रायगढ़

बहन के पति ने की थी हत्या, बंदी
14-Oct-2021 3:45 PM (60)
बहन के पति ने की थी हत्या, बंदी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 14 अक्टूबर।
महिला की हत्या करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हत्यारा मृतका की छोटी बहन का पति निकला।
पुलिस के अनुसार 11 अक्टूबर को कोतरारोड क्षेत्रांतर्गत ग्राम गोरखा में रहने वाली अधेड़ महिला की हत्या की सूचना गांव के कोटवार द्वारा मोबाईल के जरिये कोतरा रोड टीआई को दी थी। पुलिस अधीक्षक के निर्देशानुसार एवं अति पुलिस अधीक्षक एवं नगर पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन मे थाना स्टाफ एवं विशेष टीम बनाकर आरोपी की पतासाजी की जा रही थी। घटना के दिन ही महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे थे। संदेही आरोपी को नावापाली से घेराबंदी कर पूछताछ हेतु थाना कोतरा रोड लाया गया था।

कड़ाई से पूछताछ के दौरान संदेही आरोपी पूर्णचन्द जैपुरिया (48)बेलडीपा थाना हिमगीर जिला सुन्दरगढ़ ओडिशा वर्तमान निवास नवापाली थाना चक्रधर नगर जिला रायगढ़ छग ने बताया कि वर्ष 2012 में बेलडीपा में भाई लक्ष्मण जैपुरिया एवं पदमन जैपुरिया के साथ मिलकर जमीन संबंधी विवाद के चलते रिश्ते के भतीजे माधव जैपुरिया की हत्या किये थे, सुन्दरगढ़ जेल में लगभग 10 वर्ष निरूद्ध रहा। पेशी के दौरान सुन्दरगढ़ न्यायालय से फरार होकर मंै उत्तर प्रदेश चला गया था, जहां चार माह रहा। बाद में वापस आया, तब टपरिया (ओडिशा) में गिरफ्तार हुआ, जेल में 10 वर्ष रहने पश्चात आज से 6 माह पूर्व जेल से रिहा हुआ। रिहा होने के बाद अपने भाई के साथ पचपेड़ी हिमगीर (ओडिशा) में 3 माह रहा। उसके बाद वहां से आकर अपनी पत्नी और बच्चों के साथ करीब डेढ़ माह पतरापाली थाना कोतरारोड में रह रहा था। इसी दौरान मैं अपने जमीन खेत को 10 हजार में गिरवी रखकर पैसे को पत्नी को दिया था तथा जेल में रहने के दौरान ही जेल के अंदर दरी-गमछा बनाकर कुछ पैसा कमाता था। उन पैसों को भी पत्नी और बच्चे को मुझसे मिलने के दौरान उनको पैसे दे देता था।

पतरापाली मेें रहने के दौरान मेरी पत्नी बच्चे मुझे छोडक़र गोरखा, जहां मेरी डेढ़ सास रहती है। उन्हीं के घर के पास चले गए थे, जहां मंै उनसे मिलने का प्रयास किया, लेकिन मेरी पत्नी एवं बच्चे मेरे साथ रहने के लिए तैयार नहीं हुए। मुझे गाली गलौज कर भगा दिये। पत्नी की बहन मीरा गुरूंग मेरी पत्नी और बच्चों को मेरे खिलाफ भडक़ाती थी। उसी के भडक़ाने के कारण पत्नी और बच्चे मेरे साथ रहने के लिए तैयार नहीं थे और इधर-उधर भटक रहा था और मैं अपने भांजे के पास ग्राम नवापाली चला गया था।  

इसी कारण मीरा गुरूंग से बदला लेने का सोच रहा था कि 11 अक्टूबर को नवापाली से सुबह करीबन 9 बजे टंगिया लेकर सायकल से निकलकर ग्राम गोरखा मीरा गुरूंग के घर गया। मुझे मालूम था कि उसके पति, लडक़ा और लडक़ी काम करने बाहर चले जाते है।
घर पहुंचते ही मीरा गुरूंग मुझे देखकर गाली गलौच करने लग,  जिससे गुस्से में आकर हाथ में रखे टंगिया से उसके गले, सिर और बांह में 07-08 बार वार किया, वहां से दरवाजा खींचकर भागकर अपने सायकल से वापस निकला और रास्ते में टंगिया और कपड़ा को गांव के पास झाड़ी में फेंक दिया और वहां से नवापाली वापस चला गया बताया। आरोपी के निशानदेही पर हत्या मेें प्रयुक्त टंगिया और पहने कपड़े तथा सायकल को जब्त किया गया है।

 

अन्य पोस्ट

Comments