी 2017 तक पेंडिंग थे. यह भी कहा गया है कि हमारे देश की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री जरूरत के हिसाब से गोला-बारूद का निर्माण नहीं कर पा रही है. 2013 के बाद ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड की ओर से सप्लाई में कोई बढ़ोत्तरी नहीं हुई है. सेना की जितनी डिमांड है उतना गोला-बारूद तैयार नहीं किया जा रहा है.

    रिपेयरिंग में भी हालत चिंताजनक: कैग रिपोर्ट में कहा गया है कि देश की ऑर्डिंनेस फैक्ट्रियां पर्याप्त उत्पादन नहीं कर पाने के साथ क्षतिग्रसत सामानों की मरम्मत भी नहीं कर पा रही है. गोला-बारूद के डिपो में अग्निशमनकर्मियों की कमी रही और उपकरणों से हादसे का खतरा रहा. रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल जनवरी में आर्मी के गोला-बारूद मैनेजमेंट का फॉलोअप ऑडिट किया गया.

    बख्तरबंद वाहन की क्षमता पर भी उठे सवाल: बताया गया है कि ऑपरेशन की अवधि की जरूरतों के हिसाब से सेना में वॉर वेस्टेज रिजर्व रखा जाता है. रक्षा मंत्रालय ने 40 दिन की अवधि के लिए इस रिजर्व को मंजूरी दी थी. 1999 में आर्मी ने तय किया कि कम से कम 20 दिन की अवधि के लिए रिजर्व होना ही चाहिए. सितंबर 2016 में पाया गया कि सिर्फ 20 फीसदी गोला-बारूद ही 40 दिन के मानक पर खरे उतरे. 55 फीसदी गोला बारूद 20 दिन के न्यूनतम स्तर से भी कम थे. हालांकि इसमें बेहतरी आई है, लेकिन बेहतर फायर पावर को बनाए रखने के लिए बख्तरबंद वाहन और उच्च क्षमता वाले गोला-बारूद जरूरी लेवल से कम पाए गए.

    गोला-बारूद की कमी चिंताजनक: रिपोर्ट के मुताबिक, मंत्रालय ने 2013 में रोडमैप मंजूर किया था, जिसके तहत तय किया गया कि 20 दिन के मंजूर लेवल के 50 फीसदी तक ले जाया जाए और 2019 तक पूरी तरह से भरपाई कर दी जाए. 10 दिन से कम अवधि के लिए गोला-बारूद की उपलब्धता क्रिटिकल (बेहद चिंताजनक) समझी गई है. 2013 में जहां 10 दिन की अवधि के लिए 170 के मुकाबले 85 गोला-बारूद ही (50 फीसदी) उपलब्ध थे, अब भी यह 152 के मुकाबले 61 (40 फीसदी) ही उपलब्ध हैं.

    2008 से 2013 के बीच खरीदारी के लिए 9 आइटमों की पहचान की गई थी. 2014 से 2016 के बीच इनमें से पांच के ही कॉन्ट्रैक्ट पर काम हो सका है. कमी को दूर करने के लिए भारतीय सेना ने बताया है कि मंत्रालय ने वाइस चीफ के वित्तीय अधिकार बढ़ा दिए हैं.

    आठ तरह के आइटमों की पहचान की गई है, जिनका उत्पादन भारत में किया जाना है. ज्यादातर सप्लाई ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड की ओर से की जाती है, लेकिन उत्पादन का लक्ष्य पूरा नहीं हो पाता है. इस बारे में बोर्ड का जवाब संतोषजनक नहीं पाया गया. एम्यूनिशन की कमी से निपटने के लिए मंत्रालय से 9 सिफारिशें की गई थीं, लेकिन फरवरी तक मंत्रालय से कोई जवाब नहीं मिला है.

    इनपुट: भाषा/PTI

    ...
  •  


  • नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों की वजह कश्मीर जल रहा है. मैं काफी समय से कह रहा हूं कि पीएम मोदी और एनडीए की सरकार ने कश्मीर को जला दिया है. ANI के मुताबिक- राहुल गांधी ने कश्मीर को पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला बनाते हुए राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला के उस बयान को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने मध्यस्थता की अपील की थी.
    ANI के मुताबिक- राहुल गांधी ने कहा कि जो कह रहा है कि चीन और पाकिस्तान से कश्मीर पर बात होनी चाहिए, तो बता दूं कि कश्मीर इज इंडिया और इंडिया इज कश्मीर. ये हमारा आंतरिक मामला है, इसमें किसी और को कुछ लेना-देना नहीं है.
    उधर- जम्मू-कश्मीर के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने भी फारुक अब्दुल्ला के बयान की निंदा की. निर्मल सिंह ने कहा कि उनके बयान की निंदा करता हूं. उन्हें याद दिलाना चाहता हूं कि जब वह सीएम थे तो वो हमेशा पाकिस्तान पर हमला करने की बात करते थे. अब दोहरा रवैया क्यों. निर्मल सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री कश्मीर के हालात की खुद निगरानी कर रहे हैं. प्रधानमंत्री चाहते हैं कि जम्मू-कश्मीर के लोग समृद्ध हो और राज्य में शांति का माहौल हो.
    दरअसल, फारुख अब्दुल्ला ने कहा है कि कश्मीर के मुद्दे पर भारत को अमेरिका और चीन की मदद स्वीकार कर लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हम लोग चीन और पाकिस्तान से युद्ध नहीं कर सकते हैं, क्योंकि हमारी तरह उनके पास भी एटम बम हैं. इसलिए इस मुद्दे को बातचीत से ही सुलझाना चाहिए. अब्दुल्ला ने कहा कि दोस्तों का इस्तेमाल बातचीत करने के लिए, मुद्दे को हल करने के लिए कीजिए.डोनाल्ड ट्रंप ने खुद कहा, चीन ने भी कहा कि वे कश्मीर समस्या का हल चाहते हैं. वाजपेयी ने कहा था कि दोस्त बदले जा सकते हैं, पड़ोसी नहीं.
    (इनपुट्स ANI से/एजेंसियां)

    ...
  •  


  • तिरुवनंतपुरम: कांग्रेस के एक विधायक पर बलात्कार का मामला दर्ज किया गया है. विधायक द्वारा कथित तौर पर प्रताड़ित किए जाने के बाद 51 वर्षीय एक महिला ने आत्महत्या की कोशिश की थी, उसी के बयान के आधार पर यह मामला दर्ज किया गया.
    पुलिस ने बताया कि कोवालम से कांग्रेस के विधायक एम. विनसेंट के खिलाफ पीछा करने, बलात्कार और आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला कल दर्ज किया गया. मामला उस महिला के बयान के आधार पर दर्ज किया गया जिसने पिछले हफ्ते बलरामपुरम के निकट आत्महत्या की कोशिश की थी.
    शहर के मजिस्ट्रेट ने भी नेयातिनकारा के एक अस्पताल में उनका बयान दर्ज किया. वहां महिला का उपचार चल रहा है. महिला के पति ने आरोप लगाया है कि विधायक उसको बार-बार फोन किया करते थे और उसे परेशान करते थे. 
    केरल के परिवहन मंत्री पर महिला से अश्लील बात करने का आरोपविनसेंट ने आरोप के पीछे राजनीतिक साजिश का आरोप लगाया और पुलिस में शिकायत दर्ज करवाकर मामले की विस्तृत जांच की मांग की है. उन्होंने आरोप लगाया कि जब महिला ने नींद की गोलियां खाकर आत्महत्या का प्रयास किया तब माकपा के एक स्थानीय नेता वहां मौजूद थे. (भाषा)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 21 जुलाई। एयर इंडिया के जल्द ही प्राइवटाइज़ होने की खबर ने भले ही वहां के कर्मचारियों का मनोबल कम कर दिया हो, लेकिन रामनाथ कोविंद के राष्ट्रपति चुनाव जीतने पर गुरुवार को एयरलाइन में जश्न का माहौल था।

    नव निर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की बेटी स्वाति एयर इंडिया में एयरहोस्टेस हैं। कोविंद के साले सी. शेखर एयरलाइन से इन-फ्लाइट सुपरवाइजर के तौर पर रिटायर हुए हैं। शेखर एयर इंडिया कैबिन क्रू असोसिएशन (AICCA) के उपाध्यक्ष थे। एयरलाइन के सूत्र बताते हैं कि स्वाति अपने नाम के साथ अपना सरनेम कोविंद नहीं जोड़तीं। स्वाति ऑस्ट्रेलिया, यूरोप और यूएस जैसे लंबे रूट पर उड़ने वाली बोइंग 777 और 787 एयरक्राफ्ट में एयरहोस्टेस हैं।
    एयर इंडिया के एक सूत्र ने बताया,'स्वाति हमारे सबसे अच्छे क्रू मेंबर्स में से एक है। एक राजनीतिक परिवार की होने के बावजूद स्वाति ने कभी उसका प्रभाव अपने काम पर नहीं पड़ने दिया। कुछ दिनों पहले जब स्वाति ने प्रिवलेज लीव अप्लाई की थी, तब भी उन्होंने यह नहीं बताया कि वह अपने पिता के राष्ट्रपति चुनाव के लिए छुट्टी ले रही हैं। यहां तक कि वह अपना सरनेम तक यूज नहीं करती हैं। उनके ऑफिशल रिकॉर्ड्स में भी उनकी मां का नाम सविता लिखा गया है और पिता का नाम आरएन कोविंद लिखा गया है।'
    स्वाति के विनम्र स्वभाव को देखते हुए उनकी टीम के बहुत कम लोग यह जानते हैं कि वह नव निर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की बेटी हैं। B-777 और 787 एयरक्राफ्ट के वे क्रू मेंबर्स जिन्होंने कई बार स्वाति के साथ सफर किया है, को भी गुरुवार को ही यह बात पता चली कि राष्ट्रपति चुनाव जीतने वाले रामनाथ कोविंद स्वाति के पिता हैं। कुछ एयरइंडिया के कर्मचारी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से एयर इंडिया को प्राइवटाइज न करने का आग्रह करने की सोच रहे हैं। (टाइम्स ऑफ इंडिया)

    ...
  •  


  • पंकज शर्मा
    शिमला, 21 जुलाई । हिमाचल प्रदेश में एक नाबालिग लड़की के बलात्कार का मामला राजनीतिक रंग लेता हुआ दिख रहा है। गुरुवार को हिमाचल प्रदेश की प्रमुख विपक्षी पार्टी बीजेपी ने शिमला में बंद का आह्वान किया।
    हालांकि हिमाचल प्रदेश हाइकोर्ट की एक डिविजन बेंच ने बुधवार को कोटखाई रेप केस की जांच सीबीआई से कराने का आदेश दे दिया है। लेकिन शिमला में आम लोगों का आक्रोश थमता हुआ नहीं दिख रहा है। गुरुवार को लोगों ने विरोध में जुलूस निकाला और मामले पर जल्द कार्रवाई की मांग की।
    दरअसल ये मामला हिमाचल प्रदेश में एक नाबालिग लड़की के कथित बलात्कार से जुड़ा हुआ है। कहा जा रहा है कि नाबालिग से रेप के बाद उसकी हत्या कर दी गई। पीडि़ता शिमला के कोटखाई के एक सरकारी स्कूल में 10वीं की छात्रा थी। पुलिस ने शुरूआती जाँच में रेप के बाद मर्डर और पॉक्सो एक्ट का मामला दर्ज कर लिया है।
    4 जुलाई को घर से अपने भाई के साथ स्कूल के लिए निकली लड़की का निर्वस्त्र शव दो दिन बाद पुलिस को पास के जंगल से बरामद हुआ। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर शव की शिनाख्त की, जिसमें पता चला कि छात्रा की उम्र 16 साल है।
    पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक पहले छात्रा से रेप हुआ और फिर उसकी हत्या की गई। इस वारदात के बाद शिमला के इस पूरे इलाके में लोगों में दहशत फैल गई।
    केस के सिलसिले में पुलिस ने जिन लोगों को गिरफ्तार किया था, उनमें से एक अभियुक्त की 18 जुलाई को पुलिस हिरासत में हत्या हो गई। कोर्ट में उसकी पेशी से एक दिन पहले हुई इस हत्या को लेकर उठे सवालों के जवाब के लिए 19 जुलाई को पुलिस स्टेशन कोटखाई के बाहर जनसैलाब इकट्ठा हो गया।
    भीड़ ने कोटखाई थाने को आग लगा दी और पुलिस पर पथराव किया। हिमाचल प्रदेश के पुलिस महानिदेशक सोमेश गोयल इस मामले पर कहते हैं कि कोटखाई रेप केस में पुलिस ने 6 लोगों गिरफ्तार किया है। अभियुक्तों की उम्र 19 साल से लेकर 41 साल के बीच है। इस पूरे मामले को लेकर पुलिस अफसरों पर भी गाज गिरी और क्षेत्र के आईजी और एसपी बदले गए हैं। (बीबीसी)

    ...
  •  


  • रिकॉर्ड मतों से जीते
    नई दिल्ली, 20 जुलाई (एजेंसी)। रामनाथ कोविंद देश के अगले राष्ट्रपति होंगे। कोविंद ने जीत के लिए जरूरी बहुमत हासिल कर लिया है। कोविंद को 66 फीसदी वोट हासिल हुए हैं। थोड़ी देर में कोविंद की जीत का औपचारिक एलान किया जाएगा। उन्होंने यूपीए की ओर से चुनाव लड़ रही मीरा कुमार को लाखों वोटों के अंतर से हराया।
    चुनाव के नतीजे आने से पहले ही टीएमसी प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एनडीए प्रत्याशी रामनाथ कोविंद को बधाई दी। उन्होंने ट्वीट किया, रामनाथ कोविंद जी को बधाई, वो हमारे अगले राष्ट्रपति होंगे। हालांकि एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का अगला राष्ट्रपति चुना जाना पहले से ही तय माना जा रहा था। वोटिंग की गिनती खत्म होने के साथ ही कोविंद को निर्वाचित राष्ट्रपति का सर्टिफिकेट प्रदान कर दिया जाएगा।
    राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के गांव में जश्न का माहौल है। कोविंद की जीत के लिए लोगों ने हवन पूजन भी किया।
    मौजूदा राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई की मध्यरात्रि को खत्म हो रहा है और कोविंद 25 जुलाई की सुबह नए राष्ट्रपति के पद की कमान संभालेंगे। राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे की घोषणा के बाद जाहिर तौर पर भाजपा-एनडीए खेमे की जीत का जश्न मनाने की पूरी तैयारी है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी चुनाव में जीत का प्रमाणपत्र जैसे ही कोविंद को सौंपेगे उन्हें बधाई देने का सिलसिला शुरू हो जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी कैबिनेट के सदस्यों के अलावा एनडीए के तमाम नेता कोविंद से मिलने और राष्ट्रपति निर्वाचित होने की बधाई देने जाएंगे।

     

    ...
  •  


  • नई दिल्ली। बसपा सुप्रीमो मायावती का राज्यसभा से इस्तीफा मंजूर हो गया है। वह इस सिलसिले में दोबारा उपराष्ट्रपति से मिली थीं। वहां पर उन्होंने एक लाइन का हस्तलिखित इस्तीफा उनको दिया। उसके बाद इस्तीफे को स्वीकार कर लिया गया। इससे पहले मंगलवार को राज्यसभा में बोलने का मौका नहीं दिए जाने से नाराज बसपा सुप्रीमो मायावती ने इस्तीफा दे दिया था। इस मुद्दे पर सदन में काफी हंगामा मचा। हालांकि मायावती का उस वक्त तकनीकी वजह से इस्तीफा मंजूर नहीं किया गया। उसके बाद बुधवार को राज्यसभा के सभापति पीजे कुरियन ने मायावती से अपना इस्तीफा वापस लेने की अपील की। सभापति ने कहा कि सदन की इच्छा है कि मायावती अपना इस्तीफा वापस लें। सहारनपुर हिंसा पर सदन में न बोल पाने के कारण मायावती ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। तीन पेज का अपना इस्तीफा उन्होंने सभापति से मिलकर दिया। मायावती इस बात से नाराज थीं कि शून्यकाल के दौरान उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में दलितों पर हुए अत्याचारों पर चर्चा के लिए स्थगन प्रस्ताव पेश करने के बाद उन्हें बोलने के लिए सिर्फ तीन मिनट का समय दिया गया। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के जंतर-मंतर पर मंगलवार को अलग-अलग राज्यों के हजारों किसान अपनी समस्याओं को लेकर जमा हुए। मध्य प्रदेश के मंदसौर से चली किसान मुक्ति यात्रा देश के छह राज्य होते हुए जंतर-मंतर पहुंची। तेरह दिन चली इस यात्रा का दूसरा चरण शुरू हो गया है। इसमें 150 से अधिक किसान संगठनों का समर्थन प्राप्त हुआ है। किसान मुक्ति संसद ने सरकार के सामने दो मुख्य मांगे रखी हैं। पहली मांग, फसल का पूरा दाम मिले और किसानों को पूर्ण रूप से कर्ज मुक्त किया जाए। इस बीच तमिलनाडु के किसान एक बार फिर जंतर-मंतर लौट आए हैं। तमिलनाडु के किसान नेता अय्याकन्नू के नेतृत्व में तमिलनाडु के किसानों ने किसान मुक्ति संसद को अपना समर्थन दिया।
    महाराष्ट्र के अलग-अलग राज्यों के आत्महत्या किए किसानों के बच्चे भी जंतर-मंतर पर जमा हुए। नाटक के जरिए इन बच्चों ने अपने जिंदगी के संघर्ष को पेश किया। जंतर मंतर पर उपस्थित इन बच्चों में से एक अशोक पाटिदार ने कहा कि जब वो 5 साल का था तब उसके पिता ने खुदकुशी कर ती थी। इसके बाद गांव वालों ने उसके परिवार को अलग नजरिये से देखने लगे। गांव में उन्हें किसी ने मदद नहीं की। फिर अशोक को आश्रम जाना पड़ा। अशोक अभी आश्रम में रहकर पढ़ाई कर रहा है। अशोक का कहना है कि किसानों को आत्महत्या नहीं करना चाहिए, किसान आत्महत्या तो कर लेते हैं, लेकिन उनके बच्चे अनाथ हो जाते हैं। उन्हें कोई नहीं पूछता है। अशोक ने कहा कि मुझे दुख है क्योंकि मेरे पिता ने खुदकुशी की है, लेकिन मैं इस देश के सभी किसानों को बताना चाहता हूं कि आत्महत्या के विकल्प को छोड़कर हमें अपने अधिकारों के लिए संघर्ष का रास्ता अपनाना चाहिए।
    इस तरह महाराष्ट्र से आई पल्लवी ने भाषण देते हुए स्टेज पर रो पड़ी। पल्लवी के पिता भी खुदकुशी कर चुके हैं। पल्लवी ने कहा लोग 2-2 रुपये के लिए किसानों से लड़ जाते हैं जो गलत है। पल्लवी ने कहा जैसे आप के बच्चे हैं ऐसे किसानों के भी बच्चे हैं। बच्चे सोचते हैं कि उनके पापा आएंगे उन्हें पेट भर खाना खिलाएंगे। अच्छे कपड़े देंगे, लेकिन ऐसा नहीं हो पाता है। पल्लवी ने सरकार से बिनती करते हुए कहा कि सरकार को किसान पर ध्यान देना चाहिए (बाकी पेजï 5 पर)
    और जब किसान बचेगा तब ही देश बचेगा। महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले से आई आई आरती भी भावुक होते हुए बोली कि उसके पिता ने कुछ साल पहले खुदकुशी कर ली। इसके बाद रिश्तेदारों ने उसे आश्रम में डाल दिया। आरती ने भी कहा कि किसानों को खुदकुशी नहीं करनी चाहिए। किसान के आत्महत्या करने से उनके बच्चे अनाथ हो जाते हैं।
    सांसद सीताराम येचुरी ने भी किसान मुक्ति संसद में अपनी उपस्थिति दर्ज की। जंतर-मंतर पर येचुरी ने कहा, आप सभी के साथ मैंने भी किसानों अधिकारों के लिए लडऩे का वादा लिया और आपसे यह भी वादा करता हूं कि मैं इस लड़ाई को संसद में ले जाऊंगा। किसान मुक्ति संसद में शामिल हुए शरद यादव ने कहा, यह सिर्फ किसानों की लड़ाई नहीं है, यह पूरे देश की लड़ाई है। उन्होंने कहा कि जब आप संसद के बाहर यह लड़ाई लड़ रहे हैं, उसी समय मैं संसद में किसानों की मांगों को समर्थन दूंगा। वहीं, योगेंद्र यादव ने कहा कि किसान का दो तिहाई काम करने वाली महिलाओं ने इस किसान मुक्ति संसद को ऐतिहासिक बना दिया है। वहीं प्रशांत भूषण ने कहा कि सरकार बड़े पूंजीपतियों और कम्पनियों को लाभ पहुंचाने के लिए किसानों को कुचलने पर उतारू है। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


  • भावुक होकर बोले- पार्टी ने मां की तरह संभाला

    नई दिल्ली, 18 जुलाई। एनडीए के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार वेंकैया नायडू ने अपना नामांकन भर दिया है। इस दौरान पीएम मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, लालकृष्ण आडवाणी,  सुषमा स्वराज, अरुण जेटली समेत कई एनडीए की कई पार्टियों के नेता मौजूद रहे। नामांकन के वक्त नायडू काफी भावुक नजर आए। नायडू ने इसके बाद मीडिया से बात की और कहा कि 1 साल का था तब मेरी मां का निधन हो गया था। युवा काल में पार्टी से मैं जुड़ा। तब से पार्टी ने मां की तरह मुझे संभाला। नायडू ने कहा कि उपराष्ट्रपति पद की जिम्मेदारी मिलना मेरे लिए गर्व की बात है।
    नामांकन दाखिल करने के बाद वेंकैया नायडू ने कहा कि मुझे पार्टी के कई पदों पर काम करने का मौका मिला। उपराष्ट्रपति पद की जिम्मेदारी एक अलग तरह की जिम्मेदारी है। नायडू ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि मैं इस पद की गरिमा रख पाउंगा। इस जिम्मेदारी के लिए मुझे चुना गया इसके लिए मैं पीएम मोदी, अमित शाह समेत एनडीए की सभी पार्टियों का शुक्रिया अदा करता हूं।
    इससे पहले वेंकैया नायडू ने बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी से मुलाकात की। उपराष्ट्रपति पद के लिए नामांकन भरने का आज आखिरी दिन है। सोमवार शाम बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक में वेंकैया नायडू के नाम पर मुहर लगाई गई।
    दो सेट में भरेंगे नामांकन
    वेंकैया नायडू की तरफ से नामांकन के दो सेट दाखिल किए जाएंगे। पहले सेट में बतौर प्रस्तावक पीएम मोदी और अनुमोदक  वित्तमंत्री अरुण जेटली के हस्ताक्षर हुए। दूसरे सेट में प्रस्तावक वित्त मंत्री अरुण जेटली और अनुमोदक विदेश मंत्री सुषमा स्वराज होंगी।
    मंत्री पद से दिया इस्तीफा
    एम वेंकैया नायडू ने केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। नायडू के जिम्मे आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्रालय, सूचना और प्रसारण मंत्रालय और शहरी विकास मंत्रालय की कमान थी। मंगलवार को पीएमओ की ओर से ट्वीट कर जानकारी दी गई कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी को दिया गया है। इसके अलावा शहरी विकास मंत्रालय का अतिरिक्त जिम्मा केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर को दिया गया है।
    बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि संसदीय बोर्ड के सभी सदस्यों और सहयोगी दलों से चर्चा करने के बाद वेंकैया नायडू को उपराष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाने का निर्णय किया गया। पीएम मोदी ने भी ट्वीट कर नायडू को उपराष्ट्रपति पद के लिए सबसे योग्य उम्मीदवार बताया।
    वेंकैया नायडू के उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित होते ही तमाम नेताओं और राजनीतिक दलों ने उन्हें बधाई दी। तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम ने नायडू को समर्थन देने की बात कही, तो वहीं टीआरएस (तेलंगाना राष्ट्र समिति) की के कविता ने साफ किया कि उनकी पार्टी नायडू की उम्मीदवारी का समर्थन देगी।
    महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडनवीस ने बताया कि वे नायडू के लिए खुश हैं और उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए उनसे बेहतर और कोई नहीं हो सकता था। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बधाई देते हुए कहा कि वेंकैया सिर्फ राजनीतिज्ञ ही नहीं बल्कि सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं। राजस्थान से बीजेपी सांसदों ने वेंकैया नायडू से मुलाकात कर उन्हें उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने पर बधाई दी। (आज तक)

    ...
  •  


  • नई दिल्ली, 18 जुलाई। उत्तर प्रदेश विधानसभा में बीते बुधवार (12 जुलाई) को मिला सफेद पाउडर पीईटीएन (पेंटारिथ्रिटॉल टेट्रानाइट्रेट) विस्फोटक नहीं था। आगरा की फॉरेंसिक साइंस लैबोरेट्री (एफएसएल) पाउडर की जांच के बाद इस नतीजे पर पहुंची है।
    सूत्रों के हवाले से आगरा की प्रयोगशाला को विस्फोटकों की जांच में विशेषज्ञता हासिल है। इस मामले की जांच कर रही एनआईए  ने भी उससे परीक्षण के निष्कर्ष की पुष्टि की है। एनआईए को भी यही बताया गया है कि वह पाउडर पीईटीएन नहीं है। प्रयोगशाला की ओर से कहा गया है कि विस्फोटकों के परीक्षण में विशेषज्ञता रखने वाली अन्य एफएसएल से जांच कराने पर भी यही निष्कर्ष मिलेगा।
    14 जुलाई को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद विधानसभा में शुरुआती परीक्षणों का हवाल देते हुए बताया था कि सदन में मिला पदार्थ घातक किस्म का विस्फोटक पीईटीएन है। इसके साथ ही उन्होंने इस मामले की जांच का जिम्मा एनआई को भी सौंप दिया था। सदन में समाजवादी पार्टी के नेता मनोज पाण्डेय की कुर्सी के नीचे करीब 150 ग्राम सफेद रंग का पाउडर का एक पॉलीपैक में लिपटा मिला था। (टाईम्स ऑफ इंडिया)

    ...
  •  




Previous12Next