विशेष रिपोर्ट

भाजपा सर्वे में संघ से लेकर नक्सल तक लोगों की सोच..

Posted Date : 13-Jun-2018



शशांक तिवारी
रायपुर, 13 जून (छत्तीसगढ़)। प्रदेश के सांसदों-विधायकों के कामकाज का आंकलन करने के लिए भाजपा का राष्ट्रीय संगठन एक और सर्वे करा रहा है। इसमें सरकार के कामकाज का फीडबैक भी लिया जा रहा है। साथ ही साथ राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, माओवादी संगठन के  अलावा ईसाई मिशनरियों के प्रति लोगों की सोच जानकारी ली जा रही है? यह भी पूछा गया है कि लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद के लिए आप किस नेता को पसंद करेंगे। 
पार्टी के भरोसेमंद सूत्रों के मुताबिक यह सर्वे पार्टी हाईकमान करा रहा है और रिपोर्ट पर पार्टी की चुनाव प्रबंध समिति की बैठक में चर्चा होगी। इसमें खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह शिरकत करेंगे। बैठक की तिथि और जगह अभी तय नहीं हुई है, लेकिन सर्वे का काम कर रही एजेंसियों को 15 दिन के भीतर रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। 
बताया गया कि प्रदेश के 90 विधानसभा सीटों में सर्वे की जिम्मेदारी 8 कंपनियों को दी गई है। इनमें मार्केट एक्सल का डाटा मैट्रिक्स प्राइवेट लिमिटेड, पिगन इनोवेटिव सलूशन, सोएल लैंड यूस सर्वे ऑफ इंडिया, जनमत पोलिंग रिसर्च, आईसी मीडिया सलूशन, प्रोफेशनल रिसर्च सर्विस शामिल है। सूत्रों के मुताबिक इन कंपनियों को अधिकतम 12 विधानसभा सीटों में सर्वे की जिम्मेदारी दी गई है और इन कंपनियों की टीम काम भी कर रही है।
सर्वे से जुड़े एजेंसियों के लोग गली-मोहल्ले और कॉलोनियों में जाकर लोगों से राय ले रहे हैं और संबंधित का डिटेल्स भी इक_ा कर रहे हंै। अलग-अलग जाति और धर्म के लोगों का सरकार के प्रति सोच का ब्योरा लिया जा रहा है। यह भी पूछा जा रहा कि आप विधानसभा चुनाव में प्रदेश सरकार के कामकाज के आधार पर वोट करेंगे अथवा केंद्र की पूर्ववर्ती यूपीए सरकार अथवा एनडीए कामकाज के आधार पर। राज्य की सरकार के कामकाज से संतुष्ट हैं अथवा नहीं। 
यह पूछा गया है कि विधानसभा चुनाव में आपके लिए कौन सा मुद्दा महत्वपूर्ण होगा, जिसके आधार पर आप वोट करेंगे। बिजली-पानी, भ्रष्टाचार, स्वास्थ्य एवं शिक्षा, विकास, मंहगाई, नक्सल समस्या, रोजगार, खाद्य, सड़क या फिर कृषि और किसानों के मुद्दे के आधार पर वोट देंगे।  राहुल गांधी या नरेंद्र मोदी में किसका भाषण अच्छा लगता है। प्रधानमंत्री पद के लिए आपकी पसंद कौन है? राहुल गांधी या फिर नरेंद्र मोदी। स्थानीय विधायक और सांसद के कामकाज को लेकर भी जानकारी चाही गई है। 
लोगों से यह भी पूछा जा रहा है कि वे अथवा उनके परिवार के सदस्य किस पार्टी के समर्थक है अथवा वोट करते हैं। इसमें भाजपा-कांग्रेस अथवा बसपा व अन्य का जिक्र किया गया है। सर्वे में यह भी पूछा गया है कि उनके क्षेत्र में आरएसएस, वनवासी कल्याण आश्रम, विश्व हिन्दू परिषद, नक्सल अथवा माओवादी या फिर ईसाई मिशनरी सक्रिय हैं? इसको लेकर आप की सोच क्या है? वर्तमान में आपकी राय में प्रदेश में किस पार्टी को बढ़त हासिल है? पार्टी नेताओं के मुताबिक सर्वे रिपोर्ट से आगे की रणनीति बनाने में मदद मिलेगी।




Related Post

Comments