दुर्ग

बीएसपी के प्लांट गैरेज विभाग ने उत्कृष्ट योगदान से आकस्मिक चुनौतियों पर पाई विजय
24-Oct-2020 5:15 PM 26
बीएसपी के प्लांट गैरेज विभाग ने उत्कृष्ट योगदान से आकस्मिक चुनौतियों पर पाई विजय

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
भिलाई नगर, 24 अक्टूबर।
सेल-भिलाई इस्पात संयंत्र का प्लांट गैरेज विभाग एक प्रतिबद्ध विभाग है जो संयंत्र के विभिन्न विभागों के संचालन में 365 दिन और चौबीसों घंटे योगदान दे रहा है। प्लांट गैरेज संयंत्र के विभिन्न विभागों के परिचालन में जरूरी हैवी व लाइट वाहनों की समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करता है। विशेष रूप से आकस्मिक परिस्थितियों व ब्रेकडाउन से उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में प्लांट गैरेज ने अपने निपुणता का परिचय दिया है। इसका ताजातरीन उदाहरण है कोक ओवन बैटरी-9 के गैलरी के ढहने से उत्पन्न संकट से निपटने में तथा एसपी-2 के गैलरी के कमजोर होने से उत्पन्न स्थिति में प्लांट गैरेज द्वारा दिए गए योगदान का। 

कोक ओवन गैलरी के ढहने से उत्पन्न संकट के दौरान प्लांट गैरेज की पूरी टीम ने स्थिति पर विजय पाने हेतु कमर कस ली। महाप्रबंधक व विभागाध्यक्ष आर बी गहरवाल के नेतृत्व में महाप्रबंधक (ऑपरेशन) संतोष कुमार जॉर्ज तथा महाप्रबंधक (मेंटेनेंस) प्रदीप्त कुमार भौमिक के मार्गदर्शन में पाली प्रभारी (ऑपरेशन) ए डी आप्टे, सुदर्शन, भूपेन्द्र जोशी तथा पाली प्रभारी (मेंटेनेंस) के एच प्रसाद व आशीष गुप्ता की सम्पूर्ण टीम ने इसे सामान्य बनाने में जुटे रहे।   

प्लांट गैरेज सभी बाधाओं के बीच किसी भी आपातकालीन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए सुसज्जित है और संकट की स्थितियों में सामान्य स्थिति बहाल करने और उत्पादन को पुन: सामान्य करने में आवश्यक सहायता प्रदान करता है। हाल ही में कोक ओवन बैटरी-9 में गैलरी में हुए हादसे के मामले को लें। घटना के 2 घंटे के भीतर, सडक़ द्वारा कोक को स्थानांतरित करने की व्यवस्था की गई थी, जिससे बैटरी-9 के संचालन की निरंतरता सुनिश्चित किया जा सका।

इसके अतिरिक्त, ब्लास्ट फर्नेस के पास स्टॉकयार्ड में प्लांट गैरेज की सहायता से लगभग 1500 टन कोक को मॉडिफाइड कन्वेयर प्रणाली से आपूर्ति करने का कार्य किया गया।

एक और उदाहरण एसपी-2 का है, जो एक महत्वपूर्ण उत्पादन क्षेत्र है जहां हाल ही में गैलरी में मरम्मत के कार्य हेतु युद्धस्तर पर कार्य प्रारंभ किया गया। इस दौरान प्लांट गैरेज ने गैलरी के निर्माण हेतु आवश्यक सेवाएं प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस दौरान प्लांट गैरेज ने इस कार्य के इरेक्शन हेतु हैवी क्रेन की तत्काल व्यवस्था की।

विदित हो कि सिंटर की प्राथमिक स्क्रीनिंग एसपी-2 में की जाती है, जबकि सिंटर की सेकेंडरी स्क्रीनिंग ब्लास्ट फर्नेस में की जाती है। वर्तमान स्थिति के कारण, ब्लास्ट फर्नेस से प्रतिदिन लगभग 4000 टन सिंटर की वापसी होती है जिसे प्लांट गैरेज ने भारी वाहन की उपलब्धता सुनिश्चित कर सडक़ मार्ग से एसपी-2 पहुँचाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

इन महत्वपूर्ण क्षेत्रों में सामग्री का मूवमेंट डंपर्स, भारी ट्रकों और टिपरों जैसे हाइड्रोलिक उपकरणों का उपयोग करके संबद्ध क्षेत्रों में परिचालन फिर से शुरू करने के लिए किया गया। इन उपकरणों की उपलब्धता, उचित रखरखाव और भारी वाहनों की सुरक्षित सडक़ आवाजाही सुनिश्चित कर इसे संभव बनाया। कोक ओवन और एसपी-2 के वर्तमान मामलों में, प्लांट गैरेज ने तत्काल कार्रवाई शुरू कर दी और कुछ ही घंटों में काम प्रारंभ कर दिया गया।

प्लांट गैरेज, भिलाई इस्पात संयंत्र में स्थापित होने वाले शुरू के विभागों में से एक है। प्लांट गैरेज के टीम में 16 कार्यपालक तथा 200 कार्मिक शामिल हैं, जो भिलाई इस्पात संयंत्र में डम्पर, एक्सकेवेटर्स, डोजर, लोडर्स, क्रेन्स तथा जीप से लेकर बैटरी ऑपरेटेड कार जैसे 400 से अधिक वाहनों के नियमित संचालन और रखरखाव के कार्यों को बखूबी अंजाम दे रहे हैं। प्लांट गैरेज सडक़ दुर्घटना समिति का हिस्सा होने के साथ पूरे संयंत्र के लिए ऑटोमोबाइल से लेकर न्यूमेटिक टायरों की खरीद तक समस्त कार्यों को संपादित कर रहा है।

इसके अलावा पूर्व में भी प्लांट गैरेज ने मॉडेक्स यूनिट के तहत कोक ओवन बैटरी-11, ब्लास्ट फर्नेस-8, एसएमएस-3 और यूआरएम जैसी अनेक मॉडेक्स इकाइयों की स्थापना के दौरान सडक़ माध्यम से सामग्री के स्थानांतरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

अन्य पोस्ट

Comments