अंतरराष्ट्रीय

चट्टान के भी हैं कान ! नज़र बचाकर बदल पोज़िशन भी बदल लेती है Spy Rock
29-Nov-2021 7:29 PM (223)
चट्टान के भी हैं कान ! नज़र बचाकर बदल पोज़िशन भी बदल लेती है Spy Rock

इंसानों को आपने दूसरे देश में जाकर या फिर युद्ध के दौरान दूसरे खेमे में जाकर जासूसी करते हुए देखा होगा, लेकिन यहां कोई चट्टान, पहाड़ या पत्थर जासूसी करे, ये शायद ही कभी सुना हो. टेक्नोलॉजी के मामले में काफी आगे माने जाने वाले देश रूस ने अब एक ऐसी रोबोटिक चट्टान तैयार की है, जो जेम्स बॉन्ड स्टाइल में जासूसी कर सकेगी.

रूस के टीवी पर इस रोबोट रॉक के बारे में बताया गया है, जो रेडियो सिग्नल्स के ज़रिये ऑपरेट की जा सकती है. ये दुश्मन की बातें सुन भी सकती है और उनसे नज़र बचाकर अपनी जगह भी बदल सकती है. इस जासूस चट्टान को मॉस्को के ही मिलिट्री रिसर्चर्स ने बनाया है. इस तरह की चट्टान का मकसद युद्ध के दौरान दुश्मन की जासूसी करना होगा.

चट्टान करेगी रणभूमि में जासूसी
इस नकली चट्टान को सेना ने तैयार किया है. रूस की डिफेंस मिनिस्ट्री की ओर से कहा गया है कि ये चट्टान अपनी जगह बदल सकती है और युद्ध में दुश्मन के खिलाफ इस्तेमाल की जा सकती है. रेडियो सिग्नल के ज़रिये इस रॉक को मील भर की दूरी से भी ऑपरेट किया जा सकेगा. इस चट्टान में कैमरा और सुनने की क्षमता होगी. चट्टान को साइंटिफिक एंड टेक्निकल कमेटी की गाइडेंस में एयर फोर्स एकेडमी और वोरोनेज़ की ओर से तैयार किया गया है. इसे ऑब्ज़र्वेशन कॉम्प्लेक्स के तौर पर जाना जाएगा. इसे रशियन मीडिया में स्पाई रॉक का नाम दिया गया है. अब तक रूस में इस तरह की कोई डिवाइस तैयार नहीं की गई थी.

Spy Rock करेगी काम आसान
इस तरह की चट्टान के साथ मुख्य समस्या ये है कि छोटी सी रॉक के अंदर ही सारी चीज़ें फिट करनी हैं. इस तरह की रॉक का आइडिया ब्रिटिश स्नूपर स्टोन से लिया गया है, जो रूस की जासूसी एजेंसियों को मॉस्को से मिला था. M16 की ओर से इस तरह के स्टोन को रूस में जासूसी के लिए रखा गया था, जिसे सेना ने पकड़ लिया था. साल 2007 में हुई इस घटना से रूस और ब्रिटेन के बीच संबंध तनावपूर्ण हो गए थे. अब रूस ने ब्रिटेन के उसी आइडिया को अपने लिए इस्तेमाल करते हुए ये स्पाई रॉक बनाकर तैयार की है, जिसका इस्तेमाल वो युद्ध के दौरान करेंगे.  (news18.com)

अन्य पोस्ट

Comments