कोण्डागांव

कोण्डागांव, आश्रम शाला के पास फटा ट्रांसफार्मर, 6 छात्राएं बेहोश
कोण्डागांव, आश्रम शाला के पास फटा ट्रांसफार्मर, 6 छात्राएं बेहोश
Date : 13-Aug-2019

आश्रम शाला के पास फटा ट्रांसफार्मर, 6 छात्राएं बेहोश

छत्तीसगढ़ संवाददाता
कोण्डागांव, 13 अगस्त।
विकासखंड कोण्डागांव अंतर्गत ग्राम पंचायत उमरगांव ब में 12 अगस्त की देर शाम बिजली विभाग का ट्रांसफार्मर फट गया। इसका प्रभाव पास में ही संचालित आदिम जाति कल्याण विभाग के आश्रम शाला में भी पड़ा और आश्रमशाला के कमरों में लगे बिजली के बल्ब फट गए। इतना ही नहीं बिजली के बल्ब फटने से यहां रह रही छ: छात्राएं मूर्छित हो गई। इसके बाद सभी को नजदीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चिपावंड ले जाया गया। चिपावंड अस्पताल से 4 बच्चियों को जिला अस्पताल आरएनटी में भेजा गया है। यहां चारों छात्राओं का उपचार जारी है, अन्य दो छात्राएं अब सामान्य बताई जा रही हैं।

जानकारी अनुसार, उमरगांव ब के एक बिजली ट्रांसफार्मर में कल शाम अचानक खराबी आ गई और वह फट गया। इसी ट्रांसफार्मर से पास के कन्या आश्रम शाला का भी बिजली आपूर्ति किया जाता है, ऐसे में ट्रांसफार्मर में आई खराबी का असर आश्रम शाला में भी पड़ा। मौके पर मौजूद आश्रम स्टॉफ के अनुसार, आश्रमशाला के कमरों में लगे बल्ब एक-एक फटने लगे। इतना ही नहीं यहा रहकर पढ़ाई करने वाली पांचवीं की छात्रा चेतना (10) पिता चमरूराम, सायबो (10) पिता हेड़मू, अंजली (10) पिता विश्वनाथ, कक्षा चैथी की उमेश्वरी (10) पिता सुखराम, कक्षा तीसरी की मालिका (8) पिता पिलाराम और कक्षा दूसरी की रीता (7) पिता चैतू मूर्छित हो गए। सभी छात्राओं को तत्काल चिपावंड अस्पताल ले जाया गया। यहां से प्राथमिक उपचार के बाद मालिका और रीता को वापस आश्रम भेज दिया गया। लेकिन कमजोरी के चलते उमेश्वरी, चेतना, सायबो और अंजली को जिला अस्पताल आरएनटी अस्पताल में दाखिल करवाया गया है, जहां सभी का उपचार जारी है।

इस मामले पर गांव के उप सरपंच हेमंत यादव ने बताया कि, आश्रमशाला की अधीक्षिका हेमा धु्रव घटना के दौरान आश्रम शाला में नही थी। इतना ही नहीं घटना के दौरान छात्रावास में कोई भी शिक्षक या कर्मचारी मौजूद नहीं थे। ऐसे में छात्राएं और अधिक डर गईं। इसी कारण से वे बेहोश भी होने लगी थी। इधर अधीक्षिका हेमा धु्रव के अनुसार, स्वयं उनका स्वास्थ्य ठीक ना होने से वे आश्रम में नहीं थी। उन्होंने आगे बताया कि, जब घटना हुई तो चतुर्थकर्मी एक छात्रा को लेकर चिपावंड अस्पताल  में उपचार के लिए गई हुई थी। मामले की सूचना मिलते ही वे मौके पर पहुंच गईं। 

Related Post

Comments