कोरबा

पर्यावरणीय लोक सुनवाई में बालको की विस्तार परियोजना का नागरिकों ने किया समर्थन
20-Feb-2021 5:47 PM 35
पर्यावरणीय लोक सुनवाई में बालको की विस्तार परियोजना का नागरिकों ने किया समर्थन

‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बालकोनगर, 20 फरवरी।
ग्राम रिस्दा, तहसील एवं जिला कोरबा में बालको द्वारा क्षमता विस्तार के तहत वर्तमान संयंत्र परिसर में एल्यूमिनियम स्मेल्टर क्षमता 5.75 एलटीपीए से 10.85 एलटीपीए करने हेतु पर्यावरणीय स्वीकृति हेतु हुई लोक सुनवाई गत दिनों संपन्न हुई। लोक सुनवाई का आयोजन बालकोनगर के डॉ. अंबेडकर स्टेडियम में किया गया। क्षेत्रीय जन प्रतिनिधियों और स्थानीय नागरिकों ने बालको की एल्यूमिनियम उत्पादन क्षमता बढ़ाए जाने का पुरजोर समर्थन किया। बालकोनगर के आसपास रहने वाले ग्रामीणों और कोरबा के लगभग 5000 महिलाओं और पुरुषों ने लोकसुनवाई में भागीदारी की। सभी को विचार रखने का भरपूर समय मिला। पर्यावरण, रोजगार एवं अनेक स्थानीय मुद्दों पर नागरिकों ने रचनात्मक सुझाव दिए जिस पर बालको प्रबंधन ने सकारात्मक पहल का आश्वासन दिया। 

लोक सुनवाई की पीठासीन अधिकारी कोरबा की अपर कलेक्टर  प्रियंका ऋषि महोबिया ने कार्रवाई का संचालन किया। अनुविभागीय दंडाधिकारी, कोरबा सुनील नायक, एडीशनल एसपी कोरबा श्री कीर्तन राठौर, क्षेत्रीय अधिकारी, पर्यावरण संरक्षण मंडल आर.आर. सिंह लोक सुनवाई में मौजूद थे। बालको के परियोजना प्रमुख मनीष कुमार जैन ने एल्यूमिनियम स्मेल्टर संबंधी संक्षिप्त रिपोर्ट प्रस्तुत की। लोक सुनवाई अत्यंत ही सौहार्द्रपूर्ण माहौल में संपन्न हुई। लोक सुनवाई में औद्योगिक स्वास्थ्य, सुरक्षा एवं पर्यावरण महाप्रबंधक कृष्णा व्ही. कुलकर्णी, बालको सिक्योरिटी एवं प्रशासन महाप्रबंधक अवतार सिंह सहित अनेक बालको अधिकारी मौजूद थे। 

पर्यावरणीय लोक सुनवाई में कोरबा महापौर राजकिशोर प्रसाद ने कहा कि कोरबा क्षेत्र में उद्योग लगने का सकारात्मक प्रभाव स्थानीय अर्थव्यस्था पर होगा। संयंत्र के विस्तार से रोजगार में बढ़ोत्तरी होगी। स्थानीय व्यापार और सहायक उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा। श्री प्रसाद ने पर्यावरण संरक्षण एवं संवर्धन, चिकित्सा एवं खेल सुविधाओं आदि के उन्नयन के संबंध में महत्वपूर्ण सुझाव दिए। 

बालकोनगर चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष सुमेर डालमिया ने विस्तार परियोजना हेतु अपनी सहमति जताते हुए बताया कि वह बालकोनगर क्षेत्र में लगभग पांच दशकों से निवासरत हैं। बालको ने क्षेत्रीय हित और विकास की दिशा में अनेक महत्वपूर्ण कार्य किए हैं। बालको का विस्तार रोजगार और व्यवसाय के हित में है। 

देश के सुप्रसिद्ध साहित्यकार तथा एनटीपीसी के पूर्व पर्यावरण सह महाप्रबंधक डॉ. माणिक विश्वकर्मा नवरंग ने कहा कि कोरोना के कारण देश मंदी के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में वेदांता समूह द्वारा बालको में विस्तार परियोजना के लिए निवेश किया जाना सराहनीय है। उन्होंने कहा कि बालको द्वारा प्रस्तुत ईआईए रिपोर्ट के अध्ययन से यह कहा जा सकता है कि प्रस्तावित परियोजना का कोई भी विपरीत प्रभाव पर्यावरण पर नहीं होगा। पर्यावरण के संरक्षण और संवर्धन की दिशा में बालको की नीति उत्कृष्ट है। 

नए संयंत्र में अत्याधुनिक विश्वस्तरीय तकनीकों की स्थापना की योजना अत्यंत प्रशंसनीय है। देश और प्रदेश के विकास के लिए बालको का विस्तार होना चाहिए। बालकोनगर निवासी श्री भास्कर चौधरी ने कहा कि बालको का औद्योगिक विस्तार वर्तमान समय की मांग है। युवाओं के रोजगार की दृष्टि से परियोजना स्वागत योग्य है। बालको ने क्षेत्र में सदैव ही पर्यावरण के संरक्षण और संवर्धन का ध्यान रखा है। आज इस बात की आवश्यकता है कि हम बालको और देश के विकास के भागीदार बनें। 

कोरबा नगर पालिक निगम के चेयरमैन तथा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता श्यामसुंदर सोनी ने विस्तार परियोजना के समर्थन में कहा कि वेदांता समूह स्वावलंबन, स्वास्थ्य सहित विकास के अन्य क्षेत्रों में बेहतरीन योगदान दे रहा है। श्री सोनी ने अनेक रचनात्मक सुझाव देते हुए कहा कि बालको के विस्तार से नागरिकों को लाभ होगा। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व एल्डरमैन श्री व्यासमुनि मिश्रा ने बालको की विस्तार परियोजना का समर्थन किया। श्री मिश्रा ने कहा कि प्रस्तावित परियोजना के लिए बालको प्रबंधन को न तो अतिरिक्त जमीन और न ही अतिरिक्त पानी तथा बिजली की आवश्यकता है। परियोजना से पर्यावरण को कोई नुकसान नहीं होगा। श्री मिश्रा ने बालको के सामुदायिक विकास कार्यों के साथ ही बालको अस्पताल में उपलब्ध सुविधाओं की प्रशंसा की। 

बालको के मनीष कुमार जैन ने स्वागत उद्बोधन में कहा कि आत्मनिर्भर भारत निर्माण की दिशा में बालको की प्रस्तावित परियोजना अत्यंत महत्वपूर्ण है। इससे बालको विश्व के वन मिलियन एल्यूमिनियम क्लब में शामिल हो जाएगा। उत्पादन क्षमता के आधार पर बालको विश्व में 14वें स्थान पर पहुंच जाएगा। इससे एल्यूमिनियम आधारित उद्योगों को प्रोत्साहन मिलेगा। परियोजना से छत्तीसगढ़ राज्य और देश को अतिरिक्त राजस्व की प्राप्ति होगी। एल्यूमिनियम का उपयोग परिवहन, निर्माण कार्य, पैकेजिंग, रक्षा और बिजली जैसे महत्वपूर्ण क्षेत्रों में होता है। 

प्रस्तावित परियोजना के लिए बालको को अतिरिक्त भूमि की जरूरत नहीं होगी। अतिरिक्त जल की आपूर्ति वर्तमान में आबंटित जल की मात्रा से पूरी की जाएगी। एल्यूमिनियम विस्तार परियोजना के लिए आवश्यक बिजली की आपूर्ति बालको के वर्तमान विद्युत संयंत्रों से की जाएगी। प्रस्तावित परियोजना से लगभग 5000 नागरिकों को प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से रोजगार के अवसर मिलेंगे। परियोजना में स्थानीय प्रतिभाओं को प्राथमिकता के आधार पर नियोजित किया जाएगा। शिक्षा, स्वास्थ्य, आधारभूत संरचना विकास, महिला सशक्तिकरण, खेल गतिविधियों आदि के प्रोत्साहन की दिशा में बालको 55 वर्षों से कार्यरत है। प्रस्तावित परियोजना का सकारात्मक प्रभाव विभिन्न सामुदायिक विकास कार्यों पर होगा। 

बालको प्रबंधन ने लोक सुनवाई के शांति एवं सौहार्द्रपूर्ण आयोजन के लिए कोरबा जिला प्रशासन और नागरिकों के प्रति आभार जताया। 
नागरिकों की सुविधा का रखा गया ध्यान - लोक सुनवाई के दौरान भागीदारी करने वाले प्रत्येक नागरिक की सुविधा का भरपूर ध्यान रखा गया। बारिश की आशंका को देखते हुए डॉ. अंबेडकर स्टेडियम में वाटर प्रूफ स्टाल लगाए गए थे। इसके साथ ही पूरा क्षेत्र सीसीटीव्ही की निगरानी में रखा गया। पूरे लोक सुनवाई की विडियो और फोटोग्राफी सुनिश्चित की गई। कोविड-19 के स्थापित दिशानिर्देशों का पालन करते हुए नागरिकों को लगातार सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति जागरूक किया गया। नागरिकों को सैनिटाइजर और मास्क वितरित किए गए। 
 

अन्य पोस्ट

Comments