कवर्धा

11 सूत्रीय मांगों को लेकर हाईवे पर सर्व आदिवासी समाज का घंटों चक्काजाम
31-Aug-2021 9:00 PM (182)
11 सूत्रीय मांगों को लेकर हाईवे पर सर्व आदिवासी समाज का घंटों चक्काजाम

 

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बोड़ला, 31 अगस्त। नगर के मोहगांव रोड पर स्थित मिलन चौक एनएच 30 पर कल छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज रायपुर के प्रांतीय आह्वान पर छत्तीसगढ़ सर्व आदिवासी समाज जिला इकाई कबीरधाम द्वारा अपनी संवैधानिक 11 सूत्रीय मांगों को लेकर मांगों को लेकर चक्का जाम किया गया।

एनएच-30 पर बैठे सर्व आदिवासी समाज की प्रमुख 11 मांगों में सुकमा जिले के सिलेगर में निर्दोष ग्रामीणों की मौत को लेकर तथा पदोन्नति में आरक्षण के संबंध में उच्च न्यायालय के स्थगन समाप्त नहीं हो जाने तक किसी भी हालत में अनुसूचित जाति जनजाति के लिए आरक्षित रिक्त पदों को नहीं भरे जाने उसे सुरक्षित रखे जाने को लेकर, शासकीय नौकरी में बैकलॉग एवं नई भर्तियां पर आरक्षण रोस्टर लागू करने को लेकर, पांचवी अनुसूची क्षेत्र में तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी भर्ती में 100 प्रतिशत आरक्षण लागू किए जाने को लेकर, प्रदेश में खनन के लिए जमीन अधिग्रहण के स्थान पर लीज में जमीन लेकर जमीन मालिक को शेयर होल्डर बनाया जाए, गौण खनिज का पूरा अधिकार ग्राम सभा को दिया जाए, फर्जी जाति प्रकरण पर दोषियों पर शीघ्र कार्रवाई हो, मात्रात्मक छुट्टी में सुधार किया जा कर और 18 जनजाति को जाति प्रमाण पत्र जारी किया जाए, छात्रवृत्ति योजना में आदिवासियों के लिए ईडब्ल्यूएस के तहत आय सीमा को ढाई लाख से बढ़ाकर आठ लाख किया जाए।

आदिवासी समाज की लडक़ी से अन्य जाति समाज में शादी होने पर इनके नाम की जमीन  वापस लिया जाए, आदिवासी उत्पीडऩ जैसे जमीन का हस्तांतरण महिला एवं बच्चों पर अत्याचार हत्या जातिगत  पर तत्कालिक कार्रवाई किया जाए, अनुसूचित जाति के बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जाने  व्यवसायिक परिसर का निर्माण किया जाए इसके अलावा कबीरधाम जिला अस्पताल में डॉक्टर सुरेंद्र को सम्मान बहाल किया जाए तथा जिले में हो रहे धर्मांतरण पर भी रोक लगाने हेतु आवश्यक कार्रवाई किया जाए। इन सभी मांगों को लेकर सर्व आदिवासी समाज के द्वारा एनएच पर चक्का जाम किया गया।
प्रदर्शन में जिला अध्यक्ष युवा प्रभाग सगनु सिंह धुर्वे सुखनंदन धुर्वे, मुखी राम मरकाम, गजराज टेकाम वीरेंद्र, कामू बैगा, आसकरण धुर्वे अंजोरसिंह सिदार माया दर्रो, ममता धुर्वे, मीनाक्षी धुर्वे प्रांतीय उपाध्यक्ष, राजकुमारी धुर्वे अश्वनी धुर्वे सहित समाजअन्य के लोगों ने समाज के संवैधानिक मांगों को पूरा यह जानने के आंदोलन में अपनी सहभागिता प्रदान की।

अन्य पोस्ट

Comments