ताजा खबर

आज का मौसम, 25 नवंबर 2021: IMD की सलाह- समुद्र में ना जाएं मछुआरे, दिल्ली में AQI ‘बहुत खराब’ श्रेणी में
25-Nov-2021 12:48 PM (60)
आज का मौसम, 25 नवंबर 2021: IMD की सलाह- समुद्र में ना जाएं मछुआरे, दिल्ली में AQI ‘बहुत खराब’ श्रेणी में

नई दिल्ली.  भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बुधवार को कहा कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवातीय परिसंचरण की स्थिति बनी हुई है और इसके प्रभाव से हवा का निम्न दबाव का क्षेत्र बनने और दक्षिणी राज्यों के अलग-अलग हिस्सों में अगले पांच दिनों तक बारिश होने का अनुमान है. विभाग ने एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि चक्रवातीय परिसंचरण दक्षिण पश्चिम और इससे लगे दक्षिण पूर्वी बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना हुआ है. विज्ञप्ति में बताया गया, ‘इसके प्रभाव के चलते अगले 24 घंटे में दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर हवा का निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है. इसके पश्चिम उत्तर पश्चिम की ओर श्रीलंका और दक्षिण तमिलनाडु क्षेत्र की तरफ बढ़ने की संभावना है.’

IMD ने अगले पांच दिनों के दौरान आंध्र प्रदेश के तटीय इलाके, यानम, रायलसीमा, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, केरल, माहे, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराइकल में हल्की से मध्यम, छिटपुट स्थानों पर या व्यापक स्तर पर बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया है. विभाग ने बताया कि 24 और 25 नवंबर को दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी, मन्नार की खाड़ी और दक्षिण तमिलनाडु तट पर 40-50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवा चल सकती हैं. मछुआरों को इन इलाकों में समुद्र में नहीं उतरने की सलाह दी गई है.

वहीं Skymet की रिपोर्ट के अनुसार अगले 24 घंटों में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तमिलनाडु और केरल कर्नाटक ,रायलसीमा, तटीय आंध्र प्रदेश, लक्षद्वीप और कोंकण ,गोवा , दक्षिण मध्य महाराष्ट्र ,तेलंगाना, तटीय ओडिशा, असम, अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम, गिलगित बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और लद्दाख में हल्की बारिश हो सकती है.

दिल्ली में तापमान गिरने और धीमी हवा के कारण वायु गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ श्रेणी में
राष्ट्रीय राजधानी में धीमी हवा और तापमान गिरने के कारण बुधवार को वायु गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ श्रेणी में पहुंच गई. शहर में सुबह पिछले चौबीस घंटों का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 361 रहा. IMD के अनुसार, दिल्ली में न्यूनतम तापमान 9.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो इस मौसम का अभी तक सबसे कम तापमान है. अधिकतम तापमान 28.8 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने का अनुमान है.

तेज हवा चलने से रविवार तथा सोमवार को वायु गुणवत्ता में सुधार दर्ज किया गया था. मंगलवार को 24 घंटे का औसतन AQI 290 रहा था. इस महीने में दूसरी बार AQI में इतना सुधार देखा गया था, जो इससे पहले एक नवंबर को 281 दर्ज किया गया था. शेष दिनों में दिल्ली में वायु गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ या ‘गम्भीर’ श्रेणी में दर्ज की गयी. वायु गुणवत्ता सूचकांक बुधवार को, फरीदाबाद में 367, गाजियाबाद में 366, ग्रेटर नोएडा में 312, गुड़गांव में 305 और नोएडा में 325 रहा.

AQI को शून्य और 50 के बीच ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 और 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के वायु गुणवत्ता मॉनिटर ‘सफर’ ने कहा कि धीमी स्थानीय सतही हवाएं अगले तीन दिनों में प्रदूषकों के फैलाव को कम कर देंगी, जिससे वायु गुणवत्ता में गिरावट आएगी. 27 नवंबर से स्थानीय सतही हवा की गति में वृद्धि के साथ थोड़ा सुधार होने की संभावना है.

सफर ने कहा, ‘सर्दियों की शुरुआत के साथ, वायु गुणवत्ता का निर्धारण करने में स्थानीय मौसम प्रमुख (कारक) होने की संभावना है.’ पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने वायु प्रदूषण से निपटने के लिए प्रतिबंधों की समीक्षा के वास्ते एक बैठक के बाद कहा कि आवश्यक सेवाओं में लगे वाहनों को छोड़कर ट्रकों के प्रवेश पर प्रतिबंध तीन दिसंबर तक जारी रहेगा. हालांकि, सीएनजी और इलेक्ट्रिक ट्रकों को 27 नवंबर से दिल्ली में प्रवेश करने की अनुमति होगी. सरकार ने वायु की गुणवत्ता में सुधार और श्रमिकों को हो रही असुविधा को देखते हुए, निर्माण और तोड़फोड़ से संबंधित गतिविधियों पर लगी रोक सोमवार को हटा दी थी. (news18.com)

अन्य पोस्ट

Comments