कारोबार

बंद हो सकते हैं आधे एटीएम, मार्च में नोटबंदी जैसे हालात?

Posted Date : 09-Feb-2019



नई दिल्ली, 9 फरवरी। रिजर्व बैंक के नए रूल्स एटीएम चलाने वाली कंपनियों के लिए मुसीबत बन गए हैं। एटीएम चलाने की लागत बढऩे और आरबीआई के नए नियमों के कारण एटीएम चलाने में कंपनियों को कोई मार्जिन नहीं बच रहा है। इस स्थिति से उबरने के लिए कंपनियां सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक एटीएम से लेनदेन पर लगने वाले चार्ज को बढ़ाने की राय दे रहे हैं। कंपनियों का दावा है कि अगर यह चार्ज नहीं बढ़ाया गया तो 1 मार्च से देश भर में आधे से ज्यादा एटीएम उन्हें बंद करने पड़ेंगे। इससे देश में एक बार फिर नोटबंदी जैसा हाल हो सकता है जब लोगों को कैश निकालने के लिए लंबी लाइनों में लगना पड़ रहा था। 

आरबीआई ने एटीएम में लगने वाले कैसेट्स (जिनमें नोट रखे जाते हैं) की संख्या को डबल कर दिया है। कैश ले जाने वाले वैन में आर्म्ड गार्ड रखने के लिए कहा गया है। एटीएम में साइबर सिक्योरिटी को पहले से और पुख्ता करने के लिए कहा गया है।

ज्यादातर सभी बैंक 80 से 90 फीसदी एटीएम सर्विस को आउटसोर्स करते है। एटीएम की इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस से जुड़ी कंपनी सिक्योरन्स सिस्टम के एमडी सुनील उडुपा ने लाइव हिन्दुस्तान को बताया कि आरबीआई के नए नियमों से एटीएम चलाने की लागत और बढ़ गई है। उन्होंने बताया कि अभी वैन में कैश के साथ कैसेट्स भी जाते हैं। अगर एक वैन 10 एटीएम के लिए कैश लेकर जाती है तो उसके पास इतनी जगह नहीं होती की वह दोगुनी संख्या में कैसेट्स लेकर जाए। दूसरा, सामान्य गार्ड की तुलना में आम्र्ड गार्ड लेकर जाने से कॉस्ट दोगुनी हो जाती है क्योंकि उसका वेतन ज्यादा होता है।

एटीएम कंपनियों के मुताबिक मुंबई जैसी प्राइम लोकेशन में एटीएम का किराया 40,000 रुपए पड़ता है। छोटे शहरों में भी एटीएम साइट का किराया 8,000 से 15,000 रुपए तक पड़ता है। इसमें सिक्योरिटी स्टाफ का वेतन, मेंटनेंस चार्ज और बिजली खर्च मिलाकर एटीएम चलाना काफी महंगा पड़ रहा है। एटीएम की सुरक्षा एक बड़ी परेशानी भी बन रही है जिस पर बैंक की तरफ से कोई खास काम नहीं किया जा रहा है। 

अभी देश में करीब 2।40 लाख एटीएम हैं और इनमें से 50 से 60 फीसदी एटीएम बंद हो सकते हैं क्योंकि इनको चलाने में घाटा हो रहा है। ऐसे में छोटे और बड़े शहरों में एटीएम के बंद होने से कैश की किल्लत आ सकती है। एक बार फिर देश में नोटबंदी जैसा हाल हो सकता है। लोगों को कैश निकालने के लिए लंबी लाइनों जैसे हालात एक बार फिर देखने पड़ सकते हैं।(लाइव हिन्दुस्तान)




Related Post

Comments