खेल

टेस्ट सीरीज: हमारा लक्ष्य नंबर 1 टीम की तरह खेलें: शास्त्री
टेस्ट सीरीज: हमारा लक्ष्य नंबर 1 टीम की तरह खेलें: शास्त्री
Date : 14-Feb-2020

के. श्रीनिवास राव

मुंबई, 14 फरवरी । न्यूजीलैंड दौरे पर गई भारतीय टीम ने भले ही 0-3 से वनडे सीरीज गंवा दी हो। लेकिन भारतीय टीम इसे लेकर अधिक चिंतित नहीं है और उसका फोकस अब आगामी टेस्ट सीरीज पर है। इस दो टेस्ट मैच की सीरीज शुरू होने से पहले कोच रवि शास्त्री ने कहा, 50 ओवर क्रिकेट का फिलहाल अभी कोई औचित्य नहीं है। इस समय टी20 सीरीज मायने रखती है, जो हमने 5-0 से जीती है और आगामी टेस्ट सीरीज के मायने हैं, जिसके मैच वेलिंग्टन और क्राइस्टचर्च में खेले जाएंगे।

वेलिंग्टन से हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए शास्त्री ने कहा, हमें लॉर्ड्स (वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल) में खेलने के लिए अभी 100 पॉइंट की और दरकार है। अगर हम 6 विदेशी टेस्ट में से 2 में जीत दर्ज करते हैं तो हम अच्छी स्थिति में रहेंगे। इस साल हम विदेशों में 6 टेस्ट खेलेंगे (2 न्यू जीलैंड में और 4 ऑस्ट्रेलिया में)। तो, हमारा यही लक्ष्य है कि हम नंबर 1 टेस्ट टीम की तरह यहां खेलें, क्योंकि हमारी टीम किसी और चीज से ज्यादा इस में भरोसा करती है और टेस्ट में हम इसी आधार पर खेल रहे हैं।

युवा खिलाडिय़ों के टीम में आने से मुख्य कोच बेहद उत्साहित हैं। पृथ्वी साव टेस्ट टीम में वापसी कर रहे हैं और शुभमन गिल को लेकर अटकलें हैं कि शायद उन्हें यहां डेब्यू का मौका मिल जाए। शास्त्री ने इन दोनों खिलाडिय़ों पर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा, दोनों खिलाड़ी सर्वोच्च प्रतिभा के धनी हैं। यह खास नहीं है कि वेलिंग्टन में इन दोनों में कौन प्लेइंग इलेवन में होगा, खास यह है कि वे दोनों यहां हैं और भारतीय राष्ट्रीय टीम का हिस्सा हैं।

शुभमन की तारीफ में शास्त्री ने कहा, उनमें असाधारण प्रतिभा है। वह जब बैटिंग करते हैं तो उनका पॉजिटिव माइंडसेट साफ झलकता है। 20-21 साल के लडक़े में यह देखकर अलग ही उत्साह महसूस होता है। उम्मीद की जा रही है कि इस टेस्ट सीरीज में चोटिल रोहित शर्मा के न होने से मयंक अग्रवाल के साथ पृथ्वी साव या शुभमन गिल को ओपनिंग का मौका मिल सकता है।

माइकल क्लाक$ का शादी के

7 साल बाद हुआ तलाक

इस पर शास्त्री से जब बात की गई तो उन्होंने कहा, वे सभी एक ही स्कूल के छात्र है, जो नई गेंद का सामना करना पसंद करते हैं, वे चुनौतियों का लुत्फ लेते हैं। दुर्भाग्य से रोहित चोटिल हैं तो इसके चलते शुभमन और पृथ्वी में से किसी एक के ओपनिंग को लेकर क्यास लगाए जा रहे हैं। टीम में ऐसी प्रतिस्पर्धा का होना जरूरी है और इसी आधार 15 खिलाडिय़ों की टीम तैयार होती है, जो हमेशा मजबूत और स्थिर दिखती है।

चोट ने इस टीम पर बड़ा असर डाला है। शिखर धवन, हार्दिक पंड्या, भुवनेश्वर कुमार और इशांत शर्मा टीम में इसी वजह से नहीं हैं। लगातार क्रिकेट के दबाव ने भी इसमें भूमिका निभाई है। शास्त्री ने इस पर कहा, हमारी कोर टीम के चार से पांच खिलाड़ी चोट के कारण बाहर हैं। भुवी यहां की परिस्थितियों में बेहद उपयोगी हो सकते हैं। इसलिए मैंने कहा कि उपलब्ध विकल्प हमेशा टीम के फायदे में होते हैं।

तेज गेंदबाज इशांत शर्मा अभी तक पूरी फिटनेस हासिल नहीं कर सके हैं और पहले टेस्ट के लिए उपलब्ध नहीं हो पाएंगे। भुवनेश्वर भी बाहर हैं, ऐसे में जिम्मेदारी जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी के कंधों पर पड़ेगी। कोच ने कहा, यह अहम है कि वे अभी अपने वर्कलोड को कैसे मैनेज कर रहे हैं। टी20 खेलने जरूरी थे क्योंकि यह फॉर्मेट इस साल और अगले साल भी (टी 20 वल्र्ड कप के कारण) महत्वपूर्ण है। टेस्ट क्रिकेट हमेशा सर्वोपरि होता है। हम केवल आशा कर सकते हैं कि बाकी खिलाड़ी जल्द से जल्द पूरी तरह से फिट हो जाएं।

न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 अंतरराष्टीय सीरीज 5-0 से जीतने वाली टीम काफी उत्साहित थी लेकिन शास्त्री के अनुसार, अभी काफी काम किया जाना है। उन्होंने कहा, 5-0 से जीत 3-2, 4-1 हो सकती थी। जैसा कि हम स्वीकार करते हैं, अंतिम परिणाम ही मायने रखता है। सीरीज हमारी थी, इसमें कोई संदेह पहले से नहीं था लेकिन 5-0 से क्लीन स्वीप एक मिठाई की तरह थी।

शास्त्री ने कहा, अब, जरूरी यह है कि हम किस तरह से मैच जितवा सकते हैं। नई चीजों को आजमाने, मिश्रण करने, कुछ नए चेहरों को उतारने के लिए द्विपक्षीय सीरीज सही होती हैं। वही हम कर रहे हैं। टीम में अभी चार से पांच खिलाड़ी 22 साल से कम उम्र के हैं। यह उन पर निर्भर है कि वे इन अवसरों का लाभ कैसे उठाते हैं।

लोकेश राहुल ने विकेटकीपिंग की अतिरिक्त जिम्मेदारी संभाली, वह शानदार बल्लेबाजी भी कर रहे हैं। उन्होंने कहा, यह लगभग वैसा ही है जैसे वह अतिरिक्त जिम्मेदारी के कारण खुद को मैच में ज्यादा शामिल कर पाते हैं।(नवभारत टाईम्स)

Related Post

Comments