सेहत / फिटनेस

 सामने आया कैंसर का नया इलाज, सेहत पर नहीं पड़ेगा कोई बुरा प्रभाव
सामने आया कैंसर का नया इलाज, सेहत पर नहीं पड़ेगा कोई बुरा प्रभाव
Date : 07-Aug-2019

वैज्ञानिकों ने कैंसर के इलाज का नए तरीके का पता लगाया है, जिसका कोई बुरा प्रभाव नहीं होगा। वर्तमान में कैंसर के इलाज के दौरान शरीर पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है। कैंसर और उनके उपचार के प्रकार के आधार पर इलाज के दौरान मरीजों पर कई दुष्प्रभाव पड़ते हैं, जिसमें अनीमिया, भूख न लगना, ब्लीडिंग, चोट लगना, कब्ज, डायरिया, थकान, बालों का झड़ना, मितली आना, यौन समस्या और यूरीन से जुड़ी समस्याएं शामिल हैं। 
यह नई स्टडी जर्नल ऑफ बायलॉजिकल केमिस्ट्री में प्रकाशित हुई है। वैज्ञानिकों ने न्यूरोफाइब्रोमैटोसिस टाइप 2 का अध्ययन करते हुए यह खोज की। आमतौर पर इस स्थिति को एनएफ 2 के रूप में जाना जाता है और इसमें श्वानोमास नामक नर्वस सिस्टम में ट्यूमर का विकास होता है। बायोकेमिस्ट्री और बायोफिजिक्स के प्रफेसर मैका फ्रेंको ने कहा, 'लगातर बढ़ने के लिए ट्यूमर सेल्स को ऊर्जा और ब्लॉक्स का उत्पादन करने की आवश्यकता होती है।’ शोधकर्ताओं ने पाया कि श्वाननोमा सेल्स एक ऑक्सिडेंट और नाइट्रेटिंग एजेंट, पेरोक्सिनाइट्रेट का उत्पादन करती हैं, जो प्रोटीन में एक एमिनो एसिड, टायरोसिन को संशोधित करता है।
प्रतिष्ठित पत्रिका ‘लांसेट ऑन्कोलॉजी’ में हाल में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि 2018 से 2040 तक दुनिया भर में हर साल कीमोथेरपी कराने वाले मरीजों की संख्या 53 प्रतिशत के इजाफे के साथ 98 लाख से 1.5 करोड़ हो जाएगी । राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर कीमोथेरपी के लिए पहली बार अध्ययन में इस तरह का आकलन किया गया है। निम्न और मध्यम आमदनी वाले देशों में कैंसर के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कैंसर का इलाज करने वाले करीब 1 लाख डॉक्टरों की भी आवश्यकता होगी। 

 

Related Post

Comments