कोरिया

आज से धान खरीदी, टोकन लेने किसानों की कतारें
30-Nov-2021 8:15 PM (101)
आज से धान खरीदी, टोकन लेने किसानों की कतारें

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

बैकुंठपुर (कोरिया) 30 नवंबर। प्रदेश में 1 दिसंबर से समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन केंद्रों के माध्यम से किसानों से धान की खरीदी की शुरूआत होगी। जिसके लिए प्रशासन ने सभी तरह के आवश्यक व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए है। वहीं धान खरीदी केन्द्रों पर पहले दिन टोकन लेने किसानों की लंबी-लंबी कतारें देखी गई।

कोरिया जिले में ज्यादातर किसानों ने धान की फसल काटकर धान को विक्रय करने के लिए तैयार कर लिया है, हालांकि अभी भी कई किसानों के खेतों में धान की फसल कट कर पड़ी हुई है। एक दिसंबर से धान खरीदी शुरू हो जाएगी, जिसके बाद काफी संख्या में किसान विभिन्न खरीदी केन्द्र पहुंचेंं और टोकन लेने के लिए उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ा। वहीं बीते वर्ष की तरह कई नई समितियों की भी शुरूआत की है।

खरीदी की तैयारी पूरी
कोरिया जिले की सभी समितियों में कलेक्टर श्याम धावड़े के निर्देश पर समितियों में तराजू बांट का सत्यापान, ममी मापक यंत्र का सत्यापन हो चुका है, डैमेज के रखने की व्यवस्था, घेराव, खरीदी के तमाम रिकार्ड व रजिस्टर, तिरपाल, सुजा, सुतली लाइटिंग की व्यवस्था पूरी कर ली गई है। इससे पूर्व कलेक्टर ने कई केन्द्रों को दौरा करके सभी व्यवस्था पूरी करने का निर्देश दिए थे।

गांव-गांव में बिचौलिए हो चुके हंै सक्रिय
एक तरफ सरकार किसानों के धान उपज का सही दर देने के लिए समर्थन मूल्य घोषित कर धान खरीदी की शुरूआत करने जा रही है। इसी बीच बिचौलिये भी गांव-गांव में सक्रिय हो गये हैं और बिचौलियों के द्वारा किसानों से कौड़ी के भाव से धान की खरीदी करना शुरू कर दिये हैं। किसानों से खरीदी किये गये धान को दूसरे किसानों के खातों के माध्यम से समितियों को बेचने का कार्य किया जाएगा।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कोरिया जिले के बैक्ुंठपुर के साथ सोनहत वनांचल क्षेत्र के गांव-गांव में बिचौलिये सक्रिय हंै और ग्रामीण किसानों को झांसे में लेकर 10 रूपये प्रति किलो की दर से धान की खरीदी करने में जुटे हुए हंै। वर्तमान में शादी विवाह का सीजन चल रहा है, ऐसे में ग्रामीण परिवारों को रूपये की जरूरत है इसलिए ग्रामीण किसान अपनी आवश्यकता के लिए तत्काल नगद रूपये मिलने की आस के चलते बिचौलियों को धान जरूरत के अनुसार बेच रहे हंै। इस दिशा में प्रशासन को इसकी जांच कराकर बिचौलियों पर कड़ी कार्रवाई करने की जरूरत है।

अन्य पोस्ट

Comments