सामान्य ज्ञान

पेनिसिलयम
09-May-2021 11:44 AM (40)
पेनिसिलयम

पेनिसिलयम एक साधारण फफूंद है। यह एक प्रकार का कवक श्रेणी का मृतजीवी वनस्पति है। इसे नीली यी हरी फफूंद भी कहा जाता है। यह सड़ी-गली सब्जियों, कटे हुए फलों, रोटी, सड़े हुए मांस, चमड़े आदि पर उगता है। विशेष कर यह नींबू के ऊपर बहुत ही सहज रूप से उगता है।

पेनिसिलियम पौधे का शरीर पतले सूते जैसी रचनाओं से बना होता है। इन रचनाओं को हाइफी कहते हैं। इसके सारे शरीर को माइसेलियम कहते हैं। इसका कवक जाल अनेक शाखाओं में बंटा रहता है। इसमें विखंडन द्वारा वर्धी प्रजनन होता है। पेनिसियम में स्पोर नाम कोनिडिया की शृंखला पाई जाती है जिसके द्वारा यह अलैंगिक प्रजनन करता है। पेनिसिलियम के पौधे से पेनिसिलीन नामक उप क्षार प्राप्त होता है। यह एक चमत्कारी औषधि है। इसका व्यवहार तपेदिक तथा अन्य विभिन्न रोगों में किया जाता है।

पेनिसिलीन का आविष्कार ब्रिटेन के वैज्ञानिक सर अलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने 1929 में किया था। इस खोज के लिए 1954 में उन्हें चिकित्सा शास्त्र के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। पेनिसिलीन पहला आधुनिक प्रतिजैविक था। पेनिसिलियम की कई जातियां पनीर-व्यवसाय में पनीर तैयार करने में व्यवहृत होती हैं। कार्बनिक अम्ल के संश्लेषण में भी इसका उपयोग होता है। एल्कोहल बनाने में भी इसका इस्तेमाल किये जाते हैं। रंग तैयार करने में भी इसका उपयोग होता है।

शुंग लिपि

शुंग लिपि, उत्तर भारत की ब्राह्मïी लिपि है।  संभवत: परवर्ती मौर्य लिपियों और आरंभिक कलिंग अक्षरों से संबंधित एवं शुंग वंश (लगभग 185 ई.पू से लगभग 73 ई.पू) से संबद्ध यह लिपि ब्राह्मïी लिपि के उत्तर भारतीय खंड के तीन आद्यरूपों में से एक है जिससे गुप्त लिपि का जन्म हुआ।

अन्य पोस्ट

Comments