कोण्डागांव

ईनामी 2 महिला नक्सलियों का समर्पण
27-Nov-2020 9:30 PM 36
ईनामी 2 महिला नक्सलियों का समर्पण

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता

कोण्डागांव 27 नवंबर। ईनामी दो महिला नक्सलियों ने 27 नवंबर को नक्सली विचारधारा छोडक़र समाज की मुख्यधारा में शामिल होने के उद्देश्य से कोण्डागांव पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ तिवारी के समक्ष आत्मसमर्पण किया हैं।

पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ तिवारी ने बताया कि, दोनों महिला माओवादियों में से एक आमदई एलजीएस के साथ वर्ष 2017 से दलम सदस्य के रूप में जुडक़र सक्रिय रहीं तथा कोण्डागांव, नारायणपुर व बीजापुर के सरहद पर स्थित ग्राम तुसवाल के पहाड़ी क्षेत्र में प्रशिक्षण हासिल किया और तब से आमदई एलजीएस के साथ ग्राम तुमड़ीवाल, कुदुर, आलवाड, किलम, बेचा, तुसवाल इत्यादि ग्रामों में नक्सल गतिविधियों में सक्रिय रहीं। वहीं दूसरी आत्मसमर्पित महिला माओवादी ने वर्ष 2013 में तत्कालिक जनताना सरकार मिलिशिया कमाण्डर जैतराम कोरार्म के दबाव में आकर मिलिशिया सदस्य के रूप में नक्सलियों के साथ काम किया तथा ग्राम तुसवाल के पहाड़ी इलाकों में प्रशिक्षण प्राप्त कर भानपुरी, कुदुर, तुमड़ीवाल क्षेत्र में बड़े काडर के नक्सलियों को सहयोग देने व तुमड़ीवाल-किलम इलाकों में स्थानीय दलम के साथ नक्सल गतिविधियों में सक्रिय रहीं। दोनों महिला माओवादी शासन के नीति के तहत कुल 1 लाख की ईनामी हैं।

पूछताछ के दौरान सामने आए तथ्यों से पता चला हैं कि, दोनों महिला नक्सलियों ने क्रमश: वर्ष 2013 व 2017 में माओवादियों से जुडऩे के पश्चात् वापस घर आकर समान्य जीवन जीने का प्रयास भी किया था। परन्तु तुमड़ीवाल क्षेत्र में सक्रिय नक्सलियों द्वारा दबावपूर्वक पुन: इन्हें अपने साथ ले जाकर काम कराया गया। नक्सलियों के शोषण से क्षुब्ध होकर क्षेत्र में सुरक्षा बलों के बढ़ते प्रभाव में उक्त दोनों महिला नक्सलियों ने शासन की आत्मसमर्पण नीति के प्रभाव में आत्मसमर्पण किया हैं और अपने गांव की प्रगति में भागीदार बनने की इच्छा जाहिर की। जिस पर पुलिस अधीक्षक कोण्डागांव ने उनके इस कदम की सरहना की और इनकी इच्छा का सम्मान करते हुए शासन की नीति के तहत इनका आत्मसमर्पण स्वीकार किया हैं।

अन्य पोस्ट

Comments