छत्तीसगढ़

  • कोरिया-सरगुजा में भारी बारिश नदी-नाले उफान पर, सड़कें बंद
    कोरिया-सरगुजा में भारी बारिश नदी-नाले उफान पर, सड़कें बंद

    छत्तीसगढ़ संवाददाता
    बैकुंठपुर, 23 जुलाई। कोरिया-सरगुजा अंचल में पिछले  14 घंटों से बारिश जारी है। कहीं तेज तो कहीं हल्की बारिश रात भर होती रही।  खेत खलिहान भर गये हंै,कई मार्गों पर पुल- पुलिया के उपर से पानी बह रहा है जिस कारण आवागमन प्रभावित हो गया है। सरगुजा के बलरामपुर में गेयूर नदी उफान पर है जिससे आसपास के 15 गांव का सड़क संपर्क टूट गया है। जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।
     शनिवार को दिन भर रूक रूक कर बारिश होती रही और फिर रात में जोरदार बारिश हुई।  रविवार दोपहर तक हल्की बारिश जारी है। 
    लगातार  बारिश  के चलते जिले के सभी क्षेत्रों के नदी नाले भर गये हंै साथ ही खेत भी लबालब हो गये है। बैकुंठपुर से बचरापोडी मार्ग पर ग्राम चिरमी में गेज नदी  रपटा के उपर  बहाव था।   इस मार्ग पर आवागमन पूरी तरह से प्रभावित रही घंटों दोनों ओर वाहनों की लाईन लगी रही। इस दौरान कई वाहन गणेशपुर होकर लंबी दूरी तय कर अपने गंतव्यों की ओर जाते रहे।  
    भरतपुर सोनहत क्षेत्र. में बडगांवखुर्द सोनवाही कोटाडोल मार्ग पर पडने वाले दो नदी के जिन पर पुलिया नहीं है, पानी का बहाव ज्यादा होने के कारण आवाजाही बंद है। इसी तरह सोनहत से जनकपुर जाने वाले मार्ग पर बनिया नदी पर भी पानी का तेज बहाव हो रहा है जिस कारण इस मार्ग पर भी दोनों ओर वाहनों की लाईन लगी हुई है। 
    सोनहत से आनंदपुर जाने वाले मार्ग पर भी पडऩे वाले नदी नालों में उफान आ जाने के कारण आनंदपुर गोयनी मार्ग पूरी तरह से अपने जनपद मुख्यालय से कट गये है। इस जनपद क्षेत्र में कई ग्राम पंचायतों का अपने ब्लाक मुख्यालय से संपर्क टूट गया है।  सोनहत भरतपुर जनपद क्षेत्र के कई गांॅवों का संपर्क ब्लाक मुख्यालय से कट गया है।
    बैकुंठपुर की सड़कों पर भरा पानी
    लगातार बारिश के कारण शहर की विभिन्न सड़कों पर पानी जमा हो गया है। शहर के गौरवपथ पर जगह जगह गढ्ढे हैं जहॉ बारिश का पानी भर गया है। इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग  में स्कूलपारा में कोरिया नीर के सामने डबरी जैसा नजारा देखने  है।  वही विभिन्न वार्डो में नालियों की  सफाई  नहीं होने के कारण नालियों का गंदा पानी भी सडकों पर बह रहा है।

     

 

राजनीति

  • महागठबंधन में खींचतान जारी, नीतीश की भाजपा से नजदीकी की अटकलों पर विराम

    नयी दिल्ली/पटना : रेलवे के लीज घोटाले में बीते दिनों केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआइ की लालू परिवार के खिलाफ की गयी कार्रवाई के बाद बिहार में महगठबंधन के प्रमुख दल राजद व जदयू में बढ़ी तकरार के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को दिल्ली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की. इन दोनों प्रमुख नेताओं के बीच संपन्न इस मुलाकात को महागठबंधन के लिए बेहद अहम माना जा रहा है. उधर, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के इस्तीफे के सवाल पर जदयू अपने स्टैंड पर कायम है. जदयू नेताओं ने शनिवार को एक बार फिर दोहराते हुए कहा है कि तेजस्वी यादव पर लगे आरोपों का जवाब राजद को जनता के बीच विस्तार से देना होगा. वहीं, दिल्ली में राहुल गांधी से मुलाकात के जरिये नीतीश कुमार ने भाजपा से नजदीकी की अटकलों को विराम लगा दिया है. 
    जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और कांग्रेस उपाध्यक्ष नीतीश कुमार के बीच शनिवार को नयी दिल्ली में संपन्न हुई मुलाकात के दौरान करीब चालीस मिनट तब बातचीत हुई. बताया जाता है कि इस दौरान बिहार में उपजे सियासी हालात और तेजस्वी यादव के इस्तीफे के मुद्दे पर दोनों प्रमुख नेताओं के बीच विस्तार से चर्चा हुई. राजनीतिक प्रेक्षकों की माने तो राहुल गांधी के आवास पर संपन्न हुई इस मुलाकात के बाद नीतीश कुमार की भाजपा से नजदीकी की अटकलों को विराम लगा है. पूर्व में कांग्रेस नेताओं से मुलाकात नहीं होने पर अटकलें लगायी जा रही थीं कि नीतीश कुमार अपना अलग रास्ता अख्तियार कर सकते है. गौर हो कि तेजस्वी मामले पर नीतीश कुमार ने अपना स्टैंड पहले ही साफ कर दिया है. जिसके बाद तेजस्वी यादव ने पटना में नीतीश कुमार से मिलकर अपना भी रक्षा था. 
    उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के सवाल पर जदयू ने नेताओं ने शनिवार को एक बार फिर से पार्टी का स्टैंड स्पष्ट करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के मामले पर जदयू की नीति जीरो टॉलरेंस की है और इससे कोई समझौता नहीं होगा. जदयू नेताओं ने कहा कि तेजस्वी यादव पर लगे आरोपों को लेकर राजद को पब्लिक डोमेन में जाकर विस्तार से जवाब देना होगा.   
    इन सबके बीच एक प्रमुख समाचार चैनल के वेबसाइट में छपी रिपोर्ट में सूत्राें के हवाले से बताया गया है कि जदयू के वरिष्ठ नेता शरद यादव फिलहाल राजद से गठबंधन तोड़ने के पक्ष में नहीं हैं. महागठबंधन के बीच बढ़ी तल्खी को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता शरद यादव से मुलाकात भी की. (प्रभात खबर)

मनोरंजन

  • बच्चन बहू करने जा रहीं वो काम जो अबतक किसी भारतीय महिला ने नहीं किया...

    नई दिल्ली: बॉलीवुड अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन को मेलबर्न में होने वाले भारतीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफएम) में उनके विश्व सिनेमा में योगदान के लिए सम्मानित किया जाएगा. आईएफएफएम आस्ट्रेलिया में होने वाला भारतीय सिनेमा का सबसे बड़ा वार्षिक समारोह है. आईएफएफएम में भारतीय सिनेमा का जश्न मनाने के लिए आयोजित होने वाले विशेष सत्र 'सेलिब्रेटिंग इंडिया एट 70!' के दौरान ऐश्वर्या मेलबर्न के फेडरेशन चौक पर भारतीय ध्वज फहराएंगी. वह ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला होंगी. ऐश्वर्या को 11 अगस्त की रात वेस्टपैक आईएफएफए पुरस्कार समारोह में विक्टोरिया सरकार द्वारा सम्मानित किया जाएगा. 
    इस समारोह के निर्देशक मितू भौमिक लांगे ने एक बयान में कहा, "हमारे लिए इस बार अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन का आईएफएफएम में स्वागत करना सम्मान की बात होगी. वह एक इंटरनेशनल हस्ती हैं और आस्ट्रेलियाई दर्शकों में बेहद लोकप्रिय हैं. यह सभी भारतीयों के लिए एक सम्मान की बात होगी, जब वह मेलबर्न की धरती पर भारतीय ध्वज फहराने वाली पहली भारतीय महिला बनेंगी."
    भौमिक ने कहा, "विश्व सिनेमा में उनके अतुलनीय योगदान को देखते हुए सरकार द्वारा उनका सम्मान किया जाएगा. हम सभी इस अनुभव के लिए बेकरार हैं." (एनडीटीवी)

स्थायी स्तंभ

  • इतिहास में 23 जुलाई

    तमिल टाइगर्स के नाम से विख्यात एलटीटीई विद्रोहियों और श्रीलंका सरकार के बीच 26 सालों तक चले गृह युद्ध में हजारों जानें गईं. यह युद्ध आज ही के दिन 1983 में शुरू हुआ था.
    विद्रोही समूह उत्तरी और पूर्वी इलाके को स्वतंत्र प्रांत बनाने की कोशिश में था. सालों चले इस संघर्ष में अस्सी हजार से ज्यादा जानें गई. इस संघर्ष के दौरान इस्तेमाल किए गए विद्रोह के तरीके के चलते संयुक्त राष्ट्र और भारत समेत 32 देशों ने उन्हें आतंकवादी संगठन करार दिया.
    18 मई 2009 को श्रीलंका की सरकार ने तमिल विद्रोहियों के साथ चल रही जंग के खत्म होने का एलान किया.
    सेना ने देश के उत्तरी हिस्से पर कब्जा किया और लिट्टे प्रमुख वेलुपिल्लई प्रभाकरन को मार दिया गया. सेना के मुताबिक अंतिम लड़ाई में 250 विद्रोही मारे गए. 72,000 लोगों को युद्ध से प्रभावित इलाकों में अपना घर छोड़ कर जाना पड़ा. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक 2009 में 20 जनवरी और 7 मई के बीच 7,000 लोग मारे गए थे. अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने वहां युद्ध अपराधों के जांच की मांग की है. नवंबर में कॉमनवेल्थ बैठक कोलंबो में होने वाली है. अंतरराष्ट्रीय समुदाय चाहता है कि श्रीलंकाई सरकार युद्ध अपराध के मामलों को गंभीरता से ले और इन पर जांच शुरू हो.

    ---

    • 1798- ईसवी को मिस्र के नगर क़ाहेरा में नेपोलियन की सेनाएं प्रविष्ट हुई और यह यह नगर फ्रांसीसी सेना के नियंत्रण में चला गया। इस प्रकार मिस्र में ममालीक शासन श्रृंखला का अंत कर दिया गया। नेपोलियन की सेना ने आधुनिक शस्त्रों और चालों का प्रयोग करते हुए इसकंदरिया बंदरगाह पर नियंत्रण कर लेने के बाद मिस्र की राजधानी क़ाहेरा की ओर प्रगति की। क़ाहेरा के शासक मुराद बेग ने अपनी सेना के साथ नगर के बाहर मोर्चा बनाया। जब नेपोलियन की सेना उस स्थान पर पहुंची तो ज़ोरदार लड़ाई हुई इस लड़ाई में भी नेपोलियन की सेना अपने आधुनिक शस्त्रों के चलते जीत गई।
    • 1829-विलियम आस्टिन बर्ट ने टाइपोग्राफर के लिए पेटेन्ट प्राप्त किया जो एक तरह से टाइपराइटर का ही प्रारंभिक प्रारूप था।
    • 1937 -पीयूष (पिट्यूटरी) ग्रंथि से हार्मोन पृथक करने की घोषणा की।
    • 1998 - सं.रा. अमेरिका ने सात भारतीय वैज्ञानिकों को देश छोडऩे के लिए आदेश दिया।
    • 1999 - मोरक्को के शाह हसन का निधन।
    • 2000 - व्यापक घोषणाओं के साथ नागो में हुए समूह-8 का 26वाँ शिखर सम्मेलन सम्पन्न।
    • *2001 - मेघावती सुकर्णो पुत्री इंडोनेशिया की राष्ट्रपति बनीं।
    • 2005 - मिस्र के शर्म अल-शेख़ और नामा बे के कुछ होटलों में बम विस्फोटों से लगभग 100 लोग मारे गए।
    • 2007 - अफग़़ानिस्तान के राष्ट्रपति मुहम्मद जहीरशाह का निधन।
    • 2008 - नेपाल के प्रधानमंत्री गिरिजा प्रसाद कोइराला ने नव निर्वाचित राष्ट्रपति रामबरन यादव को अपना इस्तीफ़ा सौंपा।
    • 1856 -  गणितज्ञ, दार्शनिक और उग्र राष्ट्रवादी नेता बाल गंगाधर तिलक का जन्म हुआ। 
    • 1906 - स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आज़ाद का जन्म हुआ। 
    • 1932 - भारतीय अभिनेता और फि़ल्म निर्देशक महमूद का जन्म हुआ। 
    • 2012 -स्वतंत्रता सेनानी और समाजसेविका  लक्ष्मी सहगल का निधन हुआ। 
    • 1798 -  स्वीट्जऱलैंड के इतिहासकार और लेखक जूलियो ब्रान्डन्सन का जन्म हुआ। उन्होंने शिक्षा प्राप्ति के बाद इतिहास के बारे में अनुसंधान आरंभ किया। उन्होंने कई पुस्तकें लिखीं जिनमें युद्ध भड़कने के कारण और योरोप का इतिहास आदि का नाम लिया जा सकता है । वर्ष 1963 में उनका निधन हुआ।
    • 1886 - जर्मन भौतिकशास्त्री वाल्टर स्कॉट्की का जन्म स्विट्जऱलैण्ड में  हुआ, जिनके ठोस अवस्था भौतिकी में किए गए अनुसंधान से अनेक इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के विकास में मदद मिली। उन्होंने स्कॉट्की प्रभाव की खोज की।   (निधन-4 मार्च 1976)
    • 1916 -स्कॉटलैण्ड के रसायनज्ञ  सर विलियम रैमसे का निधन हुआ, जिन्होंने नियॉन, क्रिप्टान और ज़ेनॉन जैसी अक्रिय गैसों की खोज की। (जन्म-2 अक्टूबर 1852)
    • 1968- अंग्रेज़ शरीर क्रिया विज्ञानी सर हेनरी हैलेट डेल का निधन हुआ, जिन्होंने 1914 में एर्गाट नामक कवक से तंत्रिका संचारक  ऐसिटाइलकोलीन नामक रसायन अलग किया। (जन्म-9 जून 1875)।

खेल

  • इंग्लैंड ने जीता टॉस, टीम इंडिया करेगी गेंदबाजी

    लंदन, 23 जुलाई : आईसीसी महिला वर्ल्ड कप 2017 का फाइनल मुकाबला भारत और इंग्लैंड के बीच क्रिकेट के मक्का लॉर्ड्स में खेला जा रहा है. टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की टीम ने 1.2 ओवर में 0 विकेट गंवा कर 2 रन बना लिए हैं. इससे पहले इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और भारत को पहले गेंदबाजी करने के लिए आमंत्रित किया है. दोनों टीमों में कोई बदलाव नहीं हुआ है.

    हर बार की तरह इस बार भी भारत की कप्तान मिताली राज मैच से पहले किताब लेकर स्टेडियम पहुंची हैं .भारत ने जब अपना पहला लीग मैच इंग्लैंड के खिलाफ खेला था, तो उस मैच में मिताली भारत की पारी के दौरान अपनी बल्लेबाजी से पहले एक किताब पढ़ती हुई नजर आईं थी. ऐसे में उम्मीद होगी कि मिताली इंग्लैंड के खिलाफ लीग मैच वाला प्रदर्शन दोहराएंगी.
    भारतीय महिला टीम अगर यह मुकाबला जीत जाती है, तो महिला वर्ल्ड कप के 44 साल के इतिहास में वह पहली बार वर्ल्ड चैंपियन बनेगी. इसी के साथ ही टीम इंडिया की कप्तान मिताली राज के पास भारतीय क्रिकेट (महिला और पुरुष) के इतिहास में कपिल देव और महेंद्र सिंह धोनी के बाद वर्ल्ड चैंपियन कप्तान बनने का मौका है. कपिल देव ने भारत को 1983 और महेंद्र सिंह धोनी ने 2011 में वर्ल्ड चैंपियन बनाया था. अगर मिताली टीम इंडिया को चैंपियन बना देती हैं, तो इतिहास के सुनहरे पन्नों में उनका नाम दर्ज हो जाएगा.
    मिताली की अगुवाई वाली टीम वर्ल्ड कप जीतने में कामयाब होती है तो भारत, ऑस्ट्रेलिया के बाद दूसरा ऐसा देश बन जाएगा जिसकी पुरुष और महिला दोनों टीमों ने 50 ओवर का क्रिकेट वर्ल्ड कप अपने नाम किया होगा.
    टीम इंडिया ने वर्ल्ड कप 2017 का धमाकेदार आगाज किया है. अपने पहले ही मैच में टीम इंडिया ने मेजबान इंग्लैंड को 35 रनों से हराया था. उसके बाद वेस्टइंडीज, पाकिस्तान,श्रीलंका और न्यूजीलैंड को धूल चटाकर 7 मैचों में से 5 में जीत हासिल करके सेमीफाइनल में जगह बनाई. फिर सेमीफाइनल में 6 बार की वर्ल्ड चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को मात देकर दूसरी बार महिला वर्ल्ड कप के फाइनल में अपनी जगह पक्की की. अगर फाइनल में भी टीम इंडिया ने इंग्लैंड के खिलाफ लीग मैच वाला प्रदर्शन किया तो भारत की बेटियां वर्ल्ड कप लेकर ही घर लौटेंगी.
    11वां महिला वर्ल्ड कप जारी है, जबकि भारतीय टीम का यह नौवां विश्व कप है. जिसके खिताबी टक्कर के लिए टीम तैयार है. उसने शुरुआती वर्ल्ड कप 1973 और 1988 वर्ल्ड कप में हिस्सा नहीं लिया था. 2005 में भारतीय टीम ने फाइनल तक का सफर जरूर तय किया, लेकिन वह अबतक खिताब पर कब्जा नहीं जमा पाई है.
    पिच और मौसम
    हाल ही में खेले गए कुछ मैचों को देखते हुए लॉर्ड्स की पिच बल्लेबाजों के लिए स्वर्ग मानी जाती है. पिच बल्लेबाजों की मददगार होगी और खूब रन भी बनेगे. ऐसे में टॉस अहम साबित होगा. जो भी टीम पहले टॉस जीतेगी वो पहले बल्लेबाजी करना चाहेगी. क्योंकि फाइनल जैसे मुकाबले में स्कोरबोर्ड का दबाव अगल ही होता है. अगर मौसम की बात करें तो बारिश होने की सूरत में फाइनल मैच के लिए रिज़र्व डे भी रखा गया है. लेकिन अगर दोनों दिन बारिश के चलते मैच पूरा नहीं हो पता है, तो भारत और इंग्लैंड को वर्ल्ड कप 2017 का संयुक्त विजेता घोषित कर दिया जाएगा.
    भारत बनाम इंग्लैंड
    फाइनल में भारत का पलड़ा मेजबान इंग्लैंड टीम पर भारी लग रहा है. भारतीय टीम में युवा और अनुभवी खिलाड़ियों का अच्छा तालमेल है जो टीम की बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग में दिखाई देता है. भारतीय स्पिनर फॉर्म में चल रहीं जो सीम और स्विंग कंडीशंस में भी बढ़िया प्रदर्शन कर रही हैं.
    मेजबान इंग्लैंड टीम को हल्के में लेना टीम इंडिया के लिए गलत साबित हो सकता है. कप्तान मिताली इस बात को जानती हैं कि इंग्लैंड अपने घर में मजबूत टीम है. इंग्लैंड की बल्लेबाज नैट स्काइवर ने न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के खिलाफ शतक बनाए थे. वह कभी भी मैच का पास पलटने का माद्दा रखती हैं. वह इंग्लैंड को 2009 का वर्ल्ड कप दिलाने में अहम भूमिका निभा चुकी हैं. जब इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को हराकर वर्ल्ड कप ट्रॉफी जीती थीं.
    भारत के खिलाफ शिकस्त के बाद इंग्लैंड ने जोरदार वापसी की है. इंग्लैंड ने सेमीफाइनल में दक्षिण अफ्रीका पर दो विकेट की रोमांचक जीत के साथ खिताबी मुकाबले में जगह बनाई है. टीम को विकेटकीपर बल्लेबाज सारा टेलर और नताली शिवर से काफी उम्मीदें होंगी. कप्तान हीथ नाइट का मानना है कि उनकी टीम ने अब तक अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं किया है और टीम खिताबी मुकाबले में ऐसा कर सकती है.
    संभावित प्लेइंग इलेवन
    भारत : स्मृति मंधाना, पूनम राउत, मिताली राज (कप्तान), हरमनप्रीत कौर, दीप्ति शर्मा, वेदा कृष्णमूर्ति, सुषमा वर्मा, झूलन गोस्वामी, शिखा पांडे, राजेश्वरी गायकवाड़ और पूनम यादव.
    इंग्लैंड : लॉरेन विनफील्ड, टैमी ब्यूमोंट, सारा टेलर, हीथ नाइट (कप्तान), नेटली साइवर, फ्रां विल्सन, कैथरीन ब्रंट, जेनी गुन, लौरा मार्श और अन्या श्रुब्सोले. (आजतक)

कारोबार

  • अब छोटे नोटों पर जोर, क्या बंद होगा 2000 का नोट?

    जोसफ बर्नाड
    नई दिल्ली, 23 जुलाई। आरबीआई अब मार्केट में छोटे नोटों की सप्लाई बढ़ाएगा। मार्केट में अब 50, 100 और 500 रुपये के नोटों की सप्लाई बढ़ेगी। अगस्त अंत तक 200 रुपये के नए नोट भी मार्केट में आ सकते हैं। बैंकिग सूत्रों का कहना है कि छोटे नोटों की संख्या बढ़ाने का मतलब 2000 रुपये के नोट को बाहर का रास्ता दिखाने की शुरुआत हो सकती है। एसबीआई अपने एटीएम रीकैलिब्रेट कर रहा है, ताकि 500 रुपये के नोटों को ज्यादा जगह मिले।
    वित्त मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार 11 अप्रैल को नोटों की छपाई के लिए प्रॉडक्शन प्लानिंग की बैठक हुई थी। बैठक में रिजर्व बैंक ने 2000 के सौ करोड़ नोट छापने का प्रस्ताव रखा था, मगर वित्त मंत्रालय ने 2000 के नोट छापने का प्रस्ताव नामंजूर कर दिया गया था। हालांकि बाकी छोटे नोट छापने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। वित्त मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि सरकार छोटे नोटों की सप्लाइ बढ़ाने पर जोर दे रही है। इसके 2 फायदे हैं। एक, जाली मुद्रा की साजिश पर लगाम लगेगी। दूसरा, सरकार चाहती है कि लोग कैश की जगह कार्ड से पेमेंट ज्यादा करें। बड़े नोट की कमी होने से लोगों को बड़ी राशि का कैश से पेमेंट करने में दिक्कत आएगी। ऐसे में वे ऑनलाइन या कार्ड से पेमेंट करेंगे। इससे कैशलेस इकॉनमी को बढ़ावा मिलेगा।
    पिछले कुछ हफ्तों से एटीएम में 2000 रुपये के नोट की कमी देखी जा रही है। सूत्रों के अनुसार आरबीआई ने पिछले कुछ हफ्तों से बैंकों को 2 हजार रुपये के नोटों की कम आपूर्ति की है। इस कारण बैंक अब एटीएम में भी 2000 के नोट को कम भर रहे हैं। ऐसे में लग रहा है कि एटीएम से 2000 रुपये के नोट की जगह खत्म की जा रही है। इसके अलावा यह भी आशंका जताई जा रही है कि पिछले साल नवंबर में नोटबंदी के ऐलान के तुरंत बाद आरबीआई ने 2000 रुपये के नोट छापने शुरू किए थे और हो सकता है कि अब इनकी सप्लाइ ऐसे लेवल पर पहुंच गई हो, जिससे आरबीआई असहज महसूस कर रहा हो। यह कम वैल्यू के नोट ज्यादा प्रिंट करने की सोची-समझी रणनीति के तहत किया जा रहा होगा। आरबीआई जल्द 200 रुपये के नोट जारी कर सकता है। 
    रेवेन्यू सेक्रेटरी हसमुख अढिया का कहना है कि हम चाहते हैं कि भारत जल्द से जल्द कैशलेस इकॉनमी बने। सरकार जो भी कदम उठा रही है, उसके पीछे इकॉनमी ग्रोथ में तेजी, ब्लैक मनी पर अंकुश और वित्तीय घाटे को एक निश्चित दायरे में रखना लक्ष्य है। ऐसा तभी हो पाएगा, जब लोग कैश की जगह ऑनलाइन पेमेंट करेंगे। इससे टैक्स चोरी कम होगी।
    एसबीआई की रिपोर्ट के अनुसार, देश में लोग अब छोटी करंसी का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं। बड़े नोटों के इस्तेमाल में कमी आने का सबसे ज्यादा फायदा 100 रुपये के नोट के यूज में दिखा है। नोटबंदी लागू होने से पहले 100 रुपये के नोट का इस्तेमाल कुल करंसी में 9.6 फीसदी था, जो बढ़कर 20.3 फीसदी हो गया है। डिमोनेटाइजेशन एंड कैश एफिशंसी नामक रिपोर्ट के अनुसार देश में कुल इस्तेमाल किए जा रहे कुल नोट में 500 और 100 रुपये की हिस्सेदारी 86.3फीसदी थी, जो फिलहाल 72.4 फीसदी रह गई है। एसबीआई के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर नीरज व्यास ने कहा, च्अभी हमें आरबीआई से हाई वैल्यू करंसी में 500 रुपये के नोट मिल रहे हैं। दो हजार रुपये के नोट हमारे काउंटर्स पर रीसर्कुलेशन के जरिए आ रहे हैं। एसबीआई के देश में लगभग 58,000 एटीएम हैं। एसबीआई ने अपने कुछ एटीएम में 2000 रुपये के नोटों के करंसी कैसेट्स को 500 रुपये के नोटों के लिए रीकैलिब्रेट भी किया है ताकि एटीएम में ज्यादा कैश रखा जा सके। इस मामले में कॉमेंट के लिए आरबीआई को भेजी गए ईमेल का जवाब नहीं मिला। (नवभारत टाईम्स)

सेहत/फिटनेस

  • समलैंगिक और सेक्स वर्कर भी कर सकेंगे रक्तदान

    इंग्लैंड और स्कॉटलैंड में समलैंगिक पुरुषों और सेक्स वर्कर्स के लिए रक्तदान के नियमों में राहत दी जा रही है.

    यह कदम ख़ून की जांच प्रक्रिया की एक्यूरेसी (जांच प्रक्रिया की शुद्धता) में सुधार लाने के बाद उठाया गया है.
    पुरुषों से यौन संबंध बनाने वाला कोई भी पुरुष अब आख़िरी बार सेक्सुअल ऐक्टिविटी के तीन महीने बाद रक्तदान कर सकेगा. पहले यह समय 12 महीने का था.
    इसी तरह सेक्स वर्कर भी तीन महीने में रक्तदान कर सकेंगी. पहले उन पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा था.
    जानकारों का मानना है कि इस नियम से ख़ून की गुणवत्ता को नुकसान पहुंचाए बिना ज़्यादा लोगों को रक्तदान करने का मौका मिलेगा.
    ख़ून, अंग और टिशू की सुरक्षा को लेकर एडवाइज़री कमेटी ने बताया कि नए नियम ठीक हैं और इससे डोनर्स को परेशानी नहीं होगी.
    तीन महीने का समय
    ब्रिटेन में डोनेट किया जाने वाला सारा रक़्त ज़रूरी टेस्ट की प्रक्रिया से गुज़रता है. इस दौरान हेपेटाइटिटिस बी और सी के अलावा, एचआईवी और अन्य वायरस की जांच की जाती है.
    वैज्ञानिकों का मानना है कि किसी भी वायरस के इन्फेक्शन के फैलने या उसका कोई भी असर होने के लिए तीन महीने का वक़्त काफ़ी है. इतने समय में इसे ख़ून से आसानी से पहचाना जा सकता है.
    कमेटी के प्रोफेसर जेम्स न्यूबर्गर ने कहा, "वायरस को पकड़ने की तकनीक में तेज़ी से बदलाव हुए हैं. अब हम वायरस को बहुत आसानी से पकड़ सकते हैं. अब यह बताना काफ़ी आसान है कि किस डोनर के रक्त में वायरस है."
    रक्तदान को लेकर बनाए गए नए नियम इस साल नवंबर से स्कॉटलैंड और 2018 के शुरुआती महीनों से इंग्लैंड में लागू हो जाएंगे.
    ये बदलाव समलैंगिक पुरुषों, हाई-रिस्क पार्टनर्स के साथ यौन संबंध रखने वाले लोगों पर लागू होंगे. ये लोग तीन महीने तक सेक्स न करने के बाद रक्तदान कर सकेंगे.
    बदलाव का स्वागत
    ब्रिटिश सरकार उन लोगों के लिए नियम और आसान कर रही है जो एक्यूपंक्चर, पियरसिंग, टैटू और इंडोस्कोपी करवा चुके हैं. साथ ही वो लोग भी जो बिना डॉक्टरी सलाह के इंजेक्शन आधारित ड्रग्स नहीं लेते.
    नेशनल एड्स ट्रस्ट की चीफ़ एक्जीक्यूटिव डेब्रा गोल्ड ने रक्तदान के नियमों में किए गए बदलावों का स्वागत किया है.
    उन्होंने कहा, "समलैंगिक पुरुषों को इन नियमों से फ़ायदा है. अब वे अपनी आखिरी सेक्सुअल ऐक्टिविटी के तीन महीने बाद रक्तदान कर सकेंगे."
    टेरेंस हिगिंस ट्रस्ट की ब्लड डोनेशन पॉलिसी के प्रमुख एलेक्स फ़िलिप्स ने कहा कि संस्थान के प्रतिनिधि सेक्स वर्कर्स पर लगे रक्तदान के प्रतिबंध के हटने पर काफ़ी खुश हैं.
    उन्होंने कहा, "सेक्स ट्रेड से जुड़े या कभी काम चुके शख्स पर ज़िंदगी भर के लिए रक्तदान पर पाबंदी लगाना सही नहीं था. ऐसे नियमों की ज़रूरत थी जो यह आजादी दे कि पर्याप्त जांच के बाद वो रक्तदान कर सकते हैं."

सामान्य ज्ञान

  • हर दिन, हॉट सीट

    1. हाल ही में किस संस्थान ने पात्र विदेशी निवेशकों के लिए दिशा निर्देश में संशोधन किए हैं?

    (अ) इरडा (ब) आरबीआई (स) एफडीआई(द) सेबी

    2. वल्र्ड बॉक्सिंग ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूबीओ) वेल्टरवेट का खिताब निम्नलिखित में से किसने जीता?

    (अ) आमिर खान (ब) जेफ हॉर्न (स) विजेंदर सिंह (द) जुल्फिकार मैमत अली 

    3. फूल गोभी की फसल के लिए निम्न में से कौन सी जलवायु ज्यादा उपयुक्त रहती है?

    (अ)शीत और नम (ब) समशीतोष्ण(स)शुष्क (द)उष्ण और नम

    4. बंद गोभी की जल्दी बढऩे वाली जातियां अच्छी उगती हैं?

    (अ) दोमट मिट्टी में (ब) रेतीली मिट्टी में (स) अम्लीय मिट्टी में (द) क्षारीय मिट्टी में

    5. आधार बीज किस बीज को कहा जाता है?

    (अ) जो नर्सरी में उगाया जाता है (ब) जो बीज संस्थानों द्वारा उगाया जाता है (स) जो शत प्रतिशत शुद्ध हो (द) जो केंद्रक बीज की संतति से तैयार किया हो

    6. निम्न में से कौन सा सागर ईरान की उत्तरी सीमा को स्पर्श करता है?

    (अ) लाल सागर (ब)उत्तरी सागर (स)कैस्पियन सागर (द)भूमध्य सागर

    7. वह लड़ाकू विमान कौन सा है, जिसे भारतीय वायु सेना से हटा दिया गया है?

    (अ) अग्रि (ब) मिग-23 (स) आकाश (द) मिग-20

    8. रक्त के स्कंदन के लिए निम्नलिखित में से कौन सा विटामिन आवश्यक है?

    (अ) ए (ब) डी (स) ई (द) के

    9. संविधान सभा निम्नलिखित में से किसके अधीन गठित की गई?

    (अ) क्रिप्स मिशन (ब) कैबिनेट मिशन योजना (स) वैवेल योजना (द) नेहरू रिपोर्ट

    10. स्वतंत्र भारत की आर्थिक नीति के निर्माण से पी.सी. महालानोबिस किस भूमिका से संबद्घ थे?

    (अ) प्रायोगिक सांख्यिकीविद् (ब) योजना आयोग के उपाध्यक्ष (स) प्रमुख उद्योगपति (द) केंद्रीय मंत्रिमंडल में मंत्री 

    11. पृथ्वी से बढ़ती दूरी के अनुसार ग्रहों का निम्नलिखित में से कौन सा क्रम सही है?

    (अ) मंगल, शुक्र, बुध, बृहस्पति (ब) शुक्र, मंगल, बुध, बृहस्पति (स) शुक्र, बुध, मंगल, बृहस्पति (द) मंगल, शुक्र, बृहस्पति, बुध

    12. हीलियम के नाभिक में क्या होता है?

    (अ) एक प्रोटॉन तथा दो न्यूट्रॉन (ब) केवल एक प्रोटॉन (स) दो प्रोटॉन तथा दो न्यूट्रॉन (द) केवल दो प्रोटॉन

    13. साधारणतया द्रव ऊंचे तल से नीचे तल की ओर प्रवाहित होते हैं। निम्नलिखित में से कौन सा द्रव ग्लास में रखने पर ऊपर की ओर चढ़ सकता है?

    (अ) जल (ब) द्रव नाइट्रोजन (स) द्रव हीलियम (द) पेट्रोल

    14. वस्त्र उद्योग में सहायक फल है?

    (अ) केला (ब) नासपाती (स) नारंगी (द) शहतूत 

    15. विश्व में किस खाड़ी की तटरेखा सर्वाधिक लंबी है?

    (अ) मैक्सिको की खाड़ी (ब) बिस्के की खाड़ी (स) हडसन की खाड़ी की (द) इनमें से कोई नहीं

    16. पोटैलैंड सीमेंट के विनिर्माण के लिए उपयोग में ली गई कच्ची सामग्री है?

    (अ) चूना पत्थर एवं मिट्टी (ब) एल्युमिना, मिट्टïी एवं जिप्सम (स) जिप्सम एवं चूना पत्थर (द) जिप्सम एवं मिट्टïी

    17. भारत के प्रसिद्घ उद्योगपति नरेश गोयल निम्नलिखित में से किस क्षेत्र के जाने-माने उद्यमी हैं?

    (अ) टेक्सटाइल्स (ब) दूरसंचार (स) उड्डïयन (द) बीमा

    18. निम्नलिखित में से किस सुल्तान ने सर्वप्रथम स्थायी सैन्य बल का गठन किया?

    (अ) इल्तुतमिश (ब) बलबन (स) अलाउद्दीन खिलजी (द) मुहम्मद बिन तुगलक

    19. मालविका इस्पात कारखाना, उत्तर भारत का सबसे पहला पूर्णरूपेण एकीकृत इस्पात कारखाने की स्थापना किए जाने वाला राज्य है?

    (अ) बिहार (ब) हिमाचल प्रदेश (स) उत्तरप्रदेश  (द) पंजाब

    20. चेर वंश ने ने किसे अपनी राजधानी बनाया था?

    (अ) मुजिरिस (ब) वाजि (स) अरिकमेडु (द) सौपारा

    21. देश में पहली बार कृषि गणना किस वर्ष कराई गई?

    (अ) वर्ष 1955 (ब) वर्ष 1970 (स) वर्ष 1975 (द) वर्ष 1980

    22. कर्नाटक राज्य में सेंट्रल फॉडर सीड प्रोडक्शन फार्म कहां स्थित है?

    (अ) शादनगर (ब) कल्पक्कम् (स) आवडी (द) हैस्सरघट्टïा

    23. ऋणात्मक उत्प्रेरक वे हैं, जो?

    (अ) अभिक्रिया के वेग को कम करते हैं (ब) अभिक्रिया के वेग को बढ़ाते हैं (स) अभिक्रिया के वेग को अपरिवर्तित रखते हैं (द) प्रेरित उत्प्रेरक की भांति व्यवहार करते हैं

    24. नाभिकीय भट्टïी में ग्रेफाइट को किस रूप में प्रयुक्त किया जाता है?

    (अ) स्नेहक के रूप में (ब) ईंधन के रूप में (स) भट्टïी के आंतरिक भाग में स्नेहक के स्तर के रूप में (द) न्यूट्रॉनों का वेग घटाने के लिए

    25. मूलांकर के अतिरिक्त पौधे के किसी भी भाग से विकसित होने वाली जड़ें कहलाती हैं?

    (अ) तन्तुमय मूल (ब) अपस्थानिक मूल (स) अवस्तंभ मूल (द) मूसला जड़ें

    26. पुनर्जीवन का गुण होने के कारण निम्नलिखित में से किसे मेजों पर सजावट के लिए रखते हैं?

    (अ)लाइसोटम (ब) लाइकोपोडियम (स)सिलेजिनेला (द) सिरेटोप्टेरिस

    27. चावल का एक दाना निम्न में से क्या है? 

    (अ) एक बीज(ब)एक बीजीय फल (स) बहुबीजीय फल (द) भू्रणपोष  

    सही जवाब-1.(द) सेबी, 2.(ब) जेफ हॉर्न, 3.(अ) शीत और नम, 4.(ब) रेतीली मिट्टी में, 5.(द) जो केंद्रक बीज की संतति से तैयार किया हो, 6.(स) कैस्पियन सागर, 7.(ब) मिग-23, 8.(द) के, 9.(ब) कैबिनेट मिशन योजना, 10.(अ) प्रायोगिक सांख्यिकीविद्, 11.(ब) शुक्र, मंगल, बुध, बृहस्पति, 12.(स) दो प्रोटॉन तथा दो न्यूट्रॉन, 13.(स) द्रव हीलियम, 14.(द) शहतूत, 15.(स) हडसन की खाड़ी की, 16.(ब)एल्युमिना, मिट्टïी एवं जिप्सम, 17.(स)उड्डïयन, 18.(अ) इल्तुतमिश, 19.(स) उत्तरप्रदेश, 20.(ब) वाजि, 21.(ब) वर्ष 1970, 22.(द) हैस्सरघट्टïा, 23.(अ) अभिक्रिया के वेग को कम करते हैं, 24.(द) न्यूट्रॉनों का वेग घटाने के लिए, 25.(ब) अपस्थानिक मूल, 26.(स) सिलेजिनेला, 27.(ब) एक बीजीय फल।

अंग्रेज़ी

फोटो गैलरी