ताजा खबर

मुझे झूठे मामले में फंसाया गया : पत्रकार राजीव शर्मा
20-Sep-2020 7:02 PM 10
मुझे झूठे मामले में फंसाया गया : पत्रकार राजीव शर्मा

नई दिल्ली, 20 सितंबर (आईएएनएस)| ऑफिसियल सीक्रेट एक्ट के तहत गिरफ्तार किए गए फ्रीलांस पत्रकार राजीव शर्मा ने अपनी जमानत याचिका में दिल्ली की एक अदालत से कहा कि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है, बल्कि उन्हें झूठे मामले में फंसाया है।

पटियाला हाउस कोर्ट में मंगलवार को मामले की सुनवाई होने की संभावना है।

शर्मा ने वकील अमीश अग्रवाल के माध्यम से दायर याचिका में कहा, "याचिकाकर्ता को झूठे मामले में फंसाया जा रहा है। याचिकाकर्ता ने कोई अपराध नहीं किया है।"

याचिका में यह भी कहा गया कि शर्मा को दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ (जनकपुरी) ने 14 सितंबर को हिरासत में ले लिया था। उनके घर पर 14 सितंबर की रात पुलिस द्वारा तलाशी ली गई और 'कोई भी आपराधिक सबूत नहीं मिला था।'

दिल्ली पुलिस के अनुसार, शर्मा को ओएसए के तहत स्पेशल सेल ने चीनी इंटेलीजेंस को खुफिया जानकारी देने के मामले में गिरफ्तार किया है। एक चीनी महिला और एक नेपाली पुरुष को भी गिरफ्तार किया गया है।

शर्मा की जमानत याचिका में कहा गया है कि वह एक दशक से उच्च रक्तचाप सहित विभिन्न बीमारियों से पीड़ित हैं।

जमानत याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता की उम्र लगभग 61 वर्ष है, और साइनस से पीड़ित हैं, और उन्हें नेबुलाइजर के माध्यम से निरंतर उपचार की जरूरत है। उन्होंने दो सर्जरी भी करवाई हैं। वह उच्च रक्तचाप के मरीज भी हैं।

वकील ने कहा कि शर्मा के परिवार को उनके पास जाने की अनुमति नहीं है, न ही उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों के बारे में कोई जानकारी दी गई है।

याचिका में कहा गया है, "एफआईआर की कोई भी कॉपी ऑनलाइन अपलोड नहीं की गई है। कई अनुरोधों के बावजूद पुलिस ने एफआईआर की कॉपी नहीं दी है।"

शर्मा ने यह भी दावा किया कि समाज में उनकी अच्छी प्रतिष्ठा है और एक सम्मानित वरिष्ठ पत्रकार हैं।

याचिका में कहा गया कि उनकी पत्नी दिल्ली विश्वविद्यालय के वेंकटेश्वर कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर हैं। इसलिए, उनके न्याय की प्रक्रिया से भागने का सवाल नहीं उठता।

स्पेशल सेल ने वरिष्ठ पत्रकार को गिरफ्तार किया और आरोप लगाया कि वह चीनी खुफिया विभाग के लिए काम कर रहे थे।

स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव यादव ने कहा था, "उनकी (राजीव शर्मा) पुलिस हिरासत के दौरान, चीनी महिला किंग शी और उसके नेपाली पार्टनर शेर सिंह उर्फ राज बोहरा को भी इंटेलिजेंस को संवेदनशील जानकारी देने के लिए हवाला चैनलों के माध्यम से शर्मा को भारी मात्रा में पैसा देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।"

पुलिस ने दावा किया था कि कुछ दिनों पहले, एक खुफिया एजेंसी से एक गुप्त जानकारी मिला था कि पीतमपुरा में सेंट जेवियर अपार्टमेंट में रहने वाले राजीव शर्मा के विदेशी खुफिया अधिकारियों के साथ संबंध हैं और वह राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेशी संबंधों से संबंधित संवेदनशील जानकारी देकर अवैध तरीके से और वेस्टर्न यूनियन मनी ट्रांसफर प्लेटफॉर्म के माध्यम से अपने हैंडलर्स से धन प्राप्त कर रहे थे।

स्पेशल सेल पुलिस स्टेशन द्वारा 13 सितंबर को ऑफिशल सीक्रेट एक्ट की धारा 3, 4 और 5 के तहत एक मामला दर्ज किया गया था। शर्मा को 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था और दिल्ली पुलिस ने उनके आवास की तलाशी के लिए एक सर्च वारंट प्राप्त किया था।

--आईएएनएस

अन्य पोस्ट

Comments