कारोबार

पूरे सप्ताह बाजार खुले मुख्यमंत्री से आग्रह
पूरे सप्ताह बाजार खुले मुख्यमंत्री से आग्रह
22-May-2020

रायपुर, 22 मई। कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर परवानी, कार्यकारी अध्यक्ष मंगेलाल मालू, कार्यकारी अध्यक्ष विक्रम सिंहदेव, महामंत्री जितेंद्र दोषी, कार्यकारी महामंत्री परमानंद जैन, कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल एवं प्रवक्ता राजकुमार राठी ने बताया कि आज कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री अमर पारवानी के द्वारा माननीय मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से पत्राचार कर बाजारों में भीड़ कम करने एवं व्यापार में तेजी लाने के लिये इसे पूरे सप्ताह खुलवाने का आग्रह किया ।

श्री पारवानी ने मुख्यमंत्री  आग्रह किया कि राज्य के प्रमुख व्यापारिक केंद्र राजधानी के बाजारों को हफ्ते में सिर्फ 2 दिन खोलने की अनुमति मिली है। जबकि 22 मार्च से 17 मई तक व्यवसाय पूरी तरह बंद था, मात्र 2 दिन के व्यवसाय के बाद महीने भर के बैंकों का ब्याज, कर्मचारियों की तनख्वाह, दुकान का किराया और टैक्स चुका पाने में बहुत तकलीफ हो रही है। हमारी मांग है कि व्यापार को पूरे सप्ताह खोलने की अनुमति दी जानी चाहिए। इससे जहां बाजारों में भीड़ भी कम होगी, वहीं व्यापारी भी स्वस्फूर्त व्यापार कर पाएंगे। ग्राहकों को भी अलग-अलग सामानों के लिए बार-बार घर से निकलना नहीं पड़ेगा।

वर्तमान स्थिति यह है कि व्यापारियों और ग्राहकों को जरूरी सामानों के लिए बार-बार घरों से निकलना पड़ रहा है। इसकी वजह से भीड़ बढ़ रही है। ऑटोमोबाइल्स, सराफा, मोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक्स, इलेक्ट्रिकल्स, टाइल्स, मार्बल, सीमेंट, हार्डवेयर, पेंट, सेनेटरी, ग्लास, ग्रेनाइट, मार्बल, टाइल्स सीमेंट, लोहा, जूता, कपड़ा, ऑप्टिकल्स, स्टेशनरी, वॉटर फिल्टर, टीवी, एसी,फ्रिज, वांशिंग मशीन, कम्प्युटर, आईटी, मोबाइल शॉप सहित अन्य व्यापार जिससे राज्य सरकार को बड़ा राजस्व प्राप्त होता है। इसके लिए हफ्ते में सिर्फ 2 दिन की समय-सीमा निर्धारित की गई है। रायपुर प्रदेश का प्रमुख व्यापारिक केंद्र होने की वजह से प्रदेश तथा राजधानी से लगे ग्रामीण इलाके के अधिकतर व्यापारी राजधानी से ही माल खरीदते है, व्यापारी आज कल अपने माल का ऑर्डर मोबाइल या व्हास्टअप मे माध्यम से भी कर देता है, किंतु सप्ताह में 2 दिन ही व्यापार खुलने कारण व्यापारी परेशान है क्योंकि उनको समय पर माल नही मिल पा रहा है।ं तथा राजधानी के ग्राहकों को अलग-अगल समानों के लिये अलग-अलग दिन निकलना पड़ रहा है, जिसके कारण बाजार में आम जनता द्वारा सही तरीके से सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं हो पा रहा है। पूरे सप्ताह बाजार और व्यापार को खोलने से खरीदारी के लिए पर्याप्त समय मिलेगा, वहीं लोगों को सामान खरीदने में जल्दबाजी नहीं होगी और साथ-ही सोशल डिस्टेसिंग का भी सही तरीके से पालन हो सकेगा। राज्य सरकार से मांग है कि इस संबंध में राज्य की आर्थिक और व्यापारियों की वर्तमान स्थितियों के मद्देनजर गंभीरता से निर्णय लिया जाए। पूरे सप्ताह व्यापार करने के बाद सोशल डिस्टेसिंग के संबंध में जो भी दिशा-निर्देश होगा। उसका व्यापारिक संगठन और व्यापारियों की ओर से गंभीरता से पालन किया जाएगा।

कैट टीम निवेदन करना चाहती हैं की प्रदेश के व्यापारियों को देश के अन्य व्यापारियों के साथ केंद्र सरकार से यह आशा थी की सरकार द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज में व्यापारियों का ध्यान अवश्य रखा जाएगा और व्यापारियों पर पडऩे वाले वित्तीय बोझ को कम करने के लिए सरकार कोई आर्थिक राहत प्रदान करेगी किन्तु बेहद अफसोस का विषय है की केंद्र सरकार ने अपने पैकेज में व्यापारियों को एक भी राहत नहीं दी है ।

श्री पारवानी ने कहा कि हम  माननीय मुख्यमंत्री जी को ध्यान दिलाना चाहते हैं की लॉक डाउन की अवधि का व्यापारियों को कर्मचारियों को वेतन के भुगतान जैसे विभिन्न वित्तीय दायित्वों को पूरा किया है, जीएसटी का भुगतान, आयकर और अन्य सरकारी भुगतान, ईएमआई, व्यापारियों द्वारा लिए गए ऋण और अन्य आकस्मिक खर्चों पर बैंक ब्याज सहित अन्य अनेक वित्तीय  दायित्व पूरे करने बोझ भी हैं वहीँ दूसरी ओर  व्यापारिक लेनदेन में व्यापारियों द्वारा दिए गए उधार माल की राशि  बाजारों के खुलने के दिन से 45-60 दिनों के अंदर वापिसी की शुरुआत होने की सम्भावना है । ये हालात वित्तीय संकट के इन समय में व्यापारियों के लिए बहुत भारी होंगे ।

श्री पारवानी ने आगे कहा कि ऐसी परिस्थितियों में हमारा माननीय मुख्यमंत्री जी  आग्रहपूर्वक निवेदन है की प्रदेश की सभी दुकानों को सप्ताह में दो दिन के स्थान पर पांच दिन तक खोलने की अनुमति दी जाए तथा शनिवार और रविवार को अवकाश रखा जाए । इससे व्यापारी ज्यादा से ज्यादा व्यापार कर पाएंगे और किसी भी तरह अपने ऊपर बढऩे वाले वित्तीय बोझ को सहन कर पाएंगे । हम आपको यह विश्वास दिलाते हैं की प्रदेश के सभी व्यापारी सरकार द्वारा सुरक्षा को लेकर दिए गए आदेश का अक्षरश: पालन करेंगे।

अन्य खबरें

Comments