बस्तर

बस्तर दशहरा: आठ चक्के का विशालकाय रथ बनाने में जुटे कारीगर
25-Oct-2020 12:29 AM 37
 बस्तर दशहरा: आठ चक्के का विशालकाय रथ बनाने में जुटे कारीगर

  विजयदशमी के दिन होगी विजय रथ की परिक्रमा  

'छत्तीसगढ़' संवाददाता

जगदलपुर, 24 अक्टूबर। बस्तर दशहरा अंतर्गत इस वर्ष आठ चक्के के विशालकाय नए रथ के निर्माण का कार्य चल रहा है। इसे विजय रथ कहा जाता है, इसकी परिक्रमा विजयदशमी के दिन होती है। निर्माण कार्य को पूर्ण करने में बेड़ा उमरगांव और झार उमरगांव के कारीगर लगे हुए हैं। सोमवार तक रथ निर्माण का कार्य पूर्ण करने के बाद कारीगरों ने कही है, वहीं दशहरा पर्व अंतर्गत आकर्षक विधान मावली परघाव की तैयारी भी जोर-शोर से चल रही है।

रविवार को बस्तर दशहरा का आकर्षक विधान मावली परघाव का आयोजन होना है, जिसकी तैयारी अंतिम दौर पर है। जिया डेरा से लेकर राजमहल तक सड़क के दोनों ओर खंबे गाड़ कर लोगों के प्रवेश को रोकने के लिए बैरिकेड लगाया गया है। मावली परघाव में  दंतेवाड़ा से मां दंतेश्वरी की डोली और छत्र आकर जिया डेरा में रूकती है। इसके लिए जिया डेरा में भी पूरी व्यवस्था की गई है। यहां से डोली को लेकर दंतेश्वरी मंदिर के लिए निकलते हैं और रास्ते पर स्थित कुटरु बाड़ा के समक्ष राज परिवार एवं दशरथ समिति के अध्यक्ष के द्वारा इस डोली का स्वागत किया जाता है।

यहां से राज परिवार के कमल चंद्र भंजदेव माटी पुजारी के रूप में मां की डोली को कंधे पर उठाकर दंतेश्वरी मंदिर तक ले जाते हैं। इस दौरान काफी संख्या में श्रद्धालु एकत्रित होते हैं लेकिन इस वर्ष जिला प्रशासन द्वारा कम से कम लोगों को शामिल होने का दिशा निर्देश दिया गया है जिसके चलते कम संख्या में दर्शक जुटने का अनुमान लगाया जा रहा है।

अन्य पोस्ट

Comments