खेल

कोटला पर आखिरी बार बल्ला थामेंगे गौतम गंभीर

Posted Date : 06-Dec-2018



नई दिल्ली, 6 दिसंबर । भारतीय टीम के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने यहां के जिस ऐतिहासिक फिरोजशाह कोटला मैदान से अपने क्रिकेट जीवन की शुरुआत की थी, आज उसी ग्राउंड पर आखिरी बार खेलने उतरेंगे। 37 साल के गंभीर ने मंगलवार को हर तरह के क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी थी। दिल्ली की टीम आज से रणजी ट्रोफी एलीट ग्रुप-बी मुकाबले में आंध्र के खिलाफ खेलेगी जो गंभीर के करियर का भी आखिरी मैच होगा। 

भले ही गंभीर को किसी अंतरराष्ट्रीय मैच से विदाई नहीं मिली, लेकिन दिल्ली टीम के उनके साथी खिलाड़ी उन्हें इस मैच में जीत से विदाई देने की पूरी कोशिश करेंगे। वैसे भी दिल्ली का इस सीजन प्रदर्शन ठीक नहीं रहा है और तीन मैचों में उसे एक में हार मिली, दो ड्रॉ पर छूटे। 
अभी थोड़े ही दिन पहले मोहम्मद कैफ ने क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी। इसके बाद अब भारत के पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने भी क्रिकेट को अलविदा बोल दिया है। ये दोनों क्रिकेटर्स लंबे समय से भारत की राष्ट्रीय टीम में जगह नहीं बना पा रहे थे। आखिरकार दोनों को इंटरनैशनल मैदान से बाहर ही अलविदा कहना पड़ा। कैफ-गंभीर अलावा भारतीय टीम के कई ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्हें लंबे वक्त से भारतीय टीम में मौका नहीं मिला है। ऐसे में इस संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता कि अपने दौर के ये दिग्गज क्रिकेटर बिना इंटरनैशनल मैच खेले ही क्रिकेट को अलविदा बोलें।
भारत के स्टाइलिश लेफ्टहैंडर बल्लेबाज युवराज सिंह ने अब तक 40 टेस्ट मैच, 304 वनडे और 58 टी20 मैच खेले हैं। युवराज ने अपना आखिरी टेस्ट मैच इंग्लैंड के खिलाफ 2012 में और वनडे साल 2017 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ खेला था। वहीं उन्होंने अपना टी20 मैच साल 2017 में ही इंग्लैंड के खिलाफ चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेला था। टीम इंडिया के दिग्गज स्पिनर हरभजन सिंह ने अपने करियर में कुल 103 टेस्ट मैच, 236 वनडे मैच और 28 टी20 मैच खेले हैं। हरभजन ने अपना आखिरी वनडे साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2015 में वानखेडे स्टेडियम में खेला था। उनका आखिरी टेस्ट मैच 2015 में श्रीलंका के खिलाफ था। बात अगर टी20 की करें तो हरभजन ने अपना आखिरी मैच यूएई के खिलाफ 2016 में खेला था। लेग स्पिनर अमित मिश्रा ने अपने क्रिकेट करियर में अब तक 22 टेस्ट मै, 36 वनडे और 10 टी20 मैच खेले हैं। अमित ने अपना आखिरी टेस्ट दिसंबर 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। वहीं उनका आखिरी वनडे 2016 में न्यू जीलैंड के खिलाफ था। इस समय टीम इंडिया के पास बैकअप के रूप में युवा खिलाडिय़ों की बड़ी खेप तैयार है, जो मौका मिलने पर उम्दा परफॉर्मेंस कर रहे हैं। ऐसे में इन दिग्गज खिलाडिय़ों को वापसी का मौका मिलना बहुत मुश्किल लगता है।
जिन खिलाडिय़ों के संन्यास की हम अटकलें लगा रहे हैं। उनके लिए यो-यो टेस्ट की भी चुनौती है। अगर ये खिलाड़ी वापसी के लिए घरेलू क्रिकेट में शानदार परफॉर्मेंस कर भी देते हैं, तो टीम इंडिया में सिलेक्शन के लिए अपनी फिटनेस साबित करने के लिए यो-यो टेस्ट पास करना होगा। इन खिलाडिय़ों की उम्र अब 35 के करीब है, तो ऐसे में इनके लिए यो-यो टेस्ट भी एक बड़ा चैलेंज होगा।
गौतम गंभीर ने अपना आखिरी टेस्ट मैच इंग्लैंड के खिलाफ 2016 में खेला था। उन्होंने अपना आखिरी वनडे 5 साल पहले साल 2013 में इंग्लैंड के खिलाफ हिमाचल प्रदेश में खेला था। गंभीर ने भारत के लिए 58 टेस्ट मैच, 147 वनडे और 37 टी20 मैचों में खेले। 4 दिसंबर को उन्होंने अपने संन्यास की घोषणा कर दी।
कैफ ने भारत के लिए 13 टेस्ट, 125 वनडे मैच खेले और इस साल अगस्त में उन्होंने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास की घोषणा कर दी।
पहली बार दिल्ली टीम की कप्तानी संभालने जा रहे ध्रुव शौरी ने कहा, टीम के सबसे सीनियर साथी गौतम सर के संन्यास की खबर हमें रात को देर से मालूम हुआ। इसलिए उनके विदाई समारोह की कोई प्लानिंग नहीं कर पाए हैं। लेकिन इतना तय है कि हम उन्हें यादगार विदाई देंगे।
ध्रुव ने साथ ही कहा कि गौतम गंभीर का उनके लिए खास महत्व है क्योंकि उनके डेब्यू मैच में दूसरे छोर पर गौतम ही थे जब उन्होंने अपना पहला रन लिया था।  (नवभारत टाईम्स)




Related Post

Comments