सोशल मीडिया

मोदीजी ने 1988 में बिल गेट्स को ईमेल किया था और कहा था कि भारत में इंटरनेट शुरू करवा दो!
मोदीजी ने 1988 में बिल गेट्स को ईमेल किया था और कहा था कि भारत में इंटरनेट शुरू करवा दो!
Date : 14-May-2019

सोशल मीडिया पर आज की हलचल

बीते शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूज नेशन चैनल को जो इंटरव्यू दिया था, उसकी चर्चा सोशल मीडिया पर अब भी चल रही है। इस इंटरव्यू में नरेंद्र मोदी ने बालाकोट हमले का जिक्र करते हुए दावा किया था कि उन्होंने तब सेना के बड़े अधिकारियों को सुझाया था कि बादलों की वजह से पाकिस्तान के रडार चकमा खा सकते हैं, जिससे हमारे लड़ाकू विमानों को मदद मिलेगी। चूंकि विज्ञान कहता है कि रडार की क्षमताएं बादलों से प्रभावित नहीं होतीं सो इस हवाले से फेसबुक और ट्विटर पर इतवार से ही नरेंद्र मोदी का मजाक उड़ाया जा रहा है। ट्विटर पर इसके चलते ष्टद्यशह्वस्र4रूशस्रद्ब अब भी ट्रेंडिंग टॉपिक में बना हुआ है।
हालांकि इसके साथ आज यहां इसी इंटरव्यू में किए गए मोदी के एक और दावे पर भी सवाल खड़े करते हुए तंजभरी प्रतिक्रियाएं आई हैं। न्यूज एंकर दीपक चौरसिया और पीनाज त्यागी से बात करते हुए मोदी ने कहा था कि उन्होंने 1987-88 में डिजिटल कैमरे से पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की तस्वीर खींचकर उसे ‘ईमेल किया’ था। चूंकि आम लोगों के लिए ईमेल 1995 में ही उपलब्ध हुआ है और इस वजह से सोशल मीडिया पर कई लोगों ने मोदी के इस दावे को झूठा बताया है। एक यूजर ने इस बात का जिक्र करते हुए मोदी समर्थकों पर चुटकी ली है, ‘अगर आप मोदी भक्त हैं तो फिर आपने हर तकनीक उसके आविष्कार के पहले ही इस्तेमाल कर ली होगी।’
सोशल मीडिया में नरेंद्र मोदी के इंटरव्यू से जुड़ी इन्हीं बातों पर आईं कुछ और मजेदार प्रतिक्रियाएं :

कीर्तीश भट्ट- 1988 में मोदीजी के पास जो ईमेल था उसका पासवर्ड था ‘आएगा तो मोदी ही’
मंजुल- दीपक चौरसियाजी आज के दौर के सबसे बहादुर और बेमिसाल पत्रकार हैं। उन्होंने अपने एक इंटरव्यू से मोदीजी का जो हाल किया है वो करण थापर सौ इंटरव्यू से नहीं कर पाते।
पन्स्टर- मोदीजी का दावा है कि उनके पास 1987-88 में ईमेल आईडी था। जबकि इंटरनेट आम जनता के इस्तेमाल के लिए 14 अगस्त 1995 से उपलब्ध हुआ है। भाई, ये प्रधानमंत्री हैं या रजनीकांत?
रोफल गांधी- जिस इंसान के पास 1988 में ही डिजिटल कैमरा और ई-मेल की सुविधाएं आ गई थीं, वो ही अब हमें रोज बताता है कि 70 साल में कुछ नहीं हुआ।
चाकोबार जेटली (वसूली भाई)- दीपक चौरसिया : मोदीजी, आपने 1988 में ईमेल किसे भेजी थी?
मोदीजी : बिल गेट्स को।
दीपक चौरसिया : क्यों?
मोदी जी : इंडिया में इंटरनेट लाने की रिक्वेस्ट की थी।

द अनरियल टाईम्स- अपने एक अनर्गल बयान से मोदी जी ने रडार के बारे में देश की जनता का ज्ञान 10 प्रतिशत बढ़ा दिया है।

Related Post

Comments