महासमुन्द

लाफिनकला में कोरोना रूपी रावण का दहन, रामलीला का मूक मंचन भी
29-Oct-2020 6:35 PM 18
लाफिनकला में कोरोना रूपी रावण का दहन, रामलीला का मूक मंचन भी

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
महासमुन्द, 29 अक्टूबर।
जिला मुख्यालय से 5 किमी दूर लाफिनकला गांव में इस साल कोरोना रूपी रावण का दहन किया गया। गांव के समाजसेवी शिक्षक महेंद्र पटेल, गोवर्धन साहू और रामलीला आयोजन समिति प्रमुख रामजी साहू के संयोजन में यह आयोजन हुआ। इसमें कोरोना को रावण स्वरूप में दहन किया। इस दौरान रामलीला का मंचन मूक अभिनय से हुआ। लीला मंचन के बीच पूरा समय रावण का संवाद चर्चा में रहा। रावण ने लोगों को मास्क लगाने, सैनिटाइजर का उपयोग करने और दो गज की दूरी बनाए रखने की सीख दी। राम दल और रावण के राक्षस सेना के मंच पर पहुंचनेे से पहले सेनेटाइजर से मंच की शुद्धि की गई। साथ ही ग्रामीणों को कोरोना से जंग लडऩे की विधि बताई गई। इस अवसर पर जादूगर सुखदेव ने हाथ सफाई का खेल दिखाया। संचालन गोवर्धन साहू और आभार प्रदर्शन शिक्षक महेंद्र पटेल ने किया। कार्यक्रम के अंत में जगराता और भक्ति संगीत का कार्यक्रम आकर्षण का केंद्र रहा। दशहरा उत्सव कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रेस क्लब महासमुन्द के अध्यक्ष आनंदराम साहू थे। विशिष्ट अतिथि शेखर चंद्राकर महासमुन्द, देवेंद्र ध्रुव बकमा, गांव के बुजुर्ग मेहत्तर राम साहू, कीर्तन साहू, हरिराम साहू, सुखदेव राम थे। इस बीच लोकगायक धर्मेंद्र साहू ने जसगीत प्रस्तुत किया। ग्राम के कीर्तनकार जगदीश साहू ने बताया कि लाफिनकला में रामलीला का मंचन बीते 95 वर्षों से हो रहा है। वर्ष 1926 में स्व.सियाराम साहू ने मानस मंडली का गठन किया था, तभी से यह अनवरत जारी है। 
 

अन्य पोस्ट

Comments