बस्तर

देवउठनी एकादशी हर्षोल्लास के साथ मनी, खूब बिके गन्ने
25-Nov-2020 10:15 PM 40
 देवउठनी एकादशी हर्षोल्लास के साथ मनी, खूब बिके गन्ने

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

जगदलपुर, 25 नवम्बर। देवउठनी एकादशी श्रद्धालुओं ने हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। स्थानीय जगन्नाथ मंदिर में श्रद्धालुओं ने गन्ना और अदरक के पौधे चढ़ाकर विधि विधान पूर्वक पूजा-अर्चना की  और भगवान जगन्नाथ का दर्शन कर पुण्य लाभ प्राप्त किया।

श्रद्धालुअंो ने अपने अपने घरों में भी  शालिग्राम और तुलसी विवाह पूजा-अर्चना विधि विधान पूर्वक की। सुबह से ही लोगों की भीड़ बाजार में नजर आई । गन्ना अदरक के पौधे , फूल और पूजा सामान के साथ बाजार सजा रहा।

 देवउठनी एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मनाई जाती है। इसे हरिप्रबोधिनी एकादशी  भी कहते हैं। देवउठनी एकादशी के दिन चतुर्मास का अंत हो जाता है और शुभ काम शुरू किए जाते हैं।

एकादशी के दिन गन्ना और सूप का महत्व

देवउठनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूरे विधि विधान से पूजा की जाती है। इस दिन गन्ने और सूप का भी खास महत्व होता है। देवउठनी एकादशी के दिन से ही किसान गन्ने की फसल की कटाई शुरू कर देते हैं। कटाई से पहले गन्ने की विधिवत पूजा की जाती है और इसे विष्णु भगवान को चढ़ाया जाता है। भगवान विष्णु को अर्पित करने के बाद गन्ने को प्रसाद के रूप में बांटा जाता है।

अन्य पोस्ट

Comments