कारोबार

संभलने की कोशिश कर रही टाटा मोटर्स को बड़े झटके

Posted Date : 05-Nov-2018



नई दिल्ली, 5 नवम्बर। भारत की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनी टाटा मोटर्स को चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में बड़ा घाटा हुआ है। संयुक्त आधार पर जोड़े गए इस घाटे का आंकलन 1,009 करोड़ रुपए किया जा रहा है। पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में कंपनी ने 2,482.78 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया था। बता दें कि लंबे समय तक घरेलू वाहन सेगमेंट में पिछडऩे के बाद टाटा मोटर्स बीते दो साल में हैचबैक टिआगो, सेडान टिगोर और सबकॉम्पैक एसयूवी नेक्सन की मदद से वह स्थान हासिल करने में सफल होती दिखी थी जिसकी वह हकदार है। लेकिन अपनी ब्रिटिश इकाई जगुआर लैंडरोवर (जेएलआर) के कमजोर प्रदर्शन की वजह से कंपनी को यह नुकसान झेलना पड़ा है।
बताया जा रहा है कि जेएलआर के प्रमुख बाजार 'चीनÓ में चल रहे उतार-चढ़ाव के चलते वहां कंपनी की रीटेल बिक्री 44 फीसदी घटकर 21,096 यूनिट तक पहुंच गई। वहीं वैश्विक स्तर पर यह आंकड़ा 13 प्रतिशत गिरकर 1,29,887 वाहन पर ही सिमट गया। हालांकि इस दौरान टाटा मोटर्स को लिए घरेलू बाजार 'भारतÓ से बड़ी राहत मिली है जहां कंपनी 33 फीसदी बढ़त के साथ 17,759 करोड़ रुपए का व्यापार करने में सफल रही जिसमें उसे 109 करोड़ रुपए का फायदा हुआ। इसके लाभ के पीछे बाजार से मिल रही शानदार प्रतिक्रिया के साथ 2016 में लागू की गई लागत में कटौती जैसी रणनीतियों ने भी बराबर की भूमिका निभाई है।  (सत्याग्रह)




Related Post

Comments