विशेष रिपोर्ट

धान आवक अभी भी पिछले साल से दोगुनी

Posted Date : 13-Jan-2019



ढाई महीने मेें समर्थन मूल्य पर साढ़े 61 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी

छत्तीसगढ़ संवाददाता
रायपुर, 13 जनवरी।
प्रदेश की सहकारी सोसायटियों और खरीदी केंद्रों में करीब ढाई महीने में साढ़े 61 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हो चुकी है और वहां अभी भी हर रोज करीब दो लाख मीट्रिक टन धान की आवक जारी है, जो पिछले साल इन्हीं दिनों की तुलना में दोगुनी है। अफसरों का कहना है कि धान खरीदी के लिए करीब 15 दिनों का समय और बाकी है। ऐसे में इस साल धान खरीदी का आंकड़ा करीब 80 लाख मीट्रिक टन तक पहुंच सकता है। 

प्रदेश के करीब दो हजार केंद्रों में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी एक नवंबर से जारी है। शुरूआत में वहां धान की आवक हर रोज करीब 40-50 हजार मीट्रिक टन रही। बाद में धान की आवक वहां हर रोज एक लाख से ढाई लाख मीट्रिक टन तक पहुंच गई, जो पिछले हफ्ते तक जारी रही। चालू हफ्ते में धान की आवक करीब 50 हजार मीट्रिक टन घटकर करीब दो लाख मीट्रिक टन के आसपास बनी रही। पिछले साल इन्हीं दिनों में केंद्रों में हर रोज करीब एक लाख मीट्रिक टन धान की आवक थी। खरीदी से जुड़े अफसरों का मानना है कि धान की आवक फिलहाल दो लाख मीट्रिक टन के आसपास बनी रहेगी। अंतिम हफ्ते में थोड़ी कमी आ सकती है। 

अपेक्स बैंक से जुड़े अफसरों का कहना है कि ढाई महीने में साढ़े 61 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी पूरी कर ली गई है।  समर्थन मूल्य पर धान की यह खरीदी 31 जनवरी तक 75 से 80 लाख मीट्रिक टन तक पहुंच सकता है, जो सरकार का लक्ष्य है। उनका कहना है कि नई सरकार आने के बाद किसानों में उत्साह देखा गया। वे 25 सौ रुपये प्रति क्विंटल की दर पर बिक्री के लिए धान लेकर पहुंच रहे हैं, हालांकि यह राशि फिलहाल उनके खाते में जमा नहीं हो रही है। उन्हें विश्वास है कि सरकार की घोषणा के मुताबिक बढ़ी हुई राशि उनके खाते में जमा हो जाएगी। 

18 लाख टन धान जाम
प्रदेश की सहकारी सोसायटियों में धान खरीदी के साथ वहां उसका उठाव भी किया जा रहा है। संबंधित ठेकेदार खरीदे गए धान का उठाव कर उसे मिलों और गोदामों तक पहुंचा रहे हैं। इसके बाद भी खरीदी केंद्रों में करीब 18 लाख मीट्रिक टन धान जाम है। अफसरों का कहना है कि यह धान करीब हफ्ते भर का है और उसका उठाव जल्द कर लिया जाएगा। 




Related Post

Comments