सामान्य ज्ञान

माचू पिच्चू
08-Jun-2021 12:09 PM (75)
माचू पिच्चू

माचू पिच्चू , पेरु में स्थित है। इस नाम का मतलब  पुरानी चोटी है। यह दुनिया की सबसे रहस्यमयी पौराणिक जगह है। कहावतों के अनुसार माचू पिच्चू को पुराने समय में पवित्र जगह माना जाता था। इस अनोखे रहस्यमयी शहर को बनाने का श्रेय इंकाओं को जाता है, जिन्होंने कई तरह के पत्थरों को एकत्रित कर इस अद्भुत जगह को तैयार किया। उरूबंबा नदी से दो हजार फीट ऊपर स्थित इस शहर में मंदिर, महल और करीब 150 घरों के अवशेष हैं, जो कि काफी अच्छी स्थिति में हैं। इसे बनाने में ग्रे ग्रेनाइट पत्थरों का इस्तेमाल हुआ है, जिनमें से कुछ का वजन 50 टन से भी ज्यादा है।
सतह से 2 हजार 430 मीटर ऊपर  एक पहाड़ी के ऊपर बने एक शहर में रहना और उस शहर को बनाना अपने आप में अजूबा ही है। दक्षिण अमरीका में एंडीज पर्वतों के बीच बसा ‘माचू पिच्चू शहर’ पुरानी इंका सभ्यता का सबसे बड़ा उदाहरण है। माना जाता है कि कभी यह नगरी संपन्न थी पर स्पेन के आक्रमणकारी अपने साथ चेचक जैसी बीमारी यहां ले आए जिससे यह शहर पूरी तरह तबाह हो गया।
1430 ई. के आसपास (15वीं शताब्दी में) इंकाओं ने इसका निर्माण अपने शासकों के आधिकारिक स्थल के रूप में शुरू किया था, लेकिन इसके लगभग सौ साल बाद, जब इंकाओं पर स्पेनियों ने विजय प्राप्त कर ली तो इसे यूं ही छोड़ दिया गया। हालांकि स्थानीय लोग इसे शुरु से जानते थे पर सारे विश्व को इससे परिचित कराने का श्रेय हीरम बिंघम को जाता है जो एक अमेरिकी इतिहासकार थे और उन्होंने इसकी खोज 1911 में की थी, तब से, माचू पिच्चू एक महत्वपूर्ण पर्यटन आकर्षण बन गया है। माचू पिच्चू को 1981 में पेरू का एक ऐतिहासिक देवालय घोषित किया गया, और 1983 में इसे यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल की दर्जा दिया गया। क्योंकि इसे स्पेनियों ने इंकाओं पर विजय प्राप्त करने के बाद भी नहीं लूटा था, इसलिए इस स्थल का एक सांस्कृतिक स्थल के रूप में विशेष महत्व है और इसे एक पवित्र स्थान भी माना जाता है।
 माचू पिच्चू को इंकाओं की पुरातन शैली में बनाया था जिसमें पॉलिश किये हुए पत्थरों का प्रयोग हुआ था। इसके प्राथमिक भवनों में इंतीहुआताना (सूर्य का मंदिर) और तीन खिड़कियों वाला कक्ष प्रमुख हैं। पुरातत्वविदों के अनुसार यह भवन माचू पिच्चू के पवित्र जिले में स्थित हैं।
 

अन्य पोस्ट

Comments