राजनीति

फडणवीस ने वंदे मातरम से सत्र शुरू न होने पर उठाया सवाल
फडणवीस ने वंदे मातरम से सत्र शुरू न होने पर उठाया सवाल
Date : 30-Nov-2019

मुंबई, 30 नवंबर। महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार का विधानसभा में बहुमत परीक्षण कुछ ही देर में होने वाला है। इससे पहले सत्र की शुरुआत होते ही बीजेपी के विधायकों ने यह कहते हुए हंगामा किया कि अधिवेशन नियमों के खिलाफ बुलाया गया है। बीजेपी के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि यह अधिवेशन नियमों और संविधान के खिलाफ बुलाया है। उन्होंने कहा कि यह सदन वंदे मातरम के साथ शुरू होना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि सदन की शुरुआत राष्ट्रीय गीत के साथ होने का नियम रहा है। 
हालांकि प्रोटेम स्पीकर ने इस पर शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक सत्र का लाइव टेलिकास्ट हो रहा है। इसके साथ ही देवेंद्र फडणवीस ने प्रोटेम स्पीकर को बदलने पर भी दबाव उठाया। इससे पहले शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं ने पूर्ण बहुमत का दावा किया। बहुमत परीक्षण से पहले तीनों दलों ने विप जारी कर दिया है। सदन में जाने से पहले सीएम उद्धव ठाकरे ने शिवाजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। वहीं पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस अपने विधायकों के साथ विधानसभा पहुंच चुके हैं। 
महा विकास अघाड़ी के नेताओं का दावा है कि उनके पास कई छोटे दलों का भी समर्थन है। ऐसे में वह आसानी से बहुमत हासिल कर लेंगे। गठबंधन की ओर से दावा किया जा रहा है कि शिवसेना के 56, एनसीपी के 54 और कांग्रेस के 44 विधायकों के अलावा स्वाभिमानी शेतकारी के एक, बहुजन विकास अघाड़ी के 3 और 8 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन है। महा विकास अघाड़ी 170 विधायकों के समर्थन मिलने की बात कही है। उनका दावा है कि एमएनएस, पीडब्ल्यूपी और सीपीआई के एक-एक विधायक भी महाविकास अघाड़ी सरकार के समर्थन में अपना मत देंगे। 
शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की तरफ से कांग्रेस के सीनियर विधायक नाना पटोले ने स्पीकर के चुनाव के लिए अपना नामांकन भर दिया है, वहीं बीजेपी की तरफ से किसन कठोरे स्पीकर पद के लिए मैदान में हैं। 
उद्धव सरकार के फ्लोर टेस्ट से पहले डेप्युटी सीएम के पद को लेकर पेच फंसता दिख रहा है। हालांकि कांग्रेस की तरफ से स्पीकर पर स्वीकार कर लिया गया है, लेकिन डेप्युटी सीएम पद के लिए अब तक किसी नाम पर मुहर नहीं लगी है। एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल का कहना है कि डेप्युटी सीएम पर 22 दिसंबर के बाद फैसला लिया जाएगा। (नवभारतटाईम्स)
 

 

Related Post

Comments