महासमुन्द

जिले में इस बार 149 केंद्रों में होगी धान खरीदी
29-Nov-2021 4:41 PM (49)
जिले में इस बार 149 केंद्रों में होगी धान खरीदी

बारदाना सहित अन्य तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा

मंगलवार से टोकन काटे जाएंगे

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुंद, 29 नवंबर।
जिले में इस बार 149 खरीदी केंद्रों में धान खरीदे जाएंगे। खरीदी केंद्रों में बारदाना सहित आवश्यक तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। रविवार और सोमवार को दो दिन ऑनलाइन तौर पर टोकन काटने की व्यवस्था का ट्रायल किया जा रहा है, जिससे तकनीकी खामी ज्ञात हो और इसे सुधारा जा सके। इसके बाद मंगलवार से जिले के सभी खरीदी केंद्रों में किसानों के टोकन काटे जाएंगे। जिला खाद्य अधिकारी नीतीश त्रिवेदी ने बताया कि इस बार जिले में धान खरीदी का अनुमानित लक्ष्य 85 लाख क्विंटल निर्धारित किया गया है।

गौरतलब है कि पिछले वर्ष 75 लाख क्विंटल धान की खरीदी जिले में की गई थी। इस बार पंजीकृत डेढ़ लाख किसान धान विक्रय करेंगे। जिले में पिछली बार की अपेक्षा इस बार खरीदी केंद्र की संख्या बढ़ी है। अब 149 खरीदी केंद्रों में धान खरीदे जाएंगे। किसानों की सुविधा और मांग को देखते हुए धान खरीदी केंद्र बढ़ाये गए हैं।

जिले में किसानों के हालात की बात करें तो धान कटाई के बाद इसके शीघ्र विक्रय को लेकर गंभीर रूप से हाथी प्रभावित क्षेत्र सिरपुर के किसान खासे परेशान हैं। किसानों का कहना है कि धान की खुशबू पाकर हाथी खेत, खलिहान तक पहुंचते हैं। वे धान को बिखराते हैं। नुकसान पहुचाते हैं। सुरक्षा के तैनात लोगों में हाथी से जान का भय बना रहता है। खलिहान में धान की सुरक्षा के दौरान किसान इसी भय के कारण सोते तक नहीं और हर रात जगराता करते हैं।

हाथी भगाओ फसल बचाव समिति संयोजक राधेलाल सिन्हा का कहना है कि सिरपुर क्षेत्र के गांव में धान खरीदी नियत समय पर शुरू कर तत्परता से खरीदी की जाए। जिससे क्षेत्र के किसान धान बेचकर भयमुक्त हो सके। सिरपुर क्षेत्र के खरीदी केंद्रों में हाथियों के आमद को लेकर भय व्याप्त है। बीते वर्षों में भी खरीदी केंद्रों में हाथियों ने जमकर उत्पात मचाया था।
समिति की मांग है कि यहां बपर लिमिट होने से पूर्व ही धान का उठाव किया जाता रहे तो समस्या व सुरक्षा की चिंता नहीं रहेगी।
 

अन्य पोस्ट

Comments