छत्तीसगढ़ » कोण्डागांव

हड़ेली कैंप में नक्सल हमला, जवान घायल

Posted Date : 06-Dec-2017


हेलीकाप्टर से रायपुर भेजा गया
छत्तीसगढ़ संवाददाता 
कोण्डागांव, 6 दिसंबर। मर्दापाल थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम हड़ेली में पुलिस कैंप स्थापित किया जा रहा है। इस कैंप में 6 दिसंबर की सुबह नक्सलियों ने गोलीबारी कर हमला कर दिया। हमला में प्रधान आरक्षक कोमल खलको को पैर में गोली लगी और वह घायल हो गया। घायल जवान को तत्काल जिला अस्पताल आरएनटी लाया गया। इसके बाद यहां से हेलीकॉप्टर से रायपुर रेफर कर दिया गया है। घटना के बाद डीआईजी रतन लाल डांगी, एसपी आसुतोष सिंह हड़ेली कैंप पहुंच कर घटना स्थाल का मुआयना किया।
क्सल गतिविधियों में अंकुश लगाने और मर्दापाल के अंदरुनी क्षेत्र में विकास कार्य को तेजी देने के लिए ठीक दो दिन पहले जिला पुलिस बल ग्राम हड़ले में कैंप स्थापित करना शुरू किया है। फिलहाल यहां जंगलों के बीच अस्थाई तंबू लगाकर जवान तैनात हैं और कैंप निर्माण कार्य में लगे हुए हैं। यहां नक्सलियों ने 6 दिसंबर की सुबह हमला कर दिया।
हड़ेली अत्यंत नक्सल प्रभावित क्षेत्र है। घने जंगल का फायदा उठाकर नक्सलियों ने ठीक सुबह 7 बजे कैंप पर फायरिंग की। इस फायरिंग में प्रधान आरक्षक कोमल खलको के पैर पर तीन गोली गली है। 
ऑटोमेटिक बंदूक से किया फायर
घटना के तरीके से अंदाजा लगाया जा रहा है कि घटना को नक्सलियों के छोटी टुकडी ने अंजाम दिया है। नक्सलियों के छोटी टुकडी को स्माल एक्शन टीम भी कहा जाता है, ये टीम छुप कर इस तरह की घटनाओं को अंजाम देकर भाग निकलती है।
 बताया जा रहा है कि प्रधान आरक्षक कोमल खलको के पैर में तीन गोलियां लगी है। एक ही बार में तीन गोलियों के लगने से अंदेशा लगाया जा रहा है कि नक्सली ऑटोमेटिक गन लेकर घात लगाए थे और अचानक से ब्रस्ट फायर करके मौके से भाग गए। इसी के चपेट में आकर जवान घायल हो गया।
पुलिस की चूक पहले भी हो चुका है कैंपों में फायर
नक्सल गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस एक के बाद एक कर अंदरुनी क्षेत्रों में कैंप, चौकी और थाना स्थापित कर रही है। सुरक्षा जवान जब भी इस तरह के कार्य योजना को अमल में लाते हुए कैंप स्थापित करती है, तो नक्सली उसे रोकने की हर संभव कोशिश भी करते हंै, ऐसे में हमला करना भी लाजिमी है। इसके पूर्व भी जिला में जब भी कैंप, चौकी या थाना स्थापित करने की कार्रवाई शुरू की गई है, नक्सलियों ने हमला किया है। इस बार भी हुए हमला और हमला में जवान के घायल होने से सुरक्षा की कमी उजागर हो रही है।
चुक नहीं नक्सलियों ने बौखलाहट में किया हमला
डीआइजी रतन लाल डांगी का कहना है कि पुलिस की चुक नहीं, नक्सलियों ने बौखलाहट में हमला किया है। घटना के तुरंत बाद पुलिस अधिकारी डीआईजी रतन लाल डांगी घटना स्थाल हड़ेली पहुंचे। यहां चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि कभी भवरदही नदी के पार का क्षेत्र नक्सल कोर एरिया कहलाता था, आज इस क्षेत्र में सुरक्षा जवान ना केवल पहुंच रहे हैं बल्कि हड़ेली जैसे नक्सल कोर एरिया में कैंप स्थापित कर रहे हैं। इस कैंप के स्थापित हो जाने से यहां विकास की गति तेज हो जाएगी और लोगों को इसका फायदा होगा। ऐसे में नक्सलियों का अस्तित्व खतरे में है। अब नक्सली अपने अस्तित्व को बचाने के लिए इस तरह के हरकत कर रहे हैं।

 




Related Post

Comments