बस्तर

यंत्र तंत्र खुले में फेंक रहे पीपीई किट,बढ़ रहा संक्रमण का खतरा
23-Sep-2020 11:10 PM 8
 यंत्र तंत्र खुले में फेंक रहे पीपीई  किट,बढ़ रहा संक्रमण का खतरा

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 23 सितम्बर। महारानी अस्पताल में इन दिनों प्रशासन के द्वारा बताए गए नियमों की धज्जियां जमकर उड़ाई जा रही है। स्टाफ को मिले पीपीई कीट का उपयोग के बाद जलाने व जमीन में गाडऩे के बजाय उसे खुले में फेंका जा रहा है। जिसके संपर्क में आने से अन्य लोगों का भी संक्रमित होने का खतरा बढ़ते जा रहा है।

बताया जा रहा है कि महारानी अस्पताल में कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्रशासन के द्वारा हर जरूरतों को पूरा करने के साथ ही तमाम सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। लेकिन इन सबके बाद भी अस्पताल के अधिकारी इन नियमों को अपनाने के बजाय अनदेखा कर रहे हैं। ड्यूटी के दौरान स्टाफ को दिए गए पीपीई किट का उपयोग करने के बाद कर्मचारियों द्वारा इधर-उधर फेंका जा रहा है। जिसका ताजा उदाहरण महारानी अस्पताल के स्पर्श क्लिनिक के सामने किट को फेंका जा रहा है।

ज्ञात हो कि रोजाना यहां से सफाई कर्मचारियों के साथ ही ऑफिस के लोग, चिकित्सक व मजदूर आना जाना करते हैं। पीपीई किट को जलाने या गाडऩे के बजाय उसे खुले में फेंका जा रहा है। कुछ चिकित्सकों ने बताया कि पहना हुआ पीपीई किट और भी ज्यादा घातक साबित होता है। इसके संपर्क में आने वाले लोग और ज्यादा संक्रमित हो सकते हैं। इस कीट को छूने वाला व उठाने वाला और ज्यादा बीमार हो सकता है। इस कीट को सही मायने में दफनाया जाता है या फिर उसे जला देना उचित है। अगर किट को ऐसा नहीं कर रहे हैं तो पूरी तरह से गलत है।

वहीं इस मामले को लेकर महारानी अस्पताल प्रभारी डॉ संजय प्रसाद ने कहा कि यह बहुत ही चिंता का विषय, इसे लेकर संबंधित अधिकारी और कर्मचारियों से बात की जाएगी।

 

 

 

 

अन्य पोस्ट

Comments