सरगुजा

पुलिया नहीं, बरसात में करई का ब्लाक मुख्यालय से टूट जाता है सम्पर्क
17-Oct-2020 9:51 PM 3
पुलिया नहीं, बरसात में करई का ब्लाक मुख्यालय से टूट जाता है सम्पर्क

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

लखनपुर,17 अक्टूबर। दूरस्थ वनांचल आदिवासी बाहुल्य ग्राम पंचायत करई के कुरमेन नाला में पुलिया निर्माण नहीं होने के कारण ग्राम वासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।  बरसात के दिनों में ग्राम पंचायत करई वासियों का ब्लाक मुख्यालय से सम्पर्क टूट जाता है जिससे ग्रामवासियों को स्वास्थ्य,शिक्षा जैसे बुनियादी सुविधाओं के अलावा दैनिक आवागमन के लिए काफी परेशानी उठानी पड़ती है। क्षेत्र में दो विधायकों के बदले जाने के बाद भी पंचायतवासियों की परेशानी नहीं बदली, तीसरे विधायक के प्रति ग्रामीणों में आस जगी है, परन्तु अभी तक पुलिया निर्माण नहीं हो पाया है जिसे लेकर ग्रामीणों में रोष व्याप्त है।

लखनपुर विकासखंड अंतर्गत पहाड़ों के गोद में बसा आदिवासी बाहुल्य दूरस्थ वनांचल ग्राम पंचायत करई भौगोलिक दृष्टि कोण से जंगल पहाड़ों के बीच घिरा हुआ ग्राम पंचायत है। यहां 90 फ़ीसदी से भी ज्यादा आदिवासी जनजाति के लोग इस पंचायत में निवासरत है जिनमें पहाड़ी कोरवा जनजाति के लोग भी शामिल हैं। यह एक ऐसा ग्राम पंचायत है जहां बीते कुछ वर्षों पूर्व अभियान चला कर सर्वप्रथम पूर्ण नशाबंदी भी ग्राम में कराया गया था।

आवागमन के लिए जमदरा कुन्नी मुख्य मार्ग से प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत ग्राम करइ के कुरमेन नाला तक सड़क निर्माण भी किया गया है। परन्तु अब तक पुलिया का निर्माण नहीं हो पाया है।

ग्राम पंचायत करई नाला में पुलिया निर्माण नहीं होने कारण बरसात के दिनों सारा गांव एक टापू के शक्ल में बदल जाता है। बसाहट के लोगों को एक लम्बा सफर तय करने के बाद घुमकर पहाड़ी पगडंडी रास्ते से ग्राम अरगोती की ओर से आना जाना करना पड़ता है। यह ग्राम पंचायत लुंड्रा विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आता है। वहीं लगातार तीन बार लुंड्रा विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के विधायक बन चुके हैं। सरपंच सहित ग्रामवासियों के द्वारा प्रत्येक विधानसभा चुनाव के दौरान करई नाला में पुलिया निर्माण कराए जाने की मांग की गई, जिसमें ग्राम वासियों को विधायकों से सिर्फ आश्वासन ही आज तक मिला है। अभी तक उक्त नाला में पुलिया निर्माण नहीं हो पाया है।

दशकों बीत जाने के बाद भी पुलिया निर्माण नहीं होने से बरसात के दिनों में बसाहट का संपर्क पूरी तरह से ब्लॉक मुख्यालय से टूट जाता है लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों को नदी का पानी उतरने का इंतजार महीनों करना पड़ता है। नदी में बाढ़ आ जाने के कारण आवागमन बाधित हो जाता है। ग्रामीणों को किसी भी प्रकार के बीमारियों तथा दूसरे अन्य आवश्यक कार्य के लिए मुख्यालय जाने में लिए महीनों इंतजार करना पड़ता है।

ग्राम पंचायत कराई की  सरपंच बेलसो एक्का के द्वारा इस संबंध में बताया गया कि हम समस्त ग्रामवासियों के द्वारा पूर्व में भी कई बार विधायक से लेकर जिला पंचायत सदस्य सहित तमाम अधिकारी कर्मचारी से मांग की गई, परंतु आज तक नदी में पुलिया निर्माण नहीं हो पाया है जिसके कारण ग्रामवासियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बरसात के दिनों में ब्लॉक मुख्यालय से संपर्क टूट जाता है।

ग्राम पंचायत के पूर्व सरपंच एवं आदिवासी नेता नेवल कुजुर ने बताया कि करई नाला में पुलिया निर्माण नहीं होने से आवागमन एवं मुख्यालय से संपर्क टूट जाती है। इस संदर्भ में क्षेत्र के तीन विधायकों को अर्जी पेश की जा चुकी है लेकिन आज तक विधायकों के द्वारा पुलिया का प्रशासनिक स्वीकृति नहीं मिल पाया है।

 

 

अन्य पोस्ट

Comments