सोशल मीडिया

ये पहली बार है जब भाजपा अकबर के प्रति इतना लगाव दिखा रही है!

Posted Date : 11-Oct-2018



‘मी टू’ अभियान के तहत लोगों पर यौन शोषण के आरोपों और उनको लेकर प्रतिक्रियाओं का सिलसिला सोशल मीडिया पर आज भी जारी है. हालांकि इस क्रम में यहां अब सबसे ज्यादा चर्चा केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री और पूर्व पत्रकार-संपादक एमजे अकबर की है. उन पर अब तक कम से कम छह महिला पत्रकार इस तरह के आरोप लगा चुकी हैं. इस वजह से एमजे अकबर आज ट्विटर के ट्रेंडिंग टॉपिक में शामिल हैं. यहां कई लोगों ने उनसे इस्तीफे की मांग की है. पत्रकार शिवम विज का ट्वीट है, ‘एआईबी ढह गया, फैंटम फिल्म्स को खत्म कर दिया गया. जो पत्रकार बड़े पदों पर थे उन्हें भी इस्तीफा देना पड़ा. (यौन उत्पीड़न के आरोपों की वजह से) तो फिर एमजे अकबर को लेकर दिक्कत क्या है? उन्हें कीमत क्यों नहीं चुकानी चाहिए. (अपने किए की)’
इन आरोपों के बाद भी एमजे अकबर से इस्तीफा न लिए जाने के कारण सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार भी निशाने पर है. ट्विटर हैंडल उज्जवल पर प्रतिक्रिया है, ‘एमजे अकबर को पद से हटाकर मोदी जी को महिला सशक्तिकरण को लेकर अपनी प्रतिबद्धता जतानी चाहिए...’
सोशल मीडिया में एमजे अकबर पर लग रहे आरोपों को लेकर आई कुछ और प्रतिक्रियाएं :
मनु पंवार-नाना पाटेकर से आलोक नाथ होते हुए अब एमजे अकबर भी लपेटे में आ गए. अपने हमाम में हम सब मीटू हैं.
पाणिनी आनंद-भक्त (भाजपा समर्थक) कह रहे हैं कि एमजे अकबर ने जब ये सब किया, तब कांग्रेस की सरकार थी और एनडीए के समय का कोई मीटू हो तो बताइए?
रफाल गांधी- वैसे तो मुगलों के पीछे पड़े रहते हैं, लेकिन अब अकबर का नाम मिटाने का मौका आया है तो भाजपा वाले कुछ कर ही नहीं रहे.
जेट ली (वसूली भाई)- भारत के ‘मी टू’ अभियान के दो शिकार 
1. एआईबी
2. फैंटम 
3. बेटी बचाओ जुमला (सत्याग्रह)




Related Post

Comments