छत्तीसगढ़ » रायपुर

चेंबर में विवाद, अध्यक्ष बरलोटा ने पद छोड़ा

Posted Date : 14-Sep-2018

सोशल मीडिया में पत्र
छत्तीसगढ़ संवाददाता

रायपुर, 14 सितंबर। छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। बताया गया कि बरलोटा पिछले कुछ समय से पदाधिकारियों के बीच आपसी विवाद से नाखुश चल रहे थे। उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए पद छोडऩे की सूचना दी है। इस पूरे मामले में उनसे संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन चर्चा नहीं हो पाई।
चेंबर से जुड़े सूत्रों के मुताबिक विवाद उस समय शुरू हुआ जब चेंबर के वरिष्ठ उपाध्यक्ष भरत बजाज ने हिसाब-किताब को लेकर कोषाध्यक्ष से जानकारी चाही। उन्होंने सोशल मीडिया में यह भी कह दिया था कि यदि किसी तरह की गड़बड़ी पाई जाती है, तो वे एफआईआर करा सकते हैं। इसके बाद चेंबर के कुछ पदाधिकारियों ने नाराजगी जाहिर की। 
चेंबर के कोषाध्यक्ष प्रकाश अग्रवाल ने इस पर कड़ा ऐतराज किया और उन्होंने बजाज के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। महामंत्री लालचंद गुलवानी भी इसके समर्थन में रहे। विवाद बढ़ता देख बजाज को नोटिस जारी की गई। कुछ दिनों तक मामला शांत रहा। इसके बाद रोजमर्रा के खर्चों को लेकर कोषाध्यक्ष ने भुगतान रोक दिया। चेंबर अपनी वेबसाइट बनवा रहा है। इसकी जिम्मेदारी उपाध्यक्ष विनय बजाज संभाल रहे थे। इस पर करीब तीन लाख 80 हजार रुपये खर्च होने थे। वेबसाइट बनकर तैयार हो चुका था, तब महामंत्री लालचंद गुलवानी और प्रकाश अग्रवाल का एक बयान आया कि वेबसाइट 50 हजार में तैयार हो जाता है। उन्होंने इस खर्चें को लेकर सवाल खड़े किए। 
इस पर विनय बजाज ने कड़ी आपत्ति जताई। चेंबर अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा पिछले कई दिनों से पदाधिकारियों के बीच विवाद को सुलझाने की कोशिश में जुटे थे, लेकिन इसमें सफलता नहीं मिल रही थी। 
सोशल मीडिया में बरलोटा ने एक अपील जारी की, जिसमें उन्होंने लिखा है कि उनके अध्यक्षीय कार्यकाल में पहला पर्युषण पर्व आया है। उन्होंने कहा कि जिसमें हमारे जैन धर्म में क्षमापना एक ऐसा शब्द है, जिसमें जाने-अनजाने में किसी का दिल दुखा है। किसी से क्लेश हुआ है, मनमुटाव हुआ है, तो क्षमा याचना कर मन को हल्का किया जा सकता है। उन्होंने चेंबर के सभी पदाधिकारियों और सदस्यों को संबोधित करते हुए कहा कि जाने-अनजाने में एक छोटे से कार्यकाल में मेरे व्यवहार से आपके मन में कोई ठेस पहुंची है, तो वे क्षमापना के इस महान पर्व पर क्षमा याचना कर बंधन मुक्त हो रहा हूं। सोशल मीडिया में उनके पत्र से हड़कंप मच गया है। चेंबर पदाधिकारियों ने उनसे चर्चा की कोशिश की, किं तु किसी से चर्चा नहीं की। 




Related Post

Comments