अंतरराष्ट्रीय

अधर में लटकी अमेरिकी बंधक फ्रेरिच की रिहाई, बदले में अफगान ड्रग सरगना को अमेरिकी जेल से मुक्त कराना चाहता है तालिबान
03-Dec-2021 9:14 AM (164)
अधर में लटकी अमेरिकी बंधक फ्रेरिच की रिहाई, बदले में अफगान ड्रग सरगना को अमेरिकी जेल से मुक्त कराना चाहता है तालिबान

-मृत्युंजय कुमार झा 

नई दिल्ली, 2 दिसंबर: तीन महीने से अधिक समय हो गया है, लेकिन अभी भी अंतिम अमेरिकी बंधक मार्क फ्रेरिच का कोई सुराग नहीं है, जिसका पिछले साल तालिबान के खूंखार हक्कानी आतंकी नेटवर्क के आतंकवादियों द्वारा अपहरण कर लिया गया था।

तालिबान वार्ताकारों ने अफगानिस्तान के लिए तत्कालीन अमेरिकी विशेष प्रतिनिधि जलमय खलीलजाद से कई बार कहा था कि मार्क फ्रेरिच की रिहाई संभव है, अगर अमेरिका तालिबान से संबंध रखने वाले अफगान ड्रग सरगना बशीर नूरजई को मुक्त कर दे।

नूरजई अमेरिका में 5 करोड़ डॉलर की हेरोइन की तस्करी के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहा है। लेकिन, बंधक फ्रेरिच के परिवार ने खलीलजाद पर इस मुद्दे को प्राथमिकता नहीं देने का आरोप लगाया है।

अफगानिस्तान के लिए अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि थॉमस वेस्ट ने मंगलवार को दोहा में यूएस-तालिबान वार्ता के दौरान तालिबान के विदेश मंत्री अमीर खान मुत्ताकी के साथ इस मुद्दे को फिर से उठाया। वेस्ट ने ट्वीट किया कि मार्क फ्रेरिच की सुरक्षित वापसी सहित अन्य महत्वपूर्ण मुद्दे वार्ता का मुख्य फोकस है।

हालांकि कोई और विवरण साझा नहीं किया गया था, अफगान सूत्रों के अनुसार मुत्ताकी इस बारे में कोई ठोस जबाव नहीं दे सके कि अमेरिकी बंधक अभी भी उनकी हिरासत में क्यों है।

सूत्रों के अनुसार, मुत्ताकी को याद दिलाया गया है कि सिराजुद्दीन हक्कानी के छोटे भाई अनस हक्कानी ने उम्मीद जताई थी कि उनके समूह और पश्चिम के पूर्ववर्ती प्रतिनिधि खलीलजाद के बीच चर्चा का सकारात्मक परिणाम दिखाई देगा, लेकिन अभी तक कुछ भी नहीं हुआ है।

अमेरिका ने फ्रेरिच के स्थान के बारे में जानकारी प्रदान करने और उसकी वापसी सुनिश्चित करने के लिए 50 लाख डॉलर की पेशकश की है। अमेरिका ने पाकिस्तान से संपर्क किया है, जो हक्कानी नेटवर्क की मदद कर रहा है, ताकि आतंकी समूह पर दबाव बनाया जा सके।

दिलचस्प बात यह है कि अमेरिका ने सिराजुद्दीन हक्कानी के सिर पर 1 करोड़ डॉलर का ईनाम घोषित किया है।

अमेरिका की ओर से इस मुद्दे को सर्वोच्च प्राथमिकता पर रखने के बावजूद कुछ नहीं हुआ है। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा, "राष्ट्रपति के लिए फ्रेरिच का बहुत महत्व है। अमेरिकी टीम ने तालिबान पर उनकी रिहाई के लिए दबाव डालना जारी रखा है और दोहा और इस्लामाबाद में वरिष्ठ स्तर की व्यस्तताओं में स्थिति को बढ़ाना जारी रखा है।"

दिलचस्प बात यह है कि बशीर नूरजई सिराजुद्दीन हक्कानी का भरोसेमंद सहयोगी है।

एक ठेकेदार और पूर्व अमेरिकी नौसेना गोताखोर मार्क फ्रेरिच का जनवरी 2020 में हक्कानी नेटवर्क द्वारा अफगानिस्तान-पाकिस्तान सीमा पर खोस्त क्षेत्र में अपहरण कर लिया गया था, जो हक्कानी का गढ़ है। एक महीने बाद यूएस-तालिबान ने समझौते पर हस्ताक्षर किए और दिलचस्प बात यह है कि सिराजुद्दीन हक्कानी तालिबान की वार्ता टीम के रूप में हस्ताक्षर करने वालों में से एक था, लेकिन उनकी रिहाई के बारे में कोई प्रतिक्रिया देखने को नहीं मिल रही है।

विश्वसनीय पाकिस्तानी सूत्रों के अनुसार, वह जीवित हैं और हक्कानी नेटवर्क अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच उसके ठिकाने बदल रहा है।

अब सवाल यह है कि अगर बाइडेन प्रशासन तालिबान सरकार में वांछित एफबीआई अपराधियों के साथ काम करने को तैयार है तो आखिरी अमेरिकी बंधक को प्राप्त करना इतना कठिन क्यों है?

इस संबंध में पाकिस्तानी सूत्र का कहना है, "तालिबान को लगता है कि फ्रेरिच उनकी जासूसी कर रहा था और वह तालिबान और हक्कानी के बारे में बहुत कुछ जानता है।"

(यह आलेख इंडियानैरेटिव डॉट कॉम के साथ एक व्यवस्था के तहत लिया गया है)

अन्य पोस्ट

Comments