धमतरी

ठंड बढ़ी, जिला अस्पताल में बढ़े सर्दी-खांसी के मरीज
28-Nov-2022 3:10 PM
ठंड बढ़ी, जिला अस्पताल में  बढ़े सर्दी-खांसी के मरीज

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता 
 धमतरी, 28 नवंबर।
15 नवंबर के बाद से जिले में ठंड का सीजन शुरू हो गया है। वातावरण में नमीं आने के चलते दिन और रात के तापमान में भी गिरावट हो रही है। सोमवार को दिन का अधिकत तापमान 28 डिग्री सेंटीग्रेट तथा रात का न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेंटीग्रेट दर्ज किया गया। इस तरह दिन और रात के तापमान में 15 डिग्री सेंटीग्रेट का अंतर आया है। सर्द-गर्म मौसम के चलते युवा, बच्चे और बुजुर्ग वायरल फीवर के संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। कई लोग पिछले 15 दिनों से सर्दी, बुखार और खांसी से पीडि़त है, काफी इलाज कराने के बाद भी उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं हो रहा है।

जिला अस्पताल में महिला और पुरूष के अलावा बुजुर्गों के लिए पर्ची बनाने अलग से काउंटर बनाया गया है। इसके बाद भी यहां मरीजों की भारी भीड़ लगी रही। ओपीडी और आईपीडी भी मरीजों से फूल रहा। महिला एवं पुरूष वार्ड में बिस्तर मरीजों से भरा हुआ है। ठंड के चलते बच्चे निमोनिया के गिरफ्त में आ रहे हैं। इस साल ठंड ज्यादा पडऩे से पिछले साल की तुलना में इस साल निमोनिया के मरीजों में भी वृद्धि हुई है।

उत्तर दिशा से आ रही हवा
उत्तर दिशा की ओर से आने वाली हवाओं के चलते ठंड काफी बढ़ गई है। इससे मौसम में नमीं आने से सर्दी, खांसी और बुखार का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। यही वजह है कि बच्चे के साथ ही युवा भी अब वायरल फीवर के संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। ऐसे में इलाज कराने के लिए जिला अस्पताल में भीड़ बढ़ गई है। यहां चेकअप तो रहा है, लेकिन जरूरत के हिसाब दवा नहीं मिल रही है। इससे लोगों की परेशानी बढ़ गई है।  
 

प्रतिदिन 70 लोगों का  हो रहा एंटीजन टेस्ट
जिला अस्पताल के डॉक्टरों की मानें तो सामान्य सर्दी, खांसी, बुखार और कोरोना संक्रमण के लक्षण वाले मरीजों की पहचान करना काफी मुश्किल है। यही वजह है कि संदिग्ध लगने वाले मरीजों का कोरोना एंटीजन टेस्ट कराया जा रहा है, हालांकि पॉजीटिव दर न के बराबर है। इसके बाद भी मरीजों को एहतियात बरतने के लिए कहा जा रहा है।
 

सर्दी से बुजुर्गों को श्वास  लेने में हो रही परेशानी
कोरोना संक्रमण का असर कम होने के बाद भी सर्दी के चलते श्वास लेने संबंधी बीमारी से पीडि़त मरीज जिला अस्पताल में इलाज के लिए आ रहे हैं। मेडिकल विशेषज्ञ डॉ संजय वानखेड़े ने बताया कि लंबे समय तक सर्दी, खांसी होने पर फेफड़े में संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। उन्होंने मरीजों को गरम पानी का सेवन करने की हिदायत दी है। 

 

अन्य पोस्ट

Comments

chhattisgarh news

cg news

english newspaper in raipur

hindi newspaper in raipur
hindi news