गैजेट्स

पेमेंट बिजनस का डेटा भारत में स्टोर करने को गूगल तैयार

Posted Date : 11-Sep-2018



पंकज डोवाल
नई दिल्ली, 11 सितंबर। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नियम के मुताबिक गूगल भारत में पेमेंट बिजनस से जुड़े फाइनैंशियल डेटा को भारत में ही स्टोर करने को तैयार हो गया है, लेकिन इसके लिए कुछ और समय की मांग की है। एक से दो महीने में कंपनी इस नियम को पूरा कर सकती है। आईटी मिनिस्ट्री के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी है। 
आईटी और लॉ मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद को हाल ही में अमरीका दौरे पर गूगल सीईओ सुंदर पिचाई ने यह आश्वासन दिया। इस चर्चा का हिस्सा रहे अधिकारी ने बताया कि अमरीका की इस विशालकाय कंपनी के रुख में यह बड़ा बदलाव है। 
अधिकारी के मुताबिक बैठक में पिचाई ने कहा, पेमेंट सर्विस को लेकर भारत सरकार और रेग्युलेटर्स के सभी शर्तों का हम पालन करेंगे। गूगल के प्रवक्ता ने इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया देने से इंकार किया। 
गूगल ने पिछले साल सितंबर में यूपीआई ट्रांजैक्शन के लिए भारत में तेज नाम से पेमेंट सर्विस की शुरुआत की। अब इसका नाम बदलकर गूगल पे कर दिया गया है। अभी इसके 2.2 करोड़ ऐक्टिव यूजर्स हैं। 
ट्रांजैक्शंस की सुरक्षा और निगरानी के उद्देश्य से आरबीआई ने 6 अप्रैल को जारी नोटिफिकेशन में सभी कंपनियों को फाइनैंशल ट्रांजैक्शन से संबंधित डेटा को भारत में ही स्टोर करने को कहा था। कंपनियों को 15 अक्टूबर तक इस नियम को लागू करना है। 
गूगल ने सरकार से समयसीमा को बढ़ाने की मांग की है। अधिकारी ने बताया कि गूगल 1-2 महीने अतिरिक्त समय चाहता है और सरकार इस पर विचार कर रही है। (टाईम्स ऑफ इंडिया)




Related Post

Comments