अंतरराष्ट्रीय

बगदाद में एक बार फिर अमेरिकी एयरबेस पर दागे गए रॉकेट, 4 इराकी सैनिक घायल
बगदाद में एक बार फिर अमेरिकी एयरबेस पर दागे गए रॉकेट, 4 इराकी सैनिक घायल
Date : 13-Jan-2020

बगदाद, 13 जनवरी। ईरान और अमेरिका के बीच तनाव कम नहीं हो रहा है। हाल ही में ईरान ने रिवॉल्यूशनरी गार्ड कॉप्र्स के मुखिया जनरल कासिम सुलेमानी की मौत का बदला लेते हुए इराक स्थित दो अमेरिकी बेस पर एक दर्जन से ज्यादा बैलिस्टिक मिसाइलों से हमला किया था। ईरानी मीडिया ने दावा किया कि इस अटैक में करीब 80 अमेरिकी सैनिक मारे गए थे। यूएस ने इसका खंडन किया था। इराक की राजधानी बगदाद में बीते रविवार एक बार फिर अमेरिकी सैन्य ठिकाने पर रॉकेट दागे जाने का मामला सामने आया है।
अल जजीरा की खबर के अनुसार, इस हमले में चार इराकी सैनिकों के घायल होने की खबर है। अमेरिकी सैनिकों के हताहत होने से जुड़ी अभी कोई खबर नहीं है। मिली जानकारी के मुताबिक, रॉकेट यहां स्थित अल-बलाद एयरबेस पर दागे गए। इस बेस में अमेरिकन ट्रेनर, सलाहकार और एफ-16 लड़ाकू विमान की मेंनटेंस सर्विस से जुड़े सैनिक रहते हैं। अल-बलाद एफ-16 लड़ाकू विमानों का मुख्य एयरबेस है। बताया जा रहा है कि कुछ रॉकेट एयरबेस स्थित रेस्टोरेंट में आकर गिरे थे।
इस हमले में एयरबेस का रन-वे भी क्षतिग्रस्त हुआ है। रॉकेट अटैक में घायल हुए इराकी सैनिक एयरबेस के गेट पर तैनात थे। बेस में अमेरिकन एक्सपर्ट्स, ट्रेनर और एडवाइजर समेत काफी लोग थे। हमले में किसी के मारे जाने की खबर नहीं है। अभी तक किसी ने भी इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। ईरान और अमेरिका के बीच बढ़ते तनाव को देखते हुए हाल ही में यूएस ने अपने अधिकारियों और सैनिकों को इस एयरबेस से हटाना शुरू कर दिया था। बताया जा रहा है कि जिस समय यह हमला हुआ उस समय एयरबेस पर अमेरिकी नागरिक नहीं थे।
गौरतलब है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ईरान को धमकी दे चुके हैं कि वह युद्ध के पक्ष में नहीं हैं लेकिन अगर ईरान ने किसी भी अमेरिकी नागरिक या उनकी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। दूसरी ओर ईरानी मंत्रियों ने भी अमेरिका को जवाब देते हुए कहा कि वह भी युद्ध नहीं चाहते लेकिन अपनी आत्मरक्षा में हर मुमकिन जवाब जरूर देंगे। हाल ही में ईरान ने मिसाइल अटैक में यूक्रेन के एक यात्री प्लेन को मार गिराया था। इसमें 176 लोगों की मौत हो गई थी। ईरान ने अपनी गलती स्वीकारते हुए इसे मानवीय चूक बताया था। (भाषा)
 

Related Post

Comments