सरगुजा

आर्थिक कमजोर बच्चे भी अब उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में पढक़र गढ़ेंगे भविष्य
13-Sep-2021 10:50 PM (36)
  आर्थिक कमजोर बच्चे भी अब उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में पढक़र गढ़ेंगे भविष्य

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

अम्बिकापुर, 13 सितंबर। सर्व सुविधायुक्त निजी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में पढऩे का ख्वाब तो सुदूर वनांचल के आर्थिक रूप से कमजोर तबके के बच्चे भी देखते है लेकिन इन स्कूलों की मोटी फीस उनके ख्वाब पूरे नहीं होने देते। राज्य शासन ने स्वामी आत्मानन्द शासकीय उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोलकर दूरस्थ वनांचल के बच्चां के ख्वाब को पूरे करने का बीड़ा उठाया है। अब सरगुजा जिले के दूरस्थ वनांचल क्षेत्र के आर्थिक रूप से कमजोर तबके के बच्चे भी स्वामी आत्मानन्द उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में पढक़र अपना बेहतर भविष्य गढ़ सकेंगे।

जिले में शैक्षणिक सत्र 2020-21 में अम्बिकापुर के ब्रम्हपारा स्थित शासकीय उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय तथा सीतापुर विकासखण्ड के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय देवगढ़ में स्वामी आत्मानन्द शासकीय उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय प्रारंभ किया गया।नवीन शैक्षणिक सत्र 2021-22 में जिले के विकासखंड लखनपुर, उदयपुर, लुण्ड्रा एवं मैनपाट में भी स्वामी अत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय प्रारंभ किया गया है। इस प्रकार अब जिले के सभी 7 विकासखण्डों में उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय संचालित हो रहे है। सभी विद्यालयों में छात्रों का प्रवेश कक्षा 01 से लेकर 12वीं तक नियमानुसार किया गया है वर्तमान में जिले के स्वामी आत्मानंद विद्यालय में 2743 छात्र अध्ययनरत है। नियुक्ति हेतु शेष शिक्षकों की संविदा नियुक्ति की जा रही है।

कलेक्टर संजीव कुमार झा के मार्गदर्शन में पिछले वर्ष से संचालित दो विद्यालयों में सभी अध्यापन कक्षों को सुसज्जित किया गया है। कक्षाओं की मरम्मत और आंतरिक सजावट संबंधी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई है। डिजीटल क्लासरूम शिक्षा गुणवत्ता में सुधार हेतु प्रत्येक कक्षाओं का मरम्मत कर उसे आकर्षक बनाया गया है। कक्षाओं में डिजिटल कक्षाएं संचालित किये जा रहे हैं डिजिटल कक्षाओं के संचालन हेतु सभी शिक्षकों को प्रशिक्षित किया गया है। विज्ञान की जिज्ञासाओं को दूर करने हेतु सुसज्जित रसायन, जीव विज्ञान एवं भौतिकी लैब को रेनोवेट कर आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई गई है। शिक्षकों द्वारा बच्चों की विज्ञान संबंधी जिज्ञासाओं को जागृत करने का प्रयास किया जाता है। इसके अलावा कंप्यूटर, फर्नीचर रैक की व्यवस्था करते हुए ई-लाइब्रेरी के रूप में विकसित किया जा रहा है। विद्यालय में बच्चों को डिजिटल शिक्षा को बढावा देने हेतु सुसज्जित कम्प्यूटर लैब की स्थापना की गई है।

कार्यालय के सुचारू संचालन हेतु व्यवस्थित प्राचार्य कक्ष तैयार किया गया है जहां पर सेन्ट्रल माईक सिस्टम लगाया गया है। सीसीटीवी से नियमित रूप से मॉनिटरिंग किया जाता है। मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम के तहत बच्चों को व्यवस्थित एवं गुणवत्ता पूर्ण भोजन दिया जा रहा है उनके लिए अलग से वासरूम, बैठक व्यवस्था, मैस रूम की व्यवस्था की गई है।

विद्यालय में संचालित समस्त कक्षाओं, लेबोरेटरी एवं कम्प्यूटर लैब को वाई-फाई युक्त किया गया है। सम्पूर्ण शिक्षा आनलाईन व ऑफलाइन दोनों का संचालन किया जा रहा है। जिला खनिज न्यास मद से विद्यालय में बालिकाओं एवं महिला स्टाफ हेतु गर्ल्स कॉमन रूम की व्यवस्था की गई है वहां पर बैठने की व्यवस्था, सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन, वाटर कूलर एवं प्यूरीफायर की व्यवस्था, इत्यादि की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर किया गया है। छात्रों व पुरूष शिक्षकीय स्टाफ हेतु अलग-अलग शौचालय की व्यवस्था की गई है। दिव्यांगों के लिए भी अलग से आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए शौचालय की व्यवस्था की गई है। इसी प्रकार इस शैक्षणिक सत्र पांच विकासखण्डों में शुरू हुए विद्यालयों में अधोसंरचना निर्माण का कार्य तेजी से किया जा रहा है। इसके साथ ही फर्नीचर एवं आवश्यक उपकरणों से सुसज्जित किया जा रहा है।

कोविड संक्रमण को ध्यान में रखते हुए पूरे स्कूल परिसर को समय-समय पर सैनिटाइज किया जाता है। परिसर में सैनिटाइजर मशीन व थर्मल स्कैनर इत्यादि की व्यवस्था की गई है।

अन्य पोस्ट

Comments