छत्तीसगढ़ » धमतरी

  • डेढ़ किमी बनकर तैयार

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 14 सितंबर। अल्पवर्षा से सूख रही धान फसल को बचाने के लिए मगरलोड ब्लॉक के धनबुड़ा, देवगांव, झांझरकेरा और भालूचुवा के किसानों ने शासन-प्रशासन का मुंह नहीं ताका। बल्कि खुद ही पत्थरों का सीना चीरकर नाले का पानी खेत तक पहुंचाने रास्ता बना लिया। इन 4 गांव के किसान प्रतिदिन 30-30 की संख्या में श्रमदान कर यह पहल की। 
    समूह में किसान फावड़ा, कुदाली लेकर पत्थर तोडऩे में जुट गए और नाले का पानी खेतों तक पहुंचाने रास्ता बना रहे हैं। अभी तक नाला से पत्थरों को काटते हुए डेढ़ किमी का रास्ता बनाया जा चुका है। 5 किमी का रास्ता और बनाना है तब कहीं जाकर खेतों तक पानी पहुंच जाएगा। ग्रामीणों का कहना है कि सालों से स्टापडेम की मांग कर रहे हैं, लेकिन किसानों को शासन-प्रशासन से राहत नहीं मिली, तो खुद ही खेतों तक पानी पहुंचाने में जुट गए। 
    मगरलोड इलाके के किसान मानसून पर ही निर्भर रहते है। किसानों का कहना है कि अगर नाले का पानी खेतों तक पहुंचाने कामयाब हो जाते हैं, तो क्षेत्र के 3 हजार एकड़ फसल की सिंचाई हो सकती है। किसान पत्थरों को काटकर खेतों तक पानी पहुंचाने की मुहिम में जुटे हुए हैं। खरीफ धान की फसल को बचाने की कोशिश में गांव के युवा लगे हैं। 
    सामूहिक श्रमदान कर अमलीकोन्हा के नाला में व्यर्थ बह रहे पानी को पत्थरों व मिट्टी की नाली बनाकर खेतों तक पहुंचाने की कोशिश में लगे हैं। ताकि फसल को सिंचाई पानी मिल सके। 
    पानी के अभाव में दरारें पडऩे लगी 
    किसान रूप सिंग, देवनारायण, फूलचंद, रोशन, कुलेश्वर, राधेश्याम, महेत्तर, नरेश, मोनीन बाई, उर्मिला, लाभाराम,भागा बाई, धनेश, चंद्रहास, करण ने बताया कि अल्प वर्षा के चलते अंचल में अकाल की स्थिति निर्मित हो रही है। खेतो में पानी के अभाव में दरारें पडऩे लगी है। साथ ही धान के पौधे पीला पड़कर मरने लगे हैं। इसलिए खेतों को सिंचाई पानी देने पत्थरों से होकर गुजरने वाले नाला के पानी को खेतों तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं। 
    क्षेत्र में चेकडेम निर्माण के लिए ग्रामीण कई बार कलेक्टर को आवेदन दे चुके हैं। लेकिन प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। ग्रामीणों ने कहा कि चेकडेम का निर्माण किया जाता है तो लोगों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी उपलब्ध हो सकता है। 
    ग्राम पंचायत झांझरकेरा के उपसरपंच व धनबुड़ा निवासी रामनाथ धु्रव ने बताया कि अल्प वर्षा के चलते अकाल की स्थिति निर्मित हो रही है। अमलीकोन्हा में स्टॉपडेम व नाली निर्माण की मांग लगातार प्रशासन से की जा रही है। फिर भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। स्टॉप डेम का निर्माण हो जाता तो लोगों को यह दिन देखना नहीं पड़ता।  

  •  

  • स्कूल के विकास के लिए रोज जमा करती है बीस रुपये 
    पुरुषोत्तम सिंह ठाकुर 
    धमतरी से करीब 25 किमी दूर सेमराबी के प्राथमिक शाला और माध्यमिक शाला एक ही अहाते में है। और इन स्कूलों के पास कुछ हो या न हो, पर इनके पास जो है वह और कोई भी स्कूलों के पास नहीं है। यहाँ के शालाओं के पास दुखिन दीदी हैं। दुखिन दीदी न तो शाला के शिक्षक हैं, न गाँव के सरपंच औरनवह कोई बड़े पैसे वाली महिला हैं पर वह इस स्कूल के बच्चों के लिए वह सब कुछ करती हैं जो दूसरे लोग नहीं करते।
     ये सब मेरे बच्चे हैं, ये मेरे भगवान हैं! मैं चाहती हूँ की ये बच्चे, अच्छे से पढ़ें लिखें औरखुश रहें- यह कहना है तकऱीबन65 साल उम्र के दुखिन दीदी का।
     इस स्कूल में जो कुछ बेहतर दिखाई दे रहा है उसमें दुखिन दीदी का बहुत बड़ा योगदान है। उन्होंने स्कूल को वाटर प्योरिफायर से लेकर स्कूल में नल की व्यवस्था करवाई। और कई चीजें दी हैं। स्वाधीनता दिवस हो या गणतंत्र दिवस जैसेकोई उत्सव होता है तब भी बच्चों के लिए मिठाई नास्ता का व्यवस्था भी करती हैं- यह कहना है स्कूल की शिक्षिका श्रीमती ज्योति निषाद का।
    दुखिन दीदी शादी के कुछ दिन बाद ही उनके पति ने छोड़ दिया था और वह  वापस गाँव चली आईं थीं और स्कूल के सामने एक गुमटी वाला चाय-नाश्ता की दूकान खोलकर गुजर बसर कर रही हैं। इसमें उन्होंने जो कमाया वह स्कूल के विकास के लिए दान में दे दिया। वह फिलहाल हर दिन स्कूल के नाम से 20 रुपये बैंकमें जमा करवाती हैं और उस पैसे को स्कूल के बच्चों के लिए खर्च करती हैं। यही नहीं वह शिक्षक दिवस में स्कूल के शिक्षिका-शिक्षकों का भी सम्मान करती हैं।
    दुखिन दीदी को शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए पिछले साल धमतरी जिला प्रशासन ने भी गणतंत्र दिवस के दिन सम्मानित किया। अब उनकी तबियत ठीक नहीं है इसके बावजूद स्कूल का कोई भी कार्यक्रम हो उसमें वह मौजूद ना हों ऐसा कभी नहीं हुआ।
    (लेखक सामाजिक बदलाव के मुद्दे पर लिखते हैं और अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन से जुड़े हुए हैं )

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 10 सितंबर। मगरलोड थाना क्षेत्र के ग्राम मोहेरा में आज सुबह एक युवक ने युवती की चाकू मारकर हत्या कर दी। फिर जहर खाया जान देने की कोशिश की। पुलिस के अनुसार आरोपी युवती से एक तरफा प्यार करता था।  
    मिली जानकारी के अनुसार आज सुबह  मोहेरा गांव में  बागेश्वरी  हल्बा नामक युवती अपने आंगन की सफाई कर रही थी। तभी गांव का  प्रीतराम  हल्बा नामक युवक चाकू लेकर दौड़ते पहुंचा और कई  वार कर दिए  जिससे युवती ने मौके पर दम तोड़ दिया। घटना के बाद युवकघर पहुंचा और जहर खाकर खुदकुशी करने की कोशिश की। परिजनों ने उसे गरियाबंद अस्पताल में भर्ती कराया है। जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है।
    थाना प्रभारी निर्भयसिंह राजपूत ने बताया कि आरोपी प्रीतराम एकतरफा प्यार करता था और युवती से शादी करने की इच्छा जताई थी, जिसे युवती ने ठुकरा दिया था।  

  •  

  • बत्तीस युवाओं ने भी लिया मुफ्त प्रशिक्षण 
    झुरा नवागांव शास.माध्यमिक स्कूल
    पुरुषोत्तम सिंह ठाकुर 

    शासकीय स्कूलों में संसाधनों की कमी एक आम बात है लेकिन अगर शिक्षक चाहें तो अपनी कोशिशों से संसाधन भी जुटा सकते हैं। इस बात का उदाहरण धमतरी जिले के झुरा-नवागांव के शासकीय माध्यमिक स्कूल में जाके देख भी सकते हैं। इस माध्यमिक स्कूल में बाकी चीजों के अलावा 4 कम्प्यूटर हंै जिसमें न केवल इस स्कूल के बच्चे बल्कि प्राथमिक शाला के बच्चे और गाँव के शिक्षित युवा (बेरोजगार) भी कम्प्यूटर का प्रशिक्षण ले रहे हैं।
    यह चार कम्प्यूटर जनसहयोग से जुटाया है। इनमें से एक  कम्प्यूटर गाँव के एक प्रगतिशील किसान देव चरण यादव ने दिया है जिनका खुद का सिर्फ 5 एकड़ ज़मीन है लेकिन वह करीब 150 एकड़ में खेती करते हैं।
    दूसरा  कम्प्यूटर गाँव के ही मेरे दो साथियों ने भेंट किया है जिनमें से एक लोमेश साहू अभी विवेकानंद आश्रम, नारायणपुर में माध्यमिक शाला में प्रधान पाठक हैं वहीं तीसरा कंप्यूटर राकेश चंद्राकर ने दिया है जो विवेकानंद आश्रम में इंजीनियर हैं। और चौथा कंप्यूटर मैंने ने दिया है- यह कहा स्कूल के शिक्षक दुजराम साहू ने।
    दूजराम साहू अपने शिक्षक जीवन का ज्यादातर समय दूसरे गाँव में बिताया जिनमें सेमरा बी स्कूल भी शामिल है, वहां भी बेहतर काम किया लेकिन 2014 में उन्होंने स्वेच्छा से अपने गाँव का स्कूल में तबादला माँगा ताकि गाँव के बच्चों के लिए कुछ काम कर सकें।
    शिक्षक दुजराम और उनके साथ शिक्षकों ने पालकों और गाँव वालों से बात की और गाँव वाले भी अपने श्रद्धा और हैसियत के मुताबक किसी ने  कम्प्यूटर के टेबल, किसी ने कुर्सी तो कोई एक्सटेंशन वायर दिया इस तरह से संसाधन जुटाए गए।
    लेकिन सिर्फ संसाधन जुटा लेने से नहीं होता जब तक उसका उपयोग ना हो। इसलिए इन लोगों ने स्कूल में एक वैकल्पिक कम्प्यूटर शिक्षक की व्यवस्था की। उन्हें दो हज़ार रुपये मानदेय देते हैं जिनमें से एक हज़ार रुपये दुजराम देते हैं और बाकी का हज़ार रुपये प्राथमिक शाला और माध्यमिक शाला के शिक्षक एक एक सौ  रुपये करके देते हैं।
    इस बार गर्मी के छुट्टी के दौरान दोनों स्कूलों के प्रबंधन कमिटी ने गाँव के बत्तीस शिक्षित युवाओं को तीन शिफ्ट में कम्प्यूटर का प्रशिक्षण दिया और उन्हें प्रमाण पत्र भी दिया।
    स्कूल में बच्चों के बौधिक और रचनात्मक विकास के प्रति भी ध्यान दिया जा रहा है। हमने देखा कि मध्यान्ह भोजन के बाद कहानियों के पुस्तक पढ़ते हैं। स्कूल में दो तीन जगह वाल-मैगज़ीन भी है जिसमें बच्चों द्वारा किये गए ड्राइंग-पेंटिंग और लेख चिपकाए गए थे जिसे बच्चे पढ़ भी रहे थे।
    इस तरह से यह स्कूल का उदाहरण से स्पष्ट है कि अगर शिक्षक चाहें तो असंभव को भी संभव कर सकते हैं, आवश्यकता है तो सिर्फ जज्बे की।
    ( लेखक अज़ीम प्रेमजी फाउंडेशन से जुड़े हैं और सामाजिक बदलाव और शिक्षा में नवाचार विषय पर लिखते हैं ) 

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 28 अगस्त। सीसीटीवी फुटेज  की मदद से धमतरी पुलिस ने हत्या के दो  अरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की। दोनों  को न्यायिक रिमांड पर पुलिस ने जेल भेज दिया है।
     26 अगस्त को शहर के बालाजी कालोनी के पीछे एक डबरी में पूर्व पार्षद पति संतोष यादव की लाश संदिग्ध हालात में मिली थी।  पुलिस जांच में सामने आया कि मृतक संतोष और उसके 2 दोस्त घटना की रात जमकर शराब पी थी। इसी दरम्यान पैसे की लेनदेन और पुरानी रजिंश को लेकर विवाद हुआ। तैश में आकर आरोपी चंद्रकांत और धीरज ने संतोष यादव की हत्या कर दी। फिर  शव को पास के डबरी मे फेंककर वहां से भाग गए थे। 
    पुलिस जांच-पड़ताल की शुरुआत शराब दुकान में लगे सीसीटीवी फुटेज से किया। जिसमें तीनों एक साथ दिखाई दिया और किसी बात को लेकर विवाद करते नजर आए। पुलिस को मिले सबूतों के आधार पर दोनों आरोपी को हिरासत में लेकर कड़ाई के साथ पूछताछ  की। दोनों  ने अपना जुर्म कबूल लिया। पुलिस ने दोनों आरोपी चन्द्रकांत उर्फ काजू पांडेय, धीरज उर्फ झबलू सोनी गणेश चौक के खिलाफ  जुर्म दर्ज कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है। 

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 26 अगस्त। दो मोटर साइकिल में आमने-सामने भिड़ंत हो गई। घटना नगरी थाना क्षेत्र के ग्राम मोदेपुर के पास की है। हादसे से दोनों बाईकों के परखच्चे उड़ गए। 
    नगरी पुलिस के अनुसार कल घठुला निवासी युवक मोटरसाइकिल में गणेश प्रतिमा लेने नगरी आ रहा था। इसी दौरान दूसरी मोटरसाइकिल से उनकी टक्कर हो गई। दुर्घटना में अर्जुन पिता पुनीत राम ग्राम करही थाना खल्लारी की मौत हो गई। थानेश्वर पिता मनिक राम और रंजीत दोनों निवासी घठुला को चोट आई है। घायलों को धमतरी रेफर किया गया है। दोनों बाईक की टक्कर इतनी जबर्दस्त थी कि वाहनों के परखच्चे उड़ गए। नगरी पुलिस घटना की जांच में जुटी है। 

  •  

  • छत्तीसगढ़  संवाददाता
    धमतरी, 26 अगस्त। शनिवार सुबह देशी शराब दुकान के पास डबरी में पूर्व पार्षद पति की लाश मिली। घटना की खबर से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। 
    पुलिस के अनुसार आज सुबह खबर मिली कि महिमा सागरपारा वार्ड के शराब दुकान से करीब 50 मीटर दूरी डबरी में लाश है। मौके पर पहुंची पुलिस ने लाश को डबरी से बाहर निकालकर वार्डवासियों से शिनाख्त कराया, तो ब्राह्मणपारा पूर्व पार्षद सविता यादव की पति संतोष यादव के नाम से हुआ। 
    घटना स्थल के आसपास जमीन में घसीटने के निशान भी हैं, इसलिए वार्डवासियों ने हत्या की आशंका जताई है। साथ ही घटना स्थल पर चंदा रसीद बुक और कुछ नगदी भी मिले हैं। 
     थाना प्रभारी संतोष जैन ने बताया कि शव का पंचनामा कराकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया है। हादसा हत्या है या आत्महत्या, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही खुलासा होगा। 

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 24 अगस्त। नानी की मौत से अंजान अबोध बच्ची लाश से लिपटकर रातभर सोती रही। सुबह नींद खुलने पर कभी वह चिल्लाकर नानी को उठाने की कोशिश करती, तो कभी खुद नानी से लिपटकर सो जाती। काफी समय तक नानी के नहीं उठने पर वह रोने लगी। इसके बाद लोगों को वृद्घा के मौत होने की जानकारी हुई। 
    भीख मांगकर खुद और बेटी नातिन की जीवनयापन करने वाली वृद्घा की मौत 22 अगस्त मंगलवार की रात हो गई। नया बस स्टैंड धमतरी में मासूम अपनी नानी की लाश से लिपटकर रातभर रोती रही। रोते-रोते थक जाने पर लाश से लिपटकर सो जाती थी। दूसरे दिन सुबह बच्ची को रोता देखकर वहां भीड़ लग गई। सूचना पर पुलिस और स्वर्गधाम सेवा समिति के सदस्य पहुंचे। लाश का अंतिम संस्कार कर मासूम बच्ची को जिला अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया। अज्ञात वृद्घा की मौत की खबर लोगों ने पुलिस व समाजसेवी संस्था स्वर्गधाम सेवा समिति के महासचिव प्राचार्य अशोक पवार को दी। बुधवार की सुबह विधि-विधान के साथ स्वर्गधाम सेवा समिति ने वृद्घा का अंतिम संस्कार किया। 
    सेहत बिगडऩे पर मासूम जिला अस्पताल में भर्ती 
    आसपास के लोगों ने बताया कि वृद्घा भीख मांगकर अपना और नातिन का पेट पाल रही थी। बच्ची को जन्म देने के बाद उसकी बेटी मर गई। इसके बाद दामाद भी छोड़कर भाग गया। इसलिए बच्ची को नानी ही पाल रही थी। नानी की मौत के बाद अनाथ हुई मासूम बालिका की सेहत बिगड़ गई। नानी के अलावा इस दुनिया में बालिका के कोई नहीं होने पर जागरूक लोगों ने इलाज कराने उसे जिला अस्पताल में भर्ती किया है। डॉक्टरों की मानें, तो मासूम मध्यम कुपोषित है। अब सवाल उठने लगा है कि मासूम की देखरेख कौन करेगा। 

     

  •  

  • बारिश नहीं हुई तो बांधों से भी नहीं मिलेगा पानी
    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 18 अगस्त। आषाढ़ व सावन माह में पर्याप्त बारिश नहीं हुई। भादो माह भी सूखा निकल रहा है, जिससे धान फसल पर खतरा मंडराने लगा है। नगरी व मगरलोड तहसील की हजारों एकड़ धान फसल सिंचाई पानी के अभाव में मरने लगी है। कलेक्टर व अधिकारियों की टीम क्षेत्र का निरीक्षण कर राजस्व विभाग को खराब फसल का सर्वे करने का निर्देश दिया है। इधर एक-दो दिन में झमाझम बारिश न हुई, तो बांधों से पानी मिलना भी बंद हो जाएगा।  
    खरीफ 2017-18 में कृषि विभाग द्वारा जिले के धमतरी, कुरूद, मगरलोड और नगरी ब्लाक में 1 लाख 35 हजार हेक्टेयर क्षेत्रों में धान फसल लेने का लक्ष्य है। लक्ष्य के विरूद्घ जिले में सौ प्रतिशत रोपाई व बोआई हो चुका है। सिंचाई पानी के अभाव में बियासी कार्य सिर्फ 22 से 23 प्रतिशत हुआ है, जिससे बोता फसल पर खतरा मंडाने लगा है। कलेक्टर सीआर प्रसन्ना ने बताया कि नगरी व मगरलोड तहसील के सिंगपुर, मारदापोटी समेत विभिन्न क्षेत्रों में धान फसल की स्थिति ज्यादा खराब है। इन क्षेत्रों का निरीक्षण किया गया। वास्तव में सिंचाई पानी के अभाव किसानों के धान फसल काफी प्रभावित है। फसल की खराब स्थिति को देखते हुए कलेक्टर प्रसन्ना ने दोनों तहसील के राजस्व विभाग को किसानों के प्रभावित धान फसल का सर्वे कराने निर्देश दिया है। जांच रिपोर्ट मिलते ही यह रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी। शासन को पत्र लिखकर प्रभावित क्षेत्रों को शासन से सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग की जाएगी। 
    मानसून ब्रेक की वजह से जिले के सभी बांधों की हालत पतली हो चुकी है, जिससे 2 लाख 20 हजार हेक्टेयर रकबे में लगी खरीफ फसल के तबाह होने का खतरा बढ़ गया है। इस खरीफ सीजन में जिले के 1 लाख 40 हजार हेक्टेयर रकबे में फसल लगी है। इसमें से करीब 70 हजार हेक्टेयर रकबे की फसल की सिंचाई बांध के पानी से होती है। गंगरेल बांध से 1 अगस्त से सिंचाई के लिए पानी तो छोड़ा जा रहा है, लेकिन कैचमेंट एरिया में बारिश न होने से बांधों में पानी की आवक नहीं हो रही है। 
    सिर्फ 16 टीएमसी पानी ही बचा
    जल संसाधन विभाग की मानें, तो इस वर्ष अब तक बांधों के कैचमेंट एरिया में अच्छी बारिश नहीं होने के कारण स्थिति काफी भयावह हो गई है। गंगरेल समेत इसके सभी सहायक बांधों में आज की स्थिति में महज 16 टीएमसी उपयोगी पानी बचा है, जबकि आगामी जून माह तक औद्योगिक और मानवीय जरूरतों के लिए इसमें से 11 टीएमसी पानी हर हाल में सुरक्षित रखा जाना है। एक-दो दिनों में कैचमेंट एरिया में झमाझम बारिश न हुई, तो 3-4 दिनों में ही सिंचाई के लिए पानी देना बंद कर दिया जाएगा। कलेक्टर डॉ सीआर प्रसन्ना का कहना है कि मानसून ब्रेक की वजह से हालात काफी खराब है। बांधों में तत्काल पानी नहीं आया, तो एक-दो दिन में सिंचाई के लिए पानी देना बंद करना पड़ेगा। 
    तबाही के कगार पर फसल 
    जिले में इस वर्ष मानसून ब्रेक की वजह से बारिश की स्थिति काफी नाजुक है, जिससे भूमिगत जलस्तर भी बढ़ नहीं पाया है। बारिश न होने और बोर सूखने की वजह से असिंचित क्षेत्र की पूरी फसल तबाही के कगार पर पहुंच चुकी है। भू-अभिलेख शाखा के अनुसार 17 अगस्त की स्थिति में जिले में 743.2 मिमी औसत वर्षा हो जानी थी, पर 484.5 मिमी ही हुई है, जो 34.3 फीसदी कम है। तहसीलवार स्थिति देखें तो धमतरी में 512.8, कुरूद में 435.4, मगरलोड में 515.9 और नगरी में 474 मिमी बारिश अब तक हुई है, जो औसत वर्षा से काफी कम है।

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 5 अगस्त। बारिश नहीं होने से वनांचल क्षेत्र में धान फसल का बुरा हाल है। किसानों की बोता धान फसल पीली पड़कर तेज धूप से मुरझाने लगी है। फसल की स्थिति देखकर क्षेत्र में सक्रिय किसान संघर्ष समिति के पदाधिकारी व सदस्यों ने राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपकर उप तहसील कुकरेल क्षेत्र को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग की है। 
    उप-तहसील कुकरेल क्षेत्र के ग्राम सलोनी, छुही, साल्हेभाट, मोहलाई, पथर्रीडीह, सियादेही, लसुनवाही, माकरदोना, बांसपारा, कुकरेल, बनरौद, मारदापोटी, कुम्हड़ा, केरेगांव, जामपानी, हर्राकोठी, रायपारा, अमलीपारा, नाथूकोन्हा, कोर्रा, बाम्हनबाहरा, डोकाल, पंडरीपानी, बासीखाई, बाजारकुर्रीडीह समेत वनांचल व डूबान क्षेत्र के गांवों में खरीफ सीजन की धान फसल बर्बाद हो रही है। बारिश नहीं होने से किसानों के खेतों में लगे धान फसल पीला पड़ गई है। सिंचाई पानी के अभाव में धान फसल मुरझाकर मरने लगी है, जिससे किसानों की चिंता बढ़ गई है। क्योंकि किसान खेती-किसानी कार्य के लिए साहूकारों, सोसायटियों और अन्य जगहों से कर्ज लेकर हजारों रुपए किसान लगा चुके है। इससे किसानों की नींद हराम है। 
    नायब तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन 
    किसान संघर्ष समिति उप तहसील कुकरेल के अध्यक्ष वामन साहू, उपाध्यक्ष रोहित दास, संरक्षक माखन लाल नेताम, सचिव मोहन दास, पदाधिकारी भगवान सिन्हा, ईश्वर मंडावी, नेमिन बाई धु्रव, नरेश निषाद, हिन्छाराम साहू, देवराम साहू, देशीराम सिन्हा, बेदराम सिन्हा, सालिकराम धु्रव समेत अन्य शुक्रवार को उप तहसील कार्यालय में क्षेत्र को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग लेकर राज्यपाल के नाम नायब तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। पदाधिकारियों ने बताया कि पर्याप्त बारिश नहीं होने से क्षेत्र में रोपा, बियासी तथा बुआई का कार्य पूरा नहीं हुआ है। जिन किसानों के खेतों में रोपा, बियासी व बोता हुआ है, ऐसे किसानों के धान फसल सिंचाई पानी के अभाव में पीला पड़कर गर्मी से मुरझाकर मरने लगा है। 
    किसानों की बैठक कल 
    किसानों को अकाल की चिंता सताने लगी है। बारिश नहीं होने और लगातार मोटरपंप चलने से भू जलस्तर भी नीचे चला गया है। किसानों के पास सिंचाई के लिए कोई सुविधा नहीं है। समिति पदाधिकारी व क्षेत्र के किसानों की मांग है कि शासन क्षेत्र को सूखाग्रस्त घोषित कर किसानों का ऋण माफ करें। साथ ही मजदूर व प्रभावित किसानों को रोजगार देने राहत कार्य खोलने की मांग की है। समिति सदस्यों ने सूखाग्रस्त के संबंध में चर्चा करने के लिए 6 अगस्त को कुकरेल के साहू समाज भवन में बैठक आयोजित है। जिसमें क्षेत्र के प्रत्येक गांवों से 10-10 किसान प्रमुख शामिल होंगे। 
    रक्षाबंधन पूर्णिमा दर्शन 7 को
    राजनांदगांव, 05 अगस्त। संतश्री आशारामजी  आश्रम मोहारा में रक्षाबंधन पूर्णिमा दर्शन कार्यक्रम आगामी 7 अगस्त को मनाया जाएगा। आश्रम के लोकेश भाई ने बताया कि चंद्रग्रहण होने के कारण इस बार सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक ही दर्शन लाभ ले सकेंगे। उन्होंने जिले के समस्त साधकों से समय पर उपस्थिति का आव्हान किया है।

    डुबान क्षेत्र के 22 गांव के किसानों को फसल बीमा की जानकारी नहीं 
    धमतरी, 5 अगस्त। गंगरेल बांध के डुबान क्षेत्र के 22 गांवों के किसान फसल बीमा नहीं करा पाए। किसानों का कहना है कि जानकारी नहीं होने के कारण ऐसा हुआ है। किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने कलेक्टर से शिकायत करते हुए फसल बीमा की अवधि बढ़ाने की मांग की है। 
    प्रदेश कांग्रेस सचिव आनंद पवार के साथ पहुंचे किसानों ने कलेक्टर सीआर प्रसन्ना को बताया कि भौगोलिक रूप से डुबान क्षेत्र के गांवों में मौसम का मिजाज हमेशा बदलते रहता है। मौसम की अनिश्चितता बनी रहती है। जिसके कारण उत्पादन बहुत यादा प्रभावित होता है। ऐसे में डूब में आने वाली सिंचाई विभाग की जमीन में हारों किसान पानी उतरने पर फसल लेते है। इस बार किसानों को बीमा की जानकारी नहीं हो पाई। जिसके कारण निर्धारित31 जुलाई की अवधि तक फसल का बीमा नहीं करा पाए। प्रतिनिधिमंडल में तानाजी राव रणसिंह, मोंगरागहन के सरपंच चिंतामणी साहू, कोड़ेगांव सरपंच तीरथ निषाद, पंढरी पानी के जनपद सदस्य ईश्वर कुरैटी समेत अन्य ग्रामीण उपस्थित थे।  

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 5 अगस्त। भाई-बहन के स्नेह और प्यार के प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार 7 अगस्त को धूमधाम से मनाया जाएगा। रक्षाबंधन के त्योहार के नजदीक आते ही शहर के बाजार में राखियों की दुकानें सज गई है। बाजार में सजी राखियों की दुकानों से बाजार में अलग ही रौनक दिखाई देने लगी है।
    दुकानों पर राखियां खरीदने के लिए महिलाओं व युवतियों की दिन भर भीड़ जमा रहती है। शहर के गोलबाजार, रामबाग बाजार, इतवारी बाजार, बालक चौक, सदर बाजार समेत अन्य जगहों पर फुटकर की बड़ी दुकानें सजी है। जिससे पूरे बाजार में ही राखियां ही राखियां नजर आने लगी है। राखी विक्रेताओं ने बताया कि बाजार में आधुनिक डिजायनों की राखियां युवतियों को लुभा रही है। बच्चों के लिए डोरी मौन, बैन टेन तथा कार्टून वाली राखियां खूब बिक रही हैं। वहीं की डोरा राखी, स्टोन राखी व लंबा राखी की खरीददारी में युवतियों में उत्साह नजर आ रहा है।
    कई वैरायटियों की बिक रही राखियां
    बाजार में स्टोन व डोरी की राखियों के साथ कुंदन, चायनीज की टू इन वन राखियां, रोली, अक्षत, श्रीफल और पंचमेव की राखियां काफी पसंद की जा रही है। मुंबई, कोलकाता, दिल्ली की स्टोन व डोरी की राखियों के साथ कुंदन, चाइनीज की टू इन वन राखियां, रोली, अक्षत, बाहुबली, स्टोनवाली, श्रीफल और पंचमेव की राखियां इस साल का आकर्षण है। राखी के नए कान्सेप्ट के साथ बाजार में तरह-तरह की राखियां भी बाजार में उपलब्ध है।
     बच्चों के लिए कार्टून करेक्टर वाली राखियां जैसे छोटा भीम, टेडी बियर भी बाजार में आ गई हैं। तुलसी व रुद्राक्ष की राखियों के साथ सोने की मोतियों वाला सुंदर कान्सेप्ट बाजार में आया है। इसमें चांदी के सिक्के पर नवकार मंत्र लिखी राखियां भी अनोखी हैं। भैया-भाभी जोड़ी वाली राखियां भी बहनों को लुभा रही है। इन राखियों की कीमत 100 से लेकर 400 रुपए तक है। सोने-चांदी से बनी टू इन वन राखियों में गणेशजी के लाकेट सजे हुए हैं। रक्षाबंधन के बाद भाई राखी को लाकेट के रूप में भी गले में पहन सकते हैं। इन राखियों की कीमत 70 से 500 रुपए हैं। 
    फोम की राखियां गायब 
    बाजार से इस बार फोम की राखियां पूरी तरह गायब है। क्योंकि अब फोम की राखियों को बांधना कोई पसंद नहीं करता। बहनें भाई की कलाई पर तुलसी व रूद्राक्ष के साथ सोने-चांदी, स्टोन व डोरी वाली फैंसी राखी बांधना पसंद करती हैं। दो रुपए दर्जन से 4 हजार रुपए दर्जन तक की राखियां शहर के थोक बाजार में उपलब्ध है। पहले जहां बड़ी और भरी हुई राखियां लोगों को अधिक भाती थी, वहीं अब पतले-पतले धागे और उन पर हल्की फुल्की डिजाइन वाली राखियों पसंद की जाती हैं। 

  •  

  • हादसा मगरलोड के पास 

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 30 जुलाई। ग्राम सलोनी से घटारानी जतमई घूमने जा रहे हैं बच्चों से भरी पिकअप बेकाबू होकर सोनेवारा एनिकट के पास पलट गई। हादसे में करीब 12 बच्चे घायल हुए हैं, इनमें से 2 की हालत गंभीर है।      
    घटना मगरलोड थाना क्षेत्र के सोनेवारा एनिकट के पास दोपहर 12 बजे की है। ग्राम सलोनी के  24 बच्चे और युवक एक पिकअप में  घटारानी जतमई घूमने जाने के लिए निकले थे।   ग्राम सोनेवारा के पास पिकअप पहुंची और बेकाबू होकर पलट गई। हादसे में पिकअप में सवार सभी बच्चे को छोटें आर्इं। इनमें से 12 बच्चे को ज्यादा चोट है, जबकि दो की हालत गंभीर है। सभी घायलों को मगरलोड अस्पताल उपचार के लिए संजीवनी एंबुलेंस से लाया गया। 
    यहां बच्चों को बेहतर उपचार नहीं मिलने से नाराज पालक अपने बच्चों को लेकर जिला अस्पताल धमतरी  लेकर पहुंचे हैं। मगरलोड पुलिस में पिकअप चालक के खिलाफ जुर्म दर्ज कर घटना की जांच में जुटी है।

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 29 जुलाई। जनपद पंचायत धमतरी के सीईओ शैलेष भगत ने शिक्षक संघों को समस्या बताने के लिए दो महीने में एक बार ही आने और आने से पहले अनुमति लेने का आदेश जारी किया था, जिससे शिक्षाकर्मी संघों में आक्रोश बढ़ गया था। इसके चलते सभी संघों ने शुक्रवार देर-शाम को जनपद पंचायत का घेराव करने जनपद कार्यालय पहुंच गए, लेकिन इसी बीच जनपद पंचायत कार्यालय में शिक्षक संघ व अधिकारियों की बैठक हुई, जिसमें सीईओ के आदेश को एसडीएम जीआर राठौर ने अव्यवहारिक बताया। इसके बाद सीईओ ने अपने पूर्व आदेश को निरस्त कर दिया।
     बीईओ कार्यालय से पहुंचे सहायक विकासखंड शिक्षा अधिकारी संजीव कश्यप, चंचल शर्मा ने शिक्षकों की अन्य समस्याओं के निराकरण के लिए सितंबर तक का समय मांगा। इधर सीईओ शैलेष भगत द्वारा अपने पूर्व आदेश को निरस्त किए जाने की जानकारी मिलते ही शिक्षाकर्मियों ने जनपद कार्यालय के घेराव का कार्यक्रम रद्द कर दिया। 
    कलेक्टर को सौंपा मांगपत्र
    शिक्षक संघों ने परामर्शदात्री समिति की बैठक प्रत्येक तीन माह में करने, शिक्षक पंचायत संवर्ग को देय समयमान, वेतनमान, चिकित्सा अवकाश, अर्जित अवकाश के एरियर्स का भुगतान, सीपीएस राशि खाते में जमा कराने, पुनरीक्षित वेतनमान व अंतर की राशि, महंगाई भत्ता व अन्य एरियर्स दिलाने, कोषालय से बिल स्वीकृति के बाद राशि जारी करने, प्रान किट से संबंधित समस्या का निदान करने, आमदी नगर पंचायत के लंबित वेतन बिल की समस्या का निदान करने की मांगों से संबंधित ज्ञापन कलेक्टर डा सीआर प्रसन्ना को सौंपा। इस अवसर पर संयुक्त शिक्षाकर्मी संघ के अध्यक्ष हरिश सिन्हा, सचिव अमित महोबे, ममता खालसा, प्रदीप सिन्हा, राजकुमार सिन्हा, भूषण चंद्राकर, लोकेश, दिनेश पांडेय, रोहित साहू, आलोक मत्स्यपाल, रंजना साहू आदि उपस्थित थे।

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 29 जुलाई। शहर गश्त पर निकली कोतवाली पुलिस की टीम ने एक कार से 2 क्विंटल गांजा बरामद किया। हालांकि कार चालक और उसका एक साथी पुलिस को आते देख पहले ही भाग गए। कार समेत गांजे को जब्त कर थाने लाया गया। इनकी कुल कीमत 18 लाख रुपए आंकी गई है। 
    सिटी कोतवाली की एसआई श्वेता मिश्रा के साथ जगदीश सोनवानी, जगदीश मिर्धा, उज्जवल दीवान, अनुराग पांडे व सुमन सार्वा पेट्रोलिंग गाड़ी से बीती रात शहर गश्त कर रहे थे, तभी उनकी नजर सिहावा रोड में अधारी नवागांव मोड के पास खड़ी इनोवा कार क्रमांक सीजी 04 एच 2799 पर पड़ी। गश्ती पार्टी पास पहुंचकर जैसे ही अपनी गाड़ी रोकी, कार में सवार युवक व ड्रायवर दरवाजा खोलकर भाग निकले। पुलिस टीम ने कार की तलाशी ली, तब उसमें गांजा भरा मिला। उन्होंने इसकी जानकारी तत्काल थानेदार संतोष जैन को दी और कार को थाने लाया गया। 
    2 क्विंटल 7 सौ किग्रा गांजा जब्त
    कोतवाली पुलिस ने गांजा समेत कार को जब्त किया, लेकिन कार्रवाई पूरी करने में उसे शुक्रवार को दिनभर लग गए। थाने में इलेक्ट्रानिक कांटा मंगाया गया, तब गांजे की तौल हुई। कार से बरामद गांजे का वजन 2 क्विंटल 7 सौ ग्राम था। थाना प्रभारी संतोष जैन ने बताया कि कार रायपुर पासिंग है। अज्ञात गांजा तस्कर के खिलाफ धारा 20 ख एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है। नंबर ट्रेस कर कार मालिक का नाम, पता खंगाल रहे हैं। आरोपी जो भी होगा, उसे जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 24 जुलाई। पत्नी बनाकर महिला को रखने वाले युवक ने बच्चा पैदा होने के बाद जंगल ले जाकर दोनों की हत्या कर दी और लाश को जंगल के नाले में दफना दिया। घटना के 4 माह बाद पुलिस ने कंकाल बरामद कर आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा है। 
    एसपी रजनेश सिंह ने बताया कि मगरलोड थाना क्षेत्र के ग्राम मड़वापथरा निवासी गजेन्द्र दीवान की सूचना पर ग्राम दर्रा ढोडग़ी नाला से आधा किलोमीटर जंगल के अंदर जली हुई मानव हड्डी पुलिस ने बरामद की थी। इसके बाद प्रकरण कायम कर पुलिस में जांच में जुटी थी। 
    घटना के समय ग्राम मड़वापथरा निवासी वेदप्रकाश दीवान की पत्नी व बच्चा गायब होने की थाना में लिखित रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जबकि अपै्रल 2017 में कुरूद थाना में सरोजनी महानंद एवं उसका डेढ़ वर्ष का बच्चा प्रियांशु के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज है। गुम इंसान का पति मड़वापथरा निवासी वेदप्रकाश दीवान है। मगरलोड पुलिस ने आरोपी वेदप्रकाश दीवान 28 वर्ष पिता टीकम सिंह दीवान निवासी मड़वापथरा के खिलाफ धारा 302, 201 भादवि के तहत जुर्म दर्ज कर 23 जुलाई 2017 को गिरफ्तार किया। 
    अहिवारा में रहते थे पति-पत्नी के रूप में 
    मगरलोड व कुरूद पुलिस टीम ने शक के आधार पर वेदप्रकाश दीवान से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने राज खोल दिया। उसने बताया कि वर्ष 2011 से वर्ष 2015 तक जेके लक्ष्मी सीमेंट अहिवारा दुर्ग में वह सिक्युरिटी गार्ड का काम करता था। इस दौरान सरोजनी महानंद से प्रेम प्रसंग हो गया। दोनों पति-पत्नी की तरह अहिवारा में रहने लगा। इस दरम्यान पुत्र प्रियांशु का जन्म हुआ। वर्ष 2016 में वह नौकरी छोड़कर रायपुर में गार्ड की नौकरी करने लगा। फरवरी 2017 में वेदप्रकाश दीवान के परिजनों ने सजातीय लड़की के साथ उसकी सगाई कर दी। इसकी जानकारी सरोजनी महानंद को हुई तो दोनों के बीच झगड़ा शुरू हो गया। महिला सरोजनी धमकी देने लगी कि पत्नी बनाकर रखने की बात गांव में जाकर वेदप्रकाश के परिजनों को दे देगी। 
    रास्ते से हटाने कर दी हत्या 
    महिला की धमकी से वेदप्रकाश परेशान हो गया। पत्नी व पुत्र को अपने रास्ते से हटाने के लिए योजनाबद्घ तरीके से मड़वापथरा ले आया। 1अपै्रल 2017 को जब मड़वापथरा के ढोडग़ीनाला के पास पहुंचे, तब वेदप्रकाश ने लघुशंका के बहाने गाड़ी रोक दिया। सूनेपन का फायदा उठाकर सरोजनी महानंद व प्रियांशु की गला दबाकर हत्या कर दी। आनन-फानन में दोनों की लाश नाले के गड्ढे में दफना दिया। कुछ दिनों बाद वह घटनास्थल की वस्तुस्थिति देखने पहुंचा। लाश की हड्डी दिखने पर उसने हड्डी को जलाने की कोशिश की। इसके बाद जली हुई हड्डी पर वहां से गुजर रहे कुछ ग्रामीणों की नजर पड़ी, तो ग्रामीणों को मानव कंकाल होने की खबर पुलिस को दी। 
    पुलिस को गुमराह करता रहा 
    पुलिस ने इस संबंध में वेदप्रकाश से पूछताछ की, लेकिन उसने हत्या करने से इंकार करते हुए कहा कि 1 अप्रैल को उन्होंने सरोजनी व बच्चे को अहिवारा जाने के लिए बस बिठाया था। जब वे नहीं पहुंचे तब पुलिस में गुम इंसान का प्रकरण कायम कराया। पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो वेदप्रकाश टूट गया और उसने सच्चाई उगल दी। सरोजनी व प्रियांशु की गला दबाकर हत्या करना स्वीकार कर लिया। 

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 23 जुलाई। छत्तीसगढ़ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् द्वारा कुरुद ब्लाक के ग्राम सिर्री में महिलाओं को आत्मनिर्भरता बनाने के लिए सेनेटरी नैपकीन निर्माण का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 
    परिषद् ने पहले 2 जून से 10 दिवसीय प्रशिक्षण दिया था। अब इसका फॉलोअप प्रशिक्षण चरण चल रहा है। ग्राम सिर्री और आसपास के गांव की महिलाएं बढ़-चढ़कर प्रशिक्षण में हिस्सा ले रही हैं। शनिवार को कलेक्टर सीआर प्रसन्ना ने सिर्री के छत्तीसगढ़ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् के भवन में आयोजित प्रशिक्षण शिविर का मुआयना किया। 
    यहां लगभग 15 से अधिक महिलाएं हाथों से आसान तरीके से सेनेटरी नैपकीन बनाने का प्रशिक्षण ले रही हैं। इस सेनेटरी नैपकीन को नो टेंशन नाम दिया गया है। कलेक्टर के पूछने पर प्रशिक्षुओं से सेनेटरी पैड बनाने से पैकिंग तक की पूरी प्रक्रिया को दर्शाया। उन्होंने बताया कि एक सेनेटरी पैड लगभग 10 से 15 मिनट के बीच बनकर तैयार होता है, जिसे डेढ़ से दो मिनट के लिए स्टरलाई भी किया जाता है। इस मौके पर परिषद् के क्षेत्राधिकारी सिन्हा ने बताया कि 2 जून से अब तक लगभग 30 महिलाएं सेनेटरी नैपकीन बनाने का प्रशिक्षण ले चुकीं हैं और जब तक वे आती रहेंगी यह प्रशिक्षण सतत् जारी रहेगा। 
    उन्होंने यह भी बताया कि भोपाल की स्वयंसेवी संस्था द्वारा महिलाओं को यहां सेनेटरी नैपकीन बनाने का प्रशिक्षण दिया गया है और महिलाओं को अगले एक साल के लिए सेनेटरी नैपकीन बनाने के लिए कच्चा माल उपलब्ध कराया जाता रहेगा। इस मौके पर कलेक्टर ने उपस्थित महिलाओं को पूरी गंभीरता के साथ प्रशिक्षण प्राप्त करने कहा। साथ ही सेनेटरी नैपकीन बनाते वक्त साफ-सफाई बनाए रखने पर विशेष जोर दिया। इस मौके पर एसडीएम कुरुद प्रेमकुमार पटेल भी मौजूद थे। 
    20 रुपये पड़ता है एक पैकेट 
    नो टेंशन नामक सेनेटरी नैपकीन के एक पैकेट में आठ पैड रहते हैं, जिसकी कीमत प्रति पैकेट 20 रुपये तय की गई है। महिलाओं ने बताया कि फिलहाल वे स्वयं इस नैपकीन का प्रयोग कर आसपास की महिलाओं को सेम्पल के रूप में दे रही हैं। कलेक्टर ने इस मौके पर मौजूद सिर्री की सरपंच रति बंजारे को पंचायत के मद से महिलाओं से यह सेनेटरी नैपकीन खरीदकर स्कूलों में उपलब्ध कराने कहा। साथ ही उपस्थित प्रशिक्षुओं को भी प्रोत्साहित किया कि वे प्रशिक्षण के बाद भी इस कार्य से जुड़े रहें, ताकि वे व्यवसाय के रूप में इसे अपना सकें।

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 23 जुलाई। हरेली अमावस्या का लोकपर्व क्षेत्र में धूमधाम से उत्साह पूर्वक मनाया गया। श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या पर 23 जुलाई को देवताओं के आह्वान का पर्व गांव-गांव उत्साह पूर्वक श्रध्दा के साथ मना। हरेली त्यौहार पर कृषकों ने देवी-देवताओं की पूजाकर अच्छी बरसात एवं बेहतर फसल की कामना की। 
    श्रावण मास में हुई वर्षा से चारों तरफ हरियाली छा गई है। यह हरयाली तन मन को भाने के साथ-साथ आंखों को सकून भी दे रही है। ऐसे मौसम में हरियाली अमावस्या पर्व छत्तीसगढ में 23 जुलाई को मनाया गया। गाय बैलों की पूजा के साथ कृषि औजारों नांगर, गैती, रापा की भी पूजा कर किसानों ने हरियाली अमावस्या पर देवी-देवताओं से अच्छी फसल की कामना किया। शहर से लेकर गांव तक हरेली का पर्व परंपरागत ढंग से मनाया गया। गांवों में किसानों ने कृषि उपकरणों की पूजा की। सुबह से लेकर शाम तक युवा नारियल फोडऩे फेंकने में दांव लगाते रहे। बच्चे गेंड़ी का आनंद लेते रहे। जगह-जगह युवकों का हुजुम ही दिखता रहा। यह किसानों का प्रमुख त्योहार है। किसानों नें अपने कृषि उपकरणों की साफ-सफाई कर पूजा अर्चना की। बांस की लकड़ी से बनाए गए गेंड़ी पर चढ़कर बच्चों ने खूब आनंद लिया। 

     

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 21 जुलाई। सिहावा-सेमरा से कार में धमतरी आ रहे बीमा एजेंट का 70 हजार रुपए से भरा बैग बस स्टैंड के आसपास गिर गया। इसके बाद एजेंट कोतवाली थाने पहुंचा। तब पुलिस तत्काल घटनास्थल पहुंची और सीसीटीवी फुटेज खंगालकर बैग ले जाने वाले रिक्शावाले को ढूंढ निकाला। 
    पुलिस ने बताया कि सेमरा से बीमा एजेंट हुमन साहू कार से धमतरी आ रहा था। केरेगांव के पास सीएफ का जवान उमेश यादव लिफ्ट मांगकर उसकी कार में बैठा। धमतरी के बस स्टैंड के पास पहुंचने पर सीएफ जवान उतरकर चला गया। कुछ देर बाद हुमन ने देखा तो उसकी कार से बैग गायब था। बैग में 70 हजार रुपए नगद और बीमा के कागजात थे। घटना के बाद तत्काल वह सिटी कोतवाली पहुंचा और शिकायत की। 
    प्रशिक्षु डीएसपी उदयन बेहार, कोतवाली थाना प्रभारी संतोष जैन तत्काल हरकत में आए और दल-बल के साथ बस स्टैंड पहुंचे। यहां लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगालने पर पता चला कि कार से बैग गिर गया, जिसे रिक्शा चालक उठाकर ले गया। फुटेज के आधार पर रिक्शा चालक को हटकेशर वार्ड से पुलिस ने ढूंढ निकाला। पूछताछ के बाद पुलिस ने उससे बैग बरामद कर लिया। रिक्शा चालक के खिलाफ कोतवाली पुलिस ने जुर्म दर्ज किया है। 

     

  •  

  • छत्तीसगढ़ संवाददाता
    धमतरी, 13 जुलाई। जिला मुख्यालय के पास तेलिनसत्ती गांव में बीती रात अज्ञात लोगों ने पति-पत्नी और बच्चे की हत्या कर दी, हमले में एक बच्चा बुरी तरह घायल हो गया है। अस्पताल में भर्ती इस बच्चे की हालत नाजुक बनी हुई है। घटना जिलेभर के पुलिस अफसरों की टीम मौके पर पहुंच गई है। 
    मिली जानकारी के अनुसार बीती रात तेलिनसत्ती गांव में महेंद्र सिन्हा (35), पत्नी उषा सिन्हा (30) और 11 साल के बच्चे की मौत हो गई। वहीं इसी परिवार के एक अन्य 12 वर्षीय मासूम बच्चा रोशन गंभीर रूप से घायल है, जिसे इलाज के लिए बठेना अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस वारदात का एकमात्र वही चश्मदीद गवाह है। उसकी स्थिति नाजुक बनी हुई है। 
    इस घटना की जानकारी मिलने पर एसपी मनीष शर्मा सहित पुलिस टीम घटनास्थल पर पहुंच चुकी है और आरोपियों की तलाश में जुटी है। फिलहाल पुलिस महेंद्र के बड़े भाई के पूछताछ कर रही है। घटना के बाद गांववालों में आक्रोश का माहौल है। 
    एएसपी केपी चंदेल ने बताया कि पुलिस के हाथ में अब तक कोई ऐसा सुराग नहीं मिला है, जिसके जरिये हत्यारे तक पहुँचने में सफलता मिले। मृतक टेलरिंग का व्यवसाय करता था। हत्यारे तक पहुंचने के लिए फारेसिंक टीम, डॉग स्क्वॉड की मदद ली गई है। कई लोगों से घटना की पूछताछ जारी है। 

     

  •