बिलासपुर

नये केस और मौतों का रोज बन रहा नया रिकॉर्ड
13-Apr-2021 4:01 PM (36)
नये केस और मौतों का रोज बन रहा नया रिकॉर्ड

200 नये बेड आज और तैयार, ऑक्सीजन की भारी कमी
‘छत्तीसगढ़’ संवाददाता
बिलासपुर, 13 अप्रैल।
कोविड संक्रमण से हो रही मौतों के चलते स्थिति इतनी बिगड़ चुकी है कि सरकंडा स्थित मुक्तिधाम में शवों को जलाने के लिए लोगों को चार चार घंटे तक प्रतीक्षा करनी पड़ रही है। बीते 24 घंटे के दौरान 21 लोगों की मौत हुई। कल नये केस 700 से कम आए थे लेकिन यह आंकड़ा बढ़कर बढ़कर फिर 833 पहुंच गया। कल देर रात तक  मुक्तिधाम में 15 शवों का दाह संस्कार किया गया। आज दोपहर 2 बजे तक 5 100 जलाए चुके थे और तीन कतार में थे। आज दोपहर 200 बिस्तरों का नया आइसोलेशन सेंटर तैयार किया गया।

स्थिति इतनी बिगड़ी हुई है कि परिजनों को शवों को मुक्तिधाम तक पहुंचाने के लिए भी वाहनों का घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। सिम्स चिकित्सालय में दो शव वाहन हैं जो बारी-बारी दाह संस्कार के लिए सरकंडा मुक्तिधाम, तोरवा, मधुबन और भारतीय नगर शमशान गृह में शवों को पहुंचा रहे हैं।

एक के बाद एक हो रही कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत से जिले में हाहाकार मचा हुआ है। बीते 24 घंटे के भीतर कोरोना संक्रमित 21 मरीजों ने दम तोड़ा है। इनमें से 9 दूसरे जिलों के थे से थे तो 12 बिलासपुर जिले के निवासी हैं। मृतकों में 40 साल के प्रौढ़ से लेकर 85 साल तक के बुजुर्ग शामिल हैं।

शहर के किसी न किसी इलाके में हर रोज नया हॉटस्पॉट बन रहा है। कल सर्वाधिक मरीज नेहरू नगर इलाके से 11 और क्रांति नगर से 10 मिले। इसके अलावा भारतीय नगर, देवनंदन नगर, हेमू नगर, देवरी खुर्द, मसान गंज, गोंडपारा, जूनी लाइन, सागर होम्स, शांति नगर, गंगानगर, कोनी, गीतांजलि विहार, सिंधी कॉलोनी, सरजू बगीचा, कुदुदंड, उसलापुर, गांधी चौक, विनोबा नगर और जूना बिलासपुर से नए मरीज मिले।

निजी अस्पताल में इस तरह हो रही लूट
पहले से ही अनेक अनेक अनैतिक गतिविधियों के लिए चर्चा में रहे अमेरी रोड नेहरू नगर स्थित श्री राम केयर हॉस्पिटल में एक मरीज से आरटी पीसीआर टेस्ट के लिए शासन द्वारा तय दर ₹200 की जगह 14 सो रुपए लिए गए। एंटिजन जांच के लिये भी अस्पताल में 400 रुपये लिए जा रहे हैं। इस अस्पताल के दो वार्ड व्वाय कुछ माह पहले से वहां भर्ती की गई एक मरीज युवती से बलात्कार करने के आरोप में जेल में हैं। इन्हें बचाने के लिये अस्पताल प्रबंधन ने प्रेस कांफ्रेंस भी ली थी।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ प्रमोद महाजन से कई गुना अधिक बिल बनाने की शिकायत की गई है। डॉ. महाजन ने इस मामले की तहकीकात करने का भरोसा दिलाया है और कहा कि यदि शासन द्वारा तय किए गए दर से अधिक राशि ली गई तो अस्पताल प्रबंधक के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

ऑक्सीजन सिलेंडर की भारी कमी
सरकारी और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर की भारी कमी हो रही है। नये वेरियेंट के कोरोना मरीजों में श्वास का लेवल गिर रहा है। महादेव हॉस्पिटल के प्रबंधक डॉ. आशुतोष तिवारी ने बताया कि उनके यहां भर्ती होने वाले 10 में से 9 मरीजों को ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत पड़ रही है। हम इसकी लगातार आपूर्ति मांग रहे हैं।  10 में 1 मरीज ही ऐसा है जिसे जनरल बेड में जगह दी जा सकती है।  डॉक्टर ने बताया कि 31 मार्च से अगर तुलना करें तो 12 अप्रैल के बीच इसकी आवश्यकता 7 गुना बढ़ चुकी है।

जिले के प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अधिकारियों से बात की। उन्होंने यथाशीघ्र कोविड अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाने तथा अधिक से अधिक वैक्सीनेशन करने का निर्देश दिया। उन्होंने विकासखंड स्तर पर कोविड केयर सेंटर स्थापित करने का भी निर्देश दिया है। बैठक में जिला कलेक्टर डॉ सारांश मित्तर ने बताया कि 14 अप्रैल से 21 अप्रैल तक जिले में पूरी तरह लॉकडाउन रखा गया है जिसे सख्ती से लागू किया जायेगा।

कांग्रेस भवन को बनायेंगे केयर सेंटर  
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल प्रदेश, कांग्रेस महासचिव पी एल पुनिया, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम और स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव ने कल प्रदेश भर के कांग्रेस पदाधिकारियों से कोरोना महामारी से निपटने के लिए सुझाव मांगे। वीडियो कांफ्रेंस के जरिए हुई इस चर्चा में जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी ने कहा है कि वे कांग्रेस भवन को कोविड केयर सेंटर के रूप में बदलने के लिए तैयार हैं।

नगर निगम कर्मचारियों की उदारता
नियमित रूप से वेतन पाने के लिए जूझ रहे निगम के कर्मचारियों ने भी कोविड संक्रमण से निपटने के लिए सहृदयता दिखाई है। उन्होंने अपने एक दिन का वेतन कोरोना संकट से निपटने के लिए दान देने का निर्णय लिया है। इसके लिए नगर निगम कर्मचारियों ने कोरोना सहायता कोष की स्थापना की है। एचडीएफसी बैंक में इसका एक अकाउंट भी खोल दिया गया है। लोगों से उन्होंने इस अकाउंट में राशि जमा करने और सहयोग करने की अपील की है।

5 हजार टेस्ट की रिपोर्ट रुकी
एक और निजी अस्पतालों में कहा जा रहा है की आरपीसीआर टेस्ट के बगैर उन्हें कोरोना मरीज नहीं माना जाएगा क्योंकि इसको न तो बीमा कंपनी मानती है न ही सरकार। दूसरी ओर सिम्स में लिए जाने वाले आरटीपीसीआर लैब में आज की स्थिति में करीब 5000 सैंपल की रिपोर्ट रुकी हुई है। इसके चलते नए आरटीपीसीआर जांच में भी आनाकानी की जा रही है ताकि पुरानी रिपोर्ट दी जा सके। लैब में इस महत्वपूर्ण कार्य के लिए सिर्फ संविदा कर्मचारियों की भर्ती की गई है। इनमें से दो लोगों ने हाल ही में नौकरी छोड़ दी है। काम का बोझ दो साइंटिस्ट और तीन लैब अटेंडेंट के ऊपर है।

ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता बढ़ायें
केन्द्र सरकार ओर से एक टीम ने बिलासपुर, मुंगेली, जांजगीर-चांपा और गौरेला पेंड्रा मरवाही जिले में दौरा करके कोविड संक्रमण से पीड़ित मरीजों के उपचार की व्यवस्था की जानकारी ली है। इस टीम ने ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता बढ़ाने का सुझाव दिया है। टीम में भारत सरकार के स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव जिग्नेश तमका, रीजनल डायरेक्टर डॉक्टर के एम कामले, डॉ कुमार मीणा और डॉक्टर आरती शामिल थे। 

अन्य पोस्ट

Comments