खेल

Previous123456Next
Posted Date : 18-Nov-2017
  • कोलकाता, 18 नवंबर : श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्‍ट में भारतीय की पहली पारी महज 172 रन पर सिमट गई है. मैच के तीसरे दिन भारतीय टीम ने आज पांच विकेट पर 74 रन से आगे खेलना शुरू किया और पूरी टीम 59.3 ओवर में 172 रन बनाकर आउट हो गई. मैच के पहले दो दिन बारिश के कारण बुरी तरह प्रभावित रहे थे और केवल 31.5 ओवर का खेल ही संभव हो पाया था. मददगार विकेट पर श्रीलंका के तेज गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और लगातार भारत के विकेट झटके. भारतीय पारी में चेतेश्‍वर पुजारा ने सर्वाधिक 52 रन बनाए. विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा ने 29 रन का योगदान दिया. श्रीलंका के लिए सुरंगा लकमल ने सर्वाधिक चार विकेट लिए. भारतीय पारी खत्‍म होते ही लंच ब्रेक घोषित कर दिया गया.

    तीसरे दिन भारत ने पांच विकेट पर 74 रन से आगे खेलना शुरू किया. चेतेश्‍वर पुजारा ने स्पिन गेंदबाज रंगना हेराथ की गेंद पर चौका जमाकर अपना 16वां अर्धशतक पूरा किया. इस दौरान उन्‍होंने 108 गेंदों का सामना करते हुए 10 चौके जमाए. चेतेश्‍वर पुजारा (52 रन, 117 गेंद, 10 चौके) अर्धशतक पूरा करने के बाद ज्‍यादा देर नहीं टिके. उन्‍हें गमागे ने बोल्‍ड किया. उनके आउट होने से टीम इंडिया के सम्‍मानजनक स्‍कोर तक पहुंचने के अभियान को बड़ा झटका लगा. पुजारा के आउट होने के बाद रवींद्र जडेजा बैटिंग के लिए आए, उन्‍होंने कुछ देर खामोश रहने के बाद स्पिनर दिलरुवान परेरा की गेंद पर बेहतरीन छक्‍का जमाया. साहा भी अपनी पारी को आगे बढ़ाते जा रहे थे. इस दौरान साहा को जीवनदान भी मिला जब दिलरुवान परेरा की गेंद पर विकेटकीपर निरोशन डिकवेला स्‍टंपिंग चूक गए. साहा का स्‍कोर इस समय 25 रन था.

    पारी का 52वां ओवर श्रीलंका के लिए दो सफलताएं लेकर आया. इस ओवर में रवींद्र जडेजा (22 रन, 37 गेंद, दो चौके, एक छक्‍का) और ऋद्धिमान साहा (29 रन, 83 गेंद, छह चौके) के विकेट लिए. ये दोनों विकेट स्पिन गेंदबाज दिलरुवान परेरा के खाते में गए. मजे की बात यह रही कि दोनों ही फैसले तीसरे अम्‍पायर ने दिए. भारतीय टीम का नौवां विकेट भुवनेश्‍वर कुमार (13रन, 17 गेंद, एक चौका) के रूप में गिरा जिन्‍हें तेज गेंदबाज लकमल ने विकेटकीपर डिकवेला से कैच कराया. नौ विकेट गिरने के बाद मो. शमी और उमेश यादव ने आक्रामक शॉट लगाते हुए भारतीय स्‍कोर को 150 रन के पार पहुंचाया. टीम इंडिया का आखिरी विकेट मो. शमी (24रन, तीन चौके) के रूप में गमागे के खाते में गया. उमेश यादव छह रन बनाकर नाबाद रहे. श्रीलंका के लकमल ने चार विकेट लिए. लाहिरु गमागे, दासुन शनाका और दिलरुवान परेरा के खाते में दो-दो विकेट आए.

    विकेट पतन: 0-1 (राहुल, 0.1), 13-2 (धवन, 6.2), 17-3 (विराट, 10.1), 30-4 (रहाणे, 17.2), 50-5 (अश्विन, 25.6), 79-6 (पुजारा, 37.2), 127-7 (जडेजा, 51.2), 128-8 (साहा, 51.5), 146-9 (भुवनेश्‍वर, 56.2), 172-10 (शमी, 59.3)

    मैच के दूसरे दिन टीम इंडिया ने तीन विकेट पर 17 रन से आगे खेलना प्रारंभ किया था. अजिंक्‍य रहाणे ज्‍यादा देर नहीं टिके और केवल चार रन बनाने के बाद आउट हो गए. उनका कैच मध्‍यम गति के गेंदबाज दासुन शनाका की गेंद पर विकेटकीपर डिकवेला ने लपका. चार स्‍थापित बल्‍लेबाजों के आउट होने के बाद भारतीय टीम को सम्‍मानजनक स्थिति में पहुंचाने का सारा दबाव चेतेश्‍वर पुजारा पर आ गया था. भारतीय टीम का पांचवां विकेट रविचंद्रन अश्विन (4 रन, 29 गेंद) के रूप में गिरा, जिन्‍हें शनाका ने करुणारत्‍ने के हाथों कैच कराया.

    इससे पहले, मैच में पहले दिन बल्‍लेबाजी करते हुए भारत की शुरुआत निराशाजनक रही थी और पहली ही गेंद पर केएल राहुल (0) आउट हो गए थे. उन्‍हें सुरंगा लकमल की गेंद पर विकेटकीपर डिकेवला ने कैच किया. भारतीय टीम को जल्‍द ही शिखर धवन के रूप में दूसरा विकेट गंवाना पड़ा. धवन (8 रन, 11 गेंद, एक चौका) को लकमल ने बोल्‍ड किया.पारी के 11वें ओवर में कोहली (0 रन, 11 गेंद) को सुरंगा लकमल ने एलबीडब्‍ल्‍यू कर दिया. अम्‍पायर के निर्णय पर कोहली ने डीआरएस का भी सहारा लिया लेकिन फैसला उनके खिलाफ रहा.

    मैच में टीम इंडिया फिलहाल मुश्किल में फंसी नजर आ रही है. वैसे, तीन टेस्‍ट की सीरीज में टीम इंडिया को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. इस के पीछे कारण भी हैं. टीम इंडिया ने इस साल जुलाई-अगस्त में श्रीलंका को तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-0 के एकतरफा अंतर से हराया था. रिकॉर्ड भी भारतीय टीम के पक्ष में है. भारतीय टीम ने अब तक श्रीलंका से अपनी सरजमीं पर एक भी टेस्ट मैच नहीं गंवाया है. एक बार पहले भी भारत, श्रीलंका के खिलाफ स्वदेश में क्लीन स्वीप (1993-94 में) कर चुका है. 

    वैसे, भारत अगर तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में श्रीलंका का सूपड़ा साफ करने में सफल रहता है तो उसकी घरेलू सरजमीं पर जीत की संख्या 100 पर पहुंच जाएगी और यह उपलब्धि हासिल करने वाला वह ऑस्ट्रेलिया (234) और इंग्लैंड (212) के बाद केवल तीसरा देश होगा. भारत ने अब तक अपनी सरजमीं पर 261 टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें से 97 में उसे जीत और 52 में हार मिली है जबकि 111 मैच ड्रॉ और एक टाई रहा है. अभी स्वदेश में सर्वाधिक जीत के रिकॉर्ड के मामले में भारत चौथे स्थान पर है. दक्षिण अफ्रीका ने अपनी सरजमीं पर 98 जीत दर्ज की हैं लेकिन उसे दिसंबर के आखिरी सप्ताह तक अपनी धरती पर कोई टेस्ट मैच नहीं खेलना है.

    भारतीय टीम : विराट कोहली (कप्‍तान), शिखर धवन, लोकेश राहुल, चेतेश्‍वर पुजारा, अजिंक्‍य रहाणे, रविचंद्रन अश्विन, ऋद्धिमान साहा, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्‍वर कुमार, उमेश यादव और मो. शमी.

    श्रीलंका टीम: दिनेश चंदीमल (कप्‍तान), दिमुथ करुणारत्‍ने, सदीरा समरविक्रमा, लाहिर तिरुमाने, एंजेलो मैथ्‍यूज, निराशन डिकवेला, दासुन शनाका, दिलरुवान परेरा, रंगना हेराथ, सुरंगा लकमल और लाहिरु गमागे. (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • कोलकाता, 17 नवंबर: टीम इंडिया के स्टार टेस्ट बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने अपने धैर्य और एकाग्रता का फिर से बेजोड़ नमूना पेश करते हुए एक छोर संभाले रखा. लेकिन दूसरे छोर से श्रीलंका के तेज गेंदबाज दासुन शनाका ने दो विकेट झटके जिससे भारत पहले टेस्ट मैच के दूसरे दिन पांच विकेट पर 74 रन तक पहुंचा.

    पुजारा एकमात्र भारतीय बल्लेबाज रहे जिन्होंने बादलों भरे मौसम में घसियाली पिच पर श्रीलंका के गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ मोर्चा संभाले रखा. पुजारा ने फिर से बेहतरीन रक्षात्मक तकनीक का नमूना पेश किया और केवल खराब गेंदों पर ही रन जुटाए. वह अभी 47 रन बनाकर खेल रहे हैं.

    पुजारा सुबह आठ रन के स्कोर पर बल्लेबाजी के लिए उतरे. उन्होंने 102 गेंद का सामना करते हुए अपनी नाबाद 47 रनों की पारी में नौ चौके जमाए. वह अपने अर्धशतक से केवल तीन रन दूर हैं. भारत के तीसरे नंबर के इस बल्लेबाज ने बेहतरीन संयम बरतकर पारी आगे बढ़ाई. उन्होंने ढीली गेंदों का इंतजार किया और उन्हीं पर शॉट जमाए.

    जब पुजारा 24 रन पर थे, तो उनके हाथ के निचले हिस्से पर गेंद लगी. 25वें ओवर में लाहिरू गामागे की उछाल लेती हुई शॉर्ट पिच गेंद उनके हाथ पर लगी और इस बल्लेबाज ने दर्द से कराहते हुए तुरंत दस्ताना निकाला.

    अगले ही ओवर में शनाका ने अश्विन का विकेट झटका. लेकिन पुजारा इससे विचलित हुए बिना, संयम के साथ खेलते रहे. उन्होंने ढीली गेंदों का इंतजार किया और बारिश के कारण पहले सेशन के रूकने तक बाउंड्री से ही रन जुटाए.

    बारिश के कारण लंच निर्धारित समय से दस मिनट पहले लिया गया. कल सिर्फ 11.5 ओवर डाले गए थे और आज भी केवल 21 ओवर का खेल ही संभव हो पाया.

    सीरीज के पहले टेस्ट मैच के बारिश से प्रभावित पहले दिन सुरंगा लकमल ने तीन विकेट चटकाकर शानदार प्रदर्शन किया था, लेकिन आज शनाका अपने प्रदर्शन से सुर्खियों में आए जिन्होंने सुबह अजिंक्य रहाणे (04) और रविचंद्रन अश्विन (04) को आउट कर 23 रन देकर दो विकेट हासिल किए थे.(आजतक)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • कोलकाता, 17 नवम्बर । सीरीज की शुरुआत से पहले भले ही श्री लंका की टीम को बैकफुट पर आंका जा रहा हो, लेकिन ईडन गार्डेंस की नई नवेली पिच पर श्री लंका की टीम को वह शुरुआत मिल गई, जिसकी उसे तलाश थी। इसका श्रेय जाता है लंकाई टीम के तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल को, जिन्होंने मैच की पहली बॉल से ही अपनी टीम के हित में काम शुरू कर दिया। सुरंगा ने बिना कोई रन खर्च किए भारत की 3 विकेट अपने नाम कर अपनी टीम को वह शुरुआत दिला दी, जिसकी उसे दरकार थी। 
    बारिश से प्रभावित इस मैच में टॉस होने में ही एक सेशन से ज्यादा का समय लग गया। दूसरे सत्र के दौरान जब टॉस हुआ, तो सिक्का मेहमान टीम के पक्ष में गिरा और कैप्टन दिनेश चंडीमल ने परिस्थियों को भांपते हुए पहले बोलिंग का निर्णय लिया। तीस वर्षीय सुरंगा लकमल ने कैप्टन के इस फैसले को सही साबित करने में देर नहीं लगाई और मैच की पहले ही बॉल पर केएल राहुल को कॉट बिहाइंड आउट करा दिया। 
    पहली गेंद पर विकेट निकालने के बाद लकमल पेस और स्विंग की जबर्दस्त लयकारी पेश कर रहे थे। पहले ही ओवर में बैटिंग पर आए चेतेश्वर पुजारा ने उनका सामना बहुत ध्यान और धीरज के साथ किया। लेकिन लकमल फास्ट बोलिंग को मिल रही सपॉर्टिंग कंडीशंस का फायदा जमकर उठा रहे थे। राहुल के बाद उन्होंने शिखर धवन को अपना दूसरा शिकार बनाया। भारत का स्कोर अभी 13 रन पर 2 विकेट ही था। इससे लकमल संतुष्ट नहीं हुए अपनी बोलिंग का कहर बरपाना जारी रखा। 
    लंकाई टीम को अभी सबसे बड़े विकेट की दरकार थी। लकमल ने यह काम भी किया और मैच के 11वें ओवर में उन्होंने अपनी टीम को सबसे बड़ी सफलता भी दिलाई। यह विकेट था कैप्टन विराट कोहली का। कोहली अपना खाता भी नहीं खोल पाए थे कि सुरंगा लकमल ने उन्हें एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया। इस सफलता के बाद लंकाई टीम मेजबान टीम पर पूरी तरह हावी थी। लकमल ने अभी एक भी रन खर्च नहीं किया है और वह 3 विकेट अपने नाम कर चुके हैं। 
    अपने करियर का 40वां टेस्ट मैच खेल रहे लकमल दुनिया के ऐसे दूसरे गेंदबाज बने हैं, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में बगैर कोई रन खर्च किए 3 विकेट अपने नाम किए हैं। उनसे पहले यह कारनामा ऑस्ट्रेलिया के रिची बेनो ने भारत के खिलाफ ही दिल्ली टेस्ट में किया था। इस तरह अभी तक 6 ओवर फेंक चुके लकमल ने कोई रन खर्च नहीं किया है और वह 3 विकेट झटक चुके हैं। भारत की हालत और भी पतली हो सकती थी, अगल लंका की टीम को दूसरे छोर से भी मदद मिलती, लेकिन दूसरे छोर से बोलिंग कर रहे लाहिरू गामागे बोलिंग के लिए इतनी शानदार कंडीशंस में भी कोई प्रभाव नहीं छोड़ पाए हैं। (नवभारत टाईम्स)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 17 नवम्बर । सात विम्बल्डन खिताब जीतने वाली टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स गुरुवार को अरबपति दोस्त और सोशल न्यूज वेबसाइट रेडिट के सह-संस्थापक एलेक्शिज ओहानियन से शादी की, 36 व्रषीय सेरेना और 34 वर्षीय एलेक्शिज काफी समय से साथ रह रहे हैं और 11 हफ्ते पहले ही वो एक बेटी के माता-पिता बने हैं।

    शादी न्यू ऑर्लियंस में हुई, जिसमें जानीमानी हस्तियों ने शिरकत की। सूत्रों के अनुसार सेरेना और एलेक्शिज शादी पर पैसा खर्च करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। कहा जा रहा है कि शादी पर करीब सात करोड़ रुपय खर्च किए गए।
    इसके पहले सेरेना बुल्गारिया के 25 साल के टेनिस खिलाड़ी ग्रिगोर दिमित्रोव को डेट कर रही थीं लेकिन ये अफेयर ज्यादा समय नहीं चला। दिमित्रोव इन दिनों 30 वर्षीय रुसी टेनिस स्टार मारिया शारापोवा को डेट कर रहे हैं।(डेलीमेल)

    ...
  •  


Posted Date : 17-Nov-2017
  • कोलकाता: श्रीलंका के खिलाफ पहले टेस्‍ट में भारतीय टीम फिलहाल मुश्किल स्थिति में है. बारिश और खराब रोशनी के कारण पहले दिन केवल 12 ओवर का खेल संभव हो पाया जिसमें टीम इंडिया ने महज 17 रन के स्‍कोर पर तीन महत्‍वपूर्ण विकेट गंवा दिए. टीम ने पहले दिन केएल राहुल (0), शिखर धवन (8) और कप्‍तान विराट कोहली के विकेट गंवाए थे. दूसरे दिन 32.5  ओवर के बाद भारतीय टीम का स्‍कोर पांच विकेट पर 74 रन है. दूसरे दिन आउट होने वाले बल्‍लेबाज अजिंक्‍य रहाणे (4) और रविचंद्रन अश्विन (4) हैं. चेतेश्‍वर पुजारा 47 रन और ऋद्धिमान साहा 6 रन बनाकर क्रीज पर हैं. बारिश के कारण खेल रोकना पड़ा है.

    पारी के 14वें ओवर में पुजारा ने दासुन शनाका को दो चौके लगाकर भारतीय टीम के स्‍कोर को आगे बढ़ाया. अगले ओवर में रहाणे ने लकमल की गेंद पर चौका लगाकर खाता खोला. हालांकि इस स्‍कोर में विश्‍वास की झलक नहीं थी. रहाणे ज्‍यादा देर नहीं टिके और केवल चार रन बनाने के बाद आउट हो गए. उनका कैच मध्‍यम गति के गेंदबाज दासुन शनाका की गेंद पर विकेटकीपर डिकवेला ने लपका. चार स्‍थापित बल्‍लेबाजों के आउट होने के बाद भारतीय टीम को सम्‍मानजनक स्थिति में पहुंचाने का सारा दबाव चेतेश्‍वर पुजारा पर आ गया था. भारतीय टीम का पांचवां विकेट रविचंद्रन अश्विन (4 रन, 29 गेंद) के रूप में गिरा, जिन्‍हें शनाका ने करुणारत्‍ने के हाथों कैच कराया. 50 के स्‍कोर पर पांच विकेट गिरने के कारण ऐसा लग रहा था कि टीम इंडिया के लिए 100 रन का आंकड़ा छूना भी मुश्किल होगा. नमी के कारण तेज गेंदबाजों को विकेट से काफी मदद मिल रही थी.

    इससे पहले, मैच में पहले दिन बल्‍लेबाजी करते हुए भारत की शुरुआत निराशाजनक रही और पहली ही गेंद पर केएल राहुल (0) आउट हो गए. उन्‍हें सुरंगा लकमल की गेंद पर विकेटकीपर डिकेवला ने कैच किया. भारतीय टीम को जल्‍द ही शिखर धवन के रूप में दूसर विकेट गंवाना पड़ा. धवन (8 रन, 11 गेंद, एक चौका) को लकमल ने बोल्‍ड किया.पारी के 11वें ओवर में कोहली (0 रन, 11 गेंद) को सुरंगा लकमल ने एलबीडब्‍ल्‍यू कर दिया. अम्‍पायर के निर्णय पर कोहली ने डीआरएस का भी सहारा लिया लेकिन फैसला उनके खिलाफ रहा.

    विकेट पतन: 0-1 (राहुल, 0.1), 13-2 (धवन, 6.2), 17-3 (विराट, 10.1), 30-4 (रहाणे, 17.2), 50-5 (अश्विन, 25.6)

    मैच में टीम इंडिया फिलहाल मुश्किल में फंसी नजर आ रही है. वैसे, तीन टेस्‍ट की सीरीज में टीम इंडिया को जीत का प्रबल दावेदार माना जा रहा है. इस के पीछे कारण भी हैं. टीम इंडिया ने इस साल जुलाई-अगस्त में श्रीलंका को तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-0 के एकतरफा अंतर से हराया था.श्रीलंका के खिलाफ पिछली टेस्‍ट सीरीज की ही तरह टीम इंडिया यदि इस बार भी सीरीज में 3-0 से क्‍लीन स्‍वीप करने में कामयाब रही तो विराट कोहली कप्‍तान के रूप में एक बड़ी उपलब्धि अपने नाम करने में सफल हो जाएंगे. परिस्थितियां ही नहीं, रिकॉर्ड भी भारतीय टीम के पक्ष में है. भारतीय टीम ने अब तक श्रीलंका से अपनी सरजमीं पर एक भी टेस्ट मैच नहीं गंवाया है. एक बार पहले भी भारत, श्रीलंका के खिलाफ स्वदेश में क्लीन स्वीप (1993-94 में) कर चुका है. विराट कोहली की अगुवाई में टीम क्लीन स्वीप करती है तो वह भारत के सबसे सफल कप्तानों की सूची में महेंद्र सिंह धोनी के बाद दूसरे स्थान पर काबिज हो जाएंगे.

    कोहली की कप्तानी में भारत ने अब तक 29 टेस्ट मैचों में से 19 में जीत दर्ज की तथा वह धोनी (60 टेस्ट में 27 जीत) और सौरव गांगुली (47 टेस्ट में 21 जीत) के बाद तीसरे नंबर पर हैं. क्‍लीन स्‍वीप की स्थिति में कोहली के खाते में कप्‍तान के रूप में 22 जीत हो जाएंगी और वे सौरव गांगुली को पछाड़ देंगे.

    भारत अगर तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में श्रीलंका का सूपड़ा साफ करने में सफल रहता है तो उसकी घरेलू सरजमीं पर जीत की संख्या 100 पर पहुंच जाएगी और यह उपलब्धि हासिल करने वाला वह ऑस्ट्रेलिया (234) और इंग्लैंड (212) के बाद केवल तीसरा देश होगा. भारत ने अब तक अपनी सरजमीं पर 261 टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें से 97 में उसे जीत और 52 में हार मिली है जबकि 111 मैच ड्रॉ और एक टाई रहा है. अभी स्वदेश में सर्वाधिक जीत के रिकॉर्ड के मामले में भारत चौथे स्थान पर है. दक्षिण अफ्रीका ने अपनी सरजमीं पर 98 जीत दर्ज की हैं लेकिन उसे दिसंबर के आखिरी सप्ताह तक अपनी धरती पर कोई टेस्ट मैच नहीं खेलना है.

    भारतीय टीम : विराट कोहली (कप्‍तान), शिखर धवन, लोकेश राहुल, चेतेश्‍वर पुजारा, अजिंक्‍य रहाणे, रविचंद्रन अश्विन, ऋद्धिमान साहा, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्‍वर कुमार, उमेश यादव और मो. शमी.

    श्रीलंका टीम: दिनेश चंदीमल (कप्‍तान), दिमुथ करुणारत्‍ने, सदीरा समरविक्रमा, लाहिर तिरुमाने, एंजेलो मैथ्‍यूज, निराशन डिकवेला, दासुन ससंका, दिलरुवान परेरा, रंगना हेराथ, सुरंगा लकमल और लाहिरु गमागे. (ndtv)

    ...
  •  


Posted Date : 16-Nov-2017
  • कोलकाता, 16 नवंबर : भारत और श्रीलंका के बीच गुरुवार से ईडन गार्डन्स स्टेडियम में शुरू हुए पहले टेस्ट मैच के पहले दिन पहले बारिश और श्रीलंकाई पेसर सुरंगा लकमल ने खेल बिगाड़ा और फिर खराब रोशनी के कारण दिन का खेल जल्दी खत्म कर दिया गया.

    हालांकि बारिश के अलावा मेजबान टीम को श्रीलंका के तेज गेंदबाज सुरंगा लकमल ने खासा परेशान किया. भारत ने दिन का अंत तीन विकेट के नुकसान पर 17 रनों के साथ किया. यह तीनों विकेट लकमल ने छह ओवरों में बिना कोई रन दिए लिए हैं.

    भारत ने लोकेश राहुल (0), शिखर धवन (8), कप्तान विराट कोहली (0) के रूप में तीन अहम विकेट खो दिए हैं. स्टम्प्स तक चेतेश्वर पुजारा आठ रन बनाकर नाबाद हैं जबकि उपकप्तान अजिंक्य रहाणे ने अभी खाता नहीं खोला.

    लकमल से ज्यादा खाली गेंदें फेंकने का रिकार्ड वेस्टइंडीज के जेरोम टेलर के नाम है. उन्होंने 2015 में दक्षिण अफ्रीका में लगातार 40 खाली गेंदें फेंकी थी. वहीं लकमल ने 36 गेंदों पर लगातार कोई भी रन नहीं दिया है.

    इससे पहले दिन का पहला सत्र बारिश की भेंट चढ़ गया. दूसरे सत्र की शुरुआत में टॉस हुआ लेकिन इसके बाद भी बारिश आती-जाती रही और मैच बीच-बीच में रूकता रहा. अंतत: खराब रोशनी के कारण तय समय से पहले दिन का खेल समाप्ति की घोषणा कर दी गई.

    आज के नुकसान की भरपाई करने के लिए दूसरे दिन शुक्रवार को मैच की शुरुआत तय समय से पहले की जा सकती है.

    टॉस होने से पहले बारिश ने दस्तक दी और लगातार जारी रही. इसी बीच कुछ देर के लिए बारिश रूकी, लेकिन कुछ देर बाद फिर शुरू हो गई. इसी कारण पहले सत्र का खेल नहीं हो सका और भोजनकाल की घोषणा कर दी गई.

    मैच की शुरुआत दूसरे सत्र में हुई और लकमल ने पहली ही गेंद पर राहुल को विकेट के पीछे निरोशन डिकवेला के हाथों कैच करा दिया.

    विकेट से मिल रही अतिरिक्त उछाल का लकमल ने फायदा उठाया और लगातार भारतीय बल्लेबाजों को परेशान करते रहे. इसी बीच धवन उनकी गेंद को जल्दी खेलने के प्रयास में बोल्ड हो गए.

    इसके बाद बारिश आ गई और कुछ देर के लिए खेल रोक दिया गया. कुछ देर बाद मैच फिर शुरू हुआ और भारत ने कोहली के रूप में तीसरा विकेट खोया. वह लकमल की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए.

    कोहली के जाने के बाद तकरीबन दो ओवरों का खेल खेला गया, लेकिन खराब रोशनी के कारण मैच समय से पहले समाप्त कर दिया गया.  (एजेंसी)

    ...
  •  


Posted Date : 15-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 15 नवंबर: भारत की टेनिस सनसनी सानिया मिर्जा आज 31 साल की हो गई हैं. सानिया का जन्म 15 नवंबर 1986 को मुंबई में हुआ था लेकिन उनका बचपन हैदराबाद में बीता. हैदराबाद से ही सानिया ने टेनिस की शुरुआत की.

    कम उम्र में ही सफलता के झंडे का गाड़ने वाली सानिया ने अपनी करियर की शुरुआत साल 1999 में की. उस समय सानिया की उम्र महज 14 साल थी, जब उन्होंने वर्ल्‍ड जूनियर टेनिस चैंपियनशिप में हिस्सा लिया था.

    साल 2000 में सानिया ने पाकिस्तान में खेले गए इंटेल जूनियर चैंपियनशिप जी-5 मुक़ाबले में सिंगल और डबल मुक़ाबले में जीत हासिल की. डबल मुक़ाबलों में सानिया की जोड़ी पाकिस्तान के जाहरा उमर खान के साथ थी.

    विवादों से रहा है नाता
    सानिया मिर्जा का नाम हमेशा किसी ना किसी विवादों में आता रहा है. मुस्लिम परिवार से होने के कारण साल 2005 में एक मुस्लिम समुदाय ने उनके खेलने के खिलाफ फ़तवा तक जारी कर दिया था. इस सामुदाय ने टेनिस खेलते समय सानिया के कपड़े को लेकर आपत्ति जताई थी. इतना ही नहीं पाक क्रिकेटर शोएब मलिक के साथ शादी रचाने के बाद उनकी काफी आलोचना हुई थी. तेलंगाना के एक बीजेपी नेता ने उन्हें पाकिस्तान की बहु तक कह दिया था.

    बेस्‍ट सिंगल्‍स रैंकिंग वाली भारतीय खिलाड़ी
    सानिया भारत की बेस्‍ट सिंगल्‍स रैंकिंग वाली खिलाड़ी हैं. सानिया वर्ल्‍ड रैंकिंग में 27वें नंबर तक पहुंची हैं. सिंगल्‍स में यह उनकी अब तक की बेस्‍ट रैंकिंग है. यह किसी भी भारतीय महिला टेनिस खिलाड़ी की बेस्‍ट रैंकिंग है. सानिया मिर्जा ने मार्टिना हिंगिस के साथ मिलकर डबल्‍स में नंबर 1 स्थान भी हासिल किया था.

    ग्रैंड स्लैम
    ग्रैंड स्लैम की बात करें तो सानिया ने सबसे पहले साल 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन का मिक्स डबल्स खिताब जीता था इसके बाद साल 2012 में फ्रेंच ओपन मिक्स डबल्स का खिताब, 2014 में यूएस ओपन मिक्स डबल्स खिताब और 2015 में विंबलडन का युगल खिताब भी अपने नाम किया.

    मेडल्स
    सानिया मिर्जा ने एफ्रो एशियाई, एशियाई और कॉमनवेल्थ गेम्स खेलों को मिलाकर कुल 12 मेडल्स अपने नाम किया. एफ्रो एशियाई खेलों में सानिया ने कुल मिलाकर चार गोल्ड मेडल जीता है. एशियाई खेलों में सानिया ने एक गोल्ड, तीन सिल्वर और दो ब्रॉन्ज मेडल जीते जबकि कॉमनवेल्थ गेम्स में एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल जीता है.

    पुरस्कार
    सबसे पहले साल 2004 में सानिया को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. इसके बाद साल 2006 में उन्हें पद्म श्री अवॉर्ड मिला. इसी साल सानिया को डब्‍ल्‍यूटी का 'मोस्‍ट इम्‍प्रेसिव न्‍यू कमर' का अवॉर्ड भी दिया दिया गया. (एबीपी न्यूज़)

    ...
  •  


Posted Date : 15-Nov-2017
  • कोलकाता, 15 नवम्बर। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने कोलकाता के ईडन गार्डन स्टेडियम में जारी प्रेक्टिस सेशन के दौरान अपनी दरियादिली का परिचय दिया। इंडिया और श्रीलंका की टीम 16 नवंबर से तीन मैचों की टेस्ट सिरीज का पहला मैच ईडन गार्डन में खेलने जा रही है।
    टीम इंडिया के कप्तान कोहली ईडन गार्डन में बैटिंग प्रेक्टिस कर रहे थे। मोहम्मद सामी कोहली को बॉलिंग करा रहे थे लेकिन कोहली सामी की एक बॉल हिट करने से चूक गए। ये बॉल नेट को पार करते हुए टेलीविजन टीम के सदस्य के सिर पर जा लगी।
    कोहली ये देखते ही प्रेक्टिस सेशन रोककर टीम के फिजीयोथेरेपिस्ट को बुलाया और चोटिल व्यक्ति के पास पहुंचे। कोहली इससे पहले भी अपनी दरियादिली दिखाते हुए 15 नेत्रहीन कुत्तों को गोद ले चुके हैं। बंगलुरु स्थित चार्लीज एनिमल रेस्क्यु सेंटर ने अप्रेल में सोशल मीडिया पर इस बारे में जानकारी दी थी।  (बीबीसी)

    ...
  •  


Posted Date : 15-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 15 नवम्बर। डब्ल्यूडब्ल्यूई के एक रेसलर रिक फ्लेयर पर हाल ही में ईएसपीएल चैनल ने एक डॉक्यूमेंट्री दिखाई। जिसमें फ्लेयर ने ऐसे खुलासे किए जो काफी हैरान करने वाले हैं...
    उन्होंने कुल 4 शादियां की थीं। लेकिन उनका सभी से तलाक हो गया। अपनी जिंदगी से पर्दा खोलते हुए रिक फ्लेयर ने कहा- मैंने 10 हजार लड़कियों से संबंध बनाए हैं। लोग इस चीज को सुनकर हंसते हैं या फिर मजाक करने लगते हैं। लेकिन ये बात मुझे अच्छी नहीं लगती। क्योंकि एक तरफ मुझे परिवार का साथ देना चाहिए था। तब मैंने गलत काम किए। मैं ना अच्छा पति साबित हुआ और न ही अच्छा पिता।  (एनडीटीवी)

     

    ...
  •  


Posted Date : 14-Nov-2017
  • नई दिल्ली: युवराज सिंह सोशल मीडिया पर काफी अपडेट रहते हैं. हर मौके पर वो कुछ न कुछ पोस्ट करते रहते हैं. लेकिन इस बार उन्होंने ऐसा वीडियो पोस्ट किया है. जिसको देखकर आप हैरान होने के साथ-साथ हंस पड़ेंगे. क्योंकि उन्होंने जो शेयर किया है वो वाकई फनी है. बता दें, युवराज काफी समय से टीम से बाहर चल रहे हैं और प्रैक्टिस कर वो टीम में जगह बनाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. इस बार युवराज ने जो वीडियो पोस्ट किया है उससे वो चर्चा में है.

    ऐसे हुआ बल्लेबाज आउट
    युवराज ने जो वीडियो पोस्ट किया है उसमें दिखाया गया है कि बॉलर बॉलिंग करते हुए आता है और बल्लेबाज के दूर बॉल फेंक देता है. बॉल को दूर जाता देख बल्लेबाज भी छोड़ देता है और विकेटकीपर पकड़ लेता है. सभी को लगता है कि नॉर्मल बॉल थी. बॉलर भी दूसरी बॉल फेंकने जाने लगता है. न किसी की अपील न लग रहा था कि ये आउट है. जिसके बाद अंपायर उगली उठाकर उन्हें आउट दे देता. जिसके बाद बल्लेबाज भी पवैलियन लौट जाता है. वीडियो में लिखा हुआ है कि क्रिकेट में आपके द्वारा देखे गए चौंकाने वाले विकेटों में से एक. 

    काफी समय से बाहर चल रहे हैं युवी
    युवराज सिंह काफी समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं. उन्होंने अपना आखिरी वनडे मैच 30 जून 2017 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था. जिसमें उन्होंने 55 बॉल खेलते हुए 39 रन जड़े थे. जिसमें 4 चौके शामिल थे. वो फिलहाल क्रिकेट पर फोकस्ड हैं और टीम इंडिया में जगह बनाने की कोशिश कर रहे हैं. युवराज ने जिस मैच का वीडियो पोस्ट किया है. उसका पता नहीं चल पाया है कि ये कहां का है. लेकिन ये वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.(एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 14-Nov-2017
  • कोलकाता, 14 नवम्बर। भारत और श्रीलंका के बीच तीन टेस्ट मैचों की शुरुआत 16 नवंबर से कोलकाता में हो जाएगी। लेकिन भारतीय टीम इस सीरीज में उछाल वाली विकेट चाहती है, जिससे साफ है कि भारत इस सीरीज के जरिए आने वाले अफ्रीका दौरे के तैयारी करना चाहती है। इसी को लेकर भारतीय टीम प्रबंधक अगामी दक्षिण अफ्रीका दौरे के मद्देनजर श्रीलंका के खिलाफ 16 नवंबर से शुरू हो रही श्रृंखला के पहले टेस्ट मैच में तीन तेज गेंदबाजों को लेकर उतर सकती है। यह पता चला है कि टीम प्रबंधन श्रृंखला के तीनों टेस्ट मैचों के लिये ठोस और उछाल वाली विकेट (पिच) चाहता है जिस पर ज्यादा घास न हो, आमतौर पर दक्षिण अफ्रीका में ऐसे विकेट होते है। टीम प्रबंधन की बातों का ध्यान रखते हुये ईडन गार्डन के मैदानकर्मियों ने पिच से घास की परत को हटा दिया।
    दक्षिण अफ्रीका में भारतीय टीम तीन तेज गेंदबाजों के साथ उतरेगी जिसमें मोहम्मद शमी और उमेश यादव मुख्य गेंदबाज हो सकते हैं। इनका साथ ईशांत शर्मा और भुवनेश्वर कुमार में कोई एक देगा। ईशांत ने इस सत्र में रणजी ट्राफी के तीन मैचों प्रभावशाली गेंदबाजी की है। ठोस विकेट पर उनकी गेंदबाजी उपयोगी हो सकती है। इसी तरह भुवनेश्वर ईडन गार्डन में काफी उपयोगी हो सकते है, क्योंकि उन्हें सुबह और शाम के सत्र में स्विंग मिल सकती है।
    टेस्ट मैच में रविचंद्रन अश्विन और कुलदीप यादव भारत के दो विशेषज्ञ स्पिनर हो सकते है। अश्विन को आज गेंदबाजी के दौरान रांगउन (गुगली) का अभ्यास करता देखा गया जिसमें वह लेग-स्पिनर की तरह गेंद पकड़कर अभ्यास कर रहे थे। वहीं, दूसरी तरफ कप्तान विराट कोहली रिवर्स स्विंग गेंदबाजी के खिलाफ बल्लेबाली अभ्यास कर रहे थे। वह रिवर्स स्विंग से निपटने के लिये विशेष तरह की लाल-पीली गेंद से अभ्यास कर रहे थे। इन गेंदों को विशेष रूप से इसी के लिये तैयार किया जाता है। सचिन तेंदुलकर भी अपने करियर के आखिरी दिनों में ऐसी गेंद से अभ्यास करते थे। रणजी टीमों का भी इस गेंद से अभ्यास करना आम है। (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 14-Nov-2017
  • मिलान, 14 नवम्बर । प्लेऑफ मुकाबले के दूसरे चरण में स्वीडन से ड्रॉ खेलते ही इटली की फीफा वल्र्ड कप-2018 के लिए क्वॉलिफाई करने की उम्मीदों ने दम तोड़ दिया। पिछले 60 वर्षों में ऐसा पहली बार हुआ है कि 4 बार की चैंपियन इटली की टीम वल्र्ड कप के लिए क्वॉलिफाई नहीं कर पाई। दूसरी ओर, स्वीडन की टीम 2006 के बाद पहली बार वल्र्ड कप में होगी। 
    वल्र्ड कप में एंट्री के लिए उसे स्वीडन को हराना था, क्योंकि पहले चरण में स्वीडन से उसे 1-0 की हार मिली थी। स्टॉकहोम में खेले गए इस मुकाबले में इटली की ओर से कोई गोल नहीं हो सका था, जबकि विजेता स्वीडन के लिये स्थापन्न खिलाड़ी जैकब योहानसन ने 61वें मिनट में गोल किया। वहीं, दूसरे मुकाबले में दोनों टीमों के बीच कड़ी टक्कर दिखी, लेकिन एक भी गोल नहीं हो सका। 
    जैसे ही मैच खत्म होने की घोषणा हुई इटली के खिलाड़ी रोने लगे। दूसरी ओर स्वीडन के खिलाड़ी और फैंस जश्न में डूब गए। स्टेडियम में इटली के फैंस बड़ी संख्या में मौजूद रहे और माना जा रहा था कि 4 बार की चैंपियन स्वीडन को हरा देगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। 
    इससे पहले 1958 में इटली वल्र्ड कप में क्वॉलिफाई करने में असफल रही थी। फुटबॉल इतिहास पर नजर डाली जाए तो यह तीसरा मौका है, जब इटली वल्र्ड कप क्वॉलिफाई नहीं कर सका। साल 1930 में जब पहली बार यह टूर्नमेंट खेली गई, तब इटली ने उसमें हिस्सा नहीं लिया था। (नवभारत टाईम्स)

     

    ...
  •  


Posted Date : 13-Nov-2017
  • लंदन, 13 नवम्बर। स्पेन के टेनिस स्टार राफेल नडाल को रविवार को यहां के ओ2 एरेना में एटीपी वल्र्ड टूर फाइनल्स के कोर्ट पर एटीपी वल्र्ड नंबर-1 अवार्ड दिया गया। नडाल ने 21 अगस्त को ब्रिटेन के एंडी मरे को हराते हुए वल्र्ड रैंकिंग में पहला स्थान हासिल किया था और वह चौथी बार साल के अंत तक नम्बर-1 खिलाड़ी बने रहे। इससे पहले, नडाल ने वर्ष 2008, 2010 और 2013 में एटीपी रैंकिंग में साल के अंत तक नम्बर-1 खिलाड़ी का ताज अपने पास रखा था।
    नडाल ने इस सीजन में छह खिताब जीते, इनमें फ्रेंच ओपन और यूएस ओपन के रूप में दो ग्रैंड स्लैम तथा दो एटीपी मास्टर्स 1000 खिताब शामिल हैं। साल के अन्य दो ग्रैंड स्लैम स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने जीते हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलियन ओपन और विंवलडन खिताब पर कब्जा जमाया था। एटीपी वल्र्ड रैंकिंग इतिहास में नडाल साल के अंत तक नम्बर-1 खिलाड़ी बने रहने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी हैं।
    ताजा वल्र्ड रैंकिंग सूची में नडाल के बाद स्विट्जरलैंड के दिग्गज रोजर फेडरर दूसरे स्थान पर हैं। जर्मनी के खिलाड़ी एलेक्जेंडर ज्वेरेव ने तीसरा और ऑस्ट्रिया के डोमिनिक थीम ने चौथा स्थान हासिल किया है। क्रोएशिया के खिलाड़ी मारिन सिलिच पांचवें स्थान पर बरकरार हैं। बुल्गारिया के खिलाड़ी ग्रिगोर दिमित्रोव ने छठा और स्विट्जरलैंड के ही स्टेन वावरिंका ने 7वां स्थान हासिल किया है। (एजेंसियां)

     

    ...
  •  


Posted Date : 13-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 13 नवम्बर। क्रिकेट ने किसी को भगवान बना दिया तो किसी को फर्श पर लाकर पटक दिया। भारत में क्रिकेट को पूजा जाता है। गली मुहल्ले में भी कोई मैच खेला जाता है तो देखने वालों की भीड़ जमा हो जाती है। जिसने नेशनल भी खेल लिया तो करियर सेट है। क्रिकेट ने किसी को शोहरत दे दी तो किसी की जिंदगी बर्बाद कर दी। क्रिकेट में जिसका परफॉर्मेंस ठीक नहीं उसको जगह मिलना मुश्किल हो जाता है। ऐसा ही एक खिलाड़ी है जिसका एक समय सिक्का चला करता था, लेकिन अब वो सड़कों पर छोले-भटूरे बेच रहा है। वो विराट के साथ खेलकर हीरो साबित हुए थे।
    साल 2008 को कौन भूल सकता है। ये वो साल था जब टीम इंडिया ने टी20 वल्र्ड कप जीता था और युवराज सिंह ने 6 गेंद पर 6 छक्के जड़े थे। लेकिन ये साल विराट कोहली के लिए शानदार साबित हुआ था। क्योंकि उसी साल टीम इंडिया ने अंडर-19 वल्र्ड कप जीता था और बता दिया था कि आने वाले समय में टीम इंडिया को विराट कोहली जैसा शानदार खिलाड़ी मिलने वाला है। इसी टीम में रविंद्र जडेजा भी थे जो टीम इंडिया के शानदार बॉलर बने। लेकिन 2008 में अंडर-19 टीम के विकेटकीपर पैरी गोयल आज कल गुमनामी की जिंदगी जी रहे हैं। ये वही खिलाड़ी है जो चैम्पियन टीम का हिस्सा था। 
    साल 2008 वो दौर था जब टीम इंडिया को नए-नए खिलाड़ी मिल रहे थे और कप्तान धोनी वल्र्ड कप टीम तैयार कर रहे थे। ऐसे में कॉम्पिटीशन काफी था। खिलाडिय़ों का फोकस टीम इंडिया में शामिल होने का था। उस वक्त पैरी गोयल का नाम भी जोरों पर था। 
    लेकिन वल्र्ड कप जिताने के बाद पैरी गोयल की फॉर्म ने उनका साथ नहीं दिया। उन्होंने अंडर-19 वल्र्ड कप में शानदार प्रदर्शन किया। लेकिन घरेलू क्रिकेट में वो फ्लॉप साबित हुए। वो पंजाब की तरफ से खेलते थे। लेकिन लगातार गिरती फॉर्म ने उनको टीम से बाहर कर दिया गया और उनका करियर खत्म हो गया। 
    वल्र्ड कप भले ही उनको हीरो बना दिया हो लेकिन उनका करियर वहीं खत्म हो गया। खराब प्रदर्शन के बाद उनके पास कोई चारा नहीं था। क्योंकि एक या दो मैच में अच्छा परफॉर्म करने वाले को भला कौन जानता है। वो भी अंडर-19 वल्र्ड कप में, जो बहुत कम लोग देख पाते हैं। ऐसे में पैरी लुधियाना में फास्ट फूड बेचने का फैसला किया। वो लुधियाना नगर निगम के बाहर छोले-भटूरे, चाउमीन बेचकर गुजारा कर रहे हैं। उनकी ये कहानी सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है। लेकिन उनके फेसबुक अकाउंट को देखें तो वो आरएसजी ग्रुप के डायरेक्टर हैं। ऐसे ही एक और खिलाड़ी हैं अजितेश अरगल जो अंडर-19 वल्र्ड कप के फाइनल मुकाबले में मैन ऑफ द मैच रहे थे। लेकिन उसके बाद उनकी फॉर्म ने भी साथ नहीं दिया और वो अब आयकर विभाग में इंस्पेक्टर हैं। (एनडीटीवी)

     

    ...
  •  


Posted Date : 12-Nov-2017
  • सिडनी, 12 नवम्बर। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड यानी क्रिकेट मैदान के दो सबसे कट्टर प्रतिद्वंदी एशेज सिरीज में जब आमने-सामने हों तो मैच जीतने से ज्यादा इज्जत दांव पर लगी होती है। सिडनी के ओवल मैदान में महिलाओं की एशेज सिरीज के चार दिनी टेस्ट मैच में शनिवार को ऑस्ट्रेलियाई टीम अपनी पहली पारी में बल्लेबाजी कर रही थी।
    बल्लेबाज एलिस पैरी नॉन स्ट्राइकिंग छोर पर खड़ीं थीं और उनका निजी स्कोर 193 रन तक पहुंच चुका था, यानी इतिहास के पन्नों में दर्ज होने से चंद कदम दूर। टीम के 8 विकेट आउट हो गए थे। तभी टीम को नौवां झटका लगा और एक पल के लिए सभी की धड़कनें रुक सी गईं। पैरी ने इसी मैच में अपने करियर का पहला शतक जमाया था, क्या वे इसे दोहरे शतक तब्दील कर पाएंगी, यह सवाल शायद स्टेडियम में मौजूद हर एक शख्स के जहन में उठने लगा।
    पैरी ने अगले ओवर में 1 रन लिया और अपना स्कोर 194 पर पहुंचा दिया, अब वे अपने पहले दोहरे शतक से महज एक हवाई शॉट दूर थीं। वे आगे बढ़ीं और गेंद को हवा में उड़ा दिया, बाउंड्री के नजदीक गिरी गेंद को पहली नजर में देख लगा कि 6 रन मिल गए हैं।
    स्टेडियम में शोर मचने लगा, पैरी खुशी से झूमने ही वाली थीं कि अंपायर ने शॉट को दोबारा जांचा और उसे चौका करार दिया। पैरी ने एक रन लिया और वे 199 पर पहुंच गईं। अगले ओवर में स्ट्राइक पैरी के पास थी, दोहरा शतक पूरा करना और दूसरी तरफ अंतिम विकेट को बचाए रखने का दबाव उन पर बढऩे लगा।
    शुरुआती दो गेंदो में वो कोई रन नहीं बना सकीं, लेकिन अगली गेंद पर शानदार चौका जड़ते हुए उन्होंने अपना दोहरा शतक पूरा कर लिया। इसी ओवर में उन्होंने एक चौका और छक्का और जड़ा, इसके साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी 448/9 के स्कोर पर घोषित कर दी।
    पैरी नाबाद 213 रन बनाकर पवैलियन लौटीं, अपना सातवां टेस्ट मैच खेल रही 27 साल की पैरी ने अपनी इस पारी में 374 गेंदों का सामना किया। इस दौरान उन्होंने 27 चौके और 1 छक्का लगाया।
    हरफनमौला खिलाड़ी पैरी ने इससे पहले गेंदबाजी में भी जलवा दिखाया। उन्होंने 21 ओवर गेंदबाजी करते हुए इंग्लैंड के 3 बल्लेबाजों को पवैलियन की राह दिखाई। इंग्लैंड की टीम अपनी पहली पारी में 280 रन बनाकर आउट हो गई थी।
    मध्यम तेज गति की गेंदबाज पैरी के नाम टेस्ट मैच में कुल 27 विकेट हैं, उनका औसत 16.11 का है। वहीं 94 वनडे में उन्होंने 126 विकेट निकाले हैं। पैरी ने 82 टी-20 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 77 विकेट लिए हैं।
    साल 2013 में महिलाओं के क्रिकेट विश्व कप के एक मैच में उनकी एड़ी चोटिल हो गई थी, पैरी ने उस मैच में भी शानदार गेंदबाजी करते हुए 3 विकेट झटके थे और ऑस्ट्रेलिया को विश्व चैंपियन बनने की राह दिखाई थी।
    पैरी ऑस्ट्रेलिया की अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल टीम का भी हिस्सा रही हैं। उन्होंने फुटबॉल विश्वकप के क्वार्टर फाइनल में एक शानदार गोल भी अपने नाम दर्ज करवाया है।
    साल 2011 के फुटबॉल विश्वकप के क्वार्टर फाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया ने स्वीडन को 3-1 से हराया था। पैरी ने सैट्रल डिफेंडर के तौर पर खेलते हुए इस मैच में एक शानदार गोल दागा था। हालांकि अब वे पूरी तरह से क्रिकेट के साथ ही जुड़ गई हैं। उनका कहना है कि एक साथ दो खेलों में तालमेल बैठाना बहुत मुश्किल होता है।
    पैरी युवा लड़कियों को खेलों की तरफ प्रेरित करने के लिए किताबों में लेख भी लिखती हैं। पैरी ने 16 साल की उम्र में ऑस्ट्रेलिया की क्रिकेट टीम में जगह बना ली थी। इतनी कम उम्र में ऑस्ट्रेलिया का प्रतिनिधित्व करने वाली वे पहली महिला या पुरुष खिलाड़ी हैं।
    वो तीन बार ऑस्ट्रेलिया की टी20 विश्व कप चैंपियन टीम का हिस्सा रही हैं। साल 2015 की एशेज सिरीज में पैरी प्लेयर ऑफ द सिरीज बनीं। उन्होंने सबसे अधिक 264 रन और सबसे ज्यादा 16 विकेट झटके।
    अपना पहला दोहरा शतक लगाने के बाद पैरी ने कहा कि जब मैंने बाउंड्री लगाई तो लोग शोर मचाने लगे, मुझे लगा कि शायद 6 रन हो गए, मैं भी खुशी में झूमने लगी लेकिन तभी अंपायर ने उसे चौका करार दिया, वह बड़ा ही अजीब सा पल था।
    उन्होंने कहा, बल्लेबाजी करने के लिए आज का दिन बेहतरीन था, महिला क्रिकेट के लिहाज से यह एक बड़ी उपलब्धि है। (बीबीसी)

    ...
  •  


Posted Date : 12-Nov-2017
  • नई दिल्‍ली, 12 नवंबर: विराट कोहली और अनुष्‍का शर्मा जहां भी नजर आते हैं, सारी नजरें अपनी तरफ मोड़ लेते है. ऐसा ही कुछ हुआ शनिवार को जब एक बार फिर हाथ में हाथ पकड़े ये जोड़ी साथ-साथ नजर आई. मौका था इंडियन स्पोर्ट्स ऑनर्स अवॉर्ड्स का, जहां रेड कारपेट पर उतरी इस क्‍यूट जोड़ी के खूबसूरत अंदाज को सभी देखते रह गए. रेड पेंटसूट में दिखीं अनुष्‍का और उनके साथ ब्‍लू सूट में नजर आए इंडियन क्रिकेट टीम के कप्‍तान विराट कोहली की जैसे ही यह झलक सोशल मीडिया पर दिखीं, इस जोड़ी के फैन्‍स तो जैसे मारे खुशी के बल्लियों उछलने लगे.
    सिर्फ विराट के फैन्‍स ही नहीं, बल्कि खुद विराट को अपनी यह नई फोटो काफी पसंद आई हैं और उन्‍होंने इसे अपने इंस्‍टाग्राम अकाउंट का नया प्रोफाइल पिक्‍चर बनाया है. विराट-अनुष्‍का की इस एंट्री के कई फोटो उनके फैन्‍स ने सोशल मीडिया पर शेयर किए हैं. वैसे तो इस इवेंट में बॉलीवुड और खेल जगत की और भी कई हस्तियां थीं, लेकिन इस जोड़ी ने सारी लाइमलाइट लूट ली.
    सितंबर में घोषित होने के बाद यह पहली बार स्‍पोट्स ऑनर अवॉर्ड्स का आयोजन किया गया. इस अवॉर्ड्स फंक्‍शन को मलाइका अरोड़ा ने होस्‍ट किया. यहां शामिल हुई खेल जगत की हस्तियों की बात करें तो यहां विराट कोहली, अजिंक्‍य रहाणे, उमेश यादव, हार्दिक पांड्या, आशीष नेहरा, जहीर खान, मिताली राज, केदार जाधव, पुलेला गोपीचंद, सानिया मिर्जा, सायना नेहवाल, पीवी सिंधु, हरमनप्रीत सिंह, दीपिका ठाकुर, गुरजीत कौर, श्रीकांत किदंबई, रानी रामपाल, महेश भूपति जैसे सितारे शामिल हुए.
    वहीं बॉलीवुड की हस्तियों की बात करें तो यहां आमिर खान, अनुष्‍का शर्मा, अक्षय कुमार, सिद्धार्थ मल्‍होत्रा, रितेश देशमुख, मलाइका अरोड़ा, अदिति राव हैदरी, चंकी पांडे, सोहेल खान, सीमा खान जैसे सितारे नजर आए.,  (एनडीटीवी)

    ...
  •  


Posted Date : 11-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 11 नवंबर: टीम इंडिया के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की शादी का समारोह 23 नवंबर को मेरठ स्थित होटल ब्राबुरा में होगा और रात नौ बजे डिनर आयोजित होगा. भुवनेश्वर के पिता किरण पाल सिंह और बहन रेखा ने प्रेस कांफ्रेस में शादी समारोह के कार्यक्रमों की जानकारी साझा की.

    उन्होंने बताया कि 26 नवंबर को भुवनेश्वर के पैतृक गांव बुलंदशहर के लोहारी में कार्यक्रम का आयोजन होगा जिसके लिए यह तेज गेंदबाज 21 नवंबर को मेरठ आएगा. 22 नवंबर को मेरठ स्थित होटल ब्राड वे में म्यूजिक नाइट का आयोजन किया जाएगा.

    दिल्ली के होटल ताज में होने वाले रिसेप्शन में तमाम सेलिब्रिटी, टीम इंडिया, श्रीलंका क्रिकेट टीम के खिलाड़ी और बड़े राजनेता शामिल होंगे. इसके लिए अभी दिन तय नहीं किया गया है. हालांकि पारिवारिक सूत्रों के अनुसार पांच दिसंबर को दिल्ली में रिसेप्शन होगा.

    भुवनेश्वर ने ग्रेटर नोएडा के एक होटल में नूपुर नागर से सगाई की थी. भुवनेश्वर और नूपुर मेरठ के गंगानगर में एक ही ब्लॉक में रहते हैं. पड़ोसी होने के नाते दोनों परिवार का एक-दूसरे के घर आना-जाना था. नूपुर के पिता यशपाल नागर मूल रूप से परीक्षितगढ़ ब्लॉक के गांव भिड़वारा के रहने वाले हैं. (आजतक)

    ...
  •  


Posted Date : 11-Nov-2017
  • भारत श्रीलंका के खिलाफ 16 नंवबर से 3 टेस्ट मैचों की सीरीज खेलने जा रही है। इस सीरीज से भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन की वापसी होगी। रविचंद्रन अश्विन भारत के लिए एक ऑलराउंडर की भूमिका अदा करते हैं। हाल ही में एक इवेंट के दौरान माइक्रोसॉफ्ट सीईओ सत्या नडेला ने रविचंद्रन अश्विन की जमकर तारीफ की है। 50 वर्षीय अरबपति नडेला ने कहा कि वो अश्विन के बड़े फैन हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी को भी बेहद पसंद करते हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि टीम इंडिया के ओपनर बल्लेबाज रोहित शर्मा की बल्लेबाजी देखकर उन्हें पूर्व स्टाइलिश बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण की याद आ जाती है। इन सबके बीच उन्होंने अश्विन की खूब तारीफ की। नडेला ने कहा कि अश्विन ऐसे गेंदबाज है जो अपने ओवर के सभी गेंदों को अलग तरीके से डालने की काबलियत रखते हैं।
    उन्होंने कहा कि अश्विन गेंदबाजी के साथ-साथ बल्लेबाजी भी अच्छी करते हैं। उनकी यही खासियत उन्हें दिग्गज खिलाड़ियों की लिस्ट में ला देती है। नडेला की तारीफ सुनने के बाद अश्विन ने भी ट्विट कर उनका शुक्रिया अदा किया। अश्विन ने कहा कि ‘यह सुनकर अच्छा लगा कि आप मुझे फॉलो करते हैं। आपको मेरा टीम के लिए खेलना यूं ही पसंद आता रहे और हमेशा ऐसे ही सपोर्ट करते रहे।
    नडेला ने कहा कि उन्हें विराट कोहली से ज्यादा रोहित शर्मा की बल्लेबाजी पसंद है। उन्होंने कहा कि जब रोहित शॉट लगाते हैं तो उन्हें देखने का मजा ही कुछ और होता है। नडेला इस समय भारत में अपनी किताब को प्रमोट करने आए हुए थे। उन्होंने कहा कि वो आज भी क्रिकेट को काफी फॉलो करते हैं। (जनसत्ता)

    ...
  •  


Posted Date : 10-Nov-2017
  • सलमान रावी
    भुवनेश्वर, 10 नवम्बर । एक छोटे से बच्चे ने बनाया था खेल जगत का अनोखा इतिहास। चार साल की उम्र में मैराथन दौड़कर उन्होंने सबको दंग कर दिया था। वो भी महज सात घंटों में। ये बात है वर्ष 2006 की जब इस बच्चे ने रातों-रात सुर्खियां बटोर ली थीं। मगर, फिर आया गुमनामी का एक लंबा दौर जिससे वो आज भी उबरने की कोशिश कर रहा है।
    मिलिए, ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर के रहने वाले धावक बुधिया सिंह से। बुधिया सिंह अब 15 साल के हो गए हैं। साल 2006 के बाद से बुधिया ने किसी भी बड़ी प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं लिया है। ये उनके कोच बिरंचि दास की अचानक हुई हत्या के बाद हुआ।
    हालांकि ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने का सपना लेकर वो रात-दिन अभ्यास में लगे हुए हैं। बुधिया से मेरी मुलाकात भुवनेश्वर की सलिया साई बस्ती में हुई। यानी उसी झोपड़पट्टी में जहां से निकालकर उनके कोच बिरंचि दास ने उन्हें तराशा था और कामयाबी के फलक तक पहुंचा दिया था।
    बुधिया और उनके परिवार के लोग किसी से मिलना नहीं चाहते। मीडिया से भी, क्योंकि कुछ दिनों पहले जिस तरह के बुधिया को लेकर खबरें बनाईं गईं, उससे वो आहत हैं। बातों बातों में उन्होंने बचपन के सपने के बारे में बताया और कहा कि बचपन से आज तक एक ही सपना है, ओलंपिक में खेलना है और देश के लिए गोल्ड मेडल जीतना.... इस परिवार ने बहुत सारे उतार-चढ़ाव देखे हैं और आज भी वो आर्थिक तंगी के दौर से ही गुजर रहे हैं।
    बुधिया की मां सुकांती सिंह की कमाई से ही घर का खर्च चलता है। बुधिया की तीन बहनें भी हैं जो उनसे बड़ी हैं और पढ़ रही हैं। मगर कम तनख्वाह में सुकांती सिंह किसी तरह गुजारा कर रही हैं। परिवार के सदस्यों के बीच बैठी सुकांती सिंह पिछले दिनों को याद करती हैं जब उनके पति जिंदा थे।
    वो कहती हैं कि मैं जहाँ काम करती हूँ, वहां मेरी तनख्वाह सिर्फ 8000 रुपये है। इसी तनख्वाह से सब दु:ख सुख चल रहा है। इसी पैसे से मकान का किराया देते हैं। इसी पैसे से खाते हैं। गाड़ी का भाड़ा देते हैं। किसी तरह गुजर बसर कर रहे हैं। सब लोगों ने आश्वासन दिया था कि हम बुधिया के लिए ये कर देंगे, वो कर देंगे। मगर किसी ने भी कोई मदद नहीं की। सिर्फ कहने-कहने की बातें थीं।
    सरकारी उदासीनता का शिकार हुए बुधिया फिर से खुद को बटोरने में जुट गए हैं। उन्हें मलाल है कि वायदों के बावजूद राज्य सरकार के खेल विभाग ने उनका साथ नहीं दिया। कोई संगठन भी उनकी मदद करने आगे नहीं आया।
    बुधिया कहते हैं कि मैं भुवनेश्वर के खेल हॉस्टल में दस साल तक था। उन्होंने मुझसे कहा था कि तुम्हें बाहर लेकर जाएंगे। प्रतियोगिताओं में शामिल करवायेंगे। लेकिन कुछ भी नहीं हुआ। मुझे उम्मीद थी सरकार मेरी मदद करेगी। उन्होंने कुछ नहीं किया। जब मैं यहां डीएवी स्कूल में आया तो आनंद चंद्र दास सर मुझे ट्रेनिंग दे रहे हैं। प्रतियोगिताओं के लिए तैयार कर रहे हैं। मुझे नई तकनीक सीखा रहे हैं।
    कामयाबी की ऊंचाइयों तक पहुंचाने वाले पहले कोच बिरंचि दास की हत्या हुई तो कई वर्षों तक बुधिया बिना कोच के ही रहे। इसी वजह से उनकी ट्रेनिंग रुक गयी और प्रतियोगिताओं में वो हिस्सा भी नहीं ले पाए।
    अपने स्तर से ही वो फिर से दौडऩे की कोशिश करते रहे। मगर नयी तकनीकों से अनभिज्ञ, बुधिया को उतनी कामयाबी नहीं मिल पायी जिसकी वो उम्मीद कर रहे थे। मगर जिंदगी ने एक बार फिर करवट लेनी शुरू कर दी जब उन्हें भुवनेश्वर के डीएवी स्कूल में दाखिला मिल गया।
    यहाँ उनकी मुलाकात आनंद चंद्र दास से हुई जो फिजिकल ट्रेनिंग इंस्ट्रक्टर हैं। कई वर्षों के अंतराल के बाद आनंद चंद्र दास के रूप में बुधिया को मिले एक नए प्रशिक्षक। प्रशिक्षण देने के दौरान हम उनसे मिलने पहुंचे। चर्चा के दौरान उनका कहना था कि बुधिया में बहुत संभावनाएं हैं। बहुत जोश है। इसको मैं रोज मैराथन रेस की तैयारी करवाता हूँ। सड़कों पर दौडऩे का अभ्यास कराता हूँ, 15-20 किलोमीटर तक लेकर जाता हूँ। फील्ड ट्रेनिंग भी दे रहा हूँ ताकि उसके अंदर की क्षमता बाहर आये।
    आनंद चंद्र दास उन्हें बड़ी चुनौतियों के लिए तैयार कर रहे हैं। बहुत दिनों तक अभ्यास से दूर रहने की वजह से बुधिया को अपने नए कोच के साथ काफी मेहनत करनी पड़ रही है। मगर अब उन्होंने वैसा ही कुछ बड़ा करने की ठानी है जैसा उन्होंने चार साल की उम्र में किया था। वो तैयारी में जुट गए हैं।
    उन्होंने कहा कि अभी कोई मैराथन के लिए बुलाएगा तो मैं चला जाऊँगा। चूँकि कोई मौका नहीं मिल रहा है इसलिए अभी छोटी रेस में हिस्सा ले रहा हूँ। मां को 8 हजार रुपये तनख्वाह मिलती है। मगर एक खिलाड़ी के खर्चे ज्यादा हैं। पौष्टिक खाना, कपड़े और जूते मिलाकर एक खिलाड़ी पर कम से कम एक लाख रुपये का खर्च होता है।
    मगर इन तैयारियों के बीच भी बुधिया अपने पहले कोच बिरंचि दास को नहीं भुला पाते हैं। प्रशिक्षण के दौरान मिले ब्रेक के क्रम में वो रह रह कर बिरंचि दास को याद करते हैं।
    वो कहते हैं कि मेरे पहले कोच बिरंचि दास को मैं मिस करता हूँ। आज मैं जो कुछ हूँ, उन्हीं की बदौलत हूँ। इतने बच्चों में से उन्होंने मुझे ही चुना। उनका सपना था कि इस बच्चे को मैं ओलंपिक तक ले जाऊँगा। मैं उनका सपना पूरा करूंगा।
    आर्थिक तंगी और संसाधनों की कमी ने बुधिया का मनोबल तोड़ा जरूर था। लेकिन आज उन्होंने चुनौतियों के लिए कमर कस ली है। उनके आस पास के लोग अब कहने लगे हैं कि बुधिया अब बच्चा नहीं है। वो बड़ा हो गया है। (बीबीसी)

     

    ...
  •  


Posted Date : 09-Nov-2017
  • नई दिल्ली, 9 नवम्बर। न्यूजीलैंड के खिलाफ तीन मैचों की वनडे और टी 20 सीरीज को 2-1 से जीतने के बाद भारतीय टीम अब श्रीलंका के खिलाफ एक बार फिर खेलने को तैयार है। भारतीय टीम के लिए होम ग्राउंड और साल का अंत इसी सीरीज के साथ होगी। इसके बाद भारतीय टीम साउथ अफ्रीका दौरे पर जाएगी जहां नए साल का पहला मुकाबला खेला जाएगा।
    भारतीय टीम ने पहले ही दो टेस्ट मैच के लिए अपनी टीम का एलान कर दिया था। श्रीलंका की टेस्ट टीम भारत दौरे पर पहुंच गई है। श्रीलंका 16 नवंबर से शुरु हो रही टेस्ट सीरीज से पहले 11 तारिख को बोर्ड प्रेसिडेंट इलेवन के खिलाफ दो दिवसीय प्रैक्टिस मैच खेलेगी।
    तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के बाद तीन मैचों की वनडे सीरीज खेली जाएगी। जिसकी शुरुआत 10 दिसंबर से होगी। वनडे मैचों की सीरीज के बाद तीन टी 20 मैचों की सीरीज खेली जाएगी। बीस दिसंबर से टी 20 सीरीज का आगाज होगा।
    इससे पहले भारत ने जुलाई में श्रीलंका का दौरा किया था, जहां भारत ने तीन टेस्ट,पांच वनडे और एक टी 20 मैचों की सीरीज में श्रीलंका का सूपड़ा साफ कर दिया था।
    भारत ने पहले दो टेस्ट मैचों के लिए टीम का एलान पहले ही कर दिया था। संभव है कि तीसरे टेस्ट के साथ-साथ वनडे और टी 20 सीरीज में कप्तान विराट कोहली सहित बड़े खिलाडिय़ों को आराम दे। श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट मैचों के साथ मुरली विजय वापसी करने जा रहे हैं।
    भारत की टीम - विराट कोहली (कप्तान), मुरली विजय, शिखर धवन, अजिंक्य रहाणे, चेतेश्वर पुजारा, रोहित शर्मा, ऋद्धिमान साहा, आर अश्विन, रवींद्र जडेजा, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार, इशांत शर्मा, हार्दिक पंड्या।
    श्रीलंका की टीम - दिनेश चांदीमल (कप्तान), दिमुथ करूणारत्ने, धनंजय डि सिल्वा, सादीरा समराविक्रेमा, एंजेलो मैथ्यूज, लाहिरू थिरिमाने, रंगना हेराथ, सूरंगा लकमल, दिलरूवान परेरा, लाहिरू गामागे, लक्षण संदाकन, विश्व फर्नांडो, दासुन शनाका, निरोशन डिकवेला और रोशन सिल्वा।
    कार्यक्रम -
    11 नवंबर - बोर्ड प्रेसिडेंट बनाम श्रीलंका दो दिवसीय प्रैक्टिस मैच - ईडेन गार्डन कोलकाता
    टेस्ट सीरीज सुबह 9.30 बजे से -
    नवंबर 16 - पहला टेस्ट - ईडेन गार्डन, कोलकाता
    नवंबर 24 - दूसरा टेस्ट - विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन,नागपुर
    दिसंबर 02 - तीसरा टेस्ट - फिरोज शाह कोटला, दिल्ली
    वनडे सीरीज दोपहर 1.30 बजे से -
    दिसंबर 10 - पहला वनडे - धर्मशाला
    दिसंबर 13 - दूसरा वनडे - मोहाली
    दिसंबर 17 - तीसरा वनडे - विशाखापट्टनम
    टी 20 सीरीज शाम 7 बजे से -
    दिसंबर 20 - पहला टी 20 - कटक
    दिसंबर 22 - दूसरा टी 20 - इंदौर
    दिसंबर 24 - तीसरा टी 20 - वानखेड़े, मुंबई 
    (एबीपी न्यूज)

    ...
  •  




Previous123456Next