रायगढ़

रेडी टू ईट का काम महिला स्व सहायता समूहों से छीनना भूपेश सरकार का महिला विरोधी निर्णय - विकास
27-Nov-2021 5:05 PM (53)
रेडी टू ईट का काम महिला स्व सहायता समूहों से छीनना भूपेश सरकार का महिला विरोधी निर्णय - विकास

महिलाओं को सशक्त किए बिना नहीं गढ़ा जा सकता नवा छत्तीसगढ़

 ‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
रायगढ़, 27 नवंबर। 
पूर्व भाजयुमो जिलाध्यक्ष व प्रदेश कार्यसमिति सदस्य विकास केडिय़ा ने छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा प्रदेश में रेडी टू ईट पोषण आहार का कार्य छत्तीसगढ़ की महिला स्व-सहायता समूहों से छिनकर छत्तीसगढ़ राज्य बीज निगम एवं कृषि विकास निगम को दिए जाने के निर्णय को महिला विरोधी निर्णय बताते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में विगत कई वर्षों से रेडी टू ईट बनाने और वितरण करने का काम छत्तीसगढ़ की महिला स्व सहायता समूहों से जुड़ी प्रदेश की 20 हजार से भी अधिक महिलाएं काम कर रही हैं, परंतु भूपेश सरकार के द्वारा एकाएक इसको अब परिवर्तन कर छत्तीसगढ़ राज्य बीज निगम एवं कृषि विकास निगम को सौंपा जा रहा है, जो कि राज्य की हजारों महिलाओं के साथ घोर अन्याय हैं और उन्हें आर्थिक रूप से कमजोर करने वाला निर्णय है जिसका प्रदेश भाजपा पुरजोर विरोध करेगी।

युवा भाजपा नेता श्री केडिय़ा ने आगे यह भी कहा कि हम जिस प्रदेश में रहते है, वह देश का पहला राज्य है जिसे महतारी (मां) से सम्बोधित किया जाता है। उस प्रदेश की महिलाओं को सशक्त किए बिना ‘नवा छत्तीसगढ़’ नहीं गढ़ा जा सकता है। आगे श्री केडिय़ा ने कहा कि सरकार के द्वारा छत्तीसगढ़ की माताओं बहनों से काम छीनकर उन्हें बेरोजगार करने और आर्थिक रुप से कमजोर करने के लिए यह निर्णय लिया गया है। भूपेश सरकार को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए और पूर्व की भांति रेडी टू ईट कार्य में महिला स्व सहायता समूहों की भागीदारी ही सुनिश्चित की जानी चाहिए। 

अन्य पोस्ट

Comments